adsatinder

explorer
I'm still in two minds if I should really go ahead with the trip since monsoons have started. Not really convinced to back out since my fights are already booked. And I'll be riding solo from Chandigarh on 13th July taking the Shimla-Kaza-Manali route. Suggest me guys if I should go ahead or avoid. Thanks!
Keep eye on weather news.
Keep Plan A with some delay / buffer period for any emergency.
Have Plan B & C also for any further changes if something comes as surprise.

Move for shorter distances daily.
Have proper Rain Gear and move in day time / Good Light hours only.
Recently some incident happened with 2 bikers due to Rolling Rocks.

People go in Monsoon also but be extra careful.
 

srikiran2006

New Member
Keep eye on weather news.
Keep Plan A with some delay / buffer period for any emergency.
Have Plan B & C also for any further changes if something comes as surprise.

Move for shorter distances daily.
Have proper Rain Gear and move in day time / Good Light hours only.
Recently some incident happened with 2 bikers due to Rolling Rocks.

People go in Monsoon also but be extra careful.
So looking carefully at the suggestions. I have decided to call off the trip.
Is September 2nd week a good idea?
 

mousourik

Who Am I
Second week of September would be a better bet. Post monsoon showers ought to be over as well.
What are the chances of Sach pass remaining open in October first week, for a four wheeler, from Chamba side? Any good meteorologist (astrologer) here who can make a fairly accurate forecast (three months in advance)?
 

Yogesh Sarkar

Administrator
What are the chances of Sach pass remaining open in October first week, for a four wheeler, from Chamba side? Any good meteorologist (astrologer) here who can make a fairly accurate forecast (three months in advance)?
Good. But there can be heavy snowfall.
 

adsatinder

explorer
fresh snowfall in rohtang and heavy rainfall warning for himachal (2 days)

रोहतांग में गिरे बर्फ के फाहे, हिमाचल में दो दिन भारी बारिश की चेतावनी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला Updated Fri, 12 Jul 2019 05:47 PM IST


रोहतांग में बर्फ देखने पहुंचे पर्यटक


रोहतांग में बर्फ देखने पहुंचे पर्यटक - फोटो : अमर उजाला


प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में शुक्रवार को मानसून सक्रिय होने से रोहतांग में ताजा हिमपात और मनाली में झमाझम बारिश हुई। राजधानी शिमला सहित कई मैदानी क्षेत्रों में दिनभर मौसम का मिजाज बनता-बिगड़ता रहा। हालांकि, अधिकतम तापमान में दो डिग्री की बढ़ोतरी दर्ज हुई।

प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में शनिवार को हल्की बारिश का पूर्वानुमान है। रविवार और सोमवार को पूरे प्रदेश में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने 18 जुलाई तक प्रदेश में मौसम खराब रहने का पूर्वानुमान जताया है।



ब्यास नदी किनारे न जाने की हिदायत

कुल्लू में ब्यास नदी उफान पर


कुल्लू में ब्यास नदी उफान पर - फोटो : अमर उजाला



शुक्रवार दोपहर बाद कुल्लू की ऊझी घाटी के साथ मनाली में जमकर बादल बरसे। रोहतांग के साथ मनाली की ऊंची चोटियों में हल्का हिमपात हुआ है। हिमपात और बारिश के बाद लुढ़के तापमान से लोगों और पर्यटकों ने उमस से राहत ली। जिला प्रशासन ने बारिश में सैलानियों को सुरक्षा के चलते ब्यास नदी किनारे न जाने की हिदायत दी है।

शुक्रवार को ऊना में अधिकतम तापमान 33.0, कांगड़ा-भुंतर में 32.0, चंबा में 31.5, सुंदरनगर में 30.1, बिलासपुर में 30.0, धर्मशाला में 29.8, हमीरपुर में 29.7, नाहन में 27.9, सोलन में 27.0, शिमला में 24.2, कल्पा मे 22.0, केलांग में 20.5 और डलहौजी में 19.8 डिग्री सेल्सियस रहा।





रोहतांग में गिरे बर्फ के फाहे, हिमाचल में दो दिन भारी बारिश की चेतावनी
 

adsatinder

explorer
HomeHimachal PradeshRampur Bushahar › Road
तीसरे दिन बहाल हुआ एनएच पांच, काजा और शिमला के लिए दौड़े वाहन


