Road conditions - Uttarakhand

Premlesh Sharma

New Member
One route I know of is Ghaziabad-Moradabad-Bareilly-Pillibhit-Tanakpur-Pithoragarh. From Delhi to Bareilly would barely take you 4 hours normally and then the road till Pillibhit is not that great. However Pillibhit onward, it gets better in stretches.
Thanks Sheeraz, I got to know another route --> Ghaziabad - Moradabad - Rudrapur - Haldwani - Kathgodam - Dhanachuli - Danya - Ghat - Pithoragarh - Dharchula

How is this route, any idea?
 

breezydrive

Member
Hi

I need help for the road conditions from Delhi to Dharchula. Which route should I take?

TIA, Premlesh
In the past fortnight, my team members have visited twice at some Hydro project sites in Dharchula region.

The latest visit is still on; as per reports, the roads are not very good. This year, rains, cloudburst and Landslides were more than normal.

Team has used 03 cars; although, the scorpio and duster didn't have any issues but things were a bit tough for Swift Dzire.

Best & shortest route at present is Delhi - Rudrapur - Tanakpur - Champawat- Pithoragarh- Dharchula
 

adsatinder

explorer
Dehradun Smart City Limited - REGISTRATION FOR TRAVELLING TO / FROM UTTARAKHAND

This Uttarakhand Registration Websiteis showing option of Tourist.
Which was not in August month.


Now you can apply without clicking Covid Report also.
Check POint NO.3.
NO RED STAR.
Means this is not necessary.


1.
1601228705354.png


^^^ Point NO. 3 has option of NO or if you do not click, it may not react.
I have chosen NO and check what happens in next points,
Points changed accordingly.



2.
1601228762931.png






3.
1601228890187.png




4.
1601228916379.png




You have to upload a Receipt of Hotel Booking for some days.
Hotels are taking booking and give you receipt for the same without any charges.
They will charge you for the actual stay only.
Talk to hotel earlier.

ID upload is also must.

You should not be found positive if they do some tests or ask questions.
You may have to go through test whenever they like to do.
They may do Rapid test.

A BCMTian was recently tested Corona Positive on UK Border and was denied entry.
He had to return from UK Border this month only.
 

Attachments

Last edited:

Nitish Kumar

Well-Known Member
Dehradun Smart City Limited - REGISTRATION FOR TRAVELLING TO / FROM UTTARAKHAND

This Uttarakhand Registration Websiteis showing option of Tourist.
Which was not in August month.


Now you can apply without clicking Covid Report also.
Check POint NO.3.
NO RED STAR.
Means this is not necessary.


1.
View attachment 790233

^^^ Point NO. 3 has option of NO or if you do not click, it may not react.
I have chosen NO and check what happens in next points,
Points changed accordingly.



2.
View attachment 790234





3.
View attachment 790236



4.
View attachment 790237



You have to upload a Receipt of Hotel Booking for some days.
Hotels are taking booking and give you receipt for the same without any charges.
They will charge you for the actual stay only.
Talk to hotel earlier.

ID upload is also must.

You should not be found positive if they do some tests or ask questions.
You may have to go through test whenever they like to do.
They may do Rapid test.

A BCMTian was recently tested Corona Positive on UK Border and was denied entry.
He had to return from UK Border this month only.
you have selected minimum 7 days option, but yes i get your point, subcategory is now optional as star removed

Nitish Kumar
 

adsatinder

explorer
Buses Starting from Delhi to Uttarakhand


उत्तराखंड से दिल्ली और उत्तर प्रदेश के लिए कल से चलेंगी बसें
विशेष संवाददाता, देहरादून | Published By: Shivendra Singh
  • Last updated: Tue, 29 Sep 2020 08:58 AM




अंतर्राज्यीय परिवहन को सरकार की हरी झंडी मिलते ही रोडवेज ने राज्य से बाहर बस संचालन की तैयारी शुरू कर दी। उम्मीद है कि बुधवार से रोडवेज यूपी और दिल्ली के लिए 100 बसों का संचालन शुरू कर देगा। रोडवेज के एमडी रणवीर सिंह चौहान ने इसकी पुष्टि की है।
रणवीर सिंह चौहान ने बताया कि, बस संचालन के लिए राजस्थान के साथ भी बातचीत हो चुकी है। दिल्ली में एंट्री पर रोक होने के कारण बसें फिलहाल कौशांबी तक ही जाएंगी।

