New Motor Vehicle Act 2019 from 1 September in India - Pay Huge Fines

adsatinder

explorer
MV Act: Nine-fold rise in cars seeking PUC in Bihar, Uttarakhand

Dipak K Dash | TNN | Updated: Sep 20, 2019, 11:42 IST






Noida: People queue up at RTO after implementation of Motor Vehicle Act, 2019


HIGHLIGHTS

  • There has been up to nine-fold increase in the number of vehicles getting pollution under control certificates (PUCs) in the past 18 days since the amended Motor Vehicles Act was notified
  • The maximum increase in the number of PUCs issued has been in Bihar and Uttarkhand when compared to August
  • So far only five states have notified the revised fines and penalties for offences including for not having PUCs


Pollution tests at pollution under check (PUC) centres in Delhi. (Photo courtesy: BCCL/ANINDYA CHATTOPADHYAY)

NEW DELHI: There has been up to nine-fold increase in the number of vehicles getting pollution under control certificates (PUCs) in the past 18 days since the amended Motor Vehicles Act was notified.
The data available for 11 states show that the maximum increase in the number of PUCs issued has been in Bihar and Uttarkhand when compared with the number of vehicles that obtained the PUCs in August. In Uttar Pradesh and Gujarat, the increase has been more than three times till Wednesday as compared to August.

Gujarat defers helmet and PUC fines till October 15


Gujarat defers helmet and PUC fines till October 15

Though the figures for Delhi are not officially available, the city’s transport department has claimed that there had been a three-fold increase in fresh applications.


Union road transport minister Nitin Gadkari said this huge jump in the number of people seeking PUCs and spike in number of fresh applications for driving licences were indicators of how the deterrent fines and penalties forced people to follow rules. “I have maintained that rules with high penalties are not aimed at earning revenue for any government. They are only aimed at creating fear and respect for the law,” he said while launching “Safe Safar” awareness initiative by Transport Corporation of India on Thursday.
PUC centres have to register with Vahan portal by November 1


PUC centres have to register with Vahan portal by November 1

Officials said going by the trend in the past three weeks, the total number of vehicles obtaining PUCs by the end of this month will increase further. The jump in number of vehicles getting PUCs till Wednesday was lowest in Haryana where only 532 PUCs have been issued this month as compared to 408 in August.
So far only five states have notified the revised fines and penalties for offences including for not having PUCs. The maximum cap on penalties for such an offence is Rs 10,000 and the states can fix the reduced amount.
Gadkari said reports of more people getting PUCs in Delhi and other cities would check air pollution. “We have taken several steps including the introduction of BS-VI compliant vehicles from next year. People are showing their concern for air pollution. More PUC compliance will help improve the air quality,” he added.


In Video:Noida: People queue up at RTO after implementation of Motor Vehicle Act, 2019



New Traffic Rules: Nine-fold rise in cars seeking PUC in Bihar, Uttarakhand | India News - Times of India
 

adsatinder

explorer
Iimpact Of New Challan Rules Drivers And Bikers Now Started Wearing Seat Belts And Helmet

चालान का असर: सीट बेल्ट लगाने और हेलमेट पहनने वालों की संख्या में हुआ इजाफा

ऑटो डेस्क, अमर उजाला Updated Wed, 18 Sep 2019 05:28 PM IST


Motor Vehicle Act 2019


Motor Vehicle Act 2019 - फोटो : Amar Ujala


देश में मोटर व्हीकल लागू होने के बाद अब लोग सही तरीके के ट्रैफिक नियमों का पालन करते हुए नजर आ रहे हैं। दरसल यह बदलाव डर की वजह से है क्योंकि चालान अब 100 रुपये का नहीं बल्कि हजारो रुपये का है। आलाम यह है कि मोटर व्हीकल लागू होने के बाद करीब 80 फीसदी से ज्यादा वाहन चालकों ने सीट बेल्ट लगाना शुरू कर दिया, जबकि हेलमेट लगाने वालों की संख्या में करीब 10 फीसदी का इजाफा हुआ है।

