Road conditions - Uttarakhand

adsatinder

explorer
Uttarakhand approves Comprehensive Mobility Plan for 3 cities including Dehradun

The state government also approved the project for the construction of Personal Rapid Transit (PRT) in Haridwar city along with the construction of Metro Light in Haridwar-Rishikesh and Nepali Farm-Vidhan Sabha Corridor.

DEHRADUN Updated: Jun 12, 2020 12:29 IST

Suparna Roy | Edited by Anubha Rohatgi


Suparna Roy | Edited by Anubha Rohatgi

Hindustan Times, Dehradun

Uttarakhand chief minister Trivendra Singh Rawat gave approval for the CMP plan In a meeting of the Unified Metropolitan Transport Authority (UMTA) on June 11, 2020.


Uttarakhand chief minister Trivendra Singh Rawat gave approval for the CMP plan In a meeting of the Unified Metropolitan Transport Authority (UMTA) on June 11, 2020. (File Photo )

The Uttarakhand government has approved the Comprehensive Mobility Plan of the Uttarakhand Metro Rail Project, clearing the way for ropeway projects in Dehradun, Rishikesh and Haridwar to ease traffic movement.
In a meeting of the Unified Metropolitan Transport Authority (UMTA) on Thursday, chief minister Trivendra Singh Rawat gave the approval for the project. According to officials, a detailed project report for the rope-way system is being prepared with the Delhi Metro Rail Corporation for Dehradun city.
The state government also approved the project for the construction of Personal Rapid Transit (PRT) in Haridwar city along with the construction of Metro Light in Haridwar-Rishikesh and Nepali Farm-Vidhan Sabha Corridor.
Jitendra Tyagi, managing director of Uttarakhand Metro Rail gave a detailed presentation on Dehradun, Haridwar, Rishikesh MetroLite System during which he shared information about the route plan study for the metro project from Haridwar to Rishikesh, Dehradun to Nepali Farm.

In December last year, Uttarakhand had signed a contract with DMRC for the ropeway projects. A first instalment of Rs 43.30 lakh was also given to DMRC at that time.
State urban development minister Madan Kaushik , who had signed the contract, had said that once completed, the ropeway system will ease the traffic problems in Dehradun.
“Till date, the ropeway system is not being used as a mode of mass transport at any other place in India. Dehradun will be the first city to adopt this system,” said Kaushik.
Two routes have been proposed for Dehradun city – the first from Forest Research Institute till Rispana Bridge via Clock Tower and the second one from ISBT till Madhuban Hotel via Clock Tower. The ropeway will have a carrying capacity of around ten passengers.
In Haridwar, Personal Rapid Transit (PRT) or pod-taxis will be started and for Rishikesh light metro transit will be established for connecting Dehradun and Haridwar. The projects will cover around 20 to 25 km and likely to cost up to Rs 2200 crore.


Uttarakhand approves Comprehensive Mobility Plan for 3 cities including Dehradun
 

adsatinder

explorer
Uttarakhand health dept starts preparing for dengue outbreak
The state-run hospitals have also been asked to prepare dengue wards amid rising Covid-19 positive cases in the state.

DEHRADUN Updated: Jun 11, 2020 18:23 IST
Suparna Roy

Suparna Roy
Hindustan Times, Dehradun


In 2019, over 4,300 cases of dengue had been reported in the state, including 2,923 from the Dehradun district alone.


In 2019, over 4,300 cases of dengue had been reported in the state, including 2,923 from the Dehradun district alone. (HT Photo)

Uttarakhand health department authorities have started preparing for dengue outbreak in the hill state with a special focus on those areas, where maximum cases were reported last year, while grappling with the coronavirus disease (Covid-19) outbreak.
The state government officials have asked municipal bodies to identify areas that were severely affected by dengue last year and designate days in a week for carrying out fogging activities in those areas.
The state-run hospitals have also been asked to prepare dengue wards amid rising Covid-19 positive cases in the state.
In 2019, over 4,300 cases of dengue had been reported in the state, including 2,923 from the Dehradun district alone.

