Shyari old memories lane

adsatinder

explorer
*"दर्द वही देते हैं,*
*जिन्हे आप अपने होने का 'हक' देते हैं...*
*वरना*
*गैर तो हल्का सा धक्का लगने पर भी माफी माँग लिया करते हैं...*
 

adsatinder

explorer
बेटी के दहेज़ के फर्नीचर की पॉलिश उतर गई,

पर बाप का कर्जा नहीं उतरा
 
Top