Road conditions - Uttarakhand

adsatinder

explorer
Yamunotri Yatra 2020: यमुनोत्री धाम के पैदल मार्ग पर भारी भूस्खलन। Yamunotri Dham Heavy Landslide
37 views
•Oct 6, 2020



1
0



Amar Ujala Uttarakhand

240 subscribers


#uttrakhand #landslide #YamunotriDham #बड़कोटउत्तरकाशी #

मंगलवार की सुबह Uttarakashi के Barkot में Yamunotri Dham के मार्ग पर भूस्खलन हो गया। Bhidialigaad में भूस्खलन होने के कारण यात्रियों को आगे जाने से रोक दिया गया। दोपहर तक SDRF और Police के जवानों द्वारा 80 यात्रियों को सुरक्षित निकाल लिया गया।
 

adsatinder

explorer
Unlock 5.0: Rishikesh में Rafting के बाद अब शुरू हुआ bungee jumping का रोमांच
42 views
•Oct 1, 2020


3
0



Amar Ujala Uttarakhand

240 subscribers

#Rishikesh #BungeeJumpingInRishikesh #TouristCrowdInRishikeshs #Covid19 #UttarakhandTourist

Unlock-5 में साहसिक खेलों के शौकीनों के लिए अच्छी खबर है। तीर्थनगरी Rishikesh में Rafting के बाद अब Bungee Jumping का लुत्फ़ भी उठाया जा सकता है। यमकेश्वर के मोहन चट्टी में बंजी जंपिंग शुरू हो चुकी है। गुरुवार को सात महीने बाद शुरू हुई बंजी जंपिंग को लेकर सैलानी काफी उत्साहित दिखे। पहले दिन ही बंजी जंपिंग के लिए कई सैलानी यहां पहुंचे।
 

adsatinder

explorer
Roorkee Toll Plaza को लेकर लोगों ने किया विरोध, MLA Mamta Rakesh ने विरोध प्रदर्शन में किया समर्थन
87 views
•Sep 29, 2020



1
0



Amar Ujala Uttarakhand

240 subscribers

#TollPlaza #RoorkeeNews #Protest #MLAMamtaRakesh #Bhagwanpur
Bhagwanpur के निकट Toll Plaza पर Tax वसूली का विरोध करते हुए मंगलवार को भी विरोध प्रदर्शन किया। लोग धरना देकर बैठ गए। विधायक Mamta Rakesh ने भी मौके पर पहुंच कर लोगों के विरोध प्रदर्शन को समर्थन दिया था।
 

adsatinder

explorer
PHOTOS: देहरादून-दिल्ली हाईवे पर टोल टैक्स के विरोध में साथ आए कांग्रेस-बीजेपी... बंद कराई वसूली

कांग्रेस विधायक ममता राकेश ने कहा बिना अनुमति के शुरू किया गया टोल टैक्स की प्रकिया

Manoj Juyal | News18 Uttarakhand | September 25, 2020, 7:58 PM IST

1/ 5

1602187047441.png





रुड़की. देश भर में आज कांग्रेस और अन्य विरोध दलों के नेतृत्व में संसद से पारित कृषि विधेयकों का विरोध किया. रुड़की में भाकियू ने कई सड़कों को जाम कर दिया. इससे इतर रुड़की में आज एक और प्रदर्शन हुआ. दिल्ली-देहरादून हाईवे पर भगवानपुर करौंदी के पास बने टोल प्लाजा पर आज से वाहन चालकों से टोल टैक्स लेना शुरु किया गया था कांग्रेस ने इसके विरोध में धरना दिया. ख़ास बात यह रही कि भाजपा के नेता भी इस विरोध प्रदर्शन में शरीक रहे.

2/ 5

1602187080611.png


दिल्ली-देहरादून हाईवे का निर्माण लगभग पूरा हो गया. इसके खुलने के बाद दिल्ली से देहरादून अब चार-साढ़े चार घंटे में पहुंच जाएंगे. लेकिन टोल टैक्स लेना अभी से शुरू किए जाने से स्थानीय लोगों में भारी नाराज़गी है.


