Road conditions - Uttarakhand

adsatinder

explorer
Hemkunt Sahib Latest Pics Havey snow | ਹੇਮਕੁੰਟ ਸਾਹਿਬ ਦਿਆਂ ਤਾਜਾ ਤਸਵੀਰਾਂ | 23/05/2020 | Traveller King
160 views
•May 24, 2020


20
0



Traveller King



SUBSCRIBE
Hemkunt Sahib Latest pics 2020
 

adsatinder

explorer
CHAMOLI
#COVID19 #India

Gurudwara Hemkund Sahib covered under thick blanket of snow

163 views
•May 24, 2020


8
0



ANI News

671K subscribers


SUBSCRIBE
#India #Uttarakhand #Chamoli #GurudwaraHemkundSahib # Chamoli (Uttarakhand), May 24 (ANI): Gurudwara Hemkund Sahib covered under a thick blanket of snow in Uttarakhand’s Chamoli. The decision to open the gurudwara is yet to be taken in view of the COVID19-induced lockdown. An extended nation-wide lockdown is imposed till May 31 due to coronavirus pandemic.
 

adsatinder

explorer
Gurudwara Hemkund Sahib covered under thick blanket of snow
3,080 views
•May 24, 2020



29
3

IndiaTV

20M subscribers

Gurudwara Hemkund Sahib covered under a thick blanket of snow in Uttarakhand's Chamoli. The decision to open the gurudwara is yet to be taken in view of the COVID19-induced lockdown. An extended nation-wide lockdown is imposed till May 31 due to coronavirus pandemic.
 

adsatinder

explorer
Coronavirus In Uttarakhand : Action On Seven Tourists Who Came To Visit Red Zone Nainital

Coronavirus in Uttarakhand : रेड जोन नैनीताल में घूमने पहुंचे सात पर्यटकों पर कार्रवाई, पुलिस के साथ हुई कहासुनी
न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, नैनीताल Updated Tue, 02 Jun 2020 01:02 PM IST


प्रतीकात्मक।


लॉकडाउन के बाद भी लोग सैर-सपाटे को नैनीताल पहुंच रहे हैं। सोमवार को नैनीताल पहुंचे सात लोगों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की। पुलिस के अनुसार डीएसए मैदान की पार्किंग से पुलिस को पर्यटकों के पहुंचने की सूचना मिली। इसके बाद कोतवाली के एसएसआई यूनुस खान और सत्येंद्र गंगोला मौके पर पहुंचे।

Unlock-1 in Uttarakhand : ऋषिकेश में शाम चार बजे तक ही खुलेंगी दुकानें, व्यापार मंडल ने 45 यूनियनों के साथ लिया निर्णय
पूछताछ में पता चला कि यूपी से चार लोग बीमार भाई को लेने हल्द्वानी आए थे और इस बीच समय निकालकर वह नैनीताल घूमने के लिए पहुंच गए। पुलिस ने पढ़रौना, खुशीनगर यूपी प्रदेश निवासी अजय कुमार जायसवाल, आदर्श चौरसिया, सिब्बू सिंह और कमलेश चौरसिया के खिलाफ चालानी कार्रवाई कर वाहन सीज कर दिया।
परिवार हल्द्वानी से नैनीताल घूमने पहुंच गया
वहीं, अन्य मामले में मल्लीताल क्षेत्र से पुलिस के पास पर्यटकों के नैनीताल पहुंचने की सूचना आई। इस पर पुलिस टीम ने तीन लोगों को कोतवाली बुला लिया।

पूछताछ में पता चला कि रेड जोन की जानकारी न होने के कारण परिवार हल्द्वानी से नैनीताल घूमने पहुंच गया।

इस दौरान उनकी पुलिस के साथ कहासुनी भी हो गई। इसके बाद पुलिस ने नवाबी रोड हल्द्वानी के मुकेश कुमार सहित उनकी दो बेटियों के खिलाफ पुलिस एक्ट में चालानी कार्रवाई कर उन्हें वापस हल्द्वानी भेज दिया।


 

adsatinder

explorer
The colonisation of Sankri

After independence, and following state formation, Uttarakhand -- and its pristine villages -- continues to suffer the relentless profit maximisation policies of the new rulers of the system


