Locust Threat in India

adsatinder

explorer
Delhi NCR › Locust Attack In Delhi Gurugram Noida Greater Noida Faridabad People Play Dj Loud Music Fire Crackers

दिल्ली-एनसीआर में टिड्डी दल का हमला, गुरुग्राम के रास्ते दिल्ली फिर ग्रेटर नोएडा और फरीदाबाद पहुंचा


अमर उजाला नेटवर्क, फरीदाबाद, Updated Sat, 27 Jun 2020 05:53 PM IST


कोरोना संकट से जूझ रहे दिल्ली-एनसीआर वासियों को अभी राहत भी नहीं मिली थी कि शनिवार को टिड्डी के रूप में नई मुसीबत सामने आ गई। टिड्डी दल ने शनिवार को पहले झज्जर फिर गुरुग्राम, पटौदी, दिल्ली, ग्रेटर नोएडा और फरीदाबाद में धावा बोल दिया। गुरुग्राम पहाड़ी के रास्ते शहर पहुंची टिड्डियों से आसामान में चारों तरफ टिड्डियां ही टिड्डियां नजर आ रही थी। इसके वजह से लोग अपने घरों में छिप गए। आगे जानिए लोगों ने इसे भगाने का प्रयास कैसे किया और कहां कितना नुकसान हुआ....

1593281438200.png


हालांकि कृषि क्षेत्र पर इनका कोई असर देखने को नहीं मिला। टिड्डियों को भगाने के लिए लोगों ने बर्तन, बम पटाखे फोड़ने के साथ ही साथ डीजे बजाए। इससे टिड्डियां नोएडा की ओर मुड़ गई। इनसे निपटने के लिए कृषि विभाग ने भी कमर कस ली है। कृषि विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यदि टिड्डी दल वापस लौटकर आता है तो उससे निपटने के लिए विभाग ने अपनी पूरी तैयारी कर ली है।

1593281459355.png



राजस्थान के कई जिलों में पिछले डेढ़ महीनों में टिड्डी दलों ने किसानों की फसलों पर कहर बरपा कर चौपट कर दिया है। इसके मद्देनजर किसान और सरकार सभी चिंतित हैं। फरीदाबाद में शनिवार दोपहर टिड्डियों का दल पहुंच गया है। गुरुग्राम से पहाड़ी से सूरजकुंड, मेवला महाराजपुर, सेक्टर-27,28,29,30, 31 में दोपहर लाखों की संख्या में टिड्डियां पहुंच गई हैं। यहां इन टिड्डियों ने पेड़ों के पत्तों को खाना शुरू कर दिया है। टिड्डियों को भगनाने के लिए लोगों ने तेज आवाज में डीजे, बर्तन और पटाके फोडे। इससे टिड्डियां यमुनापार कर नोएडा की तरफ निकल गई।


1593281519018.png




ग्रेटर फरीदाबाद के कई गांवों में बोला धावा
शहरी क्षेत्र के बाद टिड्डी दल ग्रेटर फरीदाबाद के गांव रिवाजपुल, अमीपुर, मंझावली, जसाना आदि की तरफ पहुंचा। टिड्डियों को देखकर किसानों की चिंता बढ़ गई। हालांकि कृषि विभाग द्वारा गांव में पहले से मुनादी कराए जाने से किसान जागरुक दिखाई दिए।

1593281574332.png



आसमान में धूल के गुबार की तरह उड़ती दिखी टिड्डियां
फरीदाबाद पहुंची टिड्डियों को देख किसानों के चेहरे का रंग उड़ गया है। खेतों में तैयार फसल की तरफ देखकर किसान टिड्डियों के कारण होने वाले नुकसान को लेकर चिंतित दिखे। सुबह करीब 10 बजे से ही गुरुग्राम में टिड्डियों के आने की खबर सुनते ही शहर के किसानों की हवाइयां उड़ने लगी। दोपहर होते होते बल्लभगढ़ व ग्रेटर फरीदाबाद के किसानों की चिंता ओर अधिक बढ़ गई। यमुना के साथ लगते गांव में सब्जियां खेतों में तैयार हैं। गांव वजीरपुर के किसान बालकिशन ने बताया कि उनके गांव में तोरई, टमाटर, खीरा, भिंडी आदि की फसल तैयार है हालांकि ज्यादातर जमींदारों ने अपने खेत छोटे किसानों को बटाई पर दे रखे हैं, मगर टिड्डियों की वजह से ग्रामीण चिंतित दिखे।

