Ummed Singh

Member
Highway Blocked And Houses, Vehicle Damaged Due To Cloudburst In Rampur Shimla

बादल फटने से हाईवे ठप, गाड़ियों को नुकसान, घरों को छोड़ जान बचाने भागे लोग, तस्वीरों में देखें तबाही
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला, Updated Mon, 26 Aug 2019 12:53 PM IST

highway blocked and houses, vehicle damaged due to cloudburst in rampur shimla

1 of 9
- फोटो : अमर उजाला

हिमाचल में कुदरत का कहर जारी है। शिमला समेत हिमाचल के कई भागों में बादल जमकर बरसे। इससे राज्य में जगह-जगह भूस्खलन से सड़कें ठप हो गई हैं। रामपुर में बादल फटने से व्यापक नुकसान हुआ है। राज्य में भूस्खलन से करीब 250 सड़कें यातायात के लिए बंद पड़ी हैं।



2 of 9
- फोटो : अमर उजाला

शिमला के रामपुर खंड की अंतिम पंचायत बधाल के जंगल में बादल फटने से व्यापक नुकसान हुआ है। बादल फटने के बाद आई बाढ़ से नेशनल हाइवे-5 पर बने होटल और खड़ी गाड़ियों को काफी नुकसान पहुंचा है।




3 of 9
- फोटो : अमर उजाला

वहीं, नेशनल हाईवे-5 यातायात के लिए बंद हो गया है।
सोमवार सुबह करीब तीन बजकर 40 मिनट पर आई बाढ़ की आवाज इतनी भयानक थी कि आसपास रह रहे लोग अपने घरों से निकल कर सुरक्षित स्थान की ओर जान बचाने के लिए भागे।



4 of 9
- फोटो : अमर उजाला

प्रशासन की ओर से नुकसान का आकलन किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि एक छोटी गाड़ी भी गायब है। जिसका अभी तक पता नहीं चल पाया है। हाईवे के दोनों तरफ बड़ी संख्या में वाहन फंस गए



5 of 9
- फोटो : अमर उजाला

वहीं, चंबा जिले में भारी बारिश से भरमौर और हड़सर के बीच एक पुलिया बह गई है। इस कारण मणिमहेश यात्रा पर रोक दी गई है। प्रशासन के अनुसार भरमौर से आगे वाहनों की आवाजाही फिलहाल रोक दी गई है।




6 of 9
- फोटो : अमर उजाला

मणिमहेश यात्रा पर आए सैकड़ों श्रद्धालु हड़सर के पास फंसे हैं। रविवार देर रात हुई मूसलाधार बारिश से भरमौर- मणिमहेश मार्ग पर परनाला के पास पुलिया बह गई। इसकी वजह से रास्ता बंद हो गया। इसके चलते श्रद्धालुओं ने पूरी रात बारिश में भीगकर काटी।



7 of 9
- फोटो : अमर उजाला

कांगड़ा जिले में भूस्खलन से पालमपुर-कंडी सड़क यातायात के लिए बंद हो गई है। इसके चलते सड़क के दोनों तरफ बड़ी संख्या में वाहन फंसे हुए हैं। जिले में भूस्खलन से कई अन्य सड़कें भी बाधित हैं।




8 of 9
- फोटो : अमर उजाला

भारी बारिश से कांगड़ा जिले की मंद खड्ड भी उफान पर है। गांव के लोगों को जान जोखिम में डालकर खड्ड को पार करना पड़ रहा है। विशेषकर स्कूली बच्चों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।



9 of 9
- फोटो : अमर उजाला

कुल्लू जिले में भी बारिश का कहर जारी है। जिले की सैंज घाटी के पागल नाला तड़के दो बजे से बंद है। नाले में बाढ़ आने से सड़क क्षतिग्रस्त हो गई है। इसके चलते वाहनों की आवाजाही बंद है। राज्य में एक सितंबर तक मौसम खराब बने रहने के आसार हैं।


बादल फटने से हाईवे ठप, गाड़ियों को नुकसान, घरों को छोड़ जान बचाने भागे लोग, तस्वीरों में देखें तबाही


Hello, Brother, we are going to Spiti valley(Till ChanderTal Lake) and we start our trip on 08.09.2019 from Chandigarh early morning towards Kaza and come back via the same route and we are going with Volkswagen Ameo car so till that time weather is good for trip and we hire car or bike from Kaza to Chandertal so please suggest 8 days trip itinerary. Also, let us know we have to book a hotel in advance or we get there once after reaching.
Thank in advance.
 

adsatinder

explorer
Don't worry.