Dengue, a tropical viral disease, had claimed six lives in Uttarakhand last year.
The state health authorities conducted a training session last week for doctors at the Government Doon Medical College, which was attended by experts from New Delhi’s All India Institute of Medical Sciences (AIIMS), in a bid to prevent the annual viral outbreak.
Dr. Ashutosh Viswas, the head of the department for medicine and infectious diseases at AIIMS, New Delhi, explained to the doctors from Uttarakhand that dengue-related fatalities could be reduced to nil with effective clinical management.
“It’s necessary to identify the symptoms of dengue at the outset. Besides, the most effective strategy for the prevention of dengue is clinical treatment,” said Dr. Ashutosh Sayana, principal, Government Doon Medical College.
“The management and treatment of dengue patients is an important topic for the doctors working in all government and private hospitals in the state,” he added.
On Thursday, Sunil Uniyal Gama, mayor of the Municipal Corporation of Dehradun, asked all the councillors to provide a list to the chief municipal health officer, citing areas in their respective wards with stagnant water, which can become a breeding ground for mosquitoes that transmit the vector-borne disease.

Councillors have been asked to spread awareness in their respective wards about how dengue mosquitoes breed. The civic authorities will slap a fine of Rs 500, if any Dehradun resident is found to store stagnant water, where dengue mosquitoes can breed.
The civic body has also undertaken a clean-up drive of the state capital’s drains and sewage system.


Uttarakhand health dept starts preparing for dengue outbreak
 

adsatinder

explorer
चारधाम यात्रा : बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में दूर से होंगे दर्शन

Published By: Shivendra Singh | हिन्दुस्तान टीम,रुद्रप्रयाग उत्तरकाशी।

Last updated: Thu, 11 Jun 2020 08:36 AM


badrinath temple open


उत्तराखंड में चार धाम में से तीन बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में श्रद्धालु गर्भगृह में प्रवेश नहीं कर सकेंगे। श्रद्धालुओं को दूर से ही दर्शन करने होंगे। अभी सिर्फ स्थानीय श्रद्धालुओं को ही इन धामों में दर्शन की अनुमति मिली है। केदारनाथ धाम में अभी तक किसी को भी दर्शन की अनुमति नहीं है। प्रशासन ने इसके लिए आदेश जारी कर दिए हैं।
केदारनाथ धाम में अभी दर्शन की किसी को भी अनुमति नहीं दी गई है। गर्भ गृह, मंदिर परिसर में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। गंगोत्री यमुनोत्री में भी स्थानीय लोग दूर से दर्शन कर सकेंगे। पुजारी न टीका लगाएंगे और न ही संकल्प कराएंगे। वहीं बदरीनाथ में श्रद्धालु सिंह द्धार के अंदर मुख्य द्वार के मचान से ही भगवान के दर्शन कर सकेंगे। रुद्रप्रयाग जिला प्रशासन ने स्पष्ट आदेश कर दिया है कि केदारनाथ मंदिर परिसर और गर्भ गृह में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। अभी धाम में जाने के लिए पास सिर्फ यात्रा तैयारियों से जुड़े लोगों को ही मिलेंगे। उन्हें भी मंदिर परिसर और गर्भ गृह में प्रवेश की मंजूरी नहीं होगी।
उधर, गंगोत्री-यमुनोत्री धाम में दर्शन दूर से ही हो पाएंगे। गंगोत्री मंदिर समिति के सह सचिव राजेश सेमवाल ने कहा कि जब तक कोरोना संक्रमण पूरी तरह समाप्त नहीं होता, मंदिर परिसर में किसी भी यात्री, श्रद्धालु, पर्यटक को किसी भी प्रकार से नजदीक से दर्शन की अनुमति नहीं होगी।
एसडीएम ऊखीमठ देंगे पास
एसडीएम ऊखीमठ स्थानीय लोगों को पास जारी करेंगे। स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में स्क्रीनिंग होगी। सोनप्रयाग में तहसीलदार, पुलिस, स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की तैनाती करते हुए आने -जाने वाले यात्रियों का ब्योरा रहेगा। किसी भी कंटेंनमेंट जोन से आने वाले लोगों, बीमार लोगों, 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों और 60 वर्ष से अधिक आयु वालों को यात्रा की अनुमति नहीं होगी। रुद्रप्रयाग जिले के ऐसे व्यक्ति जिन्होंने बाहरी जिलों की यात्रा के बाद क्वारंटाइन समय पूरा नहीं किया है, उन्हें भी दर्शन की अनुमति नहीं मिलेगी।

बदरीनाथ में अभी सिर्फ ये लोग कर सकेंगे दर्शन
जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने बताया कि बामणी, माणा और बदरीनाथ नगरपंचायत के लोग ही बदरीनाथ में भगवान के दर्शन कर सकेंगे।

