Road conditions - Uttarakhand

adsatinder

explorer
Uttarakhand | सड़क पर टूटकर गिरा पहाड़, जान जोखिम में डाल Video बनाते दिखे लोग | Viral Video
39,724 watching now
•Jul 21, 2020




512K
139K



News18 Virals

257K subscribers


SUBSCRIBE
चमोली. उत्तराखंड (Uttarakhand) के चमोली (Chamoli) में मानसून में प्राकृतिक आपदाओं के मामले भी सामने आने लगे हैं. चमोली के पीपलकोटी के पास भूस्खलन हो गया है. इसके कारण नेशनल हाईवे 07 को बंद कर दिया गया है. इस बीच लोगों की लापरवाही भी देखने को मिली. लोग जान जोखिम में डालकर ढहते पहाड़ का नजारा देखते और वीडियो बनाते नजर आए. इसका वीडियो भी मीडिया में वायरल हो रहा है. इधर, मौसम विभाग ने उत्तराखंड में बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया गया है. मौसम विभाग ने बारिश का अनुमान लगाया है.
 

adsatinder

explorer
Chamoli Landslide, NH 7 Closed

चमोली में पहाड़ पर हुआ भूस्खलन, NH-07 किया गया बंद

चमोली के पीपलकोटी के पास भारी भूस्खलन हुआ है. इसके कारण नेशनल हाईवे 07 को बंद कर दिया गया है. बीते एक हफ्ते से उत्तराखंड बारिश में भीग रहा है और लगातार प्राकृतिक आपदा का सामना करना पड़ रहा है.

चमोली में पहाड़ पर हुआ भूस्खलन, NH-07  किया गया बंद

Share:
Written By:

ज़ी हिंदुस्तान वेब टीम

Updated:
Jul 21, 2020, 03:58 PM IST

खास बातें
  • मौसम विभाग के मुताबिक उत्तराखंड में अगले 72 घंटे तक काफी अलर्ट रहने की आवश्यकता है
  • 21 जुलाई से 23 जुलाई तक प्रदेश में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है.



चमोलीः बदले मौसम का मिजाज पहाड़ पर भी कहर बन कर टूट रहा है. जमीन तो जमीन पहाड़ भी खिसक जा रहे हैं. देश इस वक्त चौतरफा आपदाओं से घिरा हुआ है. उत्तराखंड के चमोली में मानसून में प्राकृतिक आपदाओं के मामले भी सामने आने लगे हैं. चमोली के पीपलकोटी के पास भूस्खलन हो गया है.



पीपलकोटी के पास हुआ भूस्खलन
जानकारी के मुताबिक चमोली के पीपलकोटी के पास भारी भूस्खलन हुआ है. इसके कारण नेशनल हाईवे 07 को बंद कर दिया गया है. बीते एक हफ्ते से उत्तराखंड बारिश में भीग रहा है और भारी बारिश के कारण बादल फटने, भूस्खलन और घर-इमारत धसकने की खबर आई है. चमोली में पहाड़ के धसकने के दौरान लोग लापरवाही करते भी नजर आए.




लोग वीडियो बनाते रहे
ANI ने ट्वीट करके पहाड़ धसकने और भूस्खलन की जानकारी दी है. एजेंसी की ओर से जारी वीडियो में भी लोग जान जोखिम डालते हुए वीडियो बना रहे है. इस वक्त उत्तराखंड में जगह-जगह प्राकृतिक आपदाओं से संकट की स्थिति है.




सोमवार देर रात हरि की पौड़ी पर बिजली गिरने से काफी नुकसान हुआ है. मौसम विभाग ने उत्तराखंड में बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया गया है. मौसम विभाग ने बारिश का अनुमान लगाया है.
72 घंटे का अलर्ट
मौसम विभाग के मुताबिक उत्तराखंड में अगले 72 घंटे तक काफी अलर्ट रहने की आवश्यकता है. क्योंकि प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में भारी बारिश (Heavy Rain) की चेतावनी मौसम विज्ञान केंद्र (Meteorology Department) ने जारी की है. मौसम विभाग के मुताबिक 21 जुलाई से 23 जुलाई तक प्रदेश में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है.


