Delhi Pollution

adsatinder

explorer
https://www.bcmtouring.com/forums/javascript%3Avoid(0);
Air Pollution: Eat These Foods To Build Resistance Against Effects Of Air Pollution
With the rising pollution levels, it is important to fortify yourself from within. Here's what you should be eating to combat the ill-effects of pollution.

Dr. Rupali Datta, Consultant Nutritionist | Updated: November 04, 2019 11:14 IST


Air Pollution: Eat These Foods To Build Resistance Against Effects Of Air Pollution

















Highlights
  • The air we breathe today has reached dangerous levels of pollution
  • It introduces harmful pollutants into our lungs
  • A little change in your diet can reverse the damage of air pollution
The air that we are breathing has reached dangerous levels of pollution. People with no known respiratory problems are landing up in hospital emergency rooms. We would like to introduce you to some natural antioxidant nutrients that can help your body deal with this problem. The polluted air that we inhale injects ozone, nitrogen dioxide, particulate matter, diesel exhaust particles, etc. into our lungs. The protective antioxidants present in the lining of our lungs fight it out till they are outnumbered, thereafter, the pollutants start attacking the immune and body cells producing free radicals and causing inflammation. But did you know that antioxidants from the food you eat can provide protection to your body from the harmful effects caused by air pollutants?

Did you know that antioxidants from the food you eat can provide protection to your body from the harmful effects caused by air pollutants?


Load up on these powerful nutrients to combat the effects of air pollution:


Vitamin C: It is the single most potent antioxidant for our body. This water soluble vitamin is present throughout our body and it scavenges free radicals. Vitamin C also contributes to vitamin E regeneration. Adequate vitamin C in our daily diets is crucial for maintaining its level in the lungs. Adults need 40mg of this vitamin/day.

1. Vegetables like coriander leaves, chaulai ka saag, drumsticks, parsley, cabbage and turnip greens are good sources that you should load up on.
2. Fruits like amla, orange and guava are rich in vitamin C.
3. The easiest way to get your daily dose of vitamin C is to include the juice of 2 lemons in your daily diet.
4. Citrus fruits also add to the vitamin C content of food.




Vitamin C: It is the single most potent antioxidant for our body.


Vitamin E: This fat soluble vitamin is the first line of defence against injury to human tissues.

1. Vitamin E in our diet usually comes from plant based cooking oils. Sunflower, safflower and rice bran oil are the top three sources followed by canola, peanut and olive oil.
2. Almonds and seeds of sunflower are also good sources of this vitamin. Seeds and nuts are high in fat calories too, so about one ounce a day are adequate.
3. Among fish - salmon, roe and eel are recommended for their vitamin E content.
4. Spices and herbs like chilli powder, paprika, cloves, oregano, basil and parsley contain a decent amount of vitamin E. However, most of these are consumed in very small quantities. Making them a part of your daily cooking will help add up to the total.


Almonds and seeds of sunflower are also good sources of this vitamin.


Beta Carotene: This plays a very important role in controlling inflammation because of its antioxidant activity. It is also converted to vitamin A in our body.

1. Leafy vegetables like amaranth (chaulai ka saag), coriander, methi(fenugreek), lettuce and spinach are the richest sources of Beta Carotene.
2. Radish leaves and carrots are good sources too.

Omega -3 Fats: These protect the body against the detrimental effects of air pollution on one's heart health and lipid profile. Sources of these heart healthy oils are:

1. Nuts and seeds like walnuts, chia seeds and flax seeds. Add them to yogurt, make a smoothie or just have them as is.
2. Methi seeds, mustard seeds, green leafy vegetables, kala chana, rajma andbajra are common foods which provide omega -3.

Methi seeds, mustard seeds, green leafy vegetables, kala chana, rajma andbajra are common foods which provide omega -3.


Ayurveda Solutions: Certain herbs and spices have been suggested in Ayurvedic medicine for curing common respiratory ailments.

