Road conditions - Uttarakhand

adsatinder

explorer
Still confused. Route open from Noida to Rudraprayag via Rishikesh?


Nitish Kumar
Google is not good in Hills specially UK.
Latest info is not at all on Google.

This thread has specific info about the route.

Go via Kotdwar only if leaving this week
Keep eye on news.
 
Last edited:

adsatinder

explorer
A BCMTIAN reached back to home.
His report.

Returned from 5 days trip to Shri Kedarnath dham( 15th Oct afternoon to 20th Oct morning)

Route taken was - Gurgaon- Delhi- Muradnagar- Upper Ganga Canal- Khatauli- Bijnor- Najibabad- Kotdwar- Gumkhal- Satpuli- Devprayag- Srinagar- Rudraprayag- Agastyamuni-Phata- Sonprayag

Road Conditions-
Gurgaon to Kotdwar- Very Good
Kotdwar to Satpuli- Average to Bad
Satpuli to Devprayag- Narrow but good roads
Devprayag to Srinagar - Good roads but broken in patches
Srinagar to Agastyamuni- Good but broken in patches( widening work going on so expect delays)
Agastyamuni to Sonprayag- Worse( No roads, everything a dirt track)

While return journey was through New Tehri and roads are superb from Srinagar till Rishikesh.
Rest Rishikesh to Haridwar- Broken roads in patches.

Total travel time- Onward journey- 12.5 hrs( with adequate breaks
Return journey - 14.5 hrs with 2 major breaks.



Q:
What time did you start from both ends?

A:
For onward journey started at 3 pm from Gurgaon and took a night halt at Gumkhal and next day started from Gumkhal around 9:30 am and reached Sonprayag around 5 pm.
For return leg started at 1 pm from Sonprayag and reached Gurgaon at 4:30 in the morning today.

Q:
any Covid Report requiment ?

A:
No report required and you can now enter the Mandir to have a cleared view of the ShivLing

Entry is just for a small part like 10 feet entrance and then exit from the right side of the the temple gate.


Q:
Earlier they made a bench platform to have Darshan of inside.
What happened to it ?

A:
They removed it since before October, no one was allowed inside the temple but now, one can enter and have darshan from 10feet inside.
 
Last edited:

adsatinder

explorer
Tourism News
.
Uttarakhand to develop villages along major routes as ‘trekking clusters’
The project will start from Chopta village near Tungnath shrine, the world’s highest temple dedicated to Lord Shiva.
Updated: Oct 19, 2020, 19:26 IST
By HT Correspondent, Hindustan Times Dehradun



In another move to boost tourism in the state, Uttarakhand tourism department has now decided to develop villages near important trekking routes and sites as ‘trekking clusters’.


The project will start from Chopta village near Tungnath shrine, the world’s highest temple dedicated to Lord Shiva.
Dilip Jawalkar, secretary for tourism, during an inspection of developmental works being carried out in and around Tungnath, said that Chopta will be developed as a camping destination and proposals will be taken from the district magistrate and divisional forest officer for this.
“Under Trekking Traction Home-stay Scheme, villages near important and popular trek routes will be developed by the tourism department as trekking clusters. This will give a lodging facility to the tourists and they will be able to enjoy the place by staying there itself,” said Jawalkar.

Under this scheme, financial assistance of Rs 60,000 per room will be given to locals for building new rooms in their houses for the purpose of home-stay and Rs 25,000 for constructing new toilets with the rooms. The financial assistance will be provided for a maximum of up to six rooms.
The state tourism department is currently selecting places to be developed for trek routes and clusters for the scheme through a committee constituted under the chairmanship of the district magistrate.
“Tungnath is the highest temple of Lord Shiva in the world. It is a very old temple and we have requested the Archaeological Survey of India to help get the temple renovated. We are working to ensure that the route to the temple is made more accessible so that more people can visit the shrine and increase employment opportunities for locals,” said Jawalkar.

To increase lodging facilities in the area, the secretary for tourism has also instructed district officials to renovate the old bungalow of Garhwal Mandal Vikas Nigam after permission is obtained from the state forest department.

Tungnath shrine is considered to be the world’s highest temple for Lord Shiva located at a height of 12,070 feet above sea level. The temple is not only popular with devotees but also a tourist attraction as it is surrounded by lush green alpine meadows.