1593281597113.png




ग्रामीणों ने कहा कि आज से पहले उन्होंने इतनी तादात में टिड्डियां नहीं देखी। गांव छांयसा के रूप चंद का कहना है कि गांव के आसपास टिड्डियां अचानक से झुंड में आ घुसी। गांव में एक साथ इतनी टिड्डियां देखकर दोपहर में ही गांव के लोग घरों से बाहर निकल आए। खेतों में बैठी टिड्डियों को भगाने के लिए गांव के लोगों ने थालियां, खाली कनस्तर, टीन के टुकड़ों से शोर मचाना शुरू कर दिया। कुछ किसानों ने जानवरों को भगाने के लिए पटाखे रखे हुए थे, उन्हें भी टिड्डियों को भगाने के लिए इस्तेमाल किया। फिलहाल खतरा टल गया और टिड्डियां उड़कर नोएडा की ओर चली गई हैं। मगर अभी भी किसानों को इनका डर सता रहा है।


1593281618696.png




गुरुग्राम की ओर से टिड्डियों ने फरीदाबाद में प्रवेश किया है, जो सेक्टर, 28,20, 31 और रिवाजपुर, अमीपुर, मंझावली, जसाना आदि गांव की तरफ से नोएडा की तरफ चली गई हैं। टिड्डियों को लेकर गांव में पहले ही मुनादी करवा दी गई थी। इसलिए किसानों ने गांव में पहुंचने पर बर्तन, कनस्तर, पटाखे आदि बजाना शुरु कर दिए। इससे कोई नुकसान नहीं हुआ और यहां से यमुनापार निकल गई। टिड्डियों से निपटने के लिए विभाग ने दवा के साथ ट्रैक्टर, फायर बिग्रेड तैनात कर रखे है। - डॉ. अनिल तवंर, उप निदेशक, कृषि विभाग

1593281639252.png



दिल्ली-एनसीआर में टिड्डी दल का हमला, गुरुग्राम के रास्ते दिल्ली फिर ग्रेटर नोएडा और फरीदाबाद पहुंचा
 

adsatinder

explorer
Uttar Pradesh › Agra › Pakistani Locust Group Attacks In Mainpuri Eats Hariyali Project

पाकिस्तान से आए टिड्डी दल ने बरबाद की फसलें, 'चट' किया हरियाली प्रोजेक्ट, पीछे-पीछे दौड़े अफसर


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मैनपुरी, Updated Mon, 29 Jun 2020 07:54 PM IST

1 of 7

1593451114355.png


हरियाली प्रोजेक्ट में फसल पर बैठा टिड्डी दल, दूसरे चित्र में बबूल के पेड़ - फोटो : अमर उजाला

पाकिस्तान से उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले में पहुंचा टिड्डी दल सोमवार को फिर से वापस आ गया। रविवार को ये दल जनपद से गुजर गया था। कुछ ही घंटों में टिड्डी दल ने किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचा दिया। कृषि विभाग के अधिकारी टिड्डी दल के पीछे-पीछे भागते रहे। किसान भी शोर करके इन्हें भगाने की कोशिश करते रहे। सोमवार शाम को टिड्डी दल फिरोजाबाद की ओर निकल गया।



2 of 7

1593451094974.png

किसान धुआं कर और तेज शोर कर इन्हें उड़ाते रहे- फोटो : अमर उजाला

सोमवार को सबसे पहले ये दल नवीगंज क्षेत्र में पहुंचा। यहां के गांव तिलियानी, लालपुर, जिनौरा, रसूलपुर, दौदापुर, नगला बहोरी, जोगा, नेकामऊ, बहदीनपुर, कमालपुर और जासमई में ये दल उड़ता रहा। जागरूकता के चलते किसान धुआं कर और तेज शोर कर इन्हें उड़ाते रहे। रात से लेकर सुबह 11 बजे तक इस क्षेत्र में टिड्डी का प्रकोप रहा।