गढ़वाल और कुमाऊं के बीच भी बढ़ेंगी बस
यूपी के साथ परिवहन का रास्ता खुलने का लाभ राज्य के भीतर चलने वाली बस सेवाओं को भी मिलेगा। खासकर देहरादून, हरिद्वार से हल्द्वानी, रामनगर आदि के लिए भी बस सेवा शुरू हो जाएगी।
मंगलवार को सभी औपचारिकताओं को पूरा कर लिया जाएगा। सभी अधिकारियों को बस संचालन के निर्देश दे दिए गए हैं। बस संचालन में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए तय मानकों का कड़ाई से पालन किया जाएगा। - रणवीर सिंह, एमडी-रोडवेज

बसों में दोगुना नहीं, सामान्य किराया चुकाना होगा
राज्य सरकार ने अंतर्राज्यीय परिवहन सेवाओं के लिए एसओपी जारी कर दी है। सोमवार को मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने आदेश जारी करके यात्री वाहनों को 50 फीसदी क्षमता के साथ चलने की शर्त को खत्म कर दिया गया है। वाहन 100 फीसदी सीट क्षमता के साथ चल सकेंगे। इस सुविधा को लागू करते हुए सरकार ने हाल में दोगुना किराया बढ़ोत्तरी के आदेश को भी वापस ले लिया है। अब से वाहन पूर्व से तय सामान्य किराया ही ले सकेंगे। 100 फीसदी सीट क्षमता की छूट का लाभ टैक्सी कैब, मैक्सी कैब, थ्री-व्हीलर ऑटो, विक्रम, ई-रिक्शा को भी मिलेगा। बसों में खड़े होकर सफर की अनुमति नहीं होगी।

बस संचालन की ये होंगी शर्तें
1. बिना मास्क पहने बस में चढ़ने की अनुमति नहीं होगी। हर वाहन के ड्राइवर, कंडक्टर और यात्री के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा। हर यात्रा शुरू होने से पहले और यात्रा खत्म होने पर वाहन का संपूर्ण सेनेटाइजेशन करना होगा। वाहन चालक, परिचालक एवं यात्रियों को मोबाइल पर आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना होगा।
2. यात्रियों की जांच की जिम्मेदारी जिला प्रशासन की
राज्य के बाहर और भीतर यात्रा करने पर यात्रियों की जांच की व्यवस्था की जिम्मेदारी डीएम की होगी।
3. पान, गुटका, तंबाकू पर बैन, थूकने पर मिलेगा दंड। कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर संबंधित वाहन चालक को इसकी पास के पुलिस थाने-स्वास्थ्य केंद्र में देनी होगी। वाहन को निर्धारित स्टॉपेज पर ही रोका जायेगा।

स्मार्ट सिटी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा
अन्य राज्यों से आने वाले वाहनों के ड्राइवर-कंडक्टर और यात्रियों को देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड की वेबसाईट पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। यदि को कोई यात्री बिना रजिस्ट्रेशन के राज्य में प्रवेश करेगा तो उसका अपने स्टेशन पर पहुंचने पर जिला प्रशासन रजिस्ट्रेशन कराएगा।


उत्तराखंड से दिल्ली और उत्तर प्रदेश के लिए कल से चलेंगी बसें
 

adsatinder

explorer
Char Dham travel guidelines—Covid-negative certificate not essential

TIMESOFINDIA.COM|TRAVEL NEWS, UTTARAKHANDUpdated : Sep 29, 2020, 13.42 IST



In a latest development in Uttarakhand travel rules, the state government has announced that tourists are not required to carry a COVID-19 negative certificate anymore to visit the Char Dham sites. The Char Dham shrines were opened up sometime ago for Uttarakhand residents, and also for visitors outside the state. The new guidelines for visiting the holy sites are now to be followed henceforth.

According to the Chief Executive Office of Char Dham Devasthanam Management Board, Ravinath Raman, visitors are instead required to register on the board’s official website . This is so that they can get their e-pass that will allow them to visit the Char Dham shrines.


It is being reported that the pilgrims would go through thermal scanning before entering the shrines, and a COVID-19 test will be conducted if they record high body temperature. The cost of the test will have to be borne by the pilgrims; moreover, they will only enter the shrine if the test result comes back as negative.

The guidelines also suggest that certain groups of people are advised against the yatra, including infants, people above the age of 65, pregnant ladies, and those below 10 years of age.