शिमला ब्यूरो

Updated Sat, 13 Jul 2019 07:15 PM IST

किन्नौर जिले के काशंग नाला में तीसरे दिन बहाल हुआ यातायात।


किन्नौर जिले के काशंग नाला में तीसरे दिन बहाल हुआ यातायात। - फोटो : RAMPUR-HP


सांगला(किन्नौर)। जनजातीय जिला किन्नौर के काशंग नाले में वीरवार दोपहर बाद से बाधित नेशनल हाईवे पांच तीसरे दिन शनिवार को यातायात के लिए बहाल हो गया है। यातायात बहाल होते ही जिले के हजारों ग्रामीणों और पर्यटकों ने राहत की सांस ली है। अब जिला मुख्यालय से पूह काजा और शिमला की ओर वाहनों की आवाजाही शुरू हो गई है। सीमा सड़क संगठन ने काफी मशक्कत के बाद एनएच को बहाल किया है।
विज्ञापन


गौरतलब है कि वीरवार दोपहर बाद काशंग नाले के पास अचानक पहाड़ी दरक गई। पहाड़ी दरकने से करीब 40 मीटर लंबे नेशनल हाईवे पर पत्थरों और चट्टानों का ढेर लग गया। यातायात ठप होने से जिले की 24 पंचायतों का संपर्क देश दुनिया से कटा रहा। लोगों को आवाजाही करने के लिए भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा।
भूस्खलन का सिलसिला जारी रहने से सीमा सड़क संगठन को बाधित एनएच को बहाल करने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। शनिवार दोपहर को जान जोखिम में डालकर सीमा सड़क संगठन ने सड़क को यातायात के लिए बहाल किया। एनएच बहाल होते ही मार्ग पर वाहनों की आवाजाही शुरू हो गई है और लोगों ने राहत की सांस ली है।
क्षेत्रीय परिवहन निगम के आरएम अजेंद्र चौधरी और अड्डा प्रभारी सुजान सिंह ने कहा कि एनएच बहाल होते ही निगम की बसों की बराबर आवाजाही हो रही है। एनएच बाधित होने के बाद यात्रियों को ट्रांसमिट कर भेजा जा रहा था।
उधर, सीमा सड़क संगठन के ओसी डीके राघव के अनुसार पांच मशीनों और दर्जनों मजदूरों ने दिन रात एक कर बाधित एनएच को बहाल कर दिया है। पहाड़ी से भूस्खलन का सिलसिला जारी रहने से मार्ग को बहाल करने में काफी दिक्कतें पेश आईं।



तीसरे दिन बहाल हुआ एनएच पांच, काजा और शिमला के लिए दौड़े वाहन


NH-5 बंद होने से किन्नौर का दो दर्जन से अधिक गांवों से संपर्क टूटा– News18 Hindi
 

vj81

Active Member
Just finished a 9-10 day trip to Himanchal (including Spiti Valley). Reached Shimla by my Car on July 5th and parked in Shimla. Afterwards, Trip was divided into 2 parts:

Part 1: Solo trip by Public Transport (Shimla - Kaza - Chandrataal - Manali - Shimla, July 6 to July 10)
July 6th (Shimla to Rekong Peo): Took private bus from ISBT Shimla to Rekong Peo. Bus started at 8.15 am and reached Rekong Peo at 6.30 PM. Roads are good at most places except 10-15 km patch around Bhavanagar/Nathpa.
July 7th (Rekong Peo to Kaza): HRTC bus starts at 5.30 am from Rekong Peo for Kaza. Bus tickets are available in the morning from 5 am. Bus started at 5.50 am and reached Kaza by 4 PM. Roads are mostly good till Khab. Road widening work going on from Khab to Nako. Nako to Sumdo roads are good/excellent. Sumdo to Kaza roads are patchy.
July 8th (Kaza to ChandraTaal): Kaza to Manali bus was not running and no information on when it was going to start. Trails were done from Manali side but bus had to be turned back from Chhatru. Took the shared Tempo Traveller from Kaza to get down at the bend for Chandratal. Hitch-hiked to Chandratal. Roads are patchy to bad all the way after few kms from Kaza.
Special shout-out to @jamaica for all the help and guidance at Chandratal.
July 9th (Chandrataal to Manali): Hitchhiked from Chandrataal to Batal. Road was closed due to couple of land slides after Batal. Road opened after couple of hours after being cleared by some locals with help from other people travelling the route. Road from Batal to Chattru especially around Chhota Dara are in extreme bad condition. Be very careful while driving/riding this stretch. Saw quite a few vehicles including Innova stuck at places. Also, saw couple of bikes broken down on the route. Chattru to Gramphoo was Bad/ok, since a dozer was level the road. from Gramphoo to Manali was fine except a strectch while approaching Rohtang pass from Gramphoo.
July 10th: Manali to Shimla by Public transport. Wasted 7-8 hrs as bus broke down at kullu and reached Shimla quite late at night.

Part 2: Self driven trip by WagonR with a friend (Shimla - Narkanda - Kalpa- Shimla- Delhi)
Nothing much to report about except being relieved to be driving after few days of using public transport, which can be highly un-reliable at times.
 
Top