तीर्थ पुरोहितों ने किया यात्रा खोलने का विरोध
सरकार द्वारा स्थानीय लोगों को चारधाम यात्रा खोलने का तीर्थपुरोहितों द्वारा विरोध किया जा रहा है। उनका कहना है कि प्रशासन के साथ बैठक में 30 जून तक किसी भी तरह से यात्रा के संचालन न करने की मांग की गई, किंतु सरकार ने फिर भी सही फैसला नहीं लिया।

बदरीनाथ में पांच ने दर्शन किए
बुधवार को पांच स्थानीय लोगों ने ही भगवान बदरीनाथ के दर्शन किए। दर्शन से पूर्व उन्होंने रजिस्टर में अपना नाम भी अंकित कराया। जबकि 2 लोगों ने ऑनलाइन पूजा कराई।




चारधाम यात्रा : बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में दूर से होंगे दर्शन
 
Last edited:

adsatinder

explorer
Devotees visited Badrinath Shrine while no devotees visited Gangotri and Yamunotri shrine as corona-virus cases on rise in Uttarakhand

चारधाम: 92 लोगों ने किए बदरीनाथ के दर्शन,गंगोत्री-यमुनोत्री में नहीं पहुंचे श्रद्धालु
Published By: Himanshu Kumar Lall | हिन्दुस्तान टीम, हल्द्वानी
  • Last updated: Fri, 12 Jun 2020 01:23 PM


char dham


उत्तराखंड के चारधामों की यात्रा दर्शन के लिये अभी स्थानीय लोगों को ही अनुमति मिलने के तहत गुरुवार को 92 लोगों ने भगवान बदरी विशाल के दर्शन किए।
इनमें सभी बदरीनाथ के बामिणी, नागणी , माणा गजकोटी के रहने वाले हैं। सभी 92 लोगों ने सोसल डिस्टेंसिंग का सम्मान करते हुये देवस्थानम बोर्ड के दिशा निर्दशों के अनुसार भगवान के दर्शन किए।
मंदिर के सभा मंडप के मुख्य द्वार से दर्शनाथियों ने दर्शन किये। जो मंदिर के गर्भ गृह और अनुष्ठान अभिषेक के लिये बैठने वाले स्थान से दूर है।
भगवान के दर्शन करने वाले स्थानीय नागणी के बदरी लाल कहते हैं भगवान के दर्शन पाकर जीवन धन्य हुआ। माणा के प्रधान पीताम्बर मोल्फा ने कहा भगवान के दर्शन करते समय विश्व को कोरोना से मुक्त करने की प्रार्थना की।

सिर्फ स्थानीय लोगों को है दर्शन की अनुमति
मंदिर के दर्शन के लिये स्थानीय ग्रामीणों और नगर पंचायत बदरीनाथ के मूल निवासियों के लिये अनुमति है। देवस्थानम बोर्ड के कर्मचारी मंदिर के निकट कक्ष में दर्शन करने जा रहे स्थानीय लोगों का चिह्नीकरण कर रहे हैं।
जिन स्थानीय लोगों के चिह्नीकरण में दिक्कत हो रही है उनसे पहचान पत्र और आधार कार्ड भी लिया जा रहा है। दर्शनार्थियों के नाम रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है ।

गंगोत्री-यमुनोत्री में दूसरे दिन भी नहीं पहुंचे श्रद्धालु
उत्तरकाशी । उत्तराखंड के चार धामों में स्थानीय लोगों को मंदिर के दर्शन की अनुमति के निर्णय के क्रम में गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में दूसरे दिन भी श्रद्धालु नहीं पहुंचे।
इससे धाम में सन्नाटा पसरा हुआ है। बुधवार को प्रदेश सरकार ने स्थनीय लोगों को चारधाम यात्रा करने की छूट दी। लेकिन इस छूट का चारधाम यात्रा पर कोई प्रतिकूल असर नहीं दिखाई दिया।
एसडीएम भटवाड़ी के कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार गुरूवार दूसरे दिन भी किसी स्थानीय लोगों ने गंगोत्री व यमुनोत्री धाम में लिए कोई आवेदन नहीं किया।
जिससे दोनों धाम में सन्नाटा पसरा रहा। वहीं गंगा पुरोहित सभा के अध्यक्ष पवन सेमवाल ने डीएम को ज्ञापन प्रेषित कर सरकार के इस निर्णय का विरोध जताया है।