Tungnath, 3 km uphill from Chopta, the last motorable road, is a beautiful tourist destination and very popular among tourists.
On a steep climb of about 2 km from Tungnath temple lies Chandrashila, a famous tourist attraction that commands a breath-taking view of snow-clad peaks of Nanda Devi, Chaukhamba, Panchachuli, Bandarpoonch, Kedarnath and Neelkanth.


 
Last edited:

Nitish Kumar

Well-Known Member
A BCMTIAN reached back to home.
His report.

Returned from 5 days trip to Shri Kedarnath dham( 15th Oct afternoon to 20th Oct morning)
*Route* taken was - Gurgaon- Delhi- Muradnagar- Upper Ganga Canal- Khatauli- Bijnor- Najibabad- Kotdwar- Gumkhal- Satpuli- Devprayag- Srinagar- Rudraprayag- Agastyamuni-Phata- Sonprayag
*Road Conditions*-
Gurgaon to Kotdwar- Very Good
Kotdwar to Satpuli- Average to Bad
Satpuli to Devprayag- Narrow but good roads
Devprayag to Srinagar - Good roads but broken in patches
Srinagar to Agastyamuni- Good but broken in patches( widening work going on so expect delays)
Agastyamuni to Sonprayag- Worse( No roads, everything a dirt track)
While *return* journey was through New Tehri and roads are superb from Srinagar till Rishikesh.
Rest Rishikesh to Haridwar- Broken roads in patches.

*Total travel time*- Onward journey- 12.5 hrs( with adequate breaks
Return journey - 14.5 hrs with 2 major breaks.



Q:
What time did you start from both ends?

A:
For onward journey started at 3 pm from Gurgaon and took a night halt at Gumkhal and next day started from Gumkhal around 9:30 am and reached Sonprayag around 5 pm.
For return leg started at 1 pm from Sonprayag and reached Gurgaon at 4:30 in the morning today.

Q:
any Covid Report requiment ?

A:
No report required and you can now enter the Mandir to have a cleared view of the ShivLing

Entry is just for a small part like 10 feet entrance and then exit from the right side of the the temple gate.


Q:
Earlier they made a bench platform to have Darshan of inside.
What happened to it ?

A:
They removed it since before October, no one was allowed inside the temple but now, one can enter and have darshan from 10feet inside.
helpful

Nitish Kumar
 

adsatinder

explorer
Tota Ghati - Boulder clearing Job is going on.

तोताघाटी में बोल्डर को हटाने का काम जारी



Publish Date:Wed, 21 Oct 2020 06:48 PM (IST)Author: Jagran
जागरण संवाददाता ऋषिकेश ऋषिकेश-बदरीनाथ मार्ग पर तोताघाटी में रोड कटिग के चलते ढीली हुई चट्टानों को हटाने और ड्रेसिग का काम जारी है। फिलहाल अभी प्रशासन ने यहां वाहनों के संचालन को अधिकारिक अनुमति प्रदान नहीं की है। मगर रात को यहां वाहनों की आवाजाही को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया गया है।


जागरण संवाददाता, ऋषिकेश :
ऋषिकेश-बदरीनाथ मार्ग पर तोताघाटी में रोड कटिग के चलते ढीली हुई चट्टानों को हटाने और ड्रेसिग का काम जारी है। फिलहाल अभी प्रशासन ने यहां वाहनों के संचालन को अधिकारिक अनुमति प्रदान नहीं की है। मगर, रात को यहां वाहनों की आवाजाही को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया गया है।
करीब तीन माह से पूरी तरह से बंद तोताघाटी पर कार्यदायी संस्था ने रोड कटिग का काम पूरा कर लिया है। जिसके बाद 19 अक्तूबर को उप जिलाधिकारी आकांक्षा वर्मा के नेतृत्व में जियोलॉजिस्ट, लोनिवि, खनन विभाग, पुलिस और परिवहन विभाग के अधिकारियों ने तोता घाटी का संयुक्त निरीक्षण किया था। निरीक्षण के बाद निर्माण एजेंसी के अधिकारियों को तोता घाटी की पहाड़ी की ओर ब्लास्टिग से ढीली हुई चट्टानों (लूज बोल्डर) को वाहनों के लिए खतरा मानते हुए इन्हें हटाने के निर्देश दिये थे। हालांकि, कटिग का काम पूरा होने के बाद यहां वाहनों की आवाजाही भी शुरू हो गयी है। मगर, अभी अधिकारिक रूप से यहां ट्रैफिक को नहीं खोला जा सका है। हालांकि प्रशासन ने रात्रि नौ बजे से प्रात: चार बजे तक यहां वाहनों की आवाजाही को पूर्ण रूप से प्रतिबंधित किया है।