8 फीसदी से 80 फीसदी का सफर
ये बात हम नहीं बल्कि ये आंकड़े सेव लाइफ फाउंडेशन द्वारा दिल्ली और महाराष्ट्र में किए गए सैंपल साइज सर्वे के बाद जारी किए गए हैं। फाउंडेशन ने मोटर व्हीकल लागू होने से पहले और बाद में दोनों राज्यों की 3 प्रमुख सड़कों पर सर्वे कराया है। इस बारे में फाउंडेशन के सीईओ पीयूष तिवारी ने कहा कि एक्ट लागू होने से पहले 1190 वाहन चालकों को और बाद में 1290 चालकों को इस सर्वे में शामिल किया गया था। रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में सीट बेल्ट लगाने वाले बस ड्राइवरों की संख्या में 80 फीसदी का इजाफा देखने को मिला जबकि पहले यह आंकड़ा सिर्फ 8 फीसदी ही था।

प्रदूषण प्रमाण पत्र के लिए उमड़ी भीड़
दिल्ली समेत कई राज्यों में लोग सुबह से लेकर रात तक गाड़ी का प्रदूषण प्रमाण पत्र लेने के लिए लाइन में खड़े नजर आ जायेंगे, यानी ये वही लोग हैं जो मोटर व्हीकल लागू होने से पहले बिना प्रदूषण प्रमाण पत्र के ही गाड़ी चला रहे थे। हम नए मोटर वाहन कानून (Motor Vehicle Act 2019) की सराहना करते हैं सरकार की तरफ से यह वाकई एक अच्छा कदम है क्योंकि डर से ही सही कम से कम लोग ट्रैफिक नियमों का पालान तो करेंगे। इससे सड़क हादसों में कमी आएगी।


चालान का असर: सीट बेल्ट लगाने और हेलमेट पहनने वालों की संख्या में हुआ इजाफा
 

adsatinder

explorer
VIDEO: ट्रैफिक पुलिस ने काटा 'शक्तिमान' का चालान, कहा- जब देखो तब इधर- उधर उड़ते रहते हो
एंटरटेनमेंट डेस्क, अमर उजाला, Updated Sat, 21 Sep 2019 07:17 PM IST

शक्तिमान

1 of 5
शक्तिमान - फोटो : सोशल मीडिया

1 सितंबर 2019 से नए ट्रैफिक नियम लागू हुए, जिसके बाद कई ऐसे मामले सामने आए जिसमें लाखों रुपये का चालान काटा गया। नए ट्रैफिक नियमों को लेकर सोशल मीडिया पर भी कई मीम्स वायरल हुए। लेकिन अब एक वीडियो सामने आया है जो काफी मजेदार है। दरअसल नए ट्रैफिक नियमों की चपेट में शक्तिमान आ गया है।

शक्तिमान

2 of 5
शक्तिमान- फोटो : सोशल मीडिया

सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में एक वक्त के सुपरहिट टीवी शो शक्तिमान का एक सीन दिखाया जा रहा है। जिसमें शक्तिमान ट्रैफिक पुलिस से बात करता नजर आ रहा है। ट्रैफिक पुलिस शक्तिमान का चालान काटती दिख रही है।

फिक पुलिस अधिकारी शक्तिमान से वीडियो में कहता है- शक्तिमान आज हाथ में आए है, कितने वक्त से तुम्हें ढूंढ़ रहा था। चलो लाइसेंस निकालो, लाइसेंस। इस पर शक्तिमान कहता है कि किस बात का लाइसेंस। इस पर ट्रैफिक पुलिस अधिकारी कहता है- हां लाइसेंस, अरे जब तब हवा में इधर- उधर उड़ते रहते हो।'

वीडियो में आगे ट्रैफिक पुलिस अधिकारी कहता दिखाई दे रहा है- 'उड़ने का लाइसेंस है तुम्हारे पास। नहीं है न, तो अब तुम पर फाइन लगेगा। मैं तो फाइन करूंगा ही करूंगा और तो और विमान उड्डयन विभाग भी तुम पर फाइन करेगा। अचानक हवा में आकर उड़ने लगते हो, तुमसे टकराकर किसी हवाई जहाज का एक्सीडेंट हो गया तो ? ये लो अपना फाइन।'

