The Weather and Meteorology thread

adsatinder

explorer
Home › Himachal Pradesh › Shimla › Heavy Rainfall Warning In Himachal For Two Days Yellow Alert Issued

हिमाचल में दो दिन भारी बारिश की चेतावनी, येलो अलर्ट जारी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला Updated Tue, 24 Sep 2019 01:59 PM IST


मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने हिमाचल में दो दिन तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। प्रदेश के मैदानी और मध्य पर्वतीय क्षेत्रों में बुधवार और वीरवार को भारी बारिश होने की चेतावनी जारी हुई है।

मौसम विज्ञान केंद्र ने सोलन, सिरमौर, मंडी, कुल्लू, चंबा, ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर, शिमला और कांगड़ा के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। हिमाचल में 30 सितंबर तक मौसम खराब रहने का पूर्वानुमान है।

मौसम में आए इस बदलाव से मानसून के भी हिमाचल से अक्तूबर के पहले हफ्ते तक ही विदा होने के आसार बनने लगे हैं।मंगलवार को राजधानी शिमला सहित प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में मौसम साफ रहा। धूप खिलने से प्रदेश के अधिकतम तापमान में सामान्य से एक डिग्री की बढ़ोतरी दर्ज हुई।

मंगलवार को ऊना में अधिकतम तापमान 33.3, भुंतर में 32.2, सुंदरनगर में 30.6, कांगड़ा में 30.2, चंबा में 29.4, नाहन में 29.0, सोलन में 27.5, केलांग में 24.6, धर्मशाला में 24.2, शिमला में 22.5 और डलहौजी में 17.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ।

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक डॉ. मनमोहन सिंह ने बताया कि प्रदेश के कई क्षेत्रों में 30 सितंबर तक बारिश का दौर जारी रहने का पूर्वानुमान है।




2018-19 Amar Ujala Limited

 

adsatinder

explorer
PHOTOS: Hyderabad gets 'highest Sept rainfall in 100 yrs', may areas flooded

Last updated on: September 25, 2019 23:21 IST

Heavy rains lashed Hyderabad and other parts of Telangana on Wednesday, throwing normal life out of gear in many places.
In a tweet, Telangana Municipal Administration Minister K T Rama Rao said that Hyderabad is 'witnessing the highest ever rainfall in September in over 100 plus years'.

Jakranpalle and Balkonda in Nizamabad district received 95 mm and 89 mm of rainfall respectively in nearly 12 hours since Wednesday morning, according to official data.

All photographs: SnapsIndia






In Greater Hyderabad Municipal Corporation (GHMC) limits, Srinagar Colony received 54.3 mm of rainfall.

More like this
Will Mumbai drown?
Will Mumbai drown?


'Yediurappa is battling the floods alone'
'Yediurappa is battling the floods alone'

The Meteorological Centre in Hyderabad said the Southwest monsoon has been vigorous over Telangana and rain occurred at most places in the state.


The heavy rains led to water stagnation at several places in Hyderabad, hitting free movement of traffic and the personnel of GHMC swung into action to clear the roads.
Traffic snarls were witnessed in the IT hub at Gachibowli and other localities in Hyderabad.



The water level in Hussain Sagar lake in the city touched 513.70 metres, GHMC sources said adding it can hold water up to 514.9 metres.
Union Minister of State for Home G Kishan Reddy, Lok Sabha member from Secunderabad, spoke to the state Chief Secretary and the GHMC Commissioner and enquired about the rain situation, a Bharatiya Janata Party release said.



Reddy assured the Centres support in deployment of National Disaster Response Force (NDRF) if required, it said.


State Municipal Administration Minister K T Rama Rao tweeted, We are witnessing the highest ever rainfall in September in over 100 plus years! I would like to thank the hardworking teams of @GHMCOnline, @HydTP, @TSSPDCLCorp.


In its forecast for Thursday, the Met Centre said light to moderate rain or thunder showers were very likely to occur at many places over Telangana.
Heavy rain was very likely to occur at isolated places, it said.

© Copyright 2019 PTI. All rights reserved. Republication or redistribution of PTI content, including by framing or similar means, is expressly prohibited without the prior written consent.



PHOTOS: Hyderabad gets 'highest Sept rainfall in 100 yrs', may areas flooded
 

adsatinder

explorer

Rediff.com
» News » 17 killed, 25,000 rescued as intense rain pounds Pune

17 killed, 25,000 rescued as intense rain pounds Pune

Last updated on: September 26, 2019 23:00 IST
At least 17 persons were killed in rain-related incidents after intense showers battered Pune city and parts of the district on Wednesday and Thursday, officials said.


IMAGE: Vehicles are piled up on a street after a flash flood following heavy rains, in Pune. Photograph: PTI Photo
The district administration declared holiday on Friday for schools in the city as well in the tehsils of Haveli, Bhor, Purandar and Baramati.

Around 2,500 people were shifted to safer places in Baramati tehsil after water was released from the Nazare dam on the Karha river near Jejuri, district officials said.




IMAGE: A man walks past vehicles piled up on a street after floodwater from Ambilodha Nala (Sewage water stream) entered the Sahakar Nagar locality in Pune. Photograph: PTI Photo
Around 3,000 people were taken to safer places due to the flooding in low-lying areas in Pune city and the district, the police said.
In the morning, various authorities had put the figure of those who were shifted to safer places at about 15,000.
Schools and colleges in many places had declared a holiday on Thursday in view of the downpour which began the day before.