तोताघाटी को जल्द यातायात के लिए खोलने को लेकर कार्यदायी संस्था पर खासा दबाव है। जिसके बाद पिछले तीन दिनों से लगातार दिन-रात यहां लूज बोल्डर को हटाने का काम जारी है। उप जिलाधिकारी आकांक्षा वर्मा ने बताया कि लूज बोल्डर को हटाने का काम जारी है। प्रयास है कि जल्द ही से जल्द हाइवे को वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया जाए।


तोताघाटी में बोल्डर को हटाने का काम जारी
 

adsatinder

explorer
Decision on Traffic Operation in Totaghati

तोताघाटी में यातायात खोलने पर फैसला आज


Publish Date:Thu, 22 Oct 2020 09:15 PM (IST)Author: Jagran

जागरण संवाददाता ऋषिकेश ऋषिकेश-बदरीनाथ राजमार्ग पर तोताघाटी क्षेत्र में हाईवे को यातायात के लिए सुचारु करने का काम अब लगभग अंतिम दौर में है। सब कुछ ठीक रहा तो शुक्रवार को यहां वाहनों की आवाजाही के लिए अधिकारिक स्वीकृति मिल जाएगी।

जागरण संवाददाता,
ऋषिकेश :
ऋषिकेश-बदरीनाथ राजमार्ग पर तोताघाटी क्षेत्र में हाईवे को यातायात के लिए सुचारु करने का काम अब लगभग अंतिम दौर में है। सब कुछ ठीक रहा तो शुक्रवार को यहां वाहनों की आवाजाही के लिए अधिकारिक स्वीकृति मिल जाएगी।
तोताघाटी में ऑलवेदर रोड के तहत सड़क की कटिग व निर्माण का काम पिछले कई महीनों से चल रहा है। यहां भारी-भरकम चट्टानों को काटने के लिए आधुनिक मशीनों के साथ ब्लास्टिग भी की गई। करीब तीन माह तक यहां रोड कटिग के चलते हाईवे बंद रहा। अब रोड कटिग का काम तो पूरा हो गया है, मगर यहां अभी तक अधिकारिक रूप से वाहनों की आवाजाही को अनुमति नहीं मिल पाई है। पांच दिन पूर्व प्रशासन व विशेषज्ञों की संयुक्त टीम ने यहां पहाड़ी की ओर ढीली हो चुकी चट्टानों


(लूज बोल्डर) को वाहनों के लिए खतरा मानते हुए कार्यदायी संस्था को इन लूज बोल्डर को हटाने के निर्देश दिये थे। पिछले चार दिनों से लूज बोल्डर को हटाने का काम जारी है, जो शुक्रवार को काफी हद तक पूरा भी हो गया। हालांकि, अभी यहां ड्रेसिग, लेबलिग और पुस्ते निर्माण के काम आगे भी जारी रहेंगे। मगर, फिलहाल यहां यातायात खोलने को लेकर भी बड़ा दबाव प्रशासन व कार्यदायी संस्था पर बना हुआ है। उप जिलाधिकारी आकांक्षा वर्मा ने बताया कि निर्माण एजेंसी ने आज शाम तक सभी लूज बोल्डर को हटाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि यदि लूज बोल्डर को हटाने का काम गुरुवार को पूरा हो जाता है तो शुक्रवार को यहां हाईवे को यातायात के लिए खोल दिया जाएगा।


तोताघाटी में यातायात खोलने पर फैसला आज
 

adsatinder

explorer
Kaudiyala to Devprayag only may to open that too from 5am to 7pm only.
Final decision will be taken on Friday, 23 October 2020.