1. Turmeric is a well-known antioxidant and is said to help protect the lungs from the toxic effects of pollutants.
2. Mix turmeric and ghee to relieve cough and aid during asthma. During an asthmatic attack, turmeric with jaggery and butter may be taken to relieve symptoms.
3. Jaggery mixed with onion juice is said to have an expectorant effect, useful during both wet and dry cough.
4. Haritaki along with jaggery, taken before bedtime and in the morning is good for relieving phlegm.
5. Ayurveda also prescribes a diet rich in bitter and astringent foods, as opposed to sweet or sour foods, during asthma. Wheat and cow's milk are believed to be beneficial for asthma patients. Ginger, black pepper, tulsi, liquorice, nutmeg, mint and galangal are also useful for curing respiratory ailments.



Haritaki along with jaggery, taken before bedtime and in the morning is good for relieving phlegm.


1COMMENTS
A healthy body is needed to overcome any adversity. In addition to food, 15-30 minutes of exercise, pranayam for the lungs and adequate rest will help you immensely.





Air Pollution: Eat These Foods To Build Resistance Against Effects Of Air Pollution
 

adsatinder

explorer
H'yana: Workers protest against shutdown of industries in Panipat for past 17 days

Published on :11 Nov 2019 , 11:55 pm IST




Owners and workers linked to industrial organisations in Panipat staged a protest against government order imposing shutdown to curb pollution since October 25. Protesters alleged that they are facing losses due to the shutdown.

Panipat (Haryana): Businessmen and workers connected to industrial organisations on Monday held a protest against the government for the industry shutdown imposed for the last 17 days in the city.

The Environment Pollution (Prevention and Control) Authority had directed the closure of industries to curb pollution from October 25.
Representatives of the industry alleged that they are facing losses to the tune of crores of rupees per day due to the shutdown. They further alleged that it is not just the industries which cause pollution.

The businessmen met the Deputy Commissioner on Monday and submitted their request for resolution of their problems failing to which they will protest along with their families on streets from Tuesday onwards.
Around 5 lakh workers work in 12,000 odd industries in Panipat.
Workers are bearing the brunt due to closure of industries as they have been rendered without any source of income for the last 17 days.
"The industry has only been closed in Panipat and not in Karnal and Sonipat. Karnal is the home city of Chief Minister Manohar Lal Khattar and Sonipat is close to Delhi. If the government does not consider our demands, we will be forced to protest at a larger scale," Avinash Garg, a blanket trader said.
"All industrial and business establishments are supporting us in this protest. Due to this the markets will remain closed as a symbolic gesture on Tuesday," Bhim Rana, chief of the Dyers' Association said.



ETV Bharat
 

adsatinder

explorer
वो चीज जो पीएम 2.5 से कहीं ज्यादा खतरनाक है, प्रदूषण मापने में सरकारें क्यों नहीं लेतीं इनका नाम

बीबीसी, Updated Mon, 09 Dec 2019 07:40 AM IST













पिछले कई दिनों में हमारे देश में प्रदूषण को लेकर बहुत शोर मचा है। अक्सर हवा खराब होने और सांस लेना दूभर होने की शिकायतें मिल रही हैं। इस दौरान एक शब्द का इस्तेमाल बार-बार किया जा रहा है, जिसे आप सभी ने सुना ही होगा। वो है PM 2.5 (पार्टिकुलेट मैटर 2.5)।

ये वो छोटे-छोटे कण होते हैं, जिनकी वजह से प्रदूषण होता है। इनका आकार 2.5 माइक्रोमीटर होता है। कहा जाता है कि ये हमारे फेफड़ों से होते हुए हमारे खून की नली तक पहुंच जाते हैं। लेकिन, हकीकत ये है कि इनमें से जयादातर प्रदूषण के कण फेफड़ों की छननी के पार नहीं जा पाते।

हमें ये भी बताया जा रहा है कि नाइट्रस ऑक्साइड गैसें, जिसमें नाइट्रोजन ऑक्साइड भी शामिल है, वो ही शहरों में वायु प्रदूषण के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार हैं। लेकिन, रिसर्च बताती हैं कि यूरोप में प्रदूषण से होने वाली मौतों में से केवल 14 प्रतिशत के लिए ही नाइट्रस ऑक्साइड गैसें जिम्मेदार होती हैं।

