Road conditions - Uttarakhand

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
बिनसर टॉप में बादल फटने से चमोली में तबाही | Cloudburst in Chamoli Ghat
42 views
•May 4, 2021


2
0



Rajya Sameeksha

21.6K subscribers


उत्तराखंड के चमोली जिले में घाट बाजार के ठीक ऊपर बिनसर पहाड़ी के चिनाडोल नामक तोक में बादल फटने से भारी तबाही मची है। कई आवासीय मकान, दुकानें और वाहन मलबे में दब गए। भूस्खलन होने पर लोग पहले ही अपने घरों को छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर चले गए थे। पुलिस और एसडीआरएफ की टीम द्वारा लगातार रेस्क्यू अभियान जारी है।
 

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
Uttarakhand के रुद्रप्रयाग जिले में दो जगहों पर बादल फटे, कई घरों और दुकानों में मलबा भरा
50,495 views
•May 4, 2021


842
110


News18 UP Uttarakhand


2.19M subscribers

रुद्रप्रयाग जिले से बड़ी खबर आ रही है. यहां भारी बारिश से नरकोटा समेत कई स्थानों पर बादल फटने की घटनाएं हुई हैं. बद्रीनाथ एनएच पर नरकोटा में बादल फटने से जहां राष्ट्रीय राजमार्ग बाधित हो गया, वहीं मार्ग में एक वाहन 4 सवारियों समेत मलबे में फंस गया. हालांकि इन चारों लोगों को स्थानीय लोगों ने मलबे से सुरक्षित निकाल लिया है. खबर है कि कई घरों और दुकानों में भी मलबा भर गया है. ग्रामीणों की खेती व बिजली, पानी की व्यवस्था को भारी नुकसान हुआ है. बताया जा रहा है कि एक बाइक इस मलबे में बह गई. दूसरी ओर फतेपुर, गैरसारी और कोटली से भी भारी बारिश व अतिवृष्टि से भारी नुकसान की खबरें आ रही हैं, लेकिन राहत वाली बात यह है कि फिलहाल जनहानि की कोई सूचना नहीं है.
 

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
Chamoli › Uttarakhand News: RishiGanga Water Level Rises Again Due To Heavy Rain And Villagers Leaving Home In Fear Photos

उत्तराखंड: भारी बारिश से फिर बढ़ा ऋषिगंगा का जलस्तर, दहशत में घरों को छोड़ जंगल की ओर भागे ग्रामीण, तस्वीरें...

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, गोपेश्वर Published by: अलका त्यागी Updated Tue, 04 May 2021 10:29 PM IST

1620151364902.png


ऋषिगंगा का जलस्तर बढ़ने से ग्रामीणों ने छोड़ा घर- फोटो : अमर उजाला

उत्तराखंड के चमोली में भारी बारिश से ऋषि गंगा का जल स्तर बढ़ने से रैणी गांव में भी मंगलवार को ग्रामीणों के बीच अफरातफरी मची रही। लोग घरों से बाहर निकलकर सुरक्षित स्थानों पर चले गए। 7 फरवरी को ऋषि गंगा की त्रासदी के बाद से लोग दहशत में हैं। मंगलवार को क्षेत्र में दोपहर बाद से तेज बारिश हो रही थी।

दोपहर बाद ऋषि गंगा नदी का जल स्तर बढ़ने पर रैणी गांव के ग्रामीण अपने घरों को छोड़कर जंगल में चले गए। रैणी गांव के मुरली सिंह, पूरण सिंह और पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य संग्राम सिंह ने बताया कि दोपहर बाद उच्च हिमालय क्षेत्रों में बर्फबारी के साथ ही तेज बारिश हुई, जिससे ऋषि गंगा का जल स्तर बढ़ गया। दोबारा अनहोनी की आशंका को देखते हुए ग्रामीण गांव से दूर जंगलों में चले गए हैं। देर रात तक भी क्षेत्र में बारिश हो रही थी।

वहीं, बदरीनाथ धाम की चोटियों के साथ ही हेमकुंड साहिब, फूलों की घाटी, घांघरिया, रुद्रनाथ, लाल माटी सहित ऊंचाई वाले क्षेत्रों में जमकर बर्फबारी हुई जबकि निचले क्षेत्रों में तेज बारिश हुई। तेज बारिश के कारण आलू और गेहूं की फसलों को नुकसान पहुंचा है। मौसम खराब होने से शाम को साढ़े चार बजे ही अंधेरा छा गया था। गोपेश्वर के साथ ही जोशीमठ, पोखरी, पीपलकोटी, नंदप्रयाग, घाट क्षेत्रों में बरसाती गदेरे उफान पर आ गए।