Weather Forecast Today Update In Uttarakhand News: Weather Is Clear But Cold Increasing

Weather Today: बदला मौसम, चारों धाम समेत हेमकुंड साहिब में हुई सीजन की पहली बर्फबारी

न्यूज़ डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Thu, 22 Oct 2020 06:52 PM IST


1603398680941.png


- फोटो : amar ujala


उत्तराखंड में गुरुवार को दोपहर बाद अचानक मौसम ने करवट बदली। मौसम में बदलाव के साथ ही बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री समेत हेमकुंड साहिब में सीजन की पहली बर्फबारी हुई।
केदारनाथ में सुबह 11 बजे से दोपहर बाद 2 बजे तक रूक-रूककर तेज बर्फबारी होती रही। बर्फबारी के कारण धाम में ठंड बढ़ गई है। केदारनाथ में आदिगुरू शंकराचार्य समाधि स्थल का पुनर्निर्माण कार्य कर रही वुड स्टोन कंस्ट्रक्शन कंपनी के टीम प्रभारी कैप्टन सोबन सिंह बिष्ट ने बताया कि केदारपुरी के चारों तरफ ऊंची पहाड़ियों पर हल्की बर्फ जमी हुई है, जिससे शीतलहर का प्रकोप तेज होने से ठंड बढ़ गई है।
उन्होंने बताया कि केदारनाथ में अधिकतम तापमान आठ और न्यूनतम माइनस 2 डिग्री दर्ज किया गया। द्वितीय केदार मद्महेश्वर व तृतीय केदार तुंगनाथ धाम के ऊपरी क्षेत्रों में भी सीजन का पहला हिमपात हुआ है। खराब मौसम के कारण पड़ावों पर भी ठंड बढ़ गई है। जिलाधिकारी वंदना सिंह ने सेक्टर मजिस्ट्रेट समेत पुलिस को यात्रियों की सुरक्षा व ठंड से बचाव के लिए उचित व्यवस्था बनाने के आदेश दिए हैं।
बदरीनाथ, हेमकुंड साहिब में में भी बर्फबारी से बढ़ी ठंड
बदरीनाथ धाम और हेमकुंड साहिब में भी बृहस्पतिवार को सीजन की पहली बर्फबारी हुई। जिससे मौसम में ठंडक आ गई है। जोशीमठ में भी करीब आधा घंटे तक बारिश हुई। दोपहर बाद से बदरीनाथ धाम में मौसम खराब है, जिससे धाम के साथ ही निचले क्षेत्रों में मौसम में ठंडक आ गई है।

बदरीनाथ धाम में सुबह चटख धूप खिली थी, लेकिन दोपहर बाद तेज हवाओं के साथ मौसम ने करवट बदली और करीब दस मिनट तक धाम में आंशिक बर्फबारी हुई। बदरीनाथ में मौसम खराब होने से गोपेश्वर, पीपलकोटी, नंदप्रयाग क्षेत्रों में भी शाम को ठंडी हवाएं चलीं और मौसम में ठंडक आ गई है। वहीं, हेमकुंड साहिब में सुबह से ही बादल छाए हुए थे। दोपहर बाद हेमकुंड साहिब में भी सीजन की पहली बर्फबारी हुई। जिससे गोविंदघाट क्षेत्र में ठंड बढ़ गई है।

यमुना घाटी में भी बर्फबारी से ठंड का आगाज
यमुनोत्री और गंगोत्री धाम से लगी चोटियों पर भी हल्की बर्फबारी से तापमान में गिरावट आ गई है। यात्रा पर पहुंचे तीर्थयात्रियों को यहां कड़ाके की ठंड का सामना करना पड़ रहा है। शाम के समय उत्तरकाशी जिले के कुछ हिस्सों में हल्की बूंदाबांदी हुई, जबकि यमुनोत्री एवं गंगोत्री धाम से लगी चोटियों पर हल्की बर्फबारी होने से तापमान में गिरावट आ गई है।

घाटी वाले क्षेत्रों में अधिकतम तापमान 19 डिग्री तथा न्यूनतम 11 डिग्री दर्ज किया गया। जबकि यमुनोत्री एवं गंगोत्री धाम समेत ऊंचाई वाले इलाकों में अधिकतम तापमान 11 डिग्री और न्यूनतम 3 डिग्री रहा।

भूवैज्ञानिकों के सुझाव पर हटाए गए लूज बोल्डर
ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे पर तोताघाटी में भूवैज्ञानिकों ने जिन लूज बोल्डरों को हटाने का सुझाव दिया था। उन्हें हटा दिया गया है, जिसकी रिपोर्ट एसडीएम कीर्तिनगर को भेजी जा रही है। हालांकि वाहनों के संचालन के लिए शुक्रवार को हाईवे की स्थिति देखने के बाद ही निर्णय लिया जाएगा।