The guidelines also warn interested visitors, who are asymptomatic not to visit the shrine and not to apply for an e-pass as well. Also, those who are going to the shrine with the help of heli services do not have to apply for an e-pass. All their formalities will be completed by the helicopter company. Most importantly, you are not permitted to touch the idols during your visit.






 

adsatinder

explorer
Unlock 5.0 Guidelines In Uttarakhand News: Uttarakhand Roadways Bus Service Started For UP, Delhi And Kumaon

Unlock 5.0 in Uttarakhand: यूपी, दिल्ली और कुमाऊं के लिए शुरू हुई बस सेवा, सुबह से ही उमड़ी रही लोगों की भीड़


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, देहरादून/हरिद्वार Updated Wed, 30 Sep 2020 11:38 PM IST



1601496920041.png


बस सेवा शुरू - फोटो : अमर उजाला


देहरादून और हरिद्वार रोडवेज बस अड्डे से छह महीने बाद बाहरी राज्यों के लिए बसों का संचालन शुरू हुआ तो परिसर की पुरानी रौनक लौट आई। दिल्ली, उत्तर प्रदेश और कुमाऊं जाने के लिए बड़ी संख्या में लोग सुबह ही बस अड्डा पहुंच गए थे। सुबह छह बजे से लोगों का यहां पहुंचना शुरू हो गया था। बुधवार को हर घंटे के अंतराल में दिल्ली के लिए बसें भेजी गई।

बुधवार से बसों का संचालन अंतरराज्यीय व्यवस्था के तहत शुरू हो गया। पहले दिन हरिद्वार से दिल्ली के लिए बस सुबह 6.30 बजे रवाना हुई। अड्डे से दिल्ली के लिए निकली पहली बस में 40 लोग सवार थे। इसके बाद दिल्ली के लिए प्रत्येक एक-एक घंटे बाद बसों को रवाना किया जाता रहा। इसी के साथ हल्द्वानी और टनकपुर के लिए बसें भेजी गई। पहले दिन कुल दस बजे दूसरे राज्यों के लिए चलाई गई।
हालांकि 20-25 बसें प्रतिदिन देहरादून, रुड़की, लक्सर, ऋषिकेश, उत्तरकाशी आदि स्थानों के लिए संचालित की जा रही थी। बस अड्डे पर यात्रियों की भीड़ होने से आसपास के लघु व्यापारी खुश नजर आए। हरिद्वार डिपो के महाप्रबंधक प्रतीक जैन ने बताया कि बुधवार को जितनी बसें भी चलाई गई उसमें 30 से 40 यात्रियों ने यात्रा की। उन्होंने बताया कि आने वाले दिनों में यात्रियों की संख्या बढ़ने पर बसों की संख्या भी बढ़ा दी जाएगी।

बसें सैनिटाइज करके लायी गई
बसों को चलाने से पहले रोडवेज कार्यशाला में सैनिटाइज किया गया। इसके अलावा कोई नियम का पालन नहीं किया गया। यात्रियों के हाथों को सैनिटाइज नहीं किया गया और कई लोगों ने मास्क भी नहीं पहना था। महाप्रबंधक प्रतीक जैन ने बताया कि प्रदेश से जाने वालों यात्रियों के लिए पंजीकरण नहीं करने की छूट थी, जबकि अन्य प्रदेशों से आने वाले यात्रियों के नाम पते, फोन नंबर लिखने की जिम्मेदारी परिचालक को दी गई है।

उत्तर प्रदेश से एक बजे के बाद आई बसें
उत्तर प्रदेश की हरिद्वार डिपो में 34 बसों का शेड्यूल जारी हुआ है। जिसमें से पहले दिन दोपहर एक बजे तक उत्तर प्रदेश की बसों के पहुंचने का क्रम शुरू हुआ। उत्तर प्रदेश की बसें आने से यात्रियों को ज्यादा राहत मिली। सहायक महाप्रबंधक प्रतीक जैन ने बताया कि शेड्यूल के अनुसार दिल्ली से ऋषिकेश के लिए 10, मुरादाबाद से हरिद्वार के लिए 10, लखनऊ हरिद्वार से एक, कानपुर से एक, गंगोह से 4, मुजफ्फरनगर से 3, दिल्ली -बिजनौर-हरिद्वार से 5 बसें हरिद्वार डिपो में आएंगी।