गौरतलब है कि ये वीडियो ओरिजनल नहीं है और लिपसिंक करके इसको एटिड किया गया है। जिससे ये काफी मजेदार हो गया है। ये वीडियो न सिर्फ इंस्टाग्राम, बल्कि ट्विटर और फेसबुक पर भी तेजी से वायरल हो रहा है। हालांकि इस वीडियो को किसने एडिट किया है और किसने पहली बार शेयर किया है। इसकी जानकारी अभी नहीं है।



VIDEO: ट्रैफिक पुलिस ने काटा 'शक्तिमान' का चालान, कहा- जब देखो तब इधर- उधर उड़ते रहते हो
 

adsatinder

explorer
An accused had made PUC on Nitin Gadkari's car without checking his car and without checking it on gas analyser machine. The certificate of PUC was issued without following the process.
ANI added,
ANIVerified account @ANI
Maharashtra: FIR has been registered at Deccan Police Station in Pune against Pollution Under Control (PUC) Center for making an illegal PUC on Union Transport Minister Nitin Gadkari's car in Pune.
8:05 AM - 18 Sep 2019

11 replies19 retweets120 likes
Reply
11

Retweet
19


Like
120


    1. [IMG][URL][URL][URL]https://pbs.twimg.com/profile_images/1160525644532342784/DDcTPcx8_bigger.jpg[/IMG][B]Crook[/URL][/URL][/URL] Polity[/B]‏ @[B]CrookPolity[/B] Sep 18
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      Is it a sting op or what?
      0 replies0 retweets1 like
      Reply


      Retweet



      Like
      1

    1. [IMG][URL][URL][URL]https://pbs.twimg.com/profile_images/1172782434678493184/6YSepX0t_bigger.jpg[/IMG][B]Anil[/URL][/URL][/URL] singh[/B]‏ @[B]Anilsin63078506[/B] Sep 18
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      Ye fine sab hum jaise gareeb logo k liye hai inke liye bas parliament me story sun'ne hai
      0 replies0 retweets0 likes
      Reply


      Retweet



      Like

    1. [IMG][URL][URL][URL]https://pbs.twimg.com/profile_images/805660562990526468/YhUe_EEP_bigger.jpg[/IMG][B]Cheated[/URL][/URL][/URL] Indian[/B]‏ @[B]Sunil967[/B] Sep 18
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      ... But what is the issue?
      0 replies0 retweets0 likes
      Reply


      Retweet



      Like

    1. [IMG][URL][URL][URL]https://abs.twimg.com/sticky/default_profile_images/default_profile_bigger.png[/IMG][B]Praveen[/URL][/URL][/URL] Sakhuja[/B]‏ @[B]praveeen2609[/B] Sep 18
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      Then what is central minister, all privileged rights. After hue and cry all will be settled. Bolo Jai Shree Ram. Kaya kar loggeee
      0 replies0 retweets0 likes
      Reply


      Retweet



      Like

    1. [IMG][URL][URL][URL]https://pbs.twimg.com/profile_images/648396028018712576/QbOJwobq_bigger.jpg[/IMG][/URL][/URL][/URL][B] [/B]‏ @[B]apoorvc2005[/B] Sep 18
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      There are number of PUC guys in Pune who sit lazily on side lanes and when you go there to perform PUC check they just write PUC cert without any kind of checking.
      0 replies0 retweets0 likes
      Reply


      Retweet



      Like

    1. [IMG][URL][URL][URL]https://pbs.twimg.com/profile_images/1156844660653867008/7-xzxx4R_bigger.jpg[/IMG][B]BABU[/URL][/URL][/URL] SINGH SACHAN[/B]‏ @[B]BS_SACHAN[/B] Sep 19
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      Everywhere this is happening . Why gov is not developing smart software where without vehicle it should not possible to make puc. But this is india,and they r indian ,dont know ones responsibility.English was better than these leaders. @PMOIndia @NITIAayog @nitin_gadkari
      0 replies0 retweets0 likes
      Reply