बदरीनाथ में मां उर्वशी से मिलने पहुंचे भगवान कुबेर
बदरीनाथ। परम्परा और मान्यता के अनुसार जेठ पुजाई के लिये बदरी भगवान के भोग लगने के बाद बामिणी गांव के हक हूकधारियों द्वारा गाजे बजे के साथ भगवान कुबेर को बामिणी गांव उर्वशी मंदिर में लाया गया।
इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। पौराणिक मान्यता है कि जेठ माह में भगवान कुबेर बामिणी गांव के उर्वशी मंदिर मां उर्वशी से मिलने जाते हैं।
जहां पहुंचने के बाद भगवान कुबेर एवं मां उर्वशी को विशेष रूप से तैयार किया हुआ दाल-चावल का भोग लगाया गया। जिसे ग्रामीणों में प्रसाद के रूप में वितरण किया गया।
गुरुवार को ही सायं काल को मंदिर खुलने के बाद भगवान कुबेर को बदरीनाथ मंदिर में विराजमान किया गया। इस अवसर पर राजेश मेहता, बलदेव मेहता, राजदीप सनवाल , जगमोहन भंडारी आदि मौजूद थे ।


चारधाम: 92 लोगों ने किए बदरीनाथ के दर्शन,गंगोत्री-यमुनोत्री में नहीं पहुंचे श्रद्धालु
 

adsatinder

explorer
Good news for wildlife explorers! Corbett National Park to open from Sunday; Check guidelines

By: Anish Mondal|
Published: June 13, 2020 2:21 PM

The park was closed for three months following the nationwide lockdown amid the outbreak of the novel Coronavirus outbreak.


However, the night stay at the park will remain prohibited till November 15, 2020.


However, the night stay at the park will remain prohibited till November 15, 2020. (Reuters file image)
There’s good news for wildlife explorers and visitors as Corbett National Park in Uttarakhand is set to reopen for the public from Sunday onwards. The tiger reserve will be opened keeping all the necessary precautions and government guidelines in mind. The move comes following the National Tiger Conservation Authority (NTCA) order to open all tiger reserves across the country.
The park was closed for three months following the nationwide lockdown amid the outbreak of the novel Coronavirus outbreak. According to the latest order issued by Jai Raj, Principal Chief Conservator of Forests, Uttarakhand, the public have been allowed to visit four zones of the national park- Bijrani, Pakhro, Dhela, and Jhirna zones. Raj further added that only Dhikala zone will remain shut. However, the night stay at the park will remain prohibited till November 15, 2020.

There will be thermal scanning of the visitors, guides, drivers, etc. If any visitors or guides or anyone found to have temperature higher than the normal then he/she will not be allowed to enter the park premises. All have to wear masks and face shields. Every vehicle should have a sanitizer which shall be used during the time of boarding or de-boarding as required. The visitors can book their permits from 10 AM on June 13, 2020, by visiting the official website of the Corbett Tiger Reserve. The advance booking will be open for the period between June 14, 2020, to June 30, 2020.
However, visitors aged 10 years and below and 65 years and above will not be permitted to enter the national park for safari.
Meanwhile, Sundarban Tiger Reserve, located in Kolkata is likely to open its gates for public from June 15, 2020.The Sundarban is famous for the Royal Bengal Tiger and biosphere reserve.


Good news for wildlife explorers! Corbett National Park to open from Sunday; Check guidelines
 

adsatinder

explorer
Nainital › Corbett Park Will Be Open For Tourists From 14 June

14 जून से पर्यटकों के लिए खुलेगा कॉर्बेट पार्क
Updated Sat, 13 Jun 2020 01:57 AM IST


रामनगर पर्यटन कारोबारियों के साथ बैठक करती उपनिदेशक कल्याणी।


रामनगर पर्यटन कारोबारियों के साथ बैठक करती उपनिदेशक कल्याणी। - फोटो : RAMNAGAR



रामनगर (नैनीताल)। जिम कॉर्बेट पार्क को रविवार से पर्यटकों के लिए खोल दिया जाएगा। पर्यटक बिजरानी, ढेला, झिरना और पाखरो जोन में डे विजिट कर पाएंगे। सुरक्षा को देखते हुए रात्रि विश्राम पर रोक लगाई गई है। दुर्गा देवी और ढिकाला जोन बंद रहेंगे।

शुक्रवार को सीटीआर निदेशक राहुल ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते पार्क को 18 मार्च को पर्यटकों के लिए बंद कर दिया गया था। एनटीसीए की नई गाइडलाइन के अनुसार पार्क 14 जून से केवल डे विजिट के लिए खोला जाएगा। 13 जून की सुबह 10 बजे से पर्यटक अपने परमिट बुक करा सकते हैं। पार्क का बिजरानी जोन 30 जून को बंद हो जाएगा, जबकि झिरना, ढेला और पाखरो जोन हमेशा की तरह सालभर खुले रहेंगे। पार्क प्रशासन ने एनटीसीए की गाइडलाइन के मद्देनजर इस बार दस साल से छोटे बच्चों और 65 साल से ऊपर के बुजुर्गों का पार्क में प्रवेश वंचित रखा है। पार्क में कैंटर सफारी पर फिलहाल रोक रहेगी।
अब जिप्सी सफारी में चार पर्यटक ही जा सकेंगे