देहरादून से दिल्ली रूट पर रवाना हुईं 20 बसें
अंतरराज्यीय परिवहन शुरू होने के बाद बुधवार को पहले दिन देहरादून से दिल्ली रूट के लिए 20 बसें रवाना की गईं। सुबह से रात करीब 10 बजे तक बसों का संचालन हुआ। बसों में औसतन 30 से 40 फीसद सीटें फुल देखने को मिलीं। पहले दिन के यात्रियों की संख्या को देखते हुए अधिकारी उत्साहित नजर आए।

मंडलीय प्रबंधक सीपी कपूर के अनुसार तीन बसें यूपी परिवहन की भी रवाना की गईं। बृहस्पतिवार से भी यही व्यवस्था रहेगी। पहले दिन का रिस्पांस अच्छा रहा। सुबह 5:30 बजे से स्टाफ की टीम मुख्य गेट पर टेम्प्रेचर जांच व सैनिटाइजेशन के लिए तैनात हो गई थी। रात तक कर्मी ड्यूटी पर डटे रहे। यात्रियों के साथ ही ड्राइवर-कंडक्टर की सुरक्षा का भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। वहीं, दोपहर एक बजे के बाद मंडलीय प्रबंधक ने स्थिति का जायजा लिया। हालांकि, आईएसबीटी परिसर में करीब 80 फीसद दुकानें बंद नजर आई।

हल्द्वानी के लिए बढ़ सकती हैं बसें
हल्द्वानी के लिए बुधवार सुबह व रात को दो बसें रवाना की गईं। अगर यात्रियों की संख्या बढ़ती है तो हल्द्वानी के लिए बसें बढ़ाई जाएंगी। हालांकि, बसों की संख्या घटाने व बढ़ाने का फैसला यात्रियों की उपलब्धता पर निर्भर करेगा।

कई बसों में ई-मशीनों ने दिया धोखा
छह महीने बाद रोडवेज की बसें देहरादून से दिल्ली रवाना हुईं तो पहले दिन कुछ दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा। छह से ज्यादा बसों की ई-टिकट मशीनें धोखा दे गईं। हालांकि 20-30 मिनट में मशीनें चालू हो गईं। इसके अलावा एक ड्राइवर ने बस के टायर की शिकायत की। हालांकि, टायर चेक करने के बाद बस रवाना कर दी गई। मंडलीय प्रबंधक सीपी कपूर ने कहा कि ई-टिकट मशीनों में सर्वर डाउन व सॉफ्टवेयर अपडेशन की वजह से समय लगा। दो कंडक्टरों ने ई-टिकट मशीनों में संशोधित किराये की दरें अपडेट कराईं। दोपहर बाद यह समस्या दूर हो गई थी।

बढ़ा किराया वापस, अब सीटें भरने की मशक्कत
सरकारी के निर्देश के बाद रिस्पना पुल स्थित टैक्सी स्टैंड पर पर्वतीय व लोकल रूटों पर चलने वाली टैक्सी-जीप का बढ़ा किराया वापस हो गया है। इसके चलते बुधवार को यात्रियों की कमी के कारण अधिकांश टैक्सी, मैक्स देरी से निकलीं।

दून गढ़वाल ट्रैकर जीप कमांडर कल्याण एवं संचालन समिति के सचिव राजेश कुमार कश्यप ने कहा कि बुधवार को ऋषिकेश, हरिद्वार, कोटद्वार कि चंबा जैसे लोकल रूट पर 25 जीप रवाना हुईं। पर्वतीय रूट पर 10 जीप ही भेजी जा सकीं। कश्यप ने कहा कि अब पूर्व की तरह कम किराया लिया जा रहा है।

इसलिए पूरी सीटें भरे बिना जाना घाटे का सौदा है। बुधवार को जीप के लिए एक घंटे तक सवारियों का इंतजार करना पड़ा। पाबौ, पैठाणी जैसे कई ऐसे पर्वतीय रूटों पर यात्री ही नहीं मिल रहे हैं।


 

adsatinder

explorer
Dehradun › Unlock 5.0 Guidelines In Uttarakhand News: Rules Of Social Distancing In Public Vehicles Ends, New SOP Issued

Unlock 5.0 Guidelines: सार्वजनिक वाहनों में सोशल डिस्टेंसिंग का कानून खत्म, नई एसओपी जारी


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Tue, 29 Sep 2020 11:09 AM IST