      Retweet



      Like
    1. New conversation
    2. 1 more reply

    1. [IMG][URL][URL][URL]https://abs.twimg.com/sticky/default_profile_images/default_profile_bigger.png[/IMG][B]Ratnakar[/URL][/URL][/URL] Singh[/B]‏ @[B]Ratnaka77616264[/B] Sep 19
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      देश के अधिकांश भागों में इसी तरह बिना वाहन के प्रदूषण की जांच किए ही प्रदूषण प्रमाण पत्र निर्गत किए जा रहे हैं। जब पूरा सिस्टम ही भ्रष्टाचार में लिप्त है तो किस किस के खिलाफ और कौन FIR कराएगा।
      0 replies0 retweets0 likes
      Reply


      Retweet



      Like

    1. [IMG][URL][URL][URL]https://pbs.twimg.com/profile_images/1162677094335168512/2JTnjTKw_bigger.jpg[/IMG][B]SIDDHARTH[/B]‏[/URL][/URL][/URL] @[B]shivshahi91[/B] Sep 18
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      Esa mene bahot bar pUC nikali wo log goverment ka nam likhkr without testing certificate dete hai
      0 replies0 retweets0 likes
      Reply


      Retweet



      Like

    1. [IMG][URL][URL][URL]https://pbs.twimg.com/profile_images/1157238934855749632/xKWeih-x_bigger.jpg[/IMG][B]Jay[/URL][/URL][/URL] Patel[/B]‏ @[B]JayPate69779187[/B] Sep 18
      More
      Replying to @[B]ANI[/B]
      Don't forget to send 1.2 lakh challan to nitin gadkari

 
Last edited:

adsatinder

explorer
Case Filed Against PUC Centre in Pune for Fake Tag to Car Owned by Nitin Gadkari | स्टिंग ऑपरेशन के जरिये हासिल किया केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की कार का फर्जी टैग, प्रदूषण जांच केंद्र के खिलाफ मुकदमा | Lokmat News Hindi


स्टिंग ऑपरेशन के जरिये हासिल किया केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की कार का फर्जी टैग, प्रदूषण जांच केंद्र के खिलाफ मुकदमा1 सितंबर 2019 से मोटर वाहन संशोधित कानून अमल में आ गया है। संशोधित कानून के अनुसार वाहन चालक यदि नियमों का पालन नहीं करते हैं तो पुराने जुर्माने के मुकाबले कई गुना अधिक जुर्माना देना पड़ रहा है। जिसके चलते वाहन चालक भयभीत हैं।
By भाषा | Follow | Published: September 19, 2019 05:44 AM 2019-09-19T05:44:55+5:30 | Updated: September 19, 2019 05:44 AM 2019-09-19T05:44:55+5:30

[Image: Case Filed Against PUC Centre in Pune for Fake Tag to Car Owned by Nitin Gadkari | स्टिंग ऑपरेशन के जरिये हासिल किया केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की कार का फर्जी टैग, प्रदूषण जांच केंद्र के खिलाफ मुकदमा] फाइल फोटो


Highlights1
सितंबर से नया ट्रैफिक नियम लागू के होने के बाद जुर्माने की रकम कई गुना बढ़ायी गई।दिल्ली में तो अपने वाहनों के लिए पीयूसी प्रमाणपत्र लेने के इच्छुक वाहनों की लंबी कतारें लगी हुई हैं।

पुणे पुलिस ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की कार बताकर फर्जी प्रदूषण जांच टैग जारी करवाने के मामले में एक प्रदूषण जांच केंद्र के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। अधिकारी ने बताया कि जिस कार का प्रदूषण जांच टैग जारी किया गया है वह वरिष्ठ भाजपा नेता नितिन गडकरी की नहीं है लेकिन उनके नाम पर यह प्रमाण पत्र हासिल किया गया।
उन्होंने बताया कि टैग एक मीडिया समूह ने स्टिंग ऑपरेशन के तहत हासिल किया ताकि दिखाया जा सके कि प्रदूषण जांच टैग हासिल करना कितना आसान है। अधिकारी ने बताया कि इसी तरह का मामला पुणे के भोसरी स्थित प्रदूषण जांच केंद्र के खिलाफ भी दर्ज किया गया है।
ऐसी रिपोर्ट है कि नागपुर और चंद्रपुर में भी फर्जी प्रदूषण जांच टैग जारी किए गए जिसमें वाहनों का मालिक गडकरी को बताया गया। अधिकारी ने बताया कि इन वाहनों को नियमों के मुताबिक प्रदूषण जांच केंद्र पर नहीं ले जाया गया।