चमोली में पहाड़ पर हुआ भूस्खलन, NH-07 किया गया बंद
 

adsatinder

explorer
उत्तराखंडः सड़क पर टूटकर गिरा पहाड़, जान जोखिम में डाल Video बनाते दिखे लोग
Chamoli News in Hindi

उत्तराखंडः सड़क पर टूटकर गिरा पहाड़, जान जोखिम में डाल Video बनाते दिखे लोग


बरसात में लैंडस्लाइड से सड़कें तबाह हो जाने के कारण बहुत से इलाक़ों में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो जाता है. (file phioto)


उत्तराखंड (Uttarakhand) के चमोली (Chamoli) में मानसून में प्राकृतिक आपदाओं के मामले भी सामने आने लगे हैं. चमोली के पीपलकोटी के पास भूस्खलन हो गया है.

चमोली.
उत्तराखंड (Uttarakhand) के चमोली (Chamoli) में मानसून में प्राकृतिक आपदाओं के मामले भी सामने आने लगे हैं. चमोली के पीपलकोटी के पास भूस्खलन हो गया है. इसके कारण नेशनल हाईवे 07 को बंद कर दिया गया है. इस बीच लोगों की लापरवाही भी देखने को मिली. लोग जान जोखिम में डालकर ढहते पहाड़ का नजारा देखते और वीडियो बनाते नजर आए. इसका वीडियो भी मीडिया में वायरल हो रहा है. इधर, मौसम विभाग ने उत्तराखंड में बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया गया है. मौसम विभाग ने बारिश का अनुमान लगाया है.

न्यूज एजेंसी एएनआई ने एक ट्वीट किया है, जिसमें भूस्खलन का वीडियो भी शेयर किया गया है. इस वीडियो में पहाड़ को टूटकर सड़क पर गिरते हुए देखा जा सकता है. इस कारण राष्ट्रीय राजमार्ग पर आवागमन बाधित हो गया है.


मौसम विभाग का अलर्ट जारी

मौसम विभाग के मुताबिक उत्तराखंड में अगले 72 घंटे तक काफी अलर्ट रहने की आवश्यकता है. क्योंकि प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में भारी बारिश (Heavy Rain) की चेतावनी मौसम विज्ञान केंद्र (Meteorology Department) ने जारी की है. मौसम विभाग के मुताबिक 21 जुलाई से 23 जुलाई तक प्रदेश में भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है.



उत्तराखंड मौसम विज्ञान केंद्र ने प्रदेश के 5 जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है, जिसमें उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर, पिथौरागढ़ शामिल है. यहां भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है. मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह के मुताबिक उत्तराखंड के हिमालयी क्षेत्रों में 20 जुलाई से 24 जुलाई तक खूब बारिश होगी. लेकिन उत्तराखंड के 5 जिलों में 21 जुलाई से 23 जुलाई तक भारी से भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया है. जबकि देहरादून, हरिद्वार, टिहरी, पौड़ी, नैनीताल, अल्मोड़ा जिलों के लिए अगले 72 घंटों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी हुआ है.



उत्तराखंडः सड़क पर टूटकर गिरा पहाड़, जान जोखिम में डाल Video बनाते दिखे लोग
 

adsatinder

explorer
आसमान से बरसे पत्थर! देखें Chamoli में Land Slide का दहला देने वाला VIDEO
1,733 views
•Jul 20, 2020


55
4


Aaj Tak HD


1.02M subscribers



बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है. यहां लाखों की संख्या में लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है. बाढ़ में डूबे गांवों के लोगों को इसका कोई अंदाजा नहीं है कि बाढ़ का पानी कब तक उतरेगा. इन लोगों को रोज सांप बिच्छू जैसे जहरीले जानवरों का सामना करना पड़ रहा है. साथ ही पानी जम जाने से बीमारी पनपने का भी डर है. बिहार और असम में बाढ़ आई तो बीमार होने पर अस्पताल जाने के लिए नाव ही सहारा है. आलम ये है कि लोगों को पीने का साफ पानी तक नहीं मिल रहा है.
 

adsatinder

explorer
Uttarakhand Weather News: Debris Hit The Road Due To Heavy Rain, Delhi Car Swept Driver Died Two Missing
Car was from RK Puram, Delhi and 2 other persons are also missing who were in the car returning Delhi.