3/ 5

1602187109585.png




शुक्रवार को भगवानपुर विधायक ममता राकेश, बीजेपी नेता सुबोध राकेश अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ टोल प्लाज़ा पर पहुंचे और धरने पर बैठ गए. उन्होंने कहा कि अभी तक फोर लेन का काम पूरा भी नही हुआ है और सड़कों में गड्ढ़ों को नहीं भरा गया है. साथ ही कई किसानों को मुआवजा तक नहीं दिया गया है.

4/ 5

1602187143674.png


विधायक ममता राकेश ने कहा कि अधिकारियों की मनमानी नहीं करनी दी जाएगी और जनता के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों से 20 किलोमीटर के दायरे में कोई टोल टैक्स नहीं लिया जाना चाहिए.

5/ 5

1602187291673.png


बीजेपी नेता सुबोध राकेश ने कहा कि स्थानीय लोगों के अभद्रता भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी. उन्हें आईडी के आधार पर प्रवेश दिया जाना चाहिए. मौके पर पहुंचीं जॉएंट मैजिस्ट्रेट नमामि बंसल ने कहा कि टोल प्लाजा के अधिकारियों से बातचीत की जाएगी और उसके बाद ही टोल टैक्स लेने प्रकिया शुरू की जाएगी.

First published: September 25, 2020, 7:58 PM IST



PHOTOS: देहरादून-दिल्ली हाईवे पर टोल टैक्स के विरोध में कांग्रेस-बीजेपी साथ
 

adsatinder

explorer
Char Dham Yatra is open for all pilgrims from 25th July 2020.
  1. Prior registration is mandatory for Pilgrims to Visit the shrines. After successful registration, Pilgrims can download Yatra e-Pass, which has to be produced to the Authorities enroute and for entry to temples.
  2. Click here to Register online for Yatra and download e-Pass.
  3. Pilgrims can book online for Puja/path/aarti/bhog on chosen dates, which will be performed on behalf of the pilgrim by Priest/vedpathi, as per temple rituals. Click here for online booking of Puja without physical presence of Pilgrim.


Register at : Uttarakhand Char Dham Devasthanam Management Board
 

adsatinder

explorer
You can reach Kedarnath in 8 hours from Haridwar easily but route is in hilly area and road construction is going on.
You may have to go slow and take 2-3 breaks to enjoy viewa at places.
This will give enough time to cool your vehicle also.

If you leave early morning from Delhi then only you can easily reach Haridwar in 4-5 hours.
Avoid Rush hours in cities till Roorkee.
1602267334170.png


https://badrinath-kedarnath.gov.in/image/kedarRoute.png
 

adsatinder

explorer
Chardham Yatra 2020: Heli Service For Kedarnath Starts From Today
Chardham Yatra 2020 : केदारनाथ के लिए आज से हेली सेवा शुरू, अब तक 12 सौ से अधिक यात्रियों ने की बुकिंग

न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Fri, 09 Oct 2020 05:06 PM IST

कोविड महामारी के कारण केदारनाथ धाम के लिए पिछले छह माह से बंद पड़ी हेली सेवा शुक्रवार से शुरू हो गई है। आज सुबह छह बजे से केदारनाथ के लिए आठ हेली कंपनियों ने अपनी हेलीकॉप्टर सेवा शुरू कर दी है। डीजीसीए ने हेलीपैडों पर सुरक्षा मानकों का निरीक्षण करने के बाद हेली सेवा संचालन की अनुमति दे दी है।