1620151474242.png


बता दें कि मंगलवार शाम को घाट ब्लाक में एक साथ तीन जगहों पर बादल फटने से भारी तबाही मच गई। कई मकान, दुकानें और वाहन मलबे में दब गए हैं। सूचना पर एसडीआरएफ, पुलिस टीम और तहसील की आपदा प्रबंधन की टीम मौके पर पहुंची और रेस्क्यू कर करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद तीनों लोगों को सुरक्षित निकाल लिया।


1620151498949.png


घाट-बांजबगड़, घाट-भेंटी और घाट-उस्तोली सड़कों पर टनों मलबा भर जाने से यहां आवाजाही बाधित हो गई है। वहीं, भारी बारिश के चलते बरसाती गदेरे भी उफान पर बह रहे हैं, जिससे चुफलागाड नदी का जल स्तर बढ़ गया है।



1620151529166.png


तहसीलदार राकेश देवली ने बताया कि बिनसर पहाड़ी की तलहटी में तीन जगहों पर बादल फटने की घटना हुई है। एसडीआरएफ, पुलिस टीम और तहसील की आपदा प्रबंधन की टीम रेस्क्यू में लगी है। दुकानों और वाहनों को नुकसान हुआ है।



1620151560792.png


मलबे से घाट-नंदप्रयाग सड़क भी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है। सड़क पर टनों मलबा पसरा हुआ है। शाम करीब साढ़े पांच बजे मलबा आने से सड़क अवरुद्घ हो गई थी। जिला प्रशासन की ओर से सड़क को खोलने के लिए जेसीबी मशीन भेजने की बात कही गई, लेकिन रात आठ बजे तक भी मशीन मौके पर नहीं पहुंची, जिसे देख स्थानीय लोग ही मलबा हटाने में जुट गए।



1620151586821.png


चमोली जनपद का घाट बाजार लंबे समय से आपदाओं का दंश झेलता आ रहा है। आपदा के लिहाज से घाट बाजार महफूज नहीं है। चारों ओर से पहाड़ियों से घिरे घाट बाजार के बीचोंबीच से चुफलागाड़ नदी बहती है। इस नदी के उफान पर आने से भी कई लोग अकाल मौत का शिकार हुए हैं।



उत्तराखंड: भारी बारिश से फिर बढ़ा ऋषिगंगा का जलस्तर, दहशत में घरों को छोड़ जंगल की ओर भागे ग्रामीण, तस्वीरें...
 

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
Breaking News | Uttarakhand Cloudburst | Uttrakhand Live News Today | Cloudburst In Devprayag Viral
1,270 views
•May 11, 2021


29
1


Jantantra Tv

89.7K subscribers

#Cloudburst #Uttarakhand #Devprayag #BadalFatna
About Video: देवप्रयाग में बादल फटने से मची तबाही, कई दुकानें क्षतिग्रस्त, आईटीआई का भवन ध्वस्त
 

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
devprayag cloud burst,devprayag,देवप्रयाग में बादल फटने से तबाही,cloud burst, देवप्रयाग में फटा बादल
13 views
•May 11, 2021


1
0


Khabro ki khabar 24


उत्तराखंड: देवप्रयाग में बादल फटने से मची तबाही, कई दुकानें क्षतिग्रस्त, आईटीआई का भवन ध्वस्त, A cloud burst at Devprayag in Uttarakhand, देवप्रयाग में बादल फटा वप्रयाग में सांता नदी में बादल फटने से शांति बाजार में स्थित आईटीआई भवन एवं दुकानें पूर्ण रूप से ध्वस्त थाना प्रभारी देवप्रयाग महिपाल रावत ने बताया कि शाम करीब पांच बजे दशरथ आंचल पर्वत पर बादल फटा। जिससे शांता गदेरा उफान पर आ गया। मलबा आने से देवप्रयाग मुख्य बाजार में भी दस दुकानों को नुकसान हुआ है। Today evening cloud burst in devprayag Devprayag, Uttarakhand after today's cloud burst. देवप्रयाग में बादल फटने से मची तबाही,देवप्रयाग में कई दुकानें क्षतिग्रस्त,आईटीआई का भवन ध्वस्त,उत्तराखंड,cloud burst at Devprayag in Uttarakhand,देवप्रयाग में बादल फटा,devprayag cloud burst,devprayag news,uttarakhand news,Today evening cloud burst in devprayag
 

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
Tota Ghati Road was closed again for repair / maintenance work from long time and opened on 24 April 2021.



All weather road || Srinagar to Devprayag 2021 || New road तोता घाटी || Rider Uttarakhand
221 views
•Apr 24, 2021


30
1



rider uttarakhand
 

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
DEVPRAYAGमेंdangerous hairpin bendकाlatest status3may2021◆all weather road uttrakhand chardham roads
1,052 views
•May 4, 2021


64
3



PAHADI soul vlogger


Hello dosto mera naam hai narendra and you are watching pahadi soul vlogger ..ये वीडियो है देवप्रयाग में बहुत ही खतरनाक बेंड का लेटेस्ट स्टेटस अभी तक कितना काम उसपे हुआ है और क्या काम बचा है ये सब आप इस वीडियो में देख सकते हैं... धन्यवाद ..