Written by Lokesh Ohri | Updated: June 4, 2020 8:22:52 pm



Sankri is close to Yamunotri, the origin of the river Yamuna. ( Photo source: Wikimedia/ flicker.com)


Last winter, I happened to be in one of the remotest corners of India, in a place called Sankri, in Uttarakhand. Sankri is close to Yamunotri, the origin of the river Yamuna. The village is approached through a claustrophobic highway with the source streams of the river carving out deep gorges into the Himalayas. The river, in these parts, is referred to as Tamasa, the dark and angry one. I was visiting Sankri on an invitation from the United Nations Development Programme to meet and orient people from five villages into alternative employment opportunities since their traditional occupation — agro-pastoralism — had been deeply affected by the region falling under the Govind Pashu Vihar, a protected high-altitude forest, now under the UNDP’s snow leopard conservation programme.
As we drove up the narrow, serpentine roads, we saw hydro-electric projects in what was no-man’s land until a few years ago. Sankri’s skyline too came as a shock to me, with the snow-capped ranges almost obscured by a number of hotels, cafes and guest houses that have come up in the last few years. When we met the locals, we found them as angry as the river.
The region, they informed me, had recently been “discovered” by adventure tourism companies as a trekking destination for popular winter treks such as Kedarkantha and Har-ki-Doon. I saw large groups of young people descending on Sankri when other regions like Ladakh and Himachal Pradesh would be effectively closed due to the excessive snow. This is due to the fact that the Sankri trails themselves are largely free of snow, and therefore easier to climb, while the peaks offer fantastic Himalayan panoramas and ample opportunity for the kind of adventure one might boast of on social media.

These operators have scant regard for local cultural sensibilities or the environment and have set up large facilities in collusion with the powers that be in what is essentially a protected tribal area. The employment and revenues generated by brisk “adventure tourism” is going entirely to these companies and their “experts” brought in from the bigger cities. Thanks to this assault on their property and culture, the locals are left picking up the crumbs as bearers and porters while others maximise profits. Another familiar tale of internal colonialism, some would say.
Why I chose to describe it as internal colonialism is because post-independence, Uttarakhand emerged as a state only in the year 2000 — its progress hampered by the oppressive decision-making from faraway Lucknow by then. However, when the struggle seemed to be finally over, another class of rulers took over the newly-formed state, even more colonial and insensitive than the earlier masters. Completely driven by their own commercial interests and lack of ideas, the gap between what the people want and what they deliver is much wider than the Yamuna gorges.
Across the country, rural and still-picturesque India is struggling to save itself from the urban ugliness and gas-chambers that our cities have become. The struggle seems to be, as they say in the mountains, to save the four Js — jal, jangal, jameen, jawani (water, forest, land and youth). But our governments seem to be hell-bent on ensuring these last bastions, too, crumble under the weight of their greed and senseless “development” agendas. Not that the urban centres have fared any better. From the Ram Temple, in what is now emerging as a Buddhist site, to the Rs 20,000 crore Central-Vista gift to the RSS on completing one hundred years, India’s cultural and ecological heritage is under attack as never before.
For the mountains, however, the first year of this government’s second term has been particularly terrible. It began with the incumbent prime minister spending election eve at Kedarnath, wrapped in saffron, milking the tragedy that unfolded there for electoral goals. Kedarnath, as we are all aware, was devastated in 2013 in a flood resulting in thousands of casualties. The washing away of the buildings around the temple, and the survival of the temple itself — miraculously protected by a large boulder — led many to believe that the disaster would perhaps force government agencies to reflect upon Kedarnath’s transition from a remote pilgrim destination to a hub of pleasure-seeking tourism, and bring about a course correction in terms of enforcing more stringent environmental safeguards.
The disaster, however, coincided with the upping of the ante of polarising rhetoric, necessary to win an election: As soon as the results were out, the exultation accompanying the victory ensured that the debates on spiritual debasement and ecological protection were quickly brushed aside. Realising that the widespread media coverage of the disaster had converted Kedarnath into an emotive pan-India issue, the new dispensation quickly appropriated the site. About 40,000 trees, many of them Ficus religiosa or peepal, considered sacred by the pilgrims as Pitron ke Peepal or trees planted in the memory of ancestors, were felled for the Char Dham Mahamarg Yojana — a massive four-lane highway. The ambitious all-weather road has completely disregarded the fact that the Himalayan pilgrimage has evolved over the centuries as a summer-only activity and allows for the deities and the landscape to recover in the snowbound winter. So, if Shiva is not granting appointments in winter, why would you build an all-weather road right up to his doorstep? Despite no environmental impact assessment, the road, like most other ecologically disastrous projects, continues to dump tonnes of debris into the Alaknanda and Mandakini rivers, blasting its way through the fragile Himalayas. A few months ago, we also witnessed the prime minister spending a night at the site, inside a cave fashioned out of concrete at an elevation higher than the temple itself, for the benefit of cameras all fixed at the correct angles inside it. This, soon after the locals had strongly objected to a boisterous laser show staged by a company from Gujarat, that used the temple spire itself as a projection screen.
A year on, news from Sankri is not very heartening. A road has been approved right up to Osla. The road, not even notified as a forest road but a Prime Minister Gram Sadak Yojana project, will cut right through the protected zones and bring in hordes of selfie-obsessed thrill-seekers. The rich and the powerful from Delhi, meanwhile, have already gone ahead and secured land deals with the hapless villagers to set up their resorts.