केदारनाथ के लिए गुप्त काशी, सिरसी, फाटा से हेली सेवा का संचालन किया जाएगा। नौ एविएशन कंपनी के माध्यम से हेली सेवा शुरू की जाएगी।
डीजीसीए ने छह अक्तूबर से हेलीपैडों का निरीक्षण का सुरक्षा मानकों व यात्री सुविधाओं का जायजा लिया था। हेलीपैडों पर हेली सेवा संचालन के लिए सभी इंतजाम पूरे होने के बाद डीजीसीए ने अनुमति दी थी।
अब तक 12 सौ से अधिक यात्रियों ने टिकटों की बुकिंग की
गुप्त काशी हेलीपैड से प्रति यात्री 7750 रुपये, फाटा से 4720 रुपये और सिरसी से 4680 रुपये (किराया आने व जाने) है। उत्तराखंड सिविल एविएशन अथॉरिटी (यूकाडा) ने यात्रियों की सुविधा के लिए पहले ही ऑनलाइन टिकटों की बुकिंग शुरू कर दी है। अब तक 12 सौ से अधिक यात्रियों ने टिकटों की बुकिंग की है।

सचिव नागरिक उड्डयन दिलीप जावलकर ने बताया कि कोविड संक्रमण से बचाव के लिए यूकाडा के माध्यम से हेली सेवा संचालन के लिए पहले ही एसओपी जारी कर दी गई है। केंद्र व प्रदेश सरकार की ओर से जारी दिशा निर्देशों का पालन कर हेली कंपनियों को यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।

Chardham Yatra 2020 : केदारनाथ के लिए आज से हेली सेवा शुरू, अब तक 12 सौ से अधिक यात्रियों ने की बुकिंग
 

adsatinder

explorer
Chardham Yatra 2020 News : Now Devotee Can See Baba Kedar From Sabha Mandap
Chardham Yatra 2020: केदारनाथ धाम में भक्त अब सभा मंडप से कर पाएंगे बाबा के दर्शन
न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, रुद्रप्रयाग Updated Wed, 07 Oct 2020 01:28 PM IST



1602269309972.png

- फोटो : amar ujala


केदारनाथ धाम में अब श्रद्धालु मंदिर के सभा मंडप से बाबा केदार के दर्शन कर सकेंगे। श्रद्धालुओं को मंदिर के उत्तर द्वार से प्रवेश कराते हुए दक्षिण द्वार से बाहर भेजा जा रहा है। देवस्थानम बोर्ड से अनुमति मिलने के बाद प्रशासन ने यह व्यवस्था शुरू की है। साथ ही यात्रियों से मंदिर परिसर में सामाजिक दूरी का पालन करने व मास्क पहनने की अपील की जा रही है।

यात्रा व्यवस्था और पुनर्निर्माण कार्यों के स्थलीय निरीक्षण के लिए बुधवार को डीएम वंदना सिंह केदारनाथ पहुंची। इस दौरान उन्होंने तीर्थ पुरोहितों से भी काफी देर तक वार्ता की। पूर्वाह्न 11 बजे बोर्ड द्वारा केदारनाथ में श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के सभामंडप से दर्शन करने की अनुमति दी गई। इसके बाद जिलाधिकारी की मौजूदगी में पुलिस द्वारा उचित व्यवस्था के साथ सभामंडप से दर्शन की व्यवस्था शुरू कर दी गई।
चौकी प्रभारी मृदुल रावत की नेतृत्व में पुलिस द्वारा मंदिर परिसर से एक-एक श्रद्धालु को परिसर स्थित नंदी भगवान की मूर्ति के समीप उत्तर द्वार से सभामंडप में भेजा जा रहा है। जहां पर श्रद्धालु बाबा के स्यंभूलिंग के दर्शन कर दक्षिण द्वार से बाहर आ रहे हैं। साथ ही मंदिर परिसर में यात्रियों की भीड़ जमा न हो, इसके लिए सोशल डेस्टिसिंग के तहत एक-एक मीटर की दूरी पर गोले बनाए गए है।
पुलिस के नौ जवान और भेजे गए धाम
यात्रा बढ़ने के साथ ही पुलिस ने केदारनाथ में सुरक्षा व्यवस्था को और पुख्ता करने के लिए दो महिला कर्मियों समेत 9 जवान धाम भेजे गए हैं। चौकी प्रभारी मृदुल रावत के नेतृत्व में 13 सदस्यीय पुलिस दल कपाटोद्घाटन के दिन केदारनाथ में तैनात किया गया था।