कोटद्वार : अतिवृष्टि से सड़क पर आया मलबा, बरसाती नाले में बही दिल्ली की कार, चालक की मौत, दो लापता
न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, कोटद्वार, Updated Tue, 21 Jul 2020 04:52 PM IST

1 of 6
- फोटो : amar ujala

कोटद्वार में आज अतिवृष्टि के कारण हाईवे पर भारी मलबा आ गया। वहीं दिल्ली की एक कार बरसाती नाले के तेज बहाव में बह गई।






1595336810589.png





1595336867884.png


सूचना पर स्थानीय पुलिस, प्रशासन और एसडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची और चालक भपेंद्र सिंह को कार से निकाल लिया गया। जिसकी उपचार के दौरान मौत हो गई।








1595337063535.png


मौत से पहले चालक ने बताया कि वह दिल्ली के यात्रियों को दुगड्डा छोड़कर वापस दिल्ली जा रहा था। रास्ते में दिल्ली में रहने वाले दो यात्रियों ने लिफ्ट मांगी।






1595337186723.png


जिन्हें लेकर वह दिल्ली जा रहा था कि कोटद्वार दुगड्डा हाईवे पर अचानक तेज बहाव के कारण भारी मलबा सड़क पर आ गया और उनकी कार बह गई।





1595337279326.png


हाईवे मलबा आने से बंद हो गया है। जेसीबी मलबा साफ करने का काम कर रही है। चालक आरके पुरम दिल्ली से बुकिंग पर आया था।






1595337416340.png


लापता दो लोगों की तलाश जारी है। स्थानीय लोगों द्वारा बताया गया कि ऊपर कहीं अतिवृष्टि हुई है। जिस कारण भारी मात्रा में मलबा तेज बहाव के साथ सड़क पर आया है।




कोटद्वार : अतिवृष्टि से सड़क पर आया मलबा, बरसाती नाले में बही दिल्ली की कार, चालक की मौत, दो लापता
 

adsatinder

explorer
Char Dham Yatra 2020: Uttarakhand govt allows devotees from other states; COVID-19 report will be mandatory
India


Times Now Digital

Times Now Digital

Updated Jul 24, 2020 | 18:12 IST


In the wake of COVID-19 pandemic, only Uttarakhand residents were earlier permitted to take part in Char Dham Yatra 2020.

Char Dham Yatra


Char Dham Yatra for Uttarakhand | Photo Credit: PTI


Dehradun: The Uttarakhand government on Friday permitted devotees from other states to participate in the Char Dham Yatra, which includes four destinations namely Yamunotri, Gangotri, Kedarnath and Badrinath. The announcement was made by Ravinath Raman, the chief executive officer of Char Dham Devasthanam Board.
Only Uttarakhand residents were earlier allowed to take part in yatra this year due to COVID-19 pandemic. Even they had to follow certain guidelines like obtaining an e-pass to undertake the yatra. Arrangements regarding online bookings for puja/path/aarti/bhog were made for those pilgrims, who hail from other states.
Now, the state government has permitted people belonging to other states to undertake the yatra. However, there is a condition. The devotees will have to carry a negative RT-PCR (Reverse Transcription Polymerase Chain Reaction) result, the test of which has to be taken 72 hours before entering the state.
Those devotees who have completed their quarantine period after reaching Uttarakhand can also take part in the holy yatra.
It will be mandatory to register themselves on the website of Char Dham Devasthanam Board. They shall also upload their ID as well as COVID-19 negative report as part of their registration process.
Pilgrims can download e-permit from the portal on their mobile phones but they shall carry the photo ID, address proof and COVID-19 negative report for validation purpose.


On June 29, the Uttarakhand government had announced the standard operating procedure (SOP), restricting the number of pilgrims visiting every shrine per day
For Kedarnath, the number was fixed at 800, Badrinath 1200, Gangotri 600, Yamunotri 400. As per the SOP, it is must for every pilgrim to carry identification and address proof.



Char Dham Yatra 2020: Uttarakhand govt allows devotees from other states; COVID-19 report will be mandatory
 

adsatinder

explorer
Coronavirus In Uttarakhand: Uttarakhand Government Open Char Dham Yatra 2020 For Over Country Pilgrims

उत्तराखंड: देशभर के तीर्थयात्रियों के लिए खुली चारधाम यात्रा, साथ रखनी होगी कोरोना निगेटिव रिपोर्ट


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Fri, 24 Jul 2020 05:17 PM IST


सार

करना होगा शर्तों का पालन, आरटी पीसीआर की जांच रिपोर्ट जरूरी

विस्तार
उत्तराखंड सरकार ने बाहरी राज्यों के श्रद्धालुओं के लिए भी सशर्त चारधाम यात्रा खोल दी है। अभी तक केवल उत्तराखंड के श्रद्धालुओं को ही यात्रा की अनुमति थी। सरकार ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि इस दौरान कोविड 19 को लेकर अन्य सामान्य आदेश भी लागू रहेंगे।

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने आज यह घोषणा की है। उन्होंने बताया कि अब राज्य में बाहरी राज्यों के श्रद्धालुओं को भी चारधाम यात्रा पर आने की अनुमति होगी, लेकिन उनके पास उत्तराखंड आने के 72 घंटे पहले तक की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट होनी चाहिए।