पार्क प्रशासन की ओर से सभी जोनों के प्रवेश द्वारों पर ही गाड़ियों को सैनिटाइज किया जाएगा, जबकि गाइडों, चालकों और पर्यटकों को अनिवार्य रूप से सैनिटाइजर रखना होगा और मास्क पहनना होगा। पर्यटक सिर्फ प्रवेश द्वार पर बने शौचालयों का ही प्रयोग करेंगे। इस बार पर्यटकों की संख्या में भी कमी की गई है। इस बार जिप्सी में पार्क भ्रमण पर चालक, गाइड और चार पयर्टक ही जा सकेंगे। शाम की सफारी का समय पुराना (2 से छह बजे तक) ही रहेगा, जबकि सुबह का समय छह के बजाए सात से 11 बजे तक कर दिया गया है। शनिवार को ऑनलाइन बुकिंग के लिए वेबसाइट खोल दी गई है। सीटीआर निदेशक राहुल ने बताया कि राज्य सरकार की कोरोना को लेकर जारी गाइडलाइन का भी अनुपालन किया जाएगा।
पर्यटन कारोबारियों संग अधिकारियों की हुई बैठक
पार्क खोलने के संबंध में कॉर्बेट के अधिकारियों ने शुक्रवार को पर्यटन कारोबारियों के साथ बैठक की। बैठक में पर्यटन कारोबारियों से कई बिंदुओं पर चर्चा की गई। बैठक सीटीआर उपनिदेशक कल्याणी के नेतृत्व में हुई। पर्यटन कारोबारियों ने बैठक में सीटीआर प्रशासन पर आरोप लगाया कि पार्क खोलने की घोषणा पहले कर दी और बाद में बैठक बुलाई जा रही है। सीटीआर प्रशासन ने पर्यटन कारोबारियों की शंकाओं को दूर किया। इस दौरान एसडीएम विजयनाथ शुक्ल, विधायक प्रतिनिधि मदन जोशी, होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष हरिमान, जिप्सी एसोसिएशन के अध्यक्ष गिरीश धस्माना और गाइड एसोसिएशन के योगेंद्र मनराल आदि रहे।


14 जून से पर्यटकों के लिए खुलेगा कॉर्बेट पार्क
 

adsatinder

explorer
Unlock-1 In Uttarakhand: Corbett National Park Open From Today For Jungle Safari, Only 4 Booking On First Day
पर्यटकों के लिए आज से खुला कॉर्बेट टाइगर रिजर्व, पहले दिन नौ लोगों ने की जंगल सफारी, दिखे बाघ


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, रामनगर (नैनीताल)
Updated Sun, 14 Jun 2020 10:07 PM IST



सार
जंगल सफारी में चार पर्यटकों ने दिखाई दिलचस्पी
बिजरानी को छोड़ किसी अन्य जोन में जाने को तैयार नहीं पर्यटक



विस्तार
लॉकडाउन के बाद रविवार को कॉर्बेट पार्क के चार जोन पर्यटकों के लिए खोले गए। रविवार को दोनों पालियों में कुल नौ पर्यटकों ने ही जंगल सफारी का आनंद लिया। बताया जा रहा है कि सभी को बाघ भी दिखा।

कॉर्बेट के बिजरानी, पाखरो, ढेला और झिरना जोन को पर्यटकों के लिए खोला गया है। बिजरानी जोन के लिए चार ऑनलाइन बुकिंग आईं, जिसमें एक बुकिंग सुबह तो तीन बुकिंग शाम की थीं। रविवार सुबह सात बजे एक जिप्सी में तीन पर्यटक जंगल सफारी के लिए गए। पर्यटक फिरोज, स्नेहपाल और नावेद सिद्दीकी काशीपुर के रहने वाले थे।
यह भी पढ़ें: Unlock-1 : कॉर्बेट में तीन जोन में कर सकेंगे सफारी, जागेश्वर धाम में शुरू हुई ऑनलाइन पूजा