इसके बाद चार सदस्यीए एक और टीम धाम भेजी गई थी। पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह भुल्लर ने बताया कि धाम में अब 22 सदस्यीय टीम तैनात की गई है, जिसमें क्यूआरटी भी शामिल है। बताया कि लिनचोली और भीमबली में पुलिस दल तैनात किया गया है।

1619 श्रद्धालुओं ने किए बाबा केदार के दर्शन
बुधवार को केदारनाथ में 1619 श्रद्धालुओं ने दर्शन कर पुण्य अर्जित किया। देवस्थानम बोर्ड द्वारा धाम के लिए 1788 ई-पास जारी किए गए थे। बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा. हरीश चंद्र गौड ने बताया कि दर्शनार्थियों में 932 पुरुष, 673 महिलाएं व 14 बच्चे शामिल हैं।

देवस्थानम बोर्ड से अनुमति मिलने के बाद श्रद्धालुओं के लिए सभामंडप से बाबा के दर्शनों की व्यवस्था शुरू कर दी गई है। यात्रा के सफल संचालन के लिए केदारनाथ में सभी इंतजाम पूरे किए गए हैं।
- वंदना सिंह, जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग


Chardham Yatra 2020: केदारनाथ धाम में भक्त अब सभा मंडप से कर पाएंगे बाबा के दर्शन
 

adsatinder

explorer
Coronavirus In Uttarakhand Char Dham Yatra 2020 Latest News:
Mostly Pilgrims Not Wear Face Mask In Kedarnath Dham

Char Dham Yatra: केदारनाथ में बढ़ा संक्रमण का खतरा, बिना मास्क के पहुंच रहे ज्यादातर यात्री, सोशल डिस्टेंसिंग भी नहीं


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, रुद्रप्रयाग, Updated Tue, 06 Oct 2020 07:30 PM IST


1602271563828.png


- फोटो : अमर उजाला

अनलॉक-5 में चारधाम यात्रा ने रफ्तार पकड़ी तो केदारनाथ धाम में तीर्थयात्रियों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। लेकिन दर्शन को पहुंच रहे अधिकांश तीर्थयात्री बिना मास्क के ही पहुंच रहे हैं और मंदिर समूह व अन्य स्थानों पर भी समूह में खड़े हो रहे हैं। वहीं, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं किया जा रहा है। ऐसे में धाम में कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।


1602271599234.png


सरकार की नई एसओपी जारी होने के बाद से चारधाम यात्रा में मिली छूट के बाद केदारनाथ में तीन दिनों में लगभग आठ हजार श्रद्धालु बाबा केदार के दर्शन कर चुके हैं। इस दौरान मंदिर परिसर, मंदिर मार्ग और जीएमवीएन में यात्रियों की भारी भीड़ रही, जिसमें अधिकांश बिना मास्क पहने हुए थे।




1602271625963.png


12 जून से यात्रा शुरू होने के बाद से केदारनाथ में यात्रियों में अधिकांश के बिना मास्क पहने आने की शिकायतें मिलती रही हैं, लेकिन व्यवस्था बनाने के लिए ठोस उपाय नहीं हो रहे हैं। इन हालातों में मंदिर कर्मचारियों और मुख्य पुजारी को भी खतरा बना हुआ है। यात्रा प्रभारी युद्धवीर सिंह पुष्पवाण ने बताया कि यात्रियों से बार-बार मास्क पहनने और सामाजिक दूरी का पालन करने की अपील की जा रही है, लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।