The writer is an anthropologist.


 
Last edited:

adsatinder

explorer
Dehradun › Unlock-1 In Uttarakhand Chardham Yatra: ़CM Trivendra Singh Rawat Told For Safe Yatra

सीमित, नियंत्रित और सुरक्षित चारधाम यात्रा की जाएगी शुरू: सीएम त्रिवेंद्र


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Wed, 03 Jun 2020 11:35 PM IST




सार
आठ जून से केंद्र ने धार्मिक स्थलों को खोलने की दी है अनुमति, एसओपी आएगी जल्द

विस्तार
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश सरकार सीमित, नियंत्रित और सुरक्षित चारधाम यात्रा शुरू करने की तैयारी कर रही है। आठ जून से केंद्र सरकार ने धार्मिक स्थालों को खोलने की अनुमति दी है। इसके लिए केंद्र से गाइडलाइन प्राप्त होते ही निर्णय लिया जाएगा।

सेल्फ क्वारंटीन के तीसरे दिन बुधवार को मुख्यमंत्री ने अपने आवास से स्काइप के माध्यम से पत्रकार वार्ता की। उन्होंने कहा कि परिस्थितियों के अनुरूप इसको लेकर निर्णय लिया जाएगा। स्थानीय लोगों की मानसिकता उसी हिसाब से तैयार होनी चाहिए। कहा कि पर्यटन से जुड़े लोगों को राहत देने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं।
यह भी पढ़ें: चार धाम तीर्थपुरोहित हक हकूककधारी महापंचायत ने जताया विरोध, कहा- यात्रा शुरू करने पर फिर विचार करे सरकार

पर्यटन व्यवसाय से जुड़े ढाई लाख लोगों को एक एक हजार रुपये की आर्थिक मदद दी गई है। पर्यटन क्षेत्र में कुछ और योजनाएं प्रदेश सरकार लेकर आएगी। इसके लिए प्लानिंग की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की अर्थव्यवस्था को दोबारा गति देने के लिए बहुत सी आर्थिकगतिविधियों को शुरू किया गया है।

रजिस्ट्री, स्टांप आदि से सरकार को राजस्व मिलने लगा है। युवाओं और प्रदेश में लौटे लोगों के लिए मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना प्रारम्भ की गई है। 25 प्रतिशत तक ऋण सब्सिडी दी जा रही है। रोजगार के विकल्प बढ़ाने के लिए स्थानीय स्तर पर कोशिशें हो रही हैं। किसान विकास योजना भी शुरू हुई है। और भी बहुत सी योजनाओं पर काम किया जा रहा है।
प्रवासियों को रोजगार से जोड़ने को हो रहा सर्वेक्षण
ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। औद्योगिक इकाईयों को संचालन की अनुमति दी गई है। उन्होंने कहा कि जब 2017 में जब सरकार सत्ता में आई थी तो जिलों में आईसीयू नहीं था, डाक्टर 1184 थे, जिनकी संख्या अब बढ़कर 2400 पहुंच गई है। तीन नए मेडिकल कॉलेज हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर और पिथौरागढ़ में खुलने जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान दो लाख प्रवासी राज्य में लौटे हैं। इसमें से कई नौकरी छोड़कर आए हैं। उनके रोजगार को लेकर पूछे सवाल पर सीएम ने कहा कि प्रवासियों का सर्वेक्षण किया जा रहा है कि कौन क्या काम करता था। उसी हिसाब से सरकार उनके रोजगार और स्वरोजगार के लिए योजनाएं बनाएगी। प्रवासियों के लौटने से बढ़े संक्रमण पर उन्होंने कहा कि इसका सरकार को पहले से अंदाजा था कि संक्रमण बढ़ेगा।

