Corona Virus Covid 19

adsatinder

explorer

स्वामी रामदेव
@babaramdevyogi

·
21h

Replying to
@sudhirchaudhary
आयुष मंत्रालय को मिल गयी जानकारी प्रोटोकोलानुसार अनुपालना हुई सारी

#संवाद_से_विवाद_समाप्त हो गया है मंत्रालय को सारा कागज प्राप्त हो गया है

यह हमारे ऋषियों-मुनियों के गौरव का विषय है विधि-सम्मत से सहमत हुए अब कहां संशय है






1593088886775.png



1593088919002.png










Papers are only submitted.
Verification is still to be done by Ayush Ministry.
 

adsatinder

explorer
हिमाचल: बसों में अब 100 फीसदी सवारियां बैठाने को सैद्धांतिक मंजूरी
अमर उजाला नेटवर्क, शिमला
Updated Fri, 26 Jun 2020 10:27 AM IST


हिमाचल में बसों में अब 100 फीसदी सवारियां बैठाने को कैबिनेट ने सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है। कैबिनेट बैठक में परिवहन निगम और निजी बस ऑपरेटरों की वास्तविक स्थिति पर प्रस्तुति के बाद सरकार ने यह मंजूरी दी है। निजी बस ऑपरेटरों को 20 लाख रुपये तक कार्यशील पूंजी (वर्किंग कैपिटल लोन) देने पर भी सहमति बनी। लोन का 50 फीसदी ब्याज सरकार वहन करेगी। पहले साल निजी ऑपरेटरों को कोई ब्याज नहीं देना होगा।
विज्ञापन

दूसरे साल 50 फीसदी और तीसरी और चौथे साल पूरा ब्याज देना होगा। प्रति बस दो लाख तक लोन लिया जा सकेगा। अब विस्तृत प्रस्ताव को कैबिनेट या फिर सरकार के पास लाया जाना है। एक जुलाई से इस व्यवस्था को लागू किया जा सकता है। सूबे में निजी बस ऑपरेटर किराया बढ़ाने की मांग कर रहे थे। इनका तर्क है कि बसों में 60 फीसदी सवारियां बैठाने से न तो गाड़ी की मरम्मत का खर्च निकलेगा और न चालक-परिचालकों की तनख्वाह दे सकेंगे। ऐसे में सरकार ने बसों की मेंटेनेंस और अन्य खर्चों के लिए लोन देने का फैसला किया है।
सितंबर तक नहीं लगेगा ग्रीन सेस और फिटनेस फीस
कैबिनेट ने वाहन मालिकों को ग्रीन सेस और फिटनेस फीस सितंबर तक माफ करने का फैसला लिया है। वाहन मालिकों से यह फीस 800 से 1000 रुपये तक ली जाती है। वाहनों की पासिंग को अब पेंट कराने की जरूरत नहीं होगी। सिर्फ मेकेनिक पार्ट्स ठीक होने चाहिए। सरकार ने छोटे-बड़े वाहनों पर टैक्स पर लगाई जाने वाली पेनल्टी भी माफ कर दी है।

हिमाचल में वाहन शुल्क हुआ महंगा
सरकार ने हिमाचल में वाहन पंजीकरण शुल्क महंगा कर दिया है। पहले यह शुल्क ढाई से 4 फीसदी तक लिया जाता था। अब इसे बढ़ाकर 7 से 10 फीसदी किया है। 50 हजार तक मोटरसाइकल पर 7 फीसदी, 50 हजार से 2 लाख तक 8 फीसदी, दो लाख व इससे ज्यादा तक 10 फीसदी पंजीकरण शुल्क लगेगा। कार पर शुल्क 8 से 10 फीसदी किया है। बसों में भी 10 फीसदी तक शुल्क वसूल किया जाएगा।

अब 100 फीसदी लगेगी कंपोजिट फीस
बाहरी राज्यों से सवारियां लेकर हिमाचल आने वाली छोटी-बड़ी बसों से सरकार 100 फीस कंपोजिट फीस लेगी। पहले एक महीने हिमाचल आने पर ऑपरेटरों से 15 दिन तक की कपोजिट फीस ली जाती थी।


 

citymonk

Super User
Now CDC is telling what we had already known that this virus was with us for a long time. Millions were infected and recovered
I think Ramdev too came to know about it and hence in hurry has launched this concoction for Crononil. Which is nothing but mixture of already known home remedies like Tulsi, Giloy and Ashwagandha.

And some wise men knew it too and were wisely advising to drink some edible Alcoholic drinks. Based on that advice Many lives were lost in Iran initially, but that must be due to fact that good quality Alcohol is not available in Iran and those died after drinking alcohol had industrial spirits and other toxic alcohol based chemicals, even hand sanitizers.