1602271656455.png


वहीं, अब केदारनाथ के मुख्य पुजारी शिव शंकर लिंग की प्रतिदिन पूजा के बाद स्वास्थ्य जांच होगी। साथ ही धाम पहुंच रहे श्रद्धालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। डीएम वंदना सिंह ने सीएमओ को यात्रा ड्यूटी पर तैनात कर्मियों की सैंपलिंग करने के आदेश भी दिए हैं। डीएम ने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए केदारनाथ व केदारघाटी में हेलीपैड पर प्रतिदिन जांच की जाएगी।


1602271697341.png


साथ ही डीडीआरएफ में तैनात कार्मिकों की मदद से स्वास्थ्य विभाग को यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग व ड्यूटी दे रहे कार्मिकों की सैंपलिंग करने को कहा गया है। सोनप्रयाग-गौरीकुंड शटल सेवा का मानक के अनुसार संचालन व प्रत्येक वाहन चालक की प्रत्येक माह सैंपलिंग के लिए एआरटीओ को निर्देश दिए हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि तीर्थयात्रियों के साथ ही सभी वाहन चालकों को भी मास्क अनिवार्य किया गया है। जो इसका पालन नहीं करेगा उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।



 

adsatinder

explorer
Chardham Yatra 2020 : Relief From 52 Blind Turns On Badrinath Highway

Chardham Yatra 2020 : बदरीनाथ हाईवे पर 52 अंधे मोड़ों से मिली मुक्ति, ऑलवेदर रोड से सुगम होने लगी आवाजाही


न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, गोपेश्वर Updated Wed, 30 Sep 2020 01:24 PM IST




1602272308030.png


ऑलवेदर रोड परियोजना कार्य से बदरीनाथ हाईवे पर आवाजाही सुगम होने लगी है। अधिकांश जगहों पर हिल कटिंग और डामरीकरण कार्य पूरा होने से करीब 52 अंधे मोड़ों से भी मुक्ति मिल गई है। गौचर से कालेश्वर, लंगासू, बैडाणू, देवलीबगड़ से सोनला, पर्थाडीप से बाजपुर, भीमतला से बिरही, कौड़िया से मायापुर तक डामरीकरण का कार्य पूरा होने से अब हाईवे की सूरत बदली-बदली नजर आ रही है।

गौचर से कंचनगंगा (133 किमी) तक कई जगहों पर हिल कटिंग कार्य पूरा कर लिया गया है। आगामी वर्ष चारधाम यात्रा के लिए हाईवे पूरी तरह से तैयार होने की उम्मीद है। बीते कई सालों से भूस्खलन और भारी बारिश से बदरीनाथ हाईवे की स्थिति बदहाल बनी थी। कई स्थानों पर चट्टानों से भूस्खलन होने के कारण खतरे के बीच वाहनों की आवाजाही हो रही थी।
कौड़िया, छिनका और मैठाणा में बरसात में हाईवे बार-बार बंद हो जाता था। अब इन स्थानों पर हिल कटिंग होने से हाईवे का चौड़ीकरण कार्य कर लिया गया है, जबकि बिरही में चट्टान कटिंग का कार्य अभी भी जारी है।
पाताल गंगा भूस्खलन क्षेत्र में करीब दो सौ मीटर तक टनल का निर्माण कार्य भी लगभग पूरा हो गया है। पागल नाला और लामबगड़ में ट्रीटमेंट कार्य चल रहा है। जोशीमठ के समीप हाथी पर्वत, टैय्या पुल और गोविंदघाट में चट्टानी भाग को काटकर हाईवे का चौड़ीकरण कार्य किया जा रहा है।

गौचर से हेलंग तक कार्य अंतिम चरण में

जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया का कहना है कि अगले साल तक हाईवे पूरी तरह से सुगम हो जाएगा। मारवाड़ी से कंचनगंगा तक हाईवे का चौड़ीकरण कार्य चल रहा है, जबकि गौचर से हेलंग तक लगभग कार्य अंतिम चरण में है।



Chardham Yatra 2020 : बदरीनाथ हाईवे पर 52 अंधे मोड़ों से मिली मुक्ति, ऑलवेदर रोड से सुगम होने लगी आवाजाही
 
Top