As this is not summer/holiday season.
You can get accommodation easily at most of the places.
IF by chance somewhere accommodation is not available, check the Map of Spiti.
Make routine to ride in daytime only and retire early to find stay in evening.

Read these links :

Lahaul Spiti valley itinerary

Lahaul Spiti 2018

Solo ride to Saach Pass, Spiti, and Kinnaur - 15 days, 14 nights

Check your places of interests and skip those which do not appeal to you.

Chandigarh - Shimla -Sarahan - Sangla - Kalpa - Nako - Gue Village - Tabo - Dhankar - Kaza - Kibber - Losar - Kunzum La - Gramphu - Rohtang La - Manali - Chandigarh

Detail from:
Our Spiti Peregrination !!
 
Last edited:

adsatinder

explorer
Road Block
निजी कंपनी की मनमानी से यात्री परेशान
Updated Tue, 27 Aug 2019 10:06 PM IST

रल्ली के पास निजी कंपनी के कार्य से लगा लंबा जाम।


रल्ली के पास निजी कंपनी के कार्य से लगा लंबा जाम। - फोटो : RAMPUR-HP


सांगला (किन्नौर)। किन्नौर जिले के रल्ली के पास राष्ट्रीय उच्च मार्ग 5 पर इन दिनों लोगों को जाम की समस्या से जूझना पड़ रहा है। सोमवार को भी रल्ली के पास राष्ट्रीय उच्च मार्ग 5 पर ढाई बजे से करीब पौने चार बजे तक पहाड़ियों पर ड्रिल के कार्य को लेकर दोनों ओर छोटे-बड़े वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। इसके कारण लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी।

जनजातीय जिले में नेशनल हाईवे पांच पर रल्ली के पास निजी कंपनी की मनमानी जिले के लोगों और पर्यटकों पर भारी पड़ रही है। निजी कंपनियां मनमाने तरीके से नियमों को ताक पर रखकर अपनी सुविधाओं के अनुसार पहाड़ियों को ड्रिल कर रही हैं। इसके कारण तीन से चार घंटे तक राष्ट्रीय उच्च मार्ग पर आवाजाही बाधित हो रही है। लोगों में रोष है कि जिला प्रशासन के निर्देशों के बाद भी निजी कंपनी मनमानी से काम कर रही है। ऐसे में ट्रैफिक में फंसे बीमार लोगों को जिला मुख्यालय स्थित अस्पताल पहुंचने में भारी दिक्कतें झेलनी पड़ रही हैं। वहीं निजी कंपनी के प्रभारी और सह प्रभारी के अनुसार सड़क को चौड़ा करने का कार्य कभी भी कर सकते हैं।
गौरतलब है कि जिला उपायुक्त गोपाल चंद ने नेशनल हाईवे के विस्तारीकरण के कार्यों का निर्धारित समय मंगलवार और शुक्रवार को तय किया है। बावजूद इसके निजी कंपनियां मनमानी कर रही हैं। इन दिनों जिले में मटर का सीजन चल रहा है और एनएच पर घंटों जाम के कारण किसान और बागवान परेशानी झेल रहे हैं।
जिले के हुकम राजपूत, नेहा, स्नेहा, प्राची, नलिनी, मंदाकिनी, मनीषा, प्रियंका, नितिन, मुकेश, सूरज, प्रकाश, पद्मा देवी, केरी, ऐलेक्स मैक्स, ऐलिना, शंकर भगत नेगी, सूर्य प्रकाश नेगी, धर्मसेन नेगी और रवि नेगी सहित अन्य लोगों ने प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन से समस्या का समाधान करने की मांग की है।
वहीं इस संबंध में एनएच प्राधिकरण भावानगर के एसडीओ ज्ञान ठाकुर ने कहा कि ब्लास्टिंग का समय मंगल और शुक्रवार को तय किया है। निजी कंपनी यदि मनमानी से काम कर रही है, तो प्राधिकरण कंपनी पर कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। नियम तोड़ने वाले कंपनी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

निजी कंपनी की मनमानी से यात्री परेशान
 

adsatinder

explorer
Rampur Bushahar › Landslide
नौ घंटे बाद एनएच पांच पर दौड़े वाहन
Updated Mon, 26 Aug 2019 10:21 PM IST