इसके लिए पूरी तैयारी की गई है। आने वाले दिनों में और मामले आएंगे। सबसे बड़ी राहत यह है कि कोरोना से अभी तक कोई मौत नहीं हुई है। जिन कोरोना संक्रमितों की मौत हुई उसकी वजह कोरोना नहीं था। आईसीयू, वेंटिलेटर की व्यवस्था कई गुणा बढ़ा दी गई है। प्रदेश में 14 हजार बेड की संस्थागत सुविधा है।


 

adsatinder

explorer
Chamoli ›
Unlock-1 In Uttarakhand Chardham Yatra: Traders Demand For Stop Yatra
चारधाम यात्रा 2020: व्यापारी बोले, यात्रा शुरू हुई तो माणा तक फैल सकता है कोरोना वायरस



न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जोशीमठ(चमोली) Updated Thu, 04 Jun 2020 06:20 PM IST



सार
सरकार के फैसले के बाद यात्रा शुरू न करने को लेकर उठ रही मांग

विस्तार
कोरोना संक्रमण को देखते हुए अभी चारधाम यात्रा शुरू न करने की मांग उठ रही है। यात्रा पड़ावों के व्यापारियों और स्थानीय लोगों का कहना है कि यात्रा शुरू होने पर उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ जाएगा।

होटल व्यवसायी सज्जन लाल शाह, अतुल शाह, पूर्व जिला पंचायत सदस्य देवेंद्र नेगी ने कहा कि भले ही वैश्विक स्तर पर फैले कोरोना के कारण करोड़ों का व्यवसाय चौपट हो गया है, लेकिन वायरस के प्रभावी रोकथाम के लिए चारधाम यात्रा को अभी शुरू न करने में ही सबकी भलाई है। जोशीमठ प्रधान संगठन ने स्थिति सामान्य होने तक चारधाम यात्रा स्थगित रखने की मांग उठाई।
संगठन अध्यक्ष अनूप सिंह नेगी ने कहा कि यदि एक बार यात्रा शुरू हो गई तो गौचर से देश के अंतिम गांव माणा तक का क्षेत्र कोरोना से ग्रसित हो सकता है। इससे जन-जीवन पूरी तरह से प्रभावित हो जाएगा।
चरणबद्ध तरीके से शुरू हो यात्रा: विधायक महेंद्र भट्ट
बदरीनाथ के विधायक महेंद्र भट्ट ने सीएम से चरणबद्ध तरीके से चारधाम यात्रा शुरू करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि पहले चरण में संबंधित जिलों के श्रद्धालुओं को चारधामों में जाने की व्यवस्था हो, दूसरे चरण में यात्रा कुमाऊं के पर्वतीय क्षेत्रों के लिए खोली जाए।

तीसरे चरण में राज्य के तराई क्षेत्र के लिए और चौथे चरण में पूरे देश के लिए खोलना उचित रहेगा। पांचवें चरण में विदेशी तीर्थयात्रियों के लिए चारधाम यात्रा की अनुमति दी जाए।




 

adsatinder

explorer
Dehradun ›
Chardham Yatra 2020: Cm Trivendra Singh Rawat Told Yatra Will Start After Talk With Tirth Purohit And Traders

चारधाम यात्रा 2020: तीर्थ पुरोहितों से बातचीत करने के बाद ही शुरू होगी यात्रा: सीएम त्रिवेंद्र

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Fri, 05 Jun 2020 11:37 PM IST