वायु प्रदूषण के असल जिम्मेदार


इसमें कोई दो राय नहीं कि पीएम 2.5 और पीएम 10 जानलेवा होते हैं। लेकिन प्रदूषण के जो असल कारक हैं, जिनकी वजह से सबसे ज्यादा मौतें होती हैं, वो कभी सुर्खियों में आते ही नहीं। न ही उनके नियमन के लिए कायदे तय हुए हैं। कुछ वैज्ञानिकों के अलावा, बाकी लोग उनका जिक्र तक नहीं करते।

वायु प्रदूषण के असल जिम्मेदार हैं - नैनो पार्टिकिल्स। यानी वो छोटे-छोटे कण, जो फेफड़ों से गुजर कर हमारे खून में मिल जाते हैं।

हां, पीएम 2.5 इतना छोटा है कि हमें दिखता नहीं। क्योंकि ये इंसान के बाल से 30 गुना छोटा होता है। लेकिन, नैनो पार्टिकिल्स से तुलना करेंगे तो ये हाथी और चींटी को बराबर खड़ा करने जैसा होगा।

पीएम 2.5 असल में 2500 नैनोमीटर आकार का होता है। इसके मुकाबले नैनो पार्टिकिल्स केवल 100 नैनोमीटर आकार के होते हैं।

पीएम 2.5 से फेफड़ों और सांस की तमाम बीमारियां होती हैं। लेकिन, नैनो पार्टिकिल्स हमारे शरीर के दूसरे अंगों तक पहुंच कर उन्हें तबाह कर सकते हैं।

फिर, नैनो पार्टिकिल्स की गणना क्यों नहीं?

अगली स्लाइड देखें

विज्ञापन









 

adsatinder

explorer
THAILAND
Thailand: Turning straw into gold | Global Ideas
491,786 views
•Jan 6, 2020



10K
234


DW News

1.34M subscribers


SUBSCRIBE
Huge amounts of rice straw are left over after the harvest in Thailand. Farmers often burn it, which is terrible for the environment. A young entrepreneur has found a new use for the material. Turned into paper, it can replace plastic food packaging.
 

adsatinder

explorer

Use of Rice Straw for Packaging Materials - The Best Option
Tuesday, 10 December, 2019, 13 : 00 PM [IST]
Mukul Sain



We are living in a growing globalised world and we must make efforts to seek global solutions to protect the Mother Nature from pollution.

In India, everybody is aware about the winter smog in northwest India caused due to straw burning in Haryana, Punjab, Uttar Pradesh and Delhi. These states and our national capital Delhi is suffering with a thick mixture of smoke and fog.

Poor air quality is bad for everyone especially children, aged people and people with chronic respiratory conditions. Rice and wheat are the most commonly eaten grains in India.

After harvesting of paddy or rice, farmers burn the residue paddy straw, which not only causes a lot of air pollution but also affects the fertility of soil. The ban on stubble burning and initiatives like granting subsidies to the farmers to buy equipment and machines helping in rice straw management are also getting failed to take off in expected manner.

Also, one more problem, which our country is facing, is of plastic packs. India generates around 26,000 tonne of plastic per day. Uncollected plastic waste causes harm to natural environment. It affects the seas, oceans and lands. The use of plastic in packaging is increasing and the matter of concern is that the packaging is not effectively collected and around 80% of plastic is discarded as waste and 40% of this waste is uncollected.

To overcome this problem, paddy or rice straw based packaging can be the best option, which will not only resolve the problem of management of paddy straw but also help in reducing the plastic use for packaging. Traditional plastic is made from petroleum-based raw materials whereas paddy straw-based packaging is made from renewable materials. This provides a solution for two major environmental concerns i.e., crop waste disposal and plastic pollution.

There are many technologies to convert stubble waste into packaging materials. Rice straw has starch, cellulose and lignin contents. A chemical pulping technology can be used to convert straw into paper and cardboard for packaging. This method is based on extraction of cellulose from rice straw to make paper where 65% of rice straw is converted into pulp, which can be used in paper and cardboard industry. Rice straw is a very good packaging material because of compaction resistance and resiliency.