1593451064101.png


पेड़ों की पत्तियों को चट करने के बाद देखते किसान- फोटो : अमर उजाला

रविवार की रात को ही टिड्डियों ने नगर पंचायत किशनी के हरीसिंहपुर के हरियाली प्रोजेक्ट के पेड़ों पर कब्जा कर लिया। सोमवार सुबह बिधूना चौराहा, नगला मंगद, नैगवां, मकरंदपुर सहित कई गांवों में ये दल मंडराने लगा। कई किसानों की फसल ये दल चट कर गया। हालांकि किसानों ने फसलों को बचाने के लिए तेज ध्वनि व शोर मचाकर टिड्डियों को भगाने का प्रयास किया। टिड्डियों ने हरियाली प्रोजेक्ट में लगे सैकड़ों पेड़ों की पत्तियों को चट कर लिया।




1593451037296.png


एसडीएम रामशकल मौर्य, उप कृषि निदेशक डीवी सिंह और जिला कृषि अधिकारी डॉ. गगनदीप सिंह टिड्डी दल की सूचना के बाद हरियाली प्रोजेक्ट पहुंचे। उन्होंने किसानों से नुकसान के बारे में बात की। किसानों ने बताया कि एक पेड़ पर भारी संख्या में टिड्डियों के बैठने से बबूल और नीम के पेड़ की डालियां टूटकर लटक गईं।


मैनपुरी में जागीर के गांव सगामई, मलिकपुर और बघिरुआ में फसलों को इससे नुकसान हुआ। लोगों ने तेज आवाज कर कर और दवा का छिड़काव कर उन्हें भगाया। यहां से दन्नाहार क्षेत्र के गांव भटानी, चिकनी, नगला आशा से होता हुआ टिड्डी दल फिरोजाबाद की ओर निकल गया। इससे कृषि विभाग और किसानों ने राहत की सांस ली है।







1593451003729.png


टिड्डी के जिले में आने से कृषि विभाग की नींद उड़ गई है। रविवार रात को जिला कृषि अधिकारी डॉ. गगनदीप सिंह टिड्डी पर दवा का स्प्रे कराने के लिए फायर ब्रिगेड और केमिकल के साथ बेवर क्षेत्र में पहुंचे थे। पूरी रात टीम टिड्डी दल की तलाश में जुटी रही, लेकिन कहीं दल नहीं मिला। सुबह तीन बजे टीम वापस लौट आई। जिला कृषि अधिकारी डॉ. गगनदीप सिंह ने बताया कि रात में ही इस पर दवा का स्प्रे किया जाना संभव है।



1593450944861.png



टिड्डी ने खेत में खड़ी धान की नर्सरी को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाया है। हाल ये है कि किशनी और नवीगंज क्षेत्र के जिन गांवों में टिड्डी का प्रकोप रहा वहां नर्सरी खत्म हो गई। खेत में खड़ी ढेंचा, मक्का व अन्य फसलों के पत्तों को भी टिड्डी चट कर गई। इससे किसानों को कोई नुकसान नहीं है। टिड्डी दल जिले में घूमता हुआ फिरोजाबाद की ओर चला गया है। किसान सतर्क रहें, कहीं भी टिड्डी दिखाई देने पर तत्काल सूचना दें। साथ ही शोर कर उन्हें भगाने का प्रयास करें। डॉ. गगनदीप सिंह, जिला कृषि अधिकारी।

 

adsatinder

explorer
After locust swarms seen in Delhi, neem leaves and firecrackers to chase pests
A high alert was issued by Delhi’s environment minister Gopal Rai in south and southwest districts of the city because of a potential locust attack threat .
DELHI Updated: Jun 28, 2020 11:24 IST
hindustantimes.com | Edited by Meenakshi Ray

hindustantimes.com | Edited by Meenakshi Ray
Hindustan Times, New Delhi

A swarm of locusts flies over DLF area, in Gurugram on Saturday


A swarm of locusts flies over DLF area, in Gurugram on Saturday(PTI Photo )

Parts of Delhi have been placed on alert after a swarm of locusts invaded several suburbs and entered the national capital’s border areas on Saturday.
Residents in the National Capital Region (NCR), including rural west Delhi (Dwarka), Gurugram and Faridabad, saw thousands of the crop-destroying pests flying over the skies.
A high alert was issued by Delhi’s environment minister Gopal Rai in south and southwest districts of the city because of a potential locust attack threat .
All district magistrates, sub-divisional magistrates, the forest department and municipal corporations were issued advisories by the Delhi agriculture department.


