Could i have some help, please?

adsatinder

explorer
Extreme Rainfall Warning In Uttarakhand Eight Districts Today
उत्तराखंड: आठ जिलों में बहुत भारी बारिश का अलर्ट, थल-मुनस्यारी मार्ग पहाड़ी दरकने से बंद
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Sat, 28 Sep 2019 02:33 PM IST


Extreme Rainfall Warning in uttarakhand Eight Districts Today

- फोटो : अमर उजाला फाइल फोटो


उत्तराखंड में बारिश का दौर जारी है। मौसम विभाग ने आज प्रदेश के आठ जिलों देहरादून, टिहरी, पौड़ी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर, नैनीताल और पिथौरागढ़ जिले में भारी से भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

शनिवार सुबह से ही देहरादून में रिमझिम बारिश् शुरू भी हो गई है। वहीं पहाड़ी क्षेत्रों में भी बादल छाए हुए हैं। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह के अनुसार अभी अक्टूबर के पहले हफ्ते तक यही स्थिति बनी रहेगी। वहीं मलबा आने से बदरीनाथ हाईवे भी बंद हो गया है।

थल-मुनस्यारी मार्ग बंद
थल-मुनस्यारी सड़क मार्ग पर पहाड़ी दरकने से रास्ता बंद हो गया है। शुक्रवार को कुछ घंटों तक वाहनों का आवागमन सुचारु रहा। दिन में एक बजे फिर से पहाड़ी से भारी मात्रा में बोल्डर सड़क पर आ गए। इससे वाहनों का संचालन ठप हो गया। सड़क बंद होने से दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लगी रही। नया बस्ती में लगभग एक सौ मीटर हिस्सा संवेदनशील बना हुआ है। वहीं शनिवार को भी रास्ता अभी बंद ही है।

यहां पर पिछले एक माह से पहाड़ी से लगातार मलबा और पत्थर गिर रहे हैं। दस दिन पूर्व सड़क का एक बड़ा हिस्सा नदी में समा गया था। पहाड़ी को काटकर नई सड़क बनानी पड़ी थी। एक बार फिर पहाड़ी के दरकने से यह स्थान संवेदनशील हो गया है। लगातार पत्थर गिरने से वाहनों के साथ ही राहगीरों के लिए भी खतरा बना हुआ है।

https://www.amarujala.com/dehradun/extreme-rainfall-warning-in-uttarakhand-eight-districts-today
 

adsatinder

explorer
उत्तराखंडः केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम में बर्फबारी, इलाके में बढ़ी ठंड

उत्तराखंड के केदारनाथ और बद्रीनाथ में अक्टूबर के महीने में जबरदस्त बर्फबारी शुरू होने से पूरे इलाके में ठंड बढ़ गई है. केदारनाथ और बद्रीनाथ में पहाड़ बर्फबारी से सफेद हो गए हैं.

फाइल फोटो


फाइल फोटो


aajtak.in
देहरादून, 21 अक्टूबर 2019, अपडेटेड 06:41 IST

उत्तराखंड में अक्टूबर में ही बर्फबारी ने दस्तक दे दी है. केदारनाथ और बद्रीनाथ में जबरदस्त बर्फबारी देखने को मिली है. अक्टूबर के महीने में जबरदस्त बर्फबारी शुरू होने से पूरे इलाके में ठंड बढ़ गई है. इस ताजा बर्फबारी से यात्रियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं. केदारनाथ और बद्रीनाथ में पहाड़ बर्फबारी से सफेद हो गए हैं.
इस साल केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में खासा उत्साह देखने को मिला था. इस साल मई महीने में केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट वैदिक मंत्रोच्चारण और अनुष्ठानों के बाद श्रद्धालुओं के लिए खोले गए थे. बद्रीनाथ को भगवान विष्णु का धाम माना जाता है, जबकि केदारनाथ को भगवान शिव का धाम माना जाता है.
बताया जा रहा है कि इस महीने के आखिरी तक केदारनाथ और बद्रीनाथ के कपाट बंद हो जाएंगे. ठंड बढ़ने के चलते कपाट को बंद किया जाता है. हर साल केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के धाम के कपाट अक्टूबर-नवंबर में बंद किए जाते हैं और 6 महीने तक बंद रहते हैं. इसके बाद अप्रैल-मई में इन धामों के कपाट फिर खोल दिए जाते हैं. केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में काफी संख्या में श्रद्धालु हर साल पहुंचते हैं.


उत्तराखंडः केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम में बर्फबारी, इलाके में बढ़ी ठंड
 

Tcb

New Member
heo
उत्तराखंडः केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम में बर्फबारी, इलाके में बढ़ी ठंड

उत्तराखंड के केदारनाथ और बद्रीनाथ में अक्टूबर के महीने में जबरदस्त बर्फबारी शुरू होने से पूरे इलाके में ठंड बढ़ गई है. केदारनाथ और बद्रीनाथ में पहाड़ बर्फबारी से सफेद हो गए हैं.

फाइल फोटो


फाइल फोटो


aajtak.in
देहरादून, 21 अक्टूबर 2019, अपडेटेड 06:41 IST

उत्तराखंड में अक्टूबर में ही बर्फबारी ने दस्तक दे दी है. केदारनाथ और बद्रीनाथ में जबरदस्त बर्फबारी देखने को मिली है. अक्टूबर के महीने में जबरदस्त बर्फबारी शुरू होने से पूरे इलाके में ठंड बढ़ गई है. इस ताजा बर्फबारी से यात्रियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं. केदारनाथ और बद्रीनाथ में पहाड़ बर्फबारी से सफेद हो गए हैं.
इस साल केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं में खासा उत्साह देखने को मिला था. इस साल मई महीने में केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट वैदिक मंत्रोच्चारण और अनुष्ठानों के बाद श्रद्धालुओं के लिए खोले गए थे. बद्रीनाथ को भगवान विष्णु का धाम माना जाता है, जबकि केदारनाथ को भगवान शिव का धाम माना जाता है.
बताया जा रहा है कि इस महीने के आखिरी तक केदारनाथ और बद्रीनाथ के कपाट बंद हो जाएंगे. ठंड बढ़ने के चलते कपाट को बंद किया जाता है. हर साल केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के धाम के कपाट अक्टूबर-नवंबर में बंद किए जाते हैं और 6 महीने तक बंद रहते हैं. इसके बाद अप्रैल-मई में इन धामों के कपाट फिर खोल दिए जाते हैं. केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में काफी संख्या में श्रद्धालु हर साल पहुंचते हैं.


उत्तराखंडः केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम में बर्फबारी, इलाके में बढ़ी ठंड
hello sirji
can you answer me, how many days are needed at munshiyari for a family trip?
 

adsatinder

explorer
heo

hello sirji
can you answer me, how many days are needed at munshiyari for a family trip?
2 days are ok for local sight seeing. For reaching Munsiyari from Delhi it takes 2 days. Return also in 2 days.
A week is ideal time.
 
Last edited:
  • Like
Reactions: Tcb
Top