Jokes (Only clean jokes here, please!)

Suneesh Sharma

Love my Iron Beast
Angry with someone?!?

Think before you talk..

If the person is junior to you.. count upto 10 and then talk.

... is Equal to you.. count upto 30 and talk..

.. is Your senior to you then count 50, then talk..

If the person is your wife..
keep counting..don’t talk


If the person is your husband...keep talking don't count

Sent from my ONEPLUS A6000 using Tapatalk
 

adsatinder

explorer
एक बार एक अँग्रेज रोहतक मेँ रास्ता भूल गया, उसने उड़ै पुलिस आळ्यां तै पूछा

Will you please guide me the way to bus stand?

पुलिस वाला: के कहवै है ?

अँग्रेज ने फेर दूसरे पुलिस वाले तै पूछा

Will you please tell me the way to reach bus stand?

पुलिस वाला: के कह रहा है भाई?

अँग्रेज वहाँ से चुपचाप चला गया

पहले पुलिस वाले ने दूसरे को कहा
रामबिलास भाई, आदमी नै अँग्रेजी जरूर आणी चाहिए, किम्मै एमरजैँसी मैँ काम आ जा है

दूसरा पुलिस वाला: उस अँग्रेज नै तो अँग्रेजी आवै थी
उसके काम आयी के???

 

adsatinder

explorer
सर- फूफा किसे कहते हैं।

छात्र- जी, फूफा एक रिटायर्ड जीजा होता है, जिसने एक जमाने में जिस घर में शाही पनीर खा रखा हो और उसे सुबह शाम धुली मुंग की दाल खिलाई जाए, उसका फू और फा करना वाजिब है, इसलिए ऐसे शख्स को फूफा कहना उचित है। (कापी)

प्र०: फूफा पर निबन्ध लिखिए।

उत्तर: - फूफा

●बूआ के पति को फूफा कहते हैं। फूफाओं का बड़ा रोना रहता है शादी ब्याह में। किसी शादी में जब भी आप किसी ऐसे अधेड़ शख़्स को देखें जो पुराना, उधड़ती सिलाई वाला सूट पहने, मुँह बनाये, तना-तना सा घूम रहा हो। जिसके आसपास दो-तीन ऊबे हुए से लोग मनुहार की मुद्रा में हों तो बेखटके मान लीजिये कि यही बंदा दूल्हे का फूफा है !
ऐसे मांगलिक अवसर पर यदि फूफा मुँह न फुला ले तो लोग उसके फूफा होने पर ही संदेह करने लगते हैं।

अपनी हैसियत जताने का आखिरी मौका होता है यह उसके लिये और कोई भी हिंदुस्तानी फूफा इसे गँवाता नहीं !

●फूफा करता कैसे है यह सब ?

वह किसी न किसी बात पर अनमना होगा। चिड़चिड़ाएगा। तीखी बयानबाज़ी करेगा। किसी बेतुकी सी बात पर अपनी बेइज़्ज़ती होने की घोषणा करता हुआ किसी ऐसी जानी-पहचानी जगह के लिये निकल लेगा, जहाँ से उसे मनाकर वापस लाया जा सके !

●अगला वाजिब सवाल यह है कि फूफा ऐसा करता ही क्यों है ?
दरअसल फूफा जो होता है, वह व्यतीत होता हुआ जीजा होता है। वह यह मानने को तैयार नहीं होता है कि उसके अच्छे दिन बीत चुके और उसकी सम्मान की राजगद्दी पर किसी नये छोकरे ने जीजा होकर क़ब्ज़ा जमा लिया है। फूफा, फूफा नहीं होना चाहता। वह जीजा ही बने रहना चाहता है और शादी-ब्याह जैसे नाज़ुक मौके पर उसका मुँह फुलाना, जीजा बने रहने की नाकाम कोशिश भर होती है।

●फूफा को यह ग़लतफ़हमी होती है कि उसकी नाराज़गी को बहुत गंभीरता से लिया जायेगा। पर अमूमन एेसा होता नहीं। लड़के का बाप उसे बतौर जीजा ढोते-ढोते ऑलरेडी थका हुआ होता है। ऊपर से लड़के के ब्याह के सौ लफड़े। इसलिये वह एकाध बार ख़ुद कोशिश करता है और थक-हारकर अपने इस बुढ़ाते जीजा को अपने किसी नकारे भाईबंद के हवाले कर दूसरे ज़्यादा ज़रूरी कामों में जुट जाता है।