पार्क में भ्रमण पर गए नावेद सिद्दीकी ने कहा कि हम तीनों दोस्तों के आने का एक मकसद यह भी है कि हम कोरोना के खिलाफ जंग लड़ें। एक मैसेज भी इससे जाएगा कि हम कोरोना के खिलाफ लड़ने को तैयार हैं। दूसरी ओर बिजरानी के रेंज अधिकारी राजकुमार ने बताया कि कॉर्बेट पार्क में प्रवेश करने से पहले पीपीई किट में तैनात वनकर्मियों ने पर्यटकों की थर्मल स्क्रीनिंग की। जिप्सियों को सैनिटाइज करने के लिए एक पूल बनाया गया है, जिसमें से जिप्सी को गुजारा गया।

पर्यटकों को कड़े नियमों का पालन करने की हिदायत दी गई। पर्यटकों को रास्ते में कहीं भी उतरने नहीं दिया गया। बताया कि पार्क में 10 साल से कम और 65 साल से अधिक उम्र वाले लोगों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा, जबकि शाम की पाली में 2 जिप्सियों से पर्यटक घूमने गए। आने वाले पर्यटकों को मास्क, सैनिटाइज आदि व्यवस्थाओं के साथ ही पार्क में अंदर जाने की अनुमति दी जा रही है।
शनिवार को ऑनलाइन हुई थी चार बुकिंग
शनिवार को सिर्फ चार लोगों ने ही ऑनलाइन बुकिंग कराई। ये बुकिंग्स भी बिजरानी रेंज की हैं। अन्य किसी भी जोन में बुकिंग नहीं हुई है। बिजरानी में सुबह-शाम 30-30, पाखरो में सुबह-शाम 10-10, ढेला में 15-15, झिरना में 30-30 पर्यटकों की ऑनलाइन बुकिंग होती थी। यानी सुबह-शाम 85-85 (कुल 170) बुकिंग होती थीं लेकिन शनिवार को चार लोगों ने ही ऑनलाइन बुकिंग कराई है।

बुकिंग कराने वाले चारों पर्यटक नैनीताल जिले के ही बताए जा रहे हैं। चारों ने सिर्फ बिजरानी जोन की बुकिंग कराई है, जिनमें एक पर्यटक ने सुबह और तीन पर्यटकों ने शाम की बुकिंग कराई है। वहीं अन्य तीनों झिरना, ढेला और पाखरो में किसी पर्यटक की बुकिंग नहीं हुई है।

पार्क वार्डन आरके तिवारी ने बताया कि उम्मीद है कि आने वाले समय में बुकिंग बढ़ेगी। रविवार को कोरोना संक्रमण को लेकर मिली गाइडलाइन के अनुरूप ही पर्यटकों को जंगल सफारी के लिए भेजा जाएगा।

जून में कॉर्बेट में पर्यटकों को बुकिंग नहीं मिल पाती थी। इसकी वजह से पर्यटक रामनगर वन प्रभाग के सीतावनी जोन में जंगल सफारी करते थे। कोरोना काल के चलते पर्यटन उद्योग पूरी तरह से ठप पड़ गया है।




पर्यटकों के लिए आज से खुला कॉर्बेट टाइगर रिजर्व, पहले दिन नौ लोगों ने की जंगल सफारी, दिखे बाघ
 

adsatinder

explorer
Char Dham Yatra 2020: 15 Local Pilgrims Reached Kedarnath During Unlock 1

चारधाम यात्रा 2020: अनलॉक-1 के दौरान चार दिन में 15 स्थानीय श्रद्धालुओं ने किए बाबा केदार के दर्शन


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, रुद्रप्रयाग Updated Tue, 16 Jun 2020 05:47 PM IST




सार
सोनप्रयाग में चेकिंग के बाद भेजा जा रहा है धाम

विस्तार
अनलॉक-1 में सरकार के चारधाम यात्रा संचालन के बाद बीते चार दिन में 15 श्रद्धालुओं ने केदारनाथ धाम के दर्शन किए। इस दौरान भक्तों द्वारा प्रसाद का चढ़ावा समेत अन्य धार्मिक गतिविधियां नहीं हो रही है।