But it is questionable why so many Blacks died in USA in recent pandemic spread, previously it has not happened like that before.
 
Last edited:

Big Daddy

Super User
But it is questionable why so many Blacks died in USA in recent pandemic spread, previously it has not happened like that before.
Lack of health care insurance could be a factor that media will not mention. Give competition for beds, doctors will select the patients where they get paid vs. patients where they do not get paid. For media, it is discrimination because they do not have to worry about money.
 

adsatinder

explorer
Railways cancels all regular train services till August 12

PTI
NEW DELHI, JUNE 25, 2020 21:58 IST
UPDATED: JUNE 25, 2020 21:58 IST


Rail track repair work is under way in Vijayawada on June 14, 2020.


Rail track repair work is under way in Vijayawada on June 14, 2020. | Photo Credit: K.V.S. Giri

However, all special trains — 12 pairs running on the Rajdhani routes since May 12 and 100 pairs operating since June 1 — will continue.
All regular mail, express and passenger services as well as suburban trains have been cancelled till August 12, the Railway Board said on June 25. Sources said that the decision was taken keeping in mind the increasing number of coronavirus cases in the country.
However, all special trains — 12 pairs running on the Rajdhani routes since May 12 and 100 pairs operating since June 1 — will continue, they said.
The limited special suburban services, which began recently in Mumbai to ferry essential services personnel identified by the local authorities will also continue to run, officials said.

“All tickets booked for the regular time-tabled trains for journey date from 01.07.20 to 12.08.20 also stand cancelled. Full refund will be generated,” the Railway Board order stated.

Earlier, the Railways had cancelled all trains till June 30.


Railways cancels all regular train services till August 12.
 

adsatinder

explorer
Indian Railways extends cancellation of all regular trains till August 12
Economy

ET Now Digital
ET Now Digital

Updated Jun 25, 2020 | 22:50 IST



Indian Railways, on Thursday, cancelled all regular trains till August 12, 2020, in a notification issued today. All special Rajdhani, mail and express trains will continue to operate


Breaking News


Indian Railways extends cancellation of all regular trains till August 12 | Photo Credit: PTI


KEY HIGHLIGHTS
  • All passenger, mail, and express trains have been cancelled A

  • All special trains will continue to operate normally

  • Regular time-tabled trams for journey from July 1 to August 12 also stand cancelled


New Delhi: Indian Railways, on Thursday, cancelled all regular trains till August 12, 2020, in a notification issued today. All special Rajdhani, mail and express trains, however, will continue to operate.
"It has been decided that regular time-tabled passenger services including Mail and Express, passenger and suburban services stand cancelled up to 12.08.2020," the Railway Board said in the notification.
All the tickets booked for the regular time-tabled trams for the journey date from July 1 to August 12 also stand cancelled.
"We have only enabled refunds for trains which are not being operated and for which tickets have been booked prior to lock down and upto April 14. No trains which are presently operational have been cancelled. Special Trains will continue to run. As far as the running of more trains is concerned, all will be informed and bookings will be done, as and when the decision is taken about them. There no blanket order ruling out running of more trains till 12 August," a spokesperson from the Indian Railways said.
The Railways, in a notification issued on May 15, had cancelled all trains scheduled for travel till June 30, 2020, and decided to refund the tickets. The latest extension for cancellation of trains comes in the wake of an unrelenting surge in coronavirus cases in the country.
Refund of 'normal' train tickets, that is, those booked before the suspension during the period of travel between June 25 and August 12 will also be allowed.


ANI
✔@ANI


It has also been decided that all the ticket booked for the regular time-tabled trams for the journey date from 01.07.20 to 12.08.20 also stand cancelled: Railway Board https://twitter.com/ANI/status/1276171161785659392 …
ANI
✔@ANI
It has been decided that regular time-tabled passenger services including Mail/Express, passenger and suburban services stand cancelled up to 12.08.2020: Railway Board
View image on Twitter

496
8:41 PM - Jun 25, 2020
Twitter Ads info and privacy
154 people are talking about this


The latest announcement, however, does not affect the special trains run by the government to transport migrant workers, the railways board said.
The Railways earlier said it will provide a full refund for all regular tickets booked before or on April 14, 2020. The regular train tickets booked for a date 120 days after April 14, 2020, will be cancelled and the IRCTC will initiate a full refund. The IRCTC also advised passengers to not cancel their tickets in case it cancels trains.

1593199757218.png


Once a train is cancelled in the system by the Indian railways, the refund is automatically processed. The IRCTC has suspended advance reservation for regular train services from April 15.

The Railways is running 230 special trains on routes specified. Special train services were started to assist the movement of stranded citizens requiring urgent travel.