●बाकी लोग फूफा के ऐंठने को शादी के दूसरे रिवाजों की ही तरह लेते हैं। वे यह मानते हैं कि यह यही सब करने ही आया था और वह अगर यही नहीं करेगा तो क्या करेगा,

●ज़ाहिर है कि वे भी उसे क़तई तवज्जो नहीं देते।
फूफा यदि थोड़ा-बहुत भी समझदार हुआ तो बात को ज़्यादा लम्बा नहीं खींचता।

●वह माहौल भाँप जाता है। मामला हाथ से निकल जाये, उसके पहले ही मान जाता है। बीबी की तरेरी हुई आँखें उसे समझा देती हैं कि बात को और आगे बढ़ाना ठीक नहीं। लिहाजा, वह बहिष्कार समाप्त कर ब्याह की मुख्य धारा में लौट आता है।

●हालांकि, वह हँसता-बोलता फिर भी नहीं और तना-तना सा बना रहता है। उसकी एकाध उम्रदराज सालियां और उसकी ख़ुद की बीबी ज़रूर थोड़ी-बहुत उसके आगे-पीछे लगी रहती हैं। पर जल्दी ही वे भी उसे भगवान भरोसे छोड़-छाड़ दूसरों से रिश्तेदारी निभाने में व्यस्त हो जाती हैं।

●फूफा बहादुर शाह ज़फ़र की गति को प्राप्त होता है। अपना राज हाथ से निकलता देख कुढ़ता है, पर किसी से कुछ कह नहीं पाता। मनमसोस कर रोटी खाता है और दूसरों से बहुत पहले शादी का पंडाल छोड़ खर्राटे लेने अपने कमरे में लौट आता है। फूफा चूँकि और कुछ कर नहीं सकता, इसलिये वह यही करता है।

●इन हालात को देखते हुए मेरी आप सबसे यह अपील है कि फूफाओं पर हँसिये मत। आप आजीवन जीजा नहीं बने रह सकते। आज नहीं तो कल आपको भी फूफा होकर मार्गदर्शक मंडल का हिस्सा हो ही जाना है।

●अाज के फूफाओं की आप इज़्ज़त करेंगे, तभी अपने फूफा वाले दिनों में लोगों से आप भी इज़्ज़त पा सकेंगे। एक फूफा की दर्द भरी दास्तान, सभी फुफओ को समर्पित ||
फुफा पुराण समाप्त।
 

adsatinder

explorer
A foreigner comes to Kashi. Visits the Viswanath's temple and all the ghats. Then he buys a VIBHUTHI packet from a boy selling on the street.

Foreigner then asks the boy what is its expiry date.

Boy looking surprised and replied:

It's made from expired people and when you apply on your forehead, it increases your expiry date.

 

Suneesh Sharma

Love my Iron Beast
A foreigner comes to Kashi. Visits the Viswanath's temple and all the ghats. Then he buys a VIBHUTHI packet from a boy selling on the street.

Foreigner then asks the boy what is its expiry date.

Boy looking surprised and replied:

It's made from expired people and when you apply on your forehead, it increases your expiry date.

Good one sir..

Sent from my Redmi Note 6 Pro using Tapatalk
 

adsatinder

explorer
कुछ लोग काम ही डाँट खाने वाले
करते हैं।

जब *wife* ने एक बार कह दिया
कि वो *5 मिनट* में तैयार हो
जायेगी...!!!

तो फिर *हर आधे घंटे बाद* पूछने
की ज़रूरत क्या है कि ,
*ओर कितना टाइम लगेगा*
 

Suneesh Sharma

Love my Iron Beast
बीयर की जगह व्हस्की की खपत बढ़ जाये तो समझो बरसात आ गयी

व्हिस्की की जगह रम की खपत बढ़ जाये तो ठंड आ गयी

रम की जगह बीयर अधिक बिकने लगे तो समझो वापस गर्मी आ गयी

ये है मौसम का पूरा चक्र

बाकी मौसम विभाग वगैरह तो अंध विश्वास है

Sent from my Redmi Note 6 Pro using Tapatalk
 
Top