Some entrepreneurs are working to turn the agricultural fibres into biodegradable and reusable packaging materials. With this, the farmers will get financial incentive to sell the straw residue and they will not burn the crop biomass. With this, not only the economic status of farmers will rise but it will also help in replacing the main component, which causes smog in north India every winter.

A young entrepreneur startup formed by IIT Delhi students has found a novel way to take care of paddy straw. This startup called Kriya Labs has developed a simple process to convert paddy straw into fibre in which firstly, the paddy straw is cut into small pieces using a cutter and is cleaned properly to remove dirt. After that, the straw is bleached using biodegradable chemicals. To extract fibre, the straw is steamed in an autoclave reactor (a giant pressure cooker) for around 1 to 1.5 hours. Finally, a beater machine is used to extract the pulp from paddy straw. The final pulp obtained can be converted into packaging materials, plates, bowls and so on.

Bio-Lutions India, which is a Hamburg-based company with operations in Ramanagara, Bengaluru, buys waste residue from farmers and makes biodegradable and compostable packaging, which takes only three months to biodegrade. These packaging materials are used for packing the fruits and vegetables. Also, they are making tableware with the waste. Their mission is to curb the use of plastic that is choking the planet. The following picture shows a packaging material by the company:

A new technology namely bio-plastic is used for making environment-friendly packaging materials. Bio-plastic is plastic derived from renewable crop residue using starch, cellulose, protein and so on that are extracted from rice straw. Bio-plastic has a key property of biodegradability by microorganisms after disposal. Around 50% of the bio-plastics are prepared from starch by adding glycerol for better mechanical properties and good water solubility. The properties of biodegradable bio-plastic and petroleum based conventional plastic are discussed below:

CharacteristicsPlasticsBio-plastics
CompositionPetroleumStarch of crop residue
Energy consumption in productionHigh48% lower than conventional plastic
ChemicalsToxic chemicals like Bisphenol A (BPA)No toxic chemicals
Physical propertiesHighly stable and thermoplasticEqually stable and highly thermoplastic
BiodegradabilityMore than 500 yearsAround 180 days. Also, it produces methane which can be used for cooking purposes
Effect on holding contentsCannot retain the original flavour and scent of stored foodPreserve the original flavour and scent of stored food

In India, IIT Guwahati has developed biodegradable plastic, which is funded by the Department of Chemicals and Petrochemicals under Union Ministry of Chemicals and Fertilisers. Though USA is the major producer of bio-plastic but the cost is very high. IIT-G’s team is working to achieve this with lower costs.

The above-discussed bio-plastics are biodegradable or compostable plastics but it must be noted that all bio-plastics are not biodegradable. Some of them biodegrade after disposal, some can biodegrade under very specific conditions while some of them will not biodegrade under any conditions. Among all, PLA (polylactic acid or polylactide) is most promising bio-plastic produced by fermentation of starch from crops into lactic acid followed by subsequently polymerisation.

It is a very versatile bio-plastic with high transparency. By varying composition, its stability can be extraordinarily increased.

Finally, we can say that rice straw is a waste if and only if wasted. Its not a waste until wasted and with proper management, it can give us economical and environmental benefits.

(The author is M Tech, research scholar at Department of Dairy Engineering, College of Dairy Science and Technology, GADVASU, Ludhiana. He can be contacted at [email protected])


FNB News - Use of Rice Straw for Packaging Materials - The Best Option | FNB News
 

adsatinder

explorer
Delhi Ncr Air Quality Worsens In Many Areas Aqi Goes Beyond 400 Mark People Feel Uneasy In Breathing
दिल्ली-एनसीआर की हवा में नहीं हो रहा सुधार, 400 के पार पहुंचा कई जगहों का वायु गुणवत्ता सूचकांक
अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली Updated Sat, 24 Oct 2020 09:37 AM IST