29 अप्रैल को बाबा केदार के कपाट खोले गए थे। सरकार द्वारा आठ जून से स्थानीय स्तर पर यात्रा का संचालन का निर्णय लिया गया। इसके बाद जिला प्रशासन द्वारा पास जारी किए गए।
सोनप्रयाग में जरूरी कार्रवाई के बाद भक्तों को धाम भेजा जा रहा है। उत्तराखंड देवस्थानम बोर्ड के प्रभारी अधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि शासन के निर्देशों के तहत बीते 12 से 15 जून तक धाम में 15 श्रद्धालु पहुंचे हैं।
मुंबई के श्रद्धालुओं ने ऑनलाइन किए मां यमुना के दर्शन
कोरोना संक्रमण की वजह से श्रद्धालु यमुनोत्री धाम नहीं पहुंच पा रहे हैं, लेकिन ऑनलाइन मां यमुना के दर्शन कर पूजा करवा रहे हैं। तीर्थ पुरोहित प्यारे लाल उनियाल ने बताया कि संगीता चावला, वैभव चावला, सनिल चावला आदि श्रद्धालु हर दूसरे वर्ष चारधाम यात्रा पर आते थे।

लेकिन इस बार लॉकडाउन के कारण वे नहीं आ पाए और उन्होंने ऑनलाइन पूजा करवाई और खरसाली गांव के 107 परिवारों के लिए राशन दिया।


चारधाम यात्रा 2020: अनलॉक-1 के दौरान चार दिन में 15 स्थानीय श्रद्धालुओं ने किए बाबा केदार के दर्शन
 

adsatinder

explorer
Brahma Kapal Pilgrimage Descended In Protest Against Chardham Yatra

चारधाम यात्रा के विरोध में उतरे ब्रह्म कपाल तीर्थपुरोहित

देहरादून ब्यूरो
Updated Tue, 16 Jun 2020 09:33 PM IST


ब्रह्म कपाल तीर्थपुरोहित महापंचायत ने देवस्थानम बोर्ड की ओर से चारधाम यात्रा शुरू किए जाने के फैसले का विरोध किया है। महापंचायत का कहना है कि अगर यात्रा शुरू हुई तो रावल और अन्य पुजारियों को कोरोना संक्रमण की आशंका है।

उन्होंने सीमित संख्या में यात्रा शुरू होने से चारों धामों में कोरोना के खतरे की भी आशंका जताई। कहा कि सरकार ने हाईकोर्ट में साईं बाबा मंदिर ट्रस्ट का हवाला दिया है। जबकि चार धाम स्थानीय परंपराओं के अनुसार चलते हैं। महापंचायत की ओर से राज्यपाल को इस संबंध में ज्ञापन भेजा गया है।
इसमें महापंचायत ने राज्यपाल से अपील की है कि देवस्थानम बोर्ड अपना फैसला उन पर न थोपे। देवस्थानम बोर्ड का मामला अभी हाईकोर्ट में विचाराधीन है। ऐसे में उसका कुछ भी कहना अनुचित है। ज्ञापन देने वालों में महापंचायत के अध्यक्ष उमानंद सती, अमित सती, संजय सती, भगवती प्रसाद नौटियाल, मुकेश नौटियाल, सतीश सती, शरद नौटियाल, दीपक सती, प्रकाश चंद सती शामिल थे।



चारधाम यात्रा के विरोध में उतरे ब्रह्म कपाल तीर्थपुरोहित
 

adsatinder

explorer
Uttarakhand also in danger now from China.

Galvan Valley dispute: A large number of soldiers deployed in China border area along Uttarakhand, intelligence alert

गलवां घाटी विवाद : उत्तराखंड से लगी चीन सीमा क्षेत्र में भारी संख्या में जवान तैनात, खुफिया तंत्र अलर्ट


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, जोशीमठ Updated Sat, 20 Jun 2020 07:13 PM IST


लद्दाख में भारत-चीन के बीच उपजे विवाद के कारण चमोली से लगे चीन सीमा क्षेत्र में भारी संख्या में जवानों की तैनाती कर दी गई है।


सेना के वाहनों में खाद्यान्न सामग्री भी सीमा क्षेत्र में पहुंचाई जा रही है। सूत्रों के अनुसार, आईटीबीपी उत्तरी कमान के उच्च अधिकारी तीन दिन से सीमा क्षेत्र में ही डटे हुए हैं। वे सीमा क्षेत्र बाड़ाहोती के निरीक्षण पर भी गए।
चीन और नेपाल सीमा पर हाई अलर्ट, 24 घंटे पल-पल की गतिविधियों पर नजर रख रहे भारतीय जवान

लद्दाख के गलवां घाटी में भारत-चीन के बीच चल रही तनातनी के बाद से सेना और आईटीबीपी के साथ ही खुफिया तंत्र अलर्ट है। लगातार सीमा क्षेत्र की घेराबंदी की जा रही है।