बिना प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र के चलने पर 10 हजार रुपये जुर्माना और 6 माह की सजा का है प्रावधान-
केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की दिल्ली में दौड़ने वाली कार का पीयूसी प्रमाणपत्र नागपुर, पुणे और चंद्रपुर के पीयूसी सेंटरों ने बगैर कार देखे ही जारी कर दिया। किसी ने भी वाहन की जांच करना तो दूर यह पूछने तक की जरूरत नहीं समझी कि वाहन कहां है?

उल्लेखनीय है कि यह कार केंद्रीय मंत्री गडकरी के नाम पर है और वह तीन वर्षों से दिल्ली में है। इस कार का उपयोग गडकरी स्वयं करते हैं। किसी भी वाहन के लिए प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र (पीयूसी) उस वाहन की जांच करके दिया जाना चाहिए। इसके बाद ही वह सड़क पर आती है। अन्यथा मोटर वाहन संशोधित कानून के अनुसार इसके लिए 10 हजार रुपये का जुर्माना और छह माह तक की सजा भोगनी पड़ती है।
दिल्ली में पीयूसी के लिए लगी हैं वाहनों की कतारें
1 सितंबर 2019 से मोटर वाहन संशोधित कानून अमल में आ गया है। संशोधित कानून के अनुसार वाहन चालक यदि नियमों का पालन नहीं करते हैं तो पुराने जुर्माने के मुकाबले कई गुना अधिक जुर्माना देना पड़ रहा है। जिसके चलते वाहन चालक भयभीत हैं। दिल्ली में तो अपने वाहनों के लिए पीयूसी प्रमाणपत्र लेने के इच्छुक वाहनों की लंबी कतारें लगी हुई हैं।
कैसे होती है प्रदूषण की जांच
प्रदूषण जांच केंद्र पर कम्प्यूटर से जुड़ा एक गैस एनालाइजर होता है। इस कम्प्यूटर में कैमरा और प्रिंटर भी जुड़ा होता है। गैस एनालाइजर को वाहन के साइलेंसर में डालते हैं। वाहन को चालू रखा जाता है। यह गैस एनालाइजर वाहन से निकलने वाले धुएं के स्तर की जांच करता है और आंकड़े कम्प्यूटर को भेजता है। वहीं, कैमरा गाड़ी के लाइसेंस प्लेट की फोटो लेता है। यदि वाहन से तय दायरे में प्रदूषण निकल रहा है, तो उसका पीयूसी प्रमाणपत्र जारी कर दिया जाता है।


स्टिंग ऑपरेशन के जरिये हासिल किया केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की कार का फर्जी टैग, प्रदूषण जांच केंद्र के खिलाफ मुकदमा
 
Last edited:

adsatinder

explorer
Gadkari fake pollution certificate case: uneasiness in Transport Ministry due to sting operation | गडकरी फर्जी प्रदूषण प्रमाण पत्र मामला: स्टिंग ऑपरेशन की वजह से परिवहन मंत्रालय में बेचैनी | Lokmat News Hindi

गडकरी फर्जी प्रदूषण प्रमाण पत्र मामला: स्टिंग ऑपरेशन की वजह से परिवहन मंत्रालय में बेचैनीनए कानून में वाहन का पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं होने पर 10 हजार रुपए जुर्माना, छह महीने की कैद तथा तीन महीने के लिए लाइसेंस रद्द करने का प्रावधान है.