1603542214195.png


pollution in delhi - फोटो : अमर उजाला


दिल्ली-एनसीआर की हवा बीते कई दिनों से गंभीर स्तर पर बनी हुई है, जो शनिवार भी जारी रही। शहर के विभिन्न इलाकों से शनिवार सुबह वायु गुणवत्ता सूचकांक के जो आंकड़े सामने आए हैं, वह बीते दिनों से बेहतर नहीं हैं। दिल्ली के कई इलाकों में आज सुबह वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 के पार दर्ज किया गया।

दिल्ली के अलीपुर में सुबह 9 बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक 505 दर्ज किया गया। वहीं गाजियाबाद के लोनी का एक्यूआई 583, दिल्ली के पीतमपुरा का 463, जहांगीरपुरी का 458 दर्ज किया गया।
राजधानी में प्रदूषण बढ़ने का असर लोगों पर दिखने लगा है, लोगों को सुबह साइकिलिंग में सांस लेने में परेशानी हो रही है। सुबह साइकिलिंग पर आए अमित चावला ने बताया, पिछले एक-डेढ़ हफ्ते से साइकिल चलाते समय सांस लेने में दिक्कत हो रही है, पहले ऐसा नहीं होता था।





शुक्रवार को कैसा था हाल
शुक्रवार को दिल्ली-एनसीआर में सुबह से ही स्मॉग की घनी चादर छाई रही। वायु गुणवत्ता सूचकांक(एक्यूआई) में गुरुवार के मुकाबले एकाएक उछाल आने से दिल्ली, गुरुग्राम के कई इलाकों में एक्यूआई 400 को पार कर गया, जो कि गंभीर श्रेणी में आता है। उधर, देश के पांच सबसे प्रदूषित शहरों में ग्रेटर नोएडा तीसरे व नोएडा पांचवें स्थान पर रहा। ग्रेटर नोएडा में एक्यूआई 381 व नोएडा का 369 दर्ज किया गया। भिवाड़ी 390 एक्यूआई के साथ पहले और धारुहेड़ा (385) दूसरे स्थान पर रहा।

ईपीसीए की अपील, मास्क जरूर पहनें
दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर ईपीसीए ने कहा कि शनिवार को कुछ देर के लिए दिल्ली-एनसीआर की हवा गंभीर स्तर पर प्रदूषित हो सकती है। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि 25 अक्तूबर को हवा की दिशा बदलने पर प्रदूषण पर क्या असर पड़ेगा। इस वक्त प्रदूषण रोकने के सभी विकल्पों पर सख्ती से काम करना है और लोगों को प्रदूषण से बचने के लिए मास्क जरूर पहनना चाहिए।


दिल्ली-एनसीआर की हवा में नहीं हो रहा सुधार, 400 के पार पहुंचा कई जगहों का वायु गुणवत्ता सूचकांक
 

adsatinder

explorer
Exclusive ग्राउंड रिपोर्ट: 20 रुपये के कैप्सूल से खाद में बदल गई 90% पराली

खर्च के सवाल पर किसान सुमित ने कहा कि बायो डिकम्पोजर के छिड़काव के लिए एक रुपए भी खर्च नहीं हुए, सारा खर्चा सरकार ने उठाया है. हमें 15 दिन में दवाई का छिड़काव सफल नजर आ रहा है और हम काफी संतुष्ट हैं.


Starch converted into compost in Delhi


Starch converted into compost in Delhi

पंकज जैन

पंकज जैन
  • नई दिल्ली,
  • 28 अक्टूबर 2020,
  • (अपडेटेड 28 अक्टूबर 2020, 5:32 PM IST)