कोविड 19 नेगेटिव रिपोर्ट भी वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी
इसके साथ ही वे श्रद्धालु भी यात्रा कर सकते हैं, जो उत्तराखंड पहुंचकर निर्धारित क्वारंटीन अवधि को पूरा कर चुके होंगे। यात्रा पर आने वाले श्रद्धालु देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की वेबसाइट पर पंजीकरण करेंगे। उन्हें पंजीकरण के साथ अपनी आईडी, कोविड 19 निगेटिव रिपोर्ट भी वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी।

इसके अलावा वेबसाइट पर अपलोड किए गए दस्तावेजों की मूल प्रति अपने पास रखना भी अनिवार्य होगा। क्वारंटीन अवधि पूरी करने वाले श्रद्धालु वेबसाइट पर फोटो आईडी अपलोड कर अपना पास प्राप्त करेंगे और मंदिरों में जा सकेंगे। सरकार ने यह कदम तीर्थांटन व पर्यटन कारोबार को मजबूती देने के उद्देश्य से उठाया है।

बाहरी राज्यों के कोविड विजेताओं को प्रदेश में आने की अनुमति
वहीं, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि बाहरी राज्यों से कोई कोविड विजेता उत्तराखंड में घूमने के लिए आना चाहता है तो उनके लिए किसी तरह की रोक नहीं लेगी। उन्हें प्रदेश में आने की अनुमति दी जाएगी।

इससे प्रदेश में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा और कोरोना से जंग जीतकर स्वस्थ हो चुके लोग उत्तराखंड की आबोहवा का आनंद ले सकते हैं। मंगलवार को मुख्यमंत्री ने कहा कि बाहरी राज्यों से कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों को प्रदेश में आने की अनुमति देने का फैसला लिया है।

कोरोना से जंग जीतने वालों की कोई जांच नहीं की जाएगी और न ही क्वारंटीन किया जाएगा। सरकार ने अन्य पर्यटकों के लिए 72 घंटे पहले आईसीएमआर से मान्यता प्राप्त लैब से जांच करने वाले पर्यटकों को प्रदेश में आने की अनुमति दी है।

यदि कोई पर्यटक बिना जांच के लिए आता है तो उसे सात दिन के लिए होटल की बुकिंग करनी होगी और सात दिन तक होटल में रहना होगा। इसके बाद ही वे प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में भ्रमण करने जा सकते हैं।



उत्तराखंड: देशभर के तीर्थयात्रियों के लिए खुली चारधाम यात्रा, साथ रखनी होगी कोरोना निगेटिव रिपोर्ट
 

adsatinder

explorer
Chardham Yatra: Uttarakhand Devasthanam Board allows asymptomatic persons from outside state — check details
By: FE Online|
Published: July 24, 2020 9:30 PM

The board had said that the pilgrims would not be allowed to touch idols at the temples, and the temple bells have been covered. No prasad would be distributed.

Chardham yatra, Uttarakhand, Chardham yatra 2020, coronavirus, covid-19, Dehradun, Chardham Yatra Uttarakhand, Chardham yatra e-pass, get Chardham yatra e-pass, Himalaya, Badrinath, Kedarnath, Gangotri, Yamunotri, Ravinath Raman


Earlier, the Uttarakhand state government had opened the Chardham Yatra for Uttarakhand residents on Wednesday, July 1. (File image)


Uttarakhand Devasthanam Board has issued revised standard operating procedure (SOPs) allowing COVID-19 asymptomatic persons from outside the state to undertake Chardham Yatra but with conditions, ANI reported on Friday.
Earlier, due to the Coronavirus outbreak, the Uttarakhand state government had only opened the Chardham Yatra for Uttarakhand residents on Wednesday, July 1.


Initially, 422 pilgrims had applied for the e-passes on the first day of the Yatra to visit the Himalayan temples of Badrinath, Kedarnath, Gangotri and Yamunotri.
Of the 422 applications — 154 were for Badrinath, 165 for Kedarnath, 55 for Gangotri and 48 for Yamunotri — on the Uttarakhand Devasthanam Board website.
This year, the board has made arrangements for thermal screening, sanitisation and masks for devotees, PTI had reported.
The board had said that the pilgrims would not be allowed to touch idols at the temples, and the temple bells have been covered. No prasad would be distributed.


Chardham Yatra: Uttarakhand Devasthanam Board allows asymptomatic persons from outside state — check details
 
Top