Construction Work going on Bend near Devprayag :


1620844392603.png



1620844408304.png



Dev Prayag · Uttarakhand, Índia
 
Last edited:

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
The Doors / Kapats of Yamunotri Dham have already opened on Akshaya Tritiya on May 14 at 12:15 am

Gangotri Dham Kapats on May 15 at 7:31 am
and
Kedarnath Dham Kapats have already opened at 5 am on May 17.
Also, the doors of the third Kedar Tungnath and the fourth Kedar Rudranath temple have also opened on 17 May.
The doors of the second Kedar - Madamaheshwar Dham are opening on May 24,
while the doors of Hemkund Gurdwara Sahib and Lokpal Laxman Temple are yet to be opened.


उन्होंने बताया कि यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया पर 14 मई को दिन में 12:15 बजे और गंगोत्री धाम के कपाट 15 मई को सुबह 7:31 बजे और केदारनाथ धाम के कपाट 17 मई को सुबह 5 बजे पहले ही खुल चुके हैं। साथ ही तृतीय केदार तुंगनाथ एवं चतुर्थ केदार रूद्रनाथ मंदिर के कपाट भी 17 मई को खुल गए हैं। द्वितीय केदार मदमहेश्वर धाम के कपाट 24 मई को खुल रहे हैं, जबकि हेमकुंड गुरूद्वारा साहिब और लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के कपाट खुलने की तिथि अभी तय नहीं है।

https://www.amarujala.com/photo-gallery/dehradun/chardham-yatra-2021-badrinath-dham-doors-opening-today-beautiful-photos
 

adsatinder

Plz Help Himabuj (Amit Tyagi) in Corona Fighting
Three missing after cloudburst rattles Chakrata in Uttarakhand; ‘red alert’ for heavy rains across state
India

Times Now Digital
Times Now Digital

Updated May 20, 2021 | 12:41 IST

The NH58 Rishikesh-Srinagar highway has been closed near Kodiyala and Byaasi due to heavy landslide.

Uttarakhand cloudburst

Visuals from the landslide near Kodiyala in Uttarakhand on Thursday. | Photo Credit: ANI

KEY HIGHLIGHTS
  • The IMD has forecast “heavy to very heavy” rainfall at isolated places of Uttarkashi, Chamoli, Dehradun, Tehri, Nainital, Rudraprayag and Pithoragarh districts of Uttarakhand

  • Even snowfall has been reported in the higher regions of the state


New Delhi: The state of Uttarakhand has yet again reported an incident of cloudburst, this time Birnad, Chakrata which falls under Dehradun district. Four people went missing after the incident, but the body of was later recovered.
In wake of the Cyclone Tauktae and its direction shifting north-northeastwards from the Bay of Bengal, states in north India are experiencing heavy rainfall since yesterday.
As a result, the Uttarakhand meteorological department has issued a ‘Red alert’ for heavy rains for the next 24 hours in the state.
“The body of one person has been retrieved, while search for the missing persons is underway in Birnad following the cloudburst in the area,” the State Disaster Response Force said.
Meanwhile, the NH58 Rishikesh-Srinagar highway has been closed near Kodiyala and Byaasi due to heavy landslide. Two machineries are working continuously near Kodiyala and the route will open in approximately 2 hours.

The India Meteorological Department (IMD) on Thursday forecast that “heavy to very heavy” rainfall is expected at isolated places of Uttarkashi, Chamoli, Dehradun, Tehri, Nainital, Rudraprayag and Pithoragarh districts of Uttarakhand.
“Gusty winds with speed of 30-40 Kmph are also expected in isolated places in the plains of the state,” the Met bulletin said.

The 24-hour-long red alert advisory began since Wednesday night. The capital city of Dehradun, along with Mussoorie, Haridwar, Rishikesh, Roorkee, and Kumaon division has experienced continuous rainfall in the past 24 hours.
Even snowfall has been reported in the higher regions of the state. Authorities also reported an increase in the water level of river Alaknanda on Wednesday before the rainfall began.
“The cyclone has now weakened and has reached its point of depression. However, its remnants are still very active in Northern India, Rajasthan, Haryana, Delhi, west of Uttar Pradesh, and Uttarakhand,” RK Jenamani, senior scientist, National Weather Forecasting Centre, IMD told ANI.


Three missing after cloudburst rattles Chakrata in Uttarakhand; ‘red alert’ for heavy rains across state
 
Top