Indian Railways extends cancellation of all regular trains till August 12



RELATED NEWS
Indian Railways to give full refund for all tickets booked on or before April 14
Indian Railways to give full refund for all tickets booked on or before April 14

Indian Railways
These 4 Indian Railways stations to get swanky makeover, IRSDC calls out interested bidders
Indian Railways
These 4 Indian Railways stations to get swanky makeover, IRSDC calls out interested bidders

Indian Railways is running 230 sopecial trains
IRCTC special trains: No waitlist problem as seats available in most 230 Indian Railways trains
 

adsatinder

explorer
Uttar Pradesh › Lucknow › 70 Percent Corona Patients Do Not Require Medicines

घबराएं नहीं... 70 फीसदी कोरोना के मरीजों में दवा की जरूरत नहीं पड़ती


चंद्रभान यादव, अमर उजाला, लखनऊ Updated Sat, 27 Jun 2020 04:04 PM IST


1593282854481.png



लखनऊ में 70 फीसदी कोरोना मरीज बिना लक्षण वाले हैं। इनमें से 5 से 10 फीसदी को ही कुछ दवाएं देनी पड़ती हैं। जबकि अन्य कोरोना मरीज सिर्फ हेल्दी डाइट और विटामिन सी युक्त भोजन लेकर ठीक हो रहे हैं। ऐसे में चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है। सिर्फ बचाव करने की जरूरत है।

मालूम हो कि राजधानी में अब तक कुल 1001 मरीज पाए जा चुके हैं। इसमें 797 राजधानी के मूल निवासी हैं। सीएमओ डॉ. नरेंद्र अग्रवाल बताते हैं कि 70 फीसदी से ज्यादा में नहीं कोरोना के लक्षण नहीं मिले। ऐसे मरीज कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के दौरान मिले थे। ये सभी मरीज आठ से दस दिन में ठीक हो गए और घर भेज दिया गया।

फिर अस्पताल क्यों भेजा
बिना लक्षण वाले मरीजों को अस्पताल भेजने के सवाल पर सीएमओ डॉक्टर नरेंद्र अग्रवाल कहते हैं कि इन्हें अस्पताल में रखने के पीछे मूल मकसद था कि हाई रिस्क श्रेणी वाले मरीजों में संक्रमण न फैलने पाए। हाई रिस्क श्रेणी में वृद्धजन, हृदय रोगी, ब्लड प्रेशर व डायबिटीज के मरीज, कैंसर, किडनी रोगी, टीबी रोगी, अस्थमा से पीड़ित और गर्भवती हैं।
ज्यादातर मरीज बिना लक्षण वाले


अस्पतालों ने भी बना रखा है प्रोटोकॉल
लेवल-थ्री के अस्पताल में भी प्रोटोकॉल को तीन हिस्से में बांटा गया है। पीजीआई में पहुंचने वाले मरीजों को मॉडरेट की श्रेणी में होने के बाद भी कुछ दवाएं दी जाती हैं।

सदर इलाके में करीब 120 मरीज मिले थे। इसमें 90 मरीज बिना लक्षण वाले थे। इसी तरह कैसरबाग व आसपास मिले करीब 90 मरीजों में 75 में कोई लक्षण नहीं मिले थे। पीएसी के करीब 90 मरीजों और आरपीएफ जीआरपी के 43 मरीजों में भी सिर्फ पांच मरीज में लक्षण पाए गए थे। इसी तरह हेल्पलाइन सेंटर के 104 और उनके परिवार के 16 मरीजों में किसी में भी लक्षण नहीं पाया गया था।

मरीजों काे बांटा चार श्रेणियाें में

माइल्ड :
इस श्रेणी के मरीज में किसी तरह के लक्षण नहीं होते हैं। सिर्फ खानपान दुरुस्त रखा जाता है। बुखार आने पर पैरासीटामॉल और खांसी की दवा दी जाती है। 7 से दस दिन के बीच ठीक हो जाते हैं। स्थिति गंभीर हुई तो लेवल-2 के अस्पताल में रेफर किया जाता है।

मॉडरेट : ऐसे कोरोना मरीज वे होते हैं, जिनमें कुछ लक्षण होते हैं, लेकिन उनकी तीव्रता कम होती है। इन मरीजों को हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन, विटामिन सी, गले में खराश होने पर एजिंथो माईसिन जैसी दवाई दी जाती हैं। गरारा की सलाह दी जाती है।