बधाल पंचायत में बादल फटने से आई बाढ़ के बाद एनएच का एक दृश्य।


बधाल पंचायत में बादल फटने से आई बाढ़ के बाद एनएच का एक दृश्य। - फोटो : RAMPUR-HP


रामपुर बुशहर/ज्यूरी। सोमवार रात को बधाल पंचायत की धरोली खड्ड में धमाके की आवाज सुनकर धराली खड्ड के आसपास बने मकानों में रहने वाले लोगों में हड़कंप मच गया। लोग तुरंत घर से बाहर निकलकर सुरक्षित स्थानों की ओर भागने लगे। यहां एनएच के साथ बने घरों से करीब चार दर्जन लोग अपनी जान बचाकर सुरक्षित स्थानों में पहुंचे।

नेशनल हाईवे पांच का एक बड़ा हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है। एनएच पांच पूरी तरह से मलबे में तबदील हो गया। सुबह से नेशनल हाईवे के दोनों ओर वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लगी रहीं। शिमला से किन्नौर और किन्नौर जिले से रामपुर-शिमला की ओर आने जाने वाले यात्रियों को करीब आठ घंटे तक परेशानियां झेलनी पड़ीं। बाढ़ की चपेट में आने से जहां एक कार बह गई, वहीं करीब 10 वाहनों को भी क्षति पहुंची है।
इसी बीच धरोली खड्ड में बाढ़ आने से मलबा और बड़े-बड़े पेड़ भी इसकी चपेट में आ गए, जो बह कर एनएच पांच पर पहुंच गए। सोमवार सुबह एनएच पूरी तरह से मलबे में तबदील हो चुका था और एनएच पर पत्थरों का ढेर लग गया था। वर्षों पूर्व भी धराली खड्ड में बादल फटने से बाढ़ आई थी, जिससे क्षेत्र में काफी नुकसान हुआ था। वहीं घटना की सूचना मिलने पर ज्यूरी और झाकड़ी से पुलिस बल भी मौके पर पहुंचा। झाकड़ी से थाना प्रभारी जितेंद्र ने स्वयं मौके जाकर गाड़ियों और दूसरे नुकसान का आकलन करवाया। प्रशासन की तरफ से नायब तहसीलदार देवचंद नेगी और पटवारी राजेश ने भी मौके पर जाकर नुकसान का जायजा लिया। अभी प्रशासन की टीम नुकसान का आकलन करने में जुटी हुई है।
वहीं नेशनल हाईवे बधाल के साथ हरिदास, पुत्र दुर्गा नंद के मकान की निचली मंजिल मलबे से भर गई है, जबकि ऊपर की मंजिल में बना शौचालय, बाथरूम और कमरे को भी नुकसान पहुंचा है। हरिदास चौहान की मारुति 800 कार भी बाढ़ की चपेट में आने से बह गई है, जिसका अभी तक कोई सुराग नहीं लग पा रहा। वहीं इस संबंध में तहसीलदार रामपुर विपन ठाकुर के अनुसार बाढ़ की चपेट में आने से नेशनल हाईवे और साथ लगते घरों को नुकसान पहुंचा है। बाढ़ की चपेट में आने से मारुति कार संख्या एचपी 06-2987 बह गई है, वहीं अन्य 10 वाहनों को आंशिक रूप से नुकसान पहुंचा है। हादसे में जानमाल का कोई नुकसान नहीं हुआ है। प्रशासनिक टीम नुकसान का आकलन करने में जुटी हुई है। राजस्व विभाग के अधिकारियों को मौके पर भेजा गया है, जो नुकसान का आकलन करने में जुटे हुए हैं। मंगलवार को नुकसान की रिपोर्ट आएगी जो सरकार को भेज दी जाएगी।

बधाल में एनएच पांच किनारे खड़ी गाडिय़ों को भी पहुंचा नुकसान।

बधाल में एनएच पांच किनारे खड़ी गाडिय़ों को भी पहुंचा नुकसान।- फोटो : RAMPUR-HP

धरोला खड्ड में बाढ़ आने से एनएच का एक बड़ा हिस्सा हुआ क्षतिग्रस्त।


धरोला खड्ड में बाढ़ आने से एनएच का एक बड़ा हिस्सा हुआ क्षतिग्रस्त।- फोटो : RAMPUR-HP