By विकास झाड़े | Follow | Published: September 19, 2019 09:40 AM 2019-09-19T09:40:44+5:30 | Updated: September 19, 2019 09:40 AM 2019-09-19T09:40:44+5:30
[Image: Gadkari fake pollution certificate case: uneasiness in Transport Ministry due to sting operation | गडकरी फर्जी प्रदूषण प्रमाण पत्र मामला: स्टिंग ऑपरेशन की वजह से परिवहन मंत्रालय में बेचैनी] फाइल फोटो

Highlights जिन लोगों ने गडकरी की कार के कागजात पीयूसी सेंटर में पेश किए थे उनके खिलाफ फर्जी प्रमाणपत्र हासिल करने के सिलसिले में पुलिस थाने में मामला दर्ज करने को कहा है. पीयूसी प्रमाणपत्र भ्रष्टाचार मामला उजागर होने के बाद सोमवार को भी अनेक पीयूसी सेंटरों से वाहन को बिना देखे पीयूसी प्रमाणपत्र निकाले गए हैं.

महाराष्ट्र में पीयूसी प्रमाणपत्र देने में हुए भ्रष्टाचार मामले को 'लोकमत समाचार' की ओर से उजागर किए जाने के बाद परिवहन मंत्रालय बेचैन है.
मंत्रालय अपनी खामियां सुधारने के बजाय प्रमाणपत्र लेने वालों पर ही कार्रवाई को आतुर दिख रहा है. 'लोकमत समाचार' ने 17 सितंबर को स्टिंग ऑपरेशन के जरिये केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की दिल्ली में दौड़ने वाली कार का पुणे, नागपुर और चंद्रपुर में पीयूसी प्रमाणपत्र हासिल कर यह बताने की कोशिश की थी कि सरकार प्रदूषण को लेकर बिल्कुल भी गंभीर नहीं है.

इसके अलावा यह बात भी सामने लाई थी कि केंद्र सरकार ने नया मोटर वाहन कानून लागू किया है इसलिए वाहन प्रदूषण के नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों को कड़ी जांच से गुजरना होगा.
नए कानून में वाहन का पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं होने पर 10 हजार रुपए जुर्माना, छह महीने की कैद तथा तीन महीने के लिए लाइसेंस रद्द करने का प्रावधान है.
परिवहन मंत्रालय का भ्रष्टाचार उजागर होने के बाद महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने प्रमाणपत्र देने तथा लेने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश दिया है.
उनके आदेश पर मंगलवार को अपर परिवहन आयुक्त सतीश सहस्त्रबुद्धे ने पुणे, नागपुर और चंद्रपुर के परिवहन अधिकारियों को पत्र भेजकर प्रमाणपत्र देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की सूचना दी है.
इसके अलावा जिन लोगों ने गडकरी की कार के कागजात पीयूसी सेंटर में पेश किए थे उनके खिलाफ फर्जी प्रमाणपत्र हासिल करने के सिलसिले में पुलिस थाने में मामला दर्ज करने को कहा है.
सूत्रों के मुताबिक, स्वयं रावते ने पुणे, पिंपरी-चिंचवड़, नागपुर और चंद्रपुर के परिवहन अधिकारियों को फोन कर प्रमाणपत्र ले जाने वालों को पुलिस हिरासत में लेने के आदेश दिए हैं. जिन पांच लोगों ने प्रमाणपत्र हासिल किए हैं उनमें से तीन लोगों को परिवहन मंत्रालय के अधिकारियों ने पुलिस थाने में मामला दर्ज करने की धमकी दी है.
अब भी दिए जा रहे हैं फर्जी पीयूसी प्रमाणपत्र
पीयूसी प्रमाणपत्र भ्रष्टाचार मामला उजागर होने के बाद सोमवार को भी अनेक पीयूसी सेंटरों से वाहन को बिना देखे पीयूसी प्रमाणपत्र निकाले गए हैं. कुछ लोगों ने 'लोकमत समाचार' को फोन कर पूछा कि क्या हम भी आपको फर्जी पीयूसी प्रमाणपत्र भेजें?

Web Title: Gadkari fake pollution certificate case: uneasiness in Transport Ministry due to sting operation



गडकरी फर्जी प्रदूषण प्रमाण पत्र मामला: स्टिंग ऑपरेशन की वजह से परिवहन मंत्रालय में बेचैनी


Code:
.

https://www.lokmatnews.in/maharashtra/gadkari-fake-pollution-certificate-case-uneasiness-in-transport-ministry-due-to-sting-operation/

.
 