छह माह से अवरुद्ध चल रहे तोताघाटी को लोनिवि ने 16 अक्तूबर की शाम खोल दिया था, लेकिन यहां खतरा देख प्रशासन को दोबारा हाईवे बंद करना पड़ा। आल वेदर रोड परियोजना के टीम लीडर जेके तिवारी ने बताया कि बृहस्पतिवार को तोताघाटी में खतरा बनी चट्टानों को हटाने का काम लगभग पूरा किया जा चुका है। इस संबंध में एसडीएम कीर्तिनगर को रिपोर्ट भेजी जा रही है।

इधर, एसडीएम आकांक्षा वर्मा ने बताया कि चार शर्तों पर ही कौड़ियाला से देवप्रयाग के बीच यातायात बहाल करने की अनुमति दी जाएगी। लोनिवि को हाईवे से मलबा और पत्थर हटाने होंगे। जहां सड़क की चौड़ाई से 3 से 4 मीटर है, वहां कम से कम चौड़ाई 6 मीटर करनी होगी। शुक्रवार को हाईवे की स्थिति देखने के बाद फिलहाल छोटे वाहनों के संचालन की अनुमति दी जाएगी, वो भी सुबह 5 बजे से रात की सात बजे तक ही।



Weather Today: बदला मौसम, चारों धाम समेत हेमकुंड साहिब में हुई सीजन की पहली बर्फबारी
 

adsatinder

explorer
Uttarakhand Roadways Employees Union - Statewide Phased Agitation Starting


Buses may not be available in Uttarakhand from 27 October 2020.

उत्तराखंड रोडवेज इंप्लाइज यूनियन का प्रदेशव्यापी चरणबद्ध आंदोलन शुरू, 27 से क्रमित अनशन

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Thu, 22 Oct 2020 11:00 PM IST



उत्तराखंड रोडवेज इंप्लाइज यूनियन ने भी बृहस्पतिवार से वेतन भुगतान व अन्य मांगों को लेकर देहरादून समेत प्रदेशभर के डिपो में चरणबद्ध आंदोलन शुरू किया है। प्रबंधन पर कर्मचारियों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी की। पहले चरण में दो दिवसीय धरना व 27 अक्तूबर से मंडलीय कार्यालयों पर क्रमिक अनशन शुरू होगा।
देहरादून आईएसबीटी व रोडवेज वर्कशॉप पर दिए धरने में यूनियन के प्रदेश महामंत्री रविनंदन कुमार ने कहा कि रोडवेज कर्मचारी को चार महीने से वेतन नहीं मिला है। संविदाकर्मियों को अनुबंध पर हस्ताक्षर किए बिना कार्य पर नहीं लिया जा रहा है।
अनुबंध से कर्मियों को अपने भविष्य पर खतरा महसूस हो रहा है। इसके अलावा पदोन्नति, टू-टायर व्यवस्था लागू करने समेत अन्य मांगें हैं। प्रबंधन कर्मचारियों की मांगों की अनदेखी करता आ रहा है। बुधवार को प्रबंधन ने वार्ता की, लेकिन पहले बिंदु पर ही सहमति न बनने के कारण वार्ता विफल हो गई। पहले चरण में प्रदेशभर के डिपो पर दो दिवसीय धरना दिया जाएगा। इसके बाद 26 को तीनों मंडलीय प्रबंधक कार्यालय व 27 से मंडलीय कार्यालयों पर क्रमिक अनशन शुरू किया जाएगा।

इंटक व यूकेडी ने दिया समर्थन
इंटक प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री हीरा सिंह बिष्ट ने भी धरने में पहुंचकर समर्थन दिया। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की मांगें जायज है। सरकार की समस्याओं का तुरंत निस्तारण करना चाहिए। वहीं, यूकेडी नेता शांति भट्ट भी कार्यकर्ताओं के साथ धरने पर बैठे।



उत्तराखंड रोडवेज इंप्लाइज यूनियन का प्रदेशव्यापी चरणबद्ध आंदोलन शुरू, 27 से क्रमित अनशन
 
Top