बाढ़ आने से नौ घंटे यातायात के लिए बाधित रहा एनएच पांच।


बाढ़ आने से नौ घंटे यातायात के लिए बाधित रहा एनएच पांच।- फोटो : RAMPUR-HP


नौ घंटे बाद एनएच पांच पर दौड़े वाहन
 

adsatinder

explorer
Road Damage
नाले में बदली सरपारा सड़क
Updated Mon, 26 Aug 2019 10:27 PM IST


रपारा सड़क पर जगह जगह लगे पानी के नाले।


रपारा सड़क पर जगह जगह लगे पानी के नाले। - फोटो : RAMPUR-HP



ब्रौ (रामपुर बुशहर)।
दुर्गम क्षेत्र 15/20 की सरपारा पंचायत के हजारों लोग नाले में तबदील हुई सड़क पर जान जोखिम में डालकर सफर करने को मजबूर हैं। क्षेत्र में करीब 6000 पेटियां सेब उत्पादन हुआ है, जिसे मंडी तक पहुंचाने की चिंता बागवानों को सता रही है। लोगों में रोष है कि लोक निर्माण विभाग बीते दो वर्ष से सड़क की हालत सुधारने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुआ है। दो वर्ष से नाले का पानी सड़क पर बह रहा है, इस मामले पर विभाग ने कोई कदम नहीं उठाया है।

वर्ष 2017 में क्षेत्र की चाचा खड्ड में बाढ़ आ गई थी, जिसके चलते सड़क पर लगा कलवर्ट बाढ़ की चपेट में आ गया था। वर्तमान समय में सड़क का करीब डेढ़ किलोमीटर हिस्सा खस्ताहाल है, जिसमें बीते दो वर्ष से कोई सुधार नहीं हो पा रहा। इस सड़क से सरपारा पंचायत के सरपारा, शीलाभावी, कस्तैन, सिकासेरी, गांवपानी, खुडना, कानधान, सुघा और मलोआ गांव की करीब दो हजार की आबादी लाभान्वित होती है। ऐसे में क्षेत्र के लोग खतरे के साये में सफर करने को मजबूर हैं। वहीं क्षेत्र में इस वर्ष करीब छह हजार सेब की पेटियों का उत्पादन हुआ है। ऐसे में सड़क की हालत खस्ता होने के कारण बागवानों को फसल मंडी पहुंचाने की चिंता सता रही है।
ग्राम पंचायत सरपारा उपप्रधान अलोक नेगी, शंकर, किशोर परमार, धर्मेंद्र, ज्ञान सिंह, बीना परमार, संतोष केदारटा, कृष्ण नेगी, राजेश, दलीप नेगी, सुनील ठाकुर, इंद्र राज और अन्य ग्रामीणों के अनुसार दो माह पूर्व भी लोनिवि के अधिशासी अभियंता से इस समस्या के बारे में शिकायत की गई थी, लेकिन विभाग ने आज दिन तक कोई ठोस कार्रवाई अमल में नहीं लाई। उन्होंने प्रदेश सरकार और लोक निर्माण विभाग से जल्द से जल्द सड़क की हालत सुधारने की मांग की है।
वहीं लोक निर्माण विभाग ब्रौ के एसडीओ उदय कौशल ने बताया कि सड़क की मरम्मत और कलवर्ट लगाने को लेकर एस्टीमेट तैयार कर विभाग के अधिकारियों को भेज दिया गया है। मौके पर जेसीबी मशीन को भेजा जा रहा है। जल्द ही सड़क की हालत सुधार दी जाएगी।



नाले में बदली सरपारा सड़क
 

Ummed Singh

Member
Don't worry.

As this is not summer/holiday season.
You can get accommodation easily at most of the places.
IF by chance somewhere accommodation is not available, check the Map of Spiti.
Make routine to ride in daytime only and retire early to find stay in evening.

Read these links :

Lahaul Spiti valley itinerary

Lahaul Spiti 2018

Solo ride to Saach Pass, Spiti, and Kinnaur - 15 days, 14 nights

Check your places of interests and skip those which do not appeal to you.

Chandigarh - Shimla -Sarahan - Sangla - Kalpa - Nako - Gue Village - Tabo - Dhankar - Kaza - Kibber - Losar - Kunzum La - Gramphu - Rohtang La - Manali - Chandigarh

Detail from:
Our Spiti Peregrination !!
Thank you so much brother for your kind information.
 
Top