Last edited:

adsatinder

explorer
Pollution certificate of Nitin Gadkari's car fake, Maharashtra Transport Minister Diwakar Rawate ordered inquiry | नितिन गडकरी की कार के प्रदूषण प्रमाणपत्र फर्जी, महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने दिए जांच के आदेश | Lokmat News Hindi

नितिन गडकरी की कार के प्रदूषण प्रमाणपत्र फर्जी, महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने दिए जांच के आदेशपुणे और चंद्रपुर के जिन सेंटरों से पीयूसी प्रमाणपत्र जारी किए गए थे, उन केंद्रों पर परिवहन विभाग ने कार्रवाई करते हुए उन्हें सील कर दिया है.

By लोकमत समाचार ब्यूरो | Follow | Published: September 18, 2019 08:21 AM 2019-09-18T08:21:55+5:30 | Updated: September 18, 2019 08:21 AM 2019-09-18T08:21:55+5:30



Highlights
गडकरी की दिल्ली में दौड़ने वाली कार का पीयूसी प्रमाणपत्र नागपुर, पुणे और चंद्रपुर के पीयूसी सेंटरों ने बगैर कार देखे ही जारी कर दियामोटर वाहन संशोधित कानून के अनुसार इसके लिए 10 हजार रुपए का जुर्माना और छह माह तक की सजा भोगनी पड़ती है.
केंद्रीय मंत्री नितिन की कार का नंबर देकर महाराष्ट्र के विभिन्न स्थानों से प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र (पीयूसी) लेने की हिम्मत कोई कैसे कर सकता है? यह कहते हुए पीयूसी प्रमाणपत्र लेने वाले लोगों पर कार्रवाई करने का आदेश महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने दे दिया है.
ऐसे में जिन सजग लोगों ने लोकमत समाचार की ओर से ये मामला उजागर करने की कोशिश की थी कि महाराष्ट्र में पीयूसी प्रमाणपत्र जारी करने वाली यंत्रणा किस तरह भ्रष्टाचार और फर्जीवाड़ा कर रही है, मंत्री के इस रुख से सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो रहे हैं.
उल्लेखनीय है कि केंद्रीय सड़क परिवहन, जहाजरानी व जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी की दिल्ली में दौड़ने वाली कार का पीयूसी प्रमाणपत्र इन जागरूक लोगों को नागपुर, पुणे और चंद्रपुर के पीयूसी सेंटरों ने बगैर कार देखे ही जारी कर दिया गया था.
किसी ने भी वाहन की जांच करना तो दूर यह पूछने तक की जरूरत नहीं समझी थी कि वाहन कहां है?
परिवहन मंत्री नितिन गडकरीकी कार के प्रदूषण प्रमाणपत्र फर्जी
प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए देशभर में वाहनों की जांच करके प्रमाणपत्र देने वाली यंत्रणा कितनी भ्रष्ट है, इसकी बानगी तब देखने को मिली जब केंद्रीय सड़क परिवहन, जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी की दिल्ली में दौड़ने वाली कार का पीयूसी प्रमाणपत्र नागपुर, पुणे और चंद्रपुर के पीयूसी सेंटरों ने बगैर कार देखे ही जारी कर दिया. किसी ने भी वाहन की जांच करना तो दूर यह पूछने तक की जरूरत नहीं समझी कि वाहन कहां है?
उल्लेखनीय है कि यह कार केंद्रीय मंत्री गडकरी के नाम पर है और वह तीन वर्षों से दिल्ली में है. इस कार का उपयोग गडकरी स्वयं करते हैं. किसी भी वाहन के लिए प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र (पीयूसी) उस वाहन की जांच करके दिया जाना चाहिए. इसके बाद ही वह सड़क पर आती है.
अन्यथा मोटर वाहन संशोधित कानून के अनुसार इसके लिए 10 हजार रुपए का जुर्माना और छह माह तक की सजा भोगनी पड़ती है.
लोकमत समाचार से बात करते हुए मंत्री रावते ने कहा कि जिन पीयूसी सेंटरों से प्रमाणपत्र जारी किए गए हैं उन पर कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं. लेकिन, केंद्रीय मंत्री की कार का नंबर देकर प्रमाणपत्र मांगने की हिम्मत करनेवालों पर भी अपराध दर्ज करने के निर्देश दिए गए हैं.
जब उनसे यह पूछा गया कि क्या आपको नहीं लगता की आपकी यंत्रणा दोषपूर्ण है? जवाब में उन्होंने कहा,''हम इसकी जांच करेंगे. कुछ सेंटरों ने कार बगैर लाए ही प्रमाणपत्र जारी कर दिए हैं तो यह देखकर यह नहीं कहा जा सकता की सारे महाराष्ट्र में ऐसा चल रहा है.
पुणे और चंद्रपुर में कार्रवाई:
पुणे और चंद्रपुर के जिन सेंटरों से पीयूसी प्रमाणपत्र जारी किए गए थे, उन केंद्रों पर परिवहन विभाग ने कार्रवाई करते हुए उन्हें सील कर दिया है.