सार
बढ़ते संक्रमण के बीच यात्रा शुरू करने पर खड़े हो रहे हैं सवाल

विस्तार
उत्तराखंड सरकार आठ जून के बाद राज्य में चार धाम यात्रा शुरू करने की तैयारी कर रही है, लेकिन तीर्थ पुरोहितों ने इसको लेकर आपत्ति जताई है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने साफ कर दिया है कि तीर्थ पुरोहितों और व्यापारी समाज से वार्ता के बाद ही यात्रा शुरू की जाएगी। पुरोहित कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच यात्रा शुरू करने के पक्ष में नहीं हैं।

केंद्र की गाइडलाइन के अनुसार आठ जून के बाद प्रदेश में धार्मिक गतिविधियां शुरू हो सकेंगी। इसके लिए केंद्र एसओपी भी जारी करेगा। प्रदेश सरकार ने अपने स्तर पर चार धाम यात्रा शुरू करने को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं।
इस बीच तीर्थ पुरोहित की आपत्ति सामने आई है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस संबंध में कहा कि सरकार चारधाम यात्रा को शुरू करने पर कोई निर्णय लेने से पहले पुरोहित समाज और व्यापारी समाज से बातचीत करेगी।
यात्रा को किस तरह से सुरक्षित किया जा सकता है, यह लक्ष्य लेकर ही सरकार चल रही है। उन्होंने कहा कि सुरक्षित यात्रा को लेकर अधिकारी कार्य कर रहे हैं। पूरा होमवर्क होने के बाद ही सरकार इसपर निर्णय लेगी कि कब यात्रा शुरू करनी है।
बदरी-केदार यात्रा शुरू हुई तो होगा जनांदोलन
उधर, पुरोहित के विरोध के बीच प्रदेश सरकार को अब केंद्रीय गाइडलाइन का इंतजार भी करना होगा। केंद्र धार्मिक गतिविधियों के लिए कड़े नियम बना सकता है। हालांकि सरकार ने पहले ही साफ कर दिया है कि यात्रा को केवल राज्य के लोगों के लिए शुरू किया जाएगा। दूसरे राज्यों से लोगों की आवाजाही अभी नहीं खोली जाएगी।

उत्तराखंड धर्म रक्षक समिति और जोशीमठ प्रधान संगठन ने इस वर्ष बदरीनाथ धाम और केदारनाथ की तीर्थयात्रा को स्थगित रखने की मांग की। समिति के सदस्यों ने चेतावनी दी यदि आठ जून से यात्रा शुरू हुई तो मजबूर होकर सड़क पर जनांदोलन शुरू कर दिया जाएगा। समिति के पदाधिकारियों ने इस संबंध में मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा।

समिति के पूर्व संयोजक बाबा उदय सिंह रावत ने कहा कि यदि यात्रा शुरू हुई तो लाखों तीर्थयात्री देश-विदेश से विभिन्न यात्रा पड़ावों से होते हुए तीर्थ स्थलों तक पहुंचेंगे, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। इससे धामों में अखंड पूजा पद्धति भी बाधित हो जाएगी। साथ ही हेमकुंड साहिब जैसे तीर्थस्थलों पर भी इस महामारी का असर पड़ेगा।


चारधाम यात्रा 2020: तीर्थ पुरोहितों से बातचीत करने के बाद ही शुरू होगी यात्रा: सीएम त्रिवेंद्र
 

adsatinder

explorer
Chardham Yatra 2020: बदरी-केदार में लगातार हो रही ऑनलाइन पूजाएं, ऐसे कर सकते हैं बुकिंग

Publish Date:Sun, 07 Jun 2020 10:48 PM (IST)


Chardham Yatra 2020: बदरी-केदार में लगातार हो रही ऑनलाइन पूजाएं, ऐसे कर सकते हैं बुकिंग


Chardham Yatra 2020 बदरी-केदार की यात्रा प्रतिबंधित हो लेकिन दोनों धाम में श्रद्धालुओं के नाम से पूजाएं लगातार हो रही हैं।