1601497081933.png


उत्तराखंड में अनलॉक 5.0 दिशानिर्देश : सार्वजनिक वाहन अब पूरी यात्री क्षमता के साथ संचालित किए जा सकेंगे - फोटो : अमर उजाला (File Photo)



राजधानी देहरादून की सड़कों पर फर्राटा भर रही सिटी बसों के अलावा ऑटो, विक्रम, ई रिक्शा तक समेत तमाम सार्वजनिक वाहन अब पूरी यात्री क्षमता के साथ संचालित किए जा सकेंगे।

Corona In Uttarakhand: 36 हजार से ज्यादा संक्रमित मरीज हुए ठीक, 77 प्रतिशत हुई रिकवरी दर
सरकार, शासन की ओर से जारी की गई नई एसओपी के तहत सिटी बस, ऑटो, विक्रम समेत तमाम सार्वजनिक वाहनों में सोशल डिस्टेंसिंग के कानूनों को तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया गया है। शासन की ओर से नई एसओपी जारी होने के साथ ही सिटी बस, ऑटो, विक्रम संचालकों ने राहत की सांस ली है।
बता दें, कोरोना संकट के चलते फिलहाल राजधानी की सड़कों पर सिटी बस, ऑटो, विक्रम का संचालन सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कराया जाए किया जा रहा था। सोशल डिस्टेंसिंग का कानून लागू होने की वजह से सिटी बस, ऑटो, विक्रम समेत तमाम संचालकों को दिक्कतें आ रही थीं।
अब किराए की पूर्व दरें लागू
आखिरकार सरकार ने सोशल डिस्टेंसिंग के प्रावधानों को समाप्त करते हुए सार्वजनिक वाहनों को पूरी यात्री क्षमता के साथ संचालित करने की अनुमति दी है।

मुख्य सचिव ओमप्रकाश की ओर से जारी एसओपी में साफ शब्दों में कहा गया है कि सोशल डिस्टेंसिंग समाप्त होने के बाद सिटी बस ऑटो विक्रम संचालक राज्य परिवहन प्राधिकरण की ओर से तय किए गए किराए के मुताबिक ही किराया वसूलेंगे ऐसे में अब किराए की पूर्व दरें लागू होंगी।

सिटी बस ऑटो विक्रम के साथ ही टैक्सी मैक्सी में भी सोशल डिस्टेंसिंग के प्रावधान समाप्त शासन की ओर के शासन की ओर से जारी की गई नई एसओपी के मुताबिक सिटी बस, ऑटो, विक्रम के साथ ही टैक्सी, मैक्सी और ई रिक्शा में भी सोशल डिस्टेंसिंग के प्रावधानों को समाप्त कर दिया गया है अब इन गाड़ियों का संचालन पूरी यात्री क्षमता के साथ किया जाएगा।
सिटी बसों में किराया
परेड मैदान से रानीपोखरी-40 रुपये
परेड मैदान से रिस्पना पुल-15 रुपये
राजपुर से रेलवे स्टेशन-20 रुपये
राजपुर से आईएसबीटी-25 रुपये
एस्लेहाल से आईएसबीटी-15 रुपये
आरटीओ से आईएसबीटी-20 रुपये
रेलवे स्टेशन से आईएसबीटी-10 रुपये
परेड ग्राउंड से रिस्पना पुल, मोहकमपुर, जोगीवाला-15 रुपये
परेड ग्राउंड से मियांवाला, हर्रावाला-20 रुपये
परेड ग्राउंड से डोईवाला-30 रुपये
परेड ग्राउंड से जौलीग्रांट, भानियावाला, भानियावाला-35 रुपये
परेड ग्राउंड से रानीपोखरी-40 रुपये
आराघर से जौलीग्रांट-35 रुपये
प्रेमनगर से भी व्योमप्रस्थ, कमला पैलेस, आईएसबीटी, शिमला बाईपास-20 रुपये
प्रेमनगर से राधास्वामी, कारगी चौक, मोथरोवाला-25 रुपये
प्रेमनगर से रिस्पना पुल, जोगीवाला, नेहरूग्राम-30 रुपये
प्रेमनगर से लालपुर-35 रुपये
बल्लूपुर चौक से कारगी चौक, रिस्पना पुल-20 रुपये
आईएसबीटी से रिस्पना पुल- 15 रुपये
आईएसबीटी से नेहरूग्राम -20 रुपये
सीमाद्वार से बल्लीवाला, गांधीग्राम, सहारनपुर चौक- 10 रुपये
सीमाद्वार से रेलवे स्टेशन, अग्रसेन चौक, तहसील, सर्वे चौक -15 रुपये
बल्लीवाला से सर्वेचौक, कनक चौक, दर्शन लाल चौक- 10 रुपये
रेलवे स्टेशन से कनकचौक दर्शनलाल चौक -10 रुपये
बल्लीवाला से नाला पाली -15 रुपये