नितिन गडकरी की कार के प्रदूषण प्रमाणपत्र फर्जी, महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने दिए जांच के आदेश
 
Last edited:

adsatinder

explorer
Noida bus driver challaned for not wearing helmet | ‘हेलमेट’ नहीं पहनने पर बस चालक का कटा चालान | Lokmat News Hindi


‘हेलमेट’ नहीं पहनने पर बस चालक का कटा चालाननिरंकार सिंह ने कहा कि परिवहन विभाग के ऐसे काम करने के तरीके से सवाल खड़े होते हैं और लोगों को प्रतिदिन जारी होने वाले अन्य सैकड़ों चालान की प्रामाणिकता को लेकर भी संदेह पैदा होता है।

By भाषा | Follow | Published: September 21, 2019 07:26 AM 2019-09-21T07:26:58+5:30 | Updated: September 21, 2019 07:26 AM 2019-09-21T07:26:58+5:30


नोएडा में एक निजी बस के मालिक ने दावा किया है कि हेलमेट पहन कर गाड़ी नहीं चलाने की वजह से कथित रूप से 500 रुपये का चालान किया गया है। निरंकार सिंह ने कहा कि 11 सितंबर को ऑनलाइन चालान किया गया था और शुक्रवार को उनके एक कर्मी ने इसे देखा।

सिंह ने कहा कि परिवहन विभाग के ऐसे काम करने के तरीके से सवाल खड़े होते हैं और लोगों को प्रतिदिन जारी होने वाले अन्य सैकड़ों चालान की प्रामाणिकता को लेकर भी संदेह पैदा होता है। उन्होंने कहा, ‘‘ मैं कल संबंधित अधिकारियों के समक्ष मामला रखूंगा और अगर जरूरत पड़ी तो अदालत जाऊंगा।’’

इस बीच अधिकारियों ने कहा कि मामले को देखा जा रहा है और कोई गलती हुई है तो उसे सुधारा जाएगा। अधिकारी ने कहा कि चालान परिवहन विभाग ने जारी किया है न कि नोएडा की यातायात पुलिस ने।



‘हेलमेट’ नहीं पहनने पर बस चालक का कटा चालान


Code:
.


https://www.lokmatnews.in/automobile/noida-bus-driver-challaned-for-not-wearing-helmet/


.
 

adsatinder

explorer
चालान कटने के डर से एक भाई को भयंकर idea आया!

एक दिन वो भाई सवेरे सवेरे चाय पी कर सीधा पुलिस स्टेशन पहुँच गया
एवं एफ. आई .आर . लिखवाई
कि साहब मेरा हेलमेट तथा एक थैली जो कि बाइक पर लटक रही थी उसे कोई चुरा ले गया ,
उसमें आर.सी.बुक.,
लाइसेंस,
बाइक का PUC,
बाइक के बीमे के कागज रखे थे ।
पुलिस ने FIR दर्ज कर उस भाई को उसकी नक़ल दे दी ,
अब वो भाई उस नक़ल को लेकर आराम से घूमता है ।
*पुलिस के पूछने पर नक़ल दिखा देता है!*
 
Top