देहरादून, जेएनएन। Chardham Yatra 2020 भले ही अभी बदरी-केदार की यात्रा प्रतिबंधित हो, लेकिन दोनों धाम में श्रद्धालुओं के नाम से पूजाएं लगातार हो रही हैं। पूजाओं के लिए श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति की वेबसाइट badrinath-kedarnath.gov.in पर ऑनलाइन बुकिंग भी जारी है। अब तक बदरीनाथ में 450 और केदारनाथ 151 श्रद्धालु अपने नाम से अभिषेक और महाभिषेक समेत अन्य विशेष पूजाएं करवा चुके हैं। इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हैं। रविवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी प्रदेश और देश को कोरोना महामारी से मुक्ति दिलाने के लिए बदरीनाथ और केदारनाथ धाम में महाभिषेक पूजाएं करवाईं।


बदरीनाथ में 450 श्रद्धालु करा चुके विशेष पूजाएं

बदरीनाथ धाम में 15 मई को कपाट खुलने के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नाम से सबसे पहली पूजा हुई थी। इसके बाद से सात जून तक 450 श्रद्धालु धाम में विशेष पूजाएं करा चुके हैं। इनसे धाम को नौ लाख रुपये से अधिक की आय हुई। धाम के धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल ने बताया कि श्रद्धालुओं के नाम और गोत्र से पुजारी, वेदपाठी और वह स्वयं पूजाएं संपन्न करा रहे हैं। हालांकि, कोरोना महामारी के चलते अभी श्रद्धालुओं को प्रसाद नहीं भेजा जा रहा है। बताया कि इन दिनों कम से कम चार पूजाओं की रोजाना ऑनलाइन बुकिंग हो रही है। चारधाम देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ ने बताया कि रविवार सुबह मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नाम से मुख्य पुजारी रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी ने महाभिषेक पूजा संपन्न कराई।





151 श्रद्धालुओं ने कराई बाबा केदार की पूजाएं
केदारनाथ धाम में अब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत 151 व्यक्ति विशेष पूजाएं करा चुके हैं। सभी ने पूजाओं के लिए ऑनलाइन बुकिंग करवाई थी। धाम में सबसे पहली पूजा 29 अप्रैल को कपाट खुलने के मौके पर प्रधानमंत्री के नाम से कराई गई थी। चारधाम देवस्थानम बोर्ड के अधिकारी राजकुमार नौटियाल ने बताया कि इन पूजाओं से मंदिर को 323820 रुपये की आय हुई। बताया कि पूजाएं श्रद्धालुओं के नाम और राशि के आधार पर होती हैं।



उधर, चारधाम देवस्थानम बोर्ड के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने बताया कि केदारनाथ धाम में अब एक रुद्रामहाभिषेक, 24 षोडशोपचार पूजा, दो रुद्राभिषेक, 112 नित्य नियम भोग पूजा व कपूर आरती और 12 आरती हो चुकी हैं। हालांकि, यात्रा स्थगित होने के कारण पूजाओं के लिए ऑनलाइन बुकिंग बहुत कम हो रही है। उधर, रविवार सुबह मुख्यमंत्री की ओर से मुख्य पुजारी शिव शंकर लिंग ने रुद्राभिषेक के बाद रुद्र अष्टाध्यायी पाठ, स्वयंभू शिवलिंग का पंचामृत अभिषेक और जलाभिषेक किया।







बदरीनाथ में पूजाओं के लिए निर्धारित दर

पूजा, दर (प्रति व्यक्ति रुपये में)

महाभिषेक पूजा, 4300
अभिषेक पूजा, 4100
कपूर आरती, 151
चांदी आरती, 351
स्वर्ण आरती, 376
भोग अटका, 450
एक दिन की पूजा, 11700
महाभोग, 32501
बालभोग, 7301

विष्णु सहस्रनाम पाठ, 1901
अष्टोतरी पाठ, 4031



केदारनाथ में पूजाओं के लिए निर्धारित दर

पूजा, दर (प्रति व्यक्ति रुपये में)

महाभिषेक, 8500

रुद्राभिषेक, 6500

लघु रुद्राभिषेक, 5500

षोडशोपचार, 5000

आरती प्रति व्यक्ति, 2500

नित्य पूजा, 1360

शिव तांडव, 1800

शिव महिमा, 1800



Posted By: Raksha Panthari
 
Top