 

adsatinder

explorer
Unlock 5.0: अंतरराज्यीय मार्गों पर शुरू होंगी यात्री सेवाएं, एसओपी जारी; जानें- क्या हैं शर्तें और नियम



उत्तराखंड से दूसरे राज्यों के लिए वाहनों के संचालन को मंजूरी।


Publish Date: Mon, 28 Sep 2020 11:03 PM (IST)Author: Raksha Panthari


Unlock 5.0 सरकार ने अंतरराज्यीय मार्गों पर बसों और अन्य यात्री वाहनों के संचालन को अनुमति प्रदान कर दी है। सरकार ने यह भी साफ किया है कि बसों में निर्धारित क्षमता के अनुसार ही यात्री बिठाए जाएंगे। खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी


देहरादून, राज्य ब्यूरो। Unlock 5.0
प्रदेश सरकार ने अंतरराज्यीय मार्गों पर बसों और अन्य यात्री वाहनों के संचालन को अनुमति प्रदान कर दी है। सरकार ने यह भी साफ किया है कि बसों में निर्धारित क्षमता के अनुसार ही यात्री बिठाए जाएंगे। खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी। यात्रियों से राज्य परिवहन प्राधिकरण द्वारा पूर्व में ही तय किराया लिया जाएगा। इसके साथ ही सरकार ने बसों में पचास फीसद यात्री बिठाने और किराया दोगुना करने के आदेश को तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया है। वहीं, परिवहन निगम ने एसओपी जारी होने के बाद बुधवार 30 सितंबर से बसों के संचालन का निर्णय लिया है।
प्रदेश सरकार ने कोरोना संक्रमण के चलते अभी तक दूसरे राज्यों के लिए संचालित होने वाली परिवहन सेवाओं पर रोक लगाई हुई थी। इससे दूसरे राज्य से यात्रियों को आने और जाने में खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। अब सरकार ने अंतरराज्यीय संचालन को अनुमति देने के साथ ही इनके किराये के संबंध में मानक प्रचालन कार्यविधि (एसओपी) जारी कर दी है। मुख्य सचिव ओमप्रकाश द्वारा जारी इस एसओपी में कहा गया है कि सार्वजनिक सेवायान (निजी और सरकारी बसें) को अंतरराज्यीय मार्गों पर भी संचालन की अनुमति दे दी गई है।

उत्तराखंड परिवहन निगम अन्य राज्यों के निगमों के साथ समन्वय स्थापित करते हुए पहले चरण में अधिकतम सौ-सौ फेरे प्रतिदिन बस संचालित करेगा। अंतरराज्यीय और अंतरजनपदीय मार्गों पर बस टैक्सी कैब, थ्री व्हीलर, ऑटो-विक्रम, ई-रिक्शा निर्धारित क्षमता के अनुसार ही सवारी बिठाएंगे। वाहन स्वामियों और वाहन चालकों को यात्रा शुरू करने से पहले और यात्रा समाप्त होने के बाद वाहनों को पूरी तरह सैनिटाइज करना होगा।

वाहनों में चालक-परिचालक और यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरी तरह पालन करना होगा। सभी यात्रियों की यात्रा शुरू करने से पहले थर्मल स्कैनिंग की जाएगी। यात्रा करते समय पान, तंबाकू, गुटका और शराब आदि का सेवन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। वाहन में थूकना दंडनीय अपराध होगा। एसओपी में अपेक्षा की गई है कि सभी वाहन चालक, परिचालक और यात्री सफर से पहले देहरादून स्मार्ट सिटी पर पंजीकरण करने के बाद ही यात्रा करेंगे। यदि कोई यात्री बिना पंजीकरण कराए राज्य में प्रवेश करता है तो फिर उसका अनिवार्य रूप से पंजीकरण कराया जाएगा। इसकी व्यवस्था जिलाधिकारी तय करेंगे।


Unlock 5.0: अंतरराज्यीय मार्गों पर शुरू होंगी यात्री सेवाएं, एसओपी जारी; जानें- क्या हैं शर्तें और नियम
 
Top