पराली जलाने से फैलने वाले प्रदूषण से निपटने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (पूसा इंस्टीट्यूट) द्वारा तैयार बायो डिकम्पोजर का छिड़काव सफल होता नजर आ रहा है. 13 अक्टूबर को केजरीवाल सरकार ने पूसा इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों के साथ दिल्ली में नरेला के हिरणकी गांव में 1 हेक्टेयर (ढाई एकड़) धान के खेत में 500 लीटर बायो डिकम्पोजर का पहला छिड़काव कराया था.
छिड़काव के ठीक 15 दिन बाद 'आजतक' की टीम ने पूसा इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों के साथ खेत का जायजा लिया. वैज्ञानिकों का कहना है कि अब तक 15 दिन में 90% पराली गलकर खाद में बदल चुकी है. दिल्ली में करीब 2000 एकड़ खेत में धान की खेती होती है, जिस वजह से काफी बड़ी मात्रा में पराली जमा होती थी. केजरीवाल सरकार द्वारा 2000 एकड़ खेत में मुफ्त खर्च पर बायो डिकम्पोजर का छिड़काव कराया था.
28 अक्टूबर को हिरणकी गांव पहुंची भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान की प्रधान वैज्ञानिक लवलीन शर्मा ने 'आजतक' से खास बातचीत में कहा कि "ये प्रयोग शत प्रतिशत सफल हुआ है. सही समय पर बायो डिकम्पोजर का छिड़काव किया गया था. अब तक 90% पराली गल चुकी है, खेत मे जांच करने के बाद पाया गया कि पराली का एक निशान नहीं है. 15 दिन में ही पराली गल चुकी है जबकि 13 अक्टूबर को ये खेत पराली से भरा हुआ था. खेत के किसान चाहें तो अब भी बुआई शुरू कर सकते हैं. लेकिन इनके खेत में फिलहाल पानी है हालांकि पानी सूखने के बाद बिना समस्या के किसान आसानी से बुआई कर सकते हैं.
छिड़काव के बाद खेत पर हुए फायदे या नुकसान के सवाल पर किसान सुमित ने 'आजतक' से बातचीत में कहा कि बायो डिकम्पोजर के छिड़काव के बाद सारी पराली गल गई है तो नुकसान नजर नहीं आता है. अभी खेत में पानी ज्यादा है लेकिन बुआई का टाइम भी नहीं आया है क्योंकि दिन में हल्की गर्मी होती है. 10 नवंबर तक खेत का पानी सूख जाएगा और मौसम ठंडा होने के साथ ही बुआई भी कर सकते हैं.



13 अक्टूबर की पराली की तस्वीर जब बायो डिकम्पोजर का छिड़काव हुआ था
खर्च के सवाल पर किसान सुमित ने कहा कि बायो डिकम्पोजर के छिड़काव के लिए एक रुपए भी खर्च नहीं हुए, सारा खर्चा सरकार ने उठाया है. हमें 15 दिन में दवाई का छिड़काव सफल नजर आ रहा है और हम काफी संतुष्ट हैं.


28 अक्टूबर की तस्वीर, जब पराली खाद में बदल गई
इसके अलावा पूसा इंस्टीट्यूट की वैज्ञानिक टीम ने 'आजतक' के साथ उस खेत का भी जायजा लिया जहां बायो डिकम्पोजर का छिड़काव प्रयोग के तौर पर नहीं किया गया था. किसान सुमित ने बताया कि जहां दवाई का छिड़काव नहीं हुआ उस खेत में 2 बार जुताई करनी पड़ती है और पानी भी ज्यादा खर्च होता है, जिससे समय और रुपए की ज्यादा बर्बादी होती है. जिस खेत में बायो डिकम्पोजर का छिड़काव नहीं होता था वहां 3000 रुपए का खर्च आता था लेकिन अब बायो डिकम्पोजर से पराली गल गई है इसलिए सिर्फ बुआई करनी होगी और खर्च भी 1500 रुपए तक आएगा.
लेकिन सवाल ये भी है कि जिस खेत में बायो डिकम्पोजर का छिड़काव हुआ क्या वहां खेती करना लाभदायक है? इस सवाल के जवाब में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान की प्रधान वैज्ञानिक लवलीन शर्मा ने कहा कि "दरअसल बायो डिकम्पोजर जीवाणुओं का समूह होता है जो फसल के अवशेष पर ही काम करता है. इन दिनों किसान खेत के अंदर ही खाद बनाने की डिमांड करते हैं. बायो डिकम्पोजर द्वारा पराली को खाद में बदलने के साथ-साथ भूमि में कार्बन, नाइट्रोजन और फॉस्फोरस की मात्रा बढ़ेगी. जब इस खेत मे गेहूं की बुआई होगी तब भी वैज्ञानिकों की टीम सैम्पल लेगी और बायो डिकम्पोजर के छिड़काव से पहले और बाद के अंतर की रिपोर्ट दे पाएंगे.
क्या सफल प्रयोग के बाद पंजाब, हरियाणा जैसे राज्यों में सरकारों को बायो डिकम्पोजर के बारे में गंभीरता से विचार करना चाहिए? जवाब में प्रधान वैज्ञानिक लवलीन शर्मा ने कहा, 'मुझे लगता है कि जब दिल्ली में किसानों को सफलता मिल रही है तो हमें किसानों के फोन आते हैं कि वो पराली जलाना नहीं चाहते हैं और बायो डिकम्पोजर का छिड़काव उनके खेत में करवाना चाहते हैं. किसान इस विकल्प का प्रयोग करना चाहते हैं, बाकी सरकारों को भी अपने राज्यों के किसानों को प्रेरित करना चाहिए.'