गंभीर : इन मरीजों में लक्षण दिखाई पड़ते हैं। सीने में परेशानी होती है। शरीर में तेज दर्द और सांस लेने में भी दिक्कत आती है। इन्हें भर्ती करने पर इंजेक्शन और एंटीवायरल दवाएं दी जाती हैं। कुछ एंटीबायोटिक्स भी देनी पड़ती है। जरूरत पड़ने पर ऑक्सीजन भी दिया जाता है और डायलिसिस व अन्य तकनीक अपनाई जाती हैं।

अति गंभीर : इस श्रेणी में वे मरीज आते हैं, जिन्हें लगातार ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है। इन मरीजों को वेंटिलेटर पर रखा जाता है। एंटीबायोटिक्स, एंटीवायरल के साथ प्लाज्मा थेरेपी की भी जरूरत पड़ सकती है। ऐसे मरीज लेवल 3 के अस्पताल में अनिवार्य रूप से रखे जाते हैं।
मरीज पर निर्भर करता है इलाज


केजीएमयू के संक्रामक रोग नियंत्रण यूनिट के प्रभारी डॉक्टर डी हिमांशु का कहना है कि बिना लक्षण वाले मरीज को दवा की जरूरत नहीं होती है। केजीएमयू में आए बिना लक्षण वाले मरीज ठीक हुए हैं। लेकिन जिन मरीजों को शुगर ब्लड प्रेशर किडनी संबंधित बीमारी है और कोरोना के लक्षण नहीं है उन्हें दवाएं दी जाती हैं।

लोकबंधु अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. डीएस नेगी का कहना है कि बिना लक्षण वाले मरीज को कोई दवा नहीं दी जाती है। लेकिन उसमें किसी दूसरे तरह की समस्या है तो दवा देनी पड़ती है। गंभीर मरीज को रेफर कर दिया जाता है।

कहां कितने मरीज हैं भर्ती
संस्थान ------------- राजधानी के मरीज --------- बाहरी मरीज

एसजीपीजीआई-------------58------------------ 35
केजीएमयू------------------44------------------ 22
लोहिया संस्थान -------------67------------------- 7
लोकबंधु अस्पताल ----------64------------------ 12
आरएसएम बीकेटी ----------68------------------ 0
कमांड हॉस्पिटल ------------ 7------------------ 0
ईएसआई हॉस्पिटल--------- 19------------------ 0

बिना लक्षण वाले और पहले से बीमारी की चपेट में न रहने वाले मरीजों को राम सागर मिश्रा अस्पताल बीकेटी, ईएसआई और लोकबंधु अस्पताल में रखा जाता है। मरीज की तबीयत खराब हुई तो केजीएमयूए, पीजीआई या लोहिया संस्थान भेजा जाता है। लोहिया संस्थान और केजीएमयू में भी बिना लक्षण वाले कुछ मरीज भेजे जाते हैं। इन मरीजों को दवा की जरूरत नहीं होती। - डॉ. नरेंद्र अग्रवाल सीएमओ



घबराएं नहीं... 70 फीसदी कोरोना के मरीजों में दवा की जरूरत नहीं पड़ती
 
Last edited:

adsatinder

explorer
Punjab :
1 car 3 or more persons of same family can travel.
Bus can have all seats full with passengers.

एक कार में 3 से अधिक लोग कर सकेंगे सफर, बस में बैठेंगी पूरी सवारियांः कैप्टन
  • Edited By Mohit,
  • Updated: 27 Jun, 2020 09:41 PM
Punjab


जालंधरः पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने आज अपने प्रोग्राम के दौरान लोगों से कई मुद्दों पर बातचीत की। इस दौरान उन्होंने लोगों को और राहत देते हुए कहा कि एक कार में परिवार के 3 से अधिक लोग सफर कर सकते हैं। इसके साथ ही उन्होंने पंजाब में सवारियों की पूरी क्षमता से बसें चलाने का भी भरोसा दिलाया है लेकिन इसके लिए हर सवारी को मास्क पहनना जरुरी होगा। उन्होंने कहा कि पंजाब में पूरी सवारियों से बसें चलाई जाएंगी लेकिन उनमें बैठने वाली हर सवारी को मास्क पहनना अनिवार्य होगा।

इस दौरान उन्होंने कोरोना महामारी के पंजाब में बढ़ रहे मामलों पर चिंता जताई और पंजाब वासियों से अपील की कि वह सरकार द्वारा जारी हिदायतों की पालना करें और मास्क लगाकर रखें। कैप्टन ने कहा कि अगर पंजाब के हालात और ज्यादा बिगड़ते हैं तो फिर लॉकडाउन लगाया जा सकता है। लोगों को अपील करते हुए कैप्टन ने कहा कि इन हालातों पर आप लोग ही काबू पा सकते हैं।


एक कार में 3 से अधिक लोग कर सकेंगे सफर, बस में बैठेंगी पूरी सवारियांः कैप्टन
 
Top