Here’s what the advisory says:

* District magistrates have been advised to deploy adequate staff to make all possible arrangements like announcements in villages for guiding residents to distract the locusts by the beating of drum or utensils, playing high volume music, bursting firecrackers and burning neem leaves

* They have asked to remain in touch with the fire department to make arrangements for chemical spraying to save vegetation from the pests

* Resident have been asked to keep doors and windows closed

* People can cover outdoor plants with a plastic sheet, the advisory said

* Locusts usually fly during the day and rest at night and should not be allowed to rest after sundown

* Those spraying insecticides such as malathion or chlorpyrifos must use PPE kit for safety.


 

adsatinder

explorer
Locust swarms sweep into central UP, Lucknow gears up for possible invasion
At the micro-level, farmers' teams have been constituted at the block level and have been asked to alert the authorities as soon as they spot any swarm of locusts in their area.

Published: 29th June 2020 03:55 PM | Last Updated: 29th June 2020 03:55 PM | A+A A-

A swarm of locusts.


A swarm of locusts. (File Photo | AP)

By Namita Bajpai
Express News Service

LUCKNOW: Swarms of locusts are now moving from western UP to deep into central districts such as Auraiyya, Kasganj, Farrukhabad, and Hathras.
State capital Lucknow is put on a high alert. Authorities concerned there are preparing to deal with the locust invasion as the city has enough greenery to draw the swarms.
As per the sources in the agriculture department, a swarm was about to reach Kanpur and Kasganj districts and there is a possibility of it moving to Lucknow. However, the wind direction would also decide the direction of their movement.
The districts which have already faced locust attacks include Jhansi and Lalitpur in the Bundelkhand region, Agra, Mathura, Prayagraj, Kaushambi, Pratapgarh, Gorakhpur, Siddharthnagar, and Varanasi. A swarm of locusts was last seen in Bulandshahr on Sunday. Meanwhile, on Saturday, the swarms were seen over NCR and Delhi.
According to the additional chief secretary (ACS), agriculture, Devesh Chaturvedi, the department was prepared to face any situation, a possible attack on important places like Raj Bhawan and CM House. The district administration was in alert mode with fire tenders ready to spray pesticides and keep loud music
systems in place to drive away the swarms of locusts as and when they attack.
The mango growers have also been cautioned against the locust attack. The pest has already hit 16 districts falling under seven divisions of the state. Lucknow may face a severe attack as the state capital that is full of gardens and parks.
“Raj Bhawan (Governor House) has a huge park full of greenery. Besides, places like the botanical garden and parks including Lohia and Janeshwar Mishra Park may become easy targets for the locusts.
Moreover, the outskirts of Lucknow have expansive farms and a respectable chunk of the rural population. The farms may also come under attack from the moth.
As per the preparations, both the district administration and agriculture department have alerted various bandwallas asking them to be ready with loud music systems to ward off the menace and also Municipal corporation’s water tanks and fire tenders have been kept in ready mode to spray chemicals depending on the timing of the attack, said the sources in district administration explaining the step taken at macro level to tackle any attack.
At the micro-level, farmers' teams have been constituted at the block level and have been asked to alert the authorities as soon as they spot any swarm of locusts in their area, said the sources.
The locust menace, according to those aware of the issue, may continue till September-October unless there are heavy rains that help kill them.


Locust swarms sweep into central UP, Lucknow gears up for possible invasion
 
Last edited:

Alan97

New Member
According to the latest report, government has been spraying pesticides from helicopters to kill and divert the locust from areas that are getting affected.

Locust Attack.JPG
 
Top