शुक्रवार को चमोली जिले में आसमान में सेना के हेलीकॉप्टर भी घूमते दिखाई दिए। बताया जा रहा है कि आईटीबीपी के उत्तरी कमान के उच्च अधिकारी तीन दिनों से बाड़ाहोती क्षेत्र में हैं और स्थिति का जायजा ले रहे हैं। सेना की ओर से पर्याप्त मात्रा में असलहे व तोपें भी सीमा क्षेत्र में पहुंचा दी गई हैं।
चीमा सीमा पर स्थिति का जायजा लेने पहुंचे सेना व आईटीबीपी के अधिकारी
लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर विवाद के चलते चमोली जिले से लगी चीन सीमा पर सेना की अलर्टनेस ज्यादा बढ़ गई है। शनिवार को जोशीमठ स्थित सेना के ब्रिगेड हेड क्वार्टर में सेना के उच्च अधिकारियों की बैठक हुई, जिसमें चमोली जिले से लगी सीमा पर हो रही गतिविधियों की जानकारी ली गई। इसके बाद सेना व आईटीबीपी के अधिकारियों ने सीमा पर जाकर स्थिति का जायजा लिया।

सूत्रों के अनुसार शनिवार को जोशीमठ स्थित सेना के हेलीपैड पर दो चेतक हेलीकॉप्टर लैंड हुए। बताया जा रहा है कि बरेली से ले. जनरल यहां की स्थिति का जायजा लेने पहुंचे हैं। उन्होंने 9 पर्वतीय माउंट ब्रिगेड जोशीमठ में सेना के अधिकारियों के साथ बैठक कर सीमा की गतिविधियों की जानकारी ली।

वहीं आईटीबीपी के उत्तरी कमान के एक अधिकारी भी सीमा पर स्थिति का जायजा लेने गए हैं। मालूम हो की लद्दाख की गलवां घाटी में भारत और चीन के बीच बनी तनातनी की स्थिति के बाद चमोली जिले से लगी चीन सीमा पर भी आईटीबीपी और सेना मुस्तैद है। सीमा पर सेनाओं की अलर्टनेस बढ़ गई है। आईटीबीपी और सेना के उच्च अधिकारी लगातार सीमा की हर पल की जानकारी ले रहे हैं। सीमा पर प्राइवेट ट्रकों से भी जरूरी सामान पहुंचाया जा रहा है।
दीप प्रज्वलित कर शहीदों को दी श्रद्धांजलि
ऋषिकेश में भाजपा स्वर्गाश्रम मंडल की ओर से गलवां घाटी में शहीद हुए हमारे वीर जवानों के सम्मान में दीप प्रज्वलित कर श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर कार्यकर्ताओं ने दो मिनट का मौन व्रत रखकर शहीदों को याद किया।

मंडल अध्यक्ष गुरुपाल बत्रा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने गंगा तट पर एकत्रित होकर वीर शहीदों के सम्मान में मां गंगा को दीप प्रज्वलित व पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर उन्होंने कहा कि शहीदों की शहादत को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

देश की रक्षा के लिए भारतीय वीरों ने दुश्मनों का डटकर मुकाबला करते हुए अपने प्राणों को न्योछावर कर दिया। इस अवसर पर सांसद प्रतिनिधि भरत लाल, विधायक प्रतिनिधि गोपाल अग्रवाल, मीडिया प्रमुख देवेंद्र पयाल, अभिनंदन दुबे, मनीष राजपूत, बृजेश चतुर्वेदी, राजू प्रजापति, विकास भंडारी, नवनीत राजपूत, रामजी पांडेय, सूरजीत राणा, मोहन नागर, विवेक भारती, निपुण धाकड़, सचिन सौदियाल आदि मौजूद थे।

उधर बहुजन समाज पार्टी ने गलवां घाटी में शहीद हुए वीर शहीदों की याद में शोक सभा का आयोजन किया । कार्यकर्ताओं ने दो मिनट का मौन रखकर उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। इस अवसर पर पंकज जाटव, प्रदीप कुमार, महावीर सिंह, वीरबहादुर राजभर, संजीव कुमार, राजकुमार जाटव, अशोक कुमार, जसकरण यादव, रविंद्र जाटव, शुभम, सुनील कुमार, मनोज, रमेश गौतम, किशोरी लाल, भानु प्रकाश, अमित, प्रदीप, विकास, मनीष, शिवपाल, समरपाल, लाखन सिंह, गौतम, सुभाष, राजेश राजभर, किशोर कुमार आदि मौजूद थे।


गलवां घाटी विवाद : उत्तराखंड से लगी चीन सीमा क्षेत्र में भारी संख्या में जवान तैनात, खुफिया तंत्र अलर्ट
 
Top