क्या है पूसा इंस्टीट्यूट की ये तकनीक?
पराली को खाद में बदलने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने 20 रुपए की कीमत वाली 4 कैप्सूल का एक पैकेट तैयार किया है. प्रधान वैज्ञानिक युद्धवीर सिंह ने कहा कि 4 कैप्सूल से छिड़काव के लिए 25 लीटर घोल बनाया जा सकता है और 1 हेक्टेयर में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. सबसे पहले 5 लीटर पानी मे 100 ग्राम गुड़ उबालना है और ठंडा होने के बाद घोल में 50 ग्राम बेसन मिलाकर कैप्सूल घोलना है. इसके बाद घोल को 10 दिन तक एक अंधेरे कमरे में रखना होगा, जिसके बाद पराली पर छिड़काव के लिए पदार्थ तैयार हो जाता है.
इस गोल को जब पराली पर छिड़का जाता है तो 15 से 20 दिन के अंदर पराली गलनी शुरू हो जाती है और किसान अगली फसल की बुवाई आसानी से कर सकता है. आगे चलकर यह पराली पूरी तरह गलकर खाद में बदल जाती है और खेती में फायदा देती है. 1 हेक्टेयर खेत मे में छिड़काव के लिए 25 लीटर बायो डिकम्पोजर के साथ 475 लीटर पानी मिलाया जाता है.
अनुसंधान के वैज्ञानिकों के मुताबिक किसी भी कटाई के बाद ही छिड़काव किया जा सकता है. इस कैप्सूल से हर तरह की फसल की पराली खाद में बदल जाती है और अगली फसल में कोई दिक्कत भी नहीं आती है. कैप्सूल बनाने वाले वैज्ञानिकों ने पर्याप्त कैप्सूल के स्टॉक का दावा किया है. वैज्ञानिकों के मुताबिक पराली जलाने से मिट्टी के पौषक तत्व भी जल जाते हैं और इसका असर फसल पर होता है. युद्धवीर सिंह ने कहा कि ये कैप्सूल भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा बनाया गया है. ये कैप्सूल 5 जीवाणुओं से मिलाकर बनाया गया है जो खाद बनाने की रफ्तार को तेज करता है.


Exclusive ग्राउंड रिपोर्ट: 20 रुपये के कैप्सूल से खाद में बदल गई 90% पराली
 

adsatinder

explorer
*Delhi में अब सिर्फ Service और High- Tech Service खुलेगी*
4,075 views•Nov 2, 2020


172
5

NDTV India
9.26M subscribers


*दिल्ली (Delhi) में कोविड (COVID-19) के साथ साथ प्रदूषण ने कहर बरपाया हुआ है. और अब जाकर फैसला हुआ है कि नई मैन्युफैक्चरिंग यूनिट वहां पर नहीं लगने वाली है. दिल्ली सरकार के इस प्रस्ताव को केंद्र सरकार ने मान लिया है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने इसका ऐलान भी कर दिया है.*
 
  • Like
Reactions: IJS
Top