IMAGE: Residents stand next to damaged vehicles in a lane after floodwater entered a locality. Photograph: PTI Photo

The police said 12 people were killed in either floods or incidents of wall collapse in Pune.
"Five people were killed after a wall collapsed in Tangewale colony in Aranyeshwar area.
"Seven people were killed after being swept away in the floods in Dattawadi, Sinhgad Road and Bharti Vidyapeeth areas in the city limits," said a police official.


IMAGE: NDRF recovered the body of a man from a car found floating in flood water on Singhnad Road in Pune. Photograph: ANI

Another four people went missing in Sinhgad Road and Bharti Vidyapeeth area, he said.
Elsewhere in the Pune district, five people were killed in Purandar and Haveli tehsils.
"In Khed Shivapur on Mumbai- Bengaluru highway, four people were killed and two are still missing. In Purandar, one person was swept away in floods and another is missing," said an officer attached to the Pune district police.


IMAGE: Residents look at the vehicles that got washed away in floodwater. Photograph: PTI Photo

The Army rescued 300 people, including some stranded on rooftops and in the trees, from Solapur Road area, a defence spokesperson said.
A civic official said that as many as 175 vehicles were washed away in floods.
Maharashtra Chief Minister Devendra Fadnavis expressed grief over the deaths.


IMAGE: A view of vehicles washed away in floodwater. Photograph: PTI Photo

'My deepest condolences to the families. We are providing all possible assistance needed. State disaster management officials and control room in continuous touch with Pune collector and Pune Municipal Corporation,' he tweeted.
'2 NDRF teams are deployed in Pune & 2 in Baramati. One more NDRF team is on way to Baramati. State Government is also closely monitoring the dam discharge,' Fadnavis added.
District Collector Naval Kishor Ram said that at least 59 villages in the district were affected by the floods.


IMAGE: Residents stand on a roadside after floodwater entered their locality. Photograph: PTI Photo

"We have communicated the whole situation to the Election Commission (as the model code of conduct is in force for October 21 Assembly polls) and appropriate aid will be provided to the victims soon," he said.
Pune commissioner Saurabh Rao said the city recorded 106 mm of rain on Thursday.
When asked if unauthorized constructions exacerbated the situation, he said action will be taken against such structures.

© Copyright 2019 PTI. All rights reserved. Republication or redistribution of PTI content, including by framing or similar means, is expressly prohibited without the prior written consent.

17 killed, 25,000 rescued as intense rain pounds Pune
 
  • Like
Reactions: cat

adsatinder

explorer
Himachal PradeshShimla › Heavy Rain Alert For Next Three Hours In Eleven Districts Of Himachal Pradesh
हिमाचल प्रदेश: अगले तीन घंटे 11 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला Updated Sat, 28 Sep 2019 12:44 PM IST

heavy rain alert for next three hours in eleven districts of himachal pradesh

- फोटो : अमर उजाला


हिमाचल प्रदेश के 11 जिलों ऊना, हमीरपुर, चंबा, मंडी, कुल्लू, सोलन, सिरमौर, कांगड़ा, बिलासपुर, किन्नौर और शिमला में अगले तीन घंटे में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। वहीं लाहौल स्पीति में बर्फबारी होने की संभावना जताई गई है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला की ओर से चेतावनी जारी की गई है। मौसम में आए ताजे बदलाव के बाद अक्तूबर के पहले सप्ताह में मानसून के विदा होने की संभावना जताई है। गौरतलब है कि हिमाचल में शुक्रवार को कई क्षेत्रों में बादल जमकर बरसे थे। तेज हवाओं से मैदानी जिलों में खेतों में मक्के की फसल बिछ गई थी। प्रदेश के अधिकतम तापमान में तीन से चार डिग्री की कमी दर्ज हुई है।


हिमाचल प्रदेश: अगले तीन घंटे 11 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी
 

adsatinder

explorer
DISTRICT LEVEL NOWCAST WARNING
FOR
HIMACHAL PRADESH


Date of issue : 28.09.2019
Time of issue : 12:00 IST

MINISTRY OF EARTH SCIENCES
INDIA METEOROLOGICAL DEPARTMENT
REGIONAL METEOROLOGICAL CENTRE, NEW DELHI
NOWCAST WARNING FOR HIMACHAL PRADESH

Special Nowcast Warning for 1230-1530 IST
28.09.2019
Moderate to Heavy Rain/Thundershowers very likely to occur in the districts of Kullu,Chamba,Kangra,Mandi,Solan,Sirmaur,Hamirpur,Bilaspur,Una ,Kinnaur and Shimla.Light Snow likely to occurr in the Lahaul and Spiti.​



NOWCAST HIMACHAL PRADESH
 

adsatinder

explorer
Snowfall In Kedarnath And Badrinath After Rainfall First Time In Season

केदारनाथ-बदरीनाथ की पहाड़ियों पर सीजन की पहली बर्फबारी, रुक-रुककर हो रही बारिश से बढ़ी ठंड

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, रुद्रप्रयाग/बदरीनाथ Updated Sun, 29 Sep 2019 10:03 AM IST


बदरीनाथ में बर्फबारी के बाद छाया कोहरा


बदरीनाथ में बर्फबारी के बाद छाया कोहरा - फोटो : अमर उजाला


समुद्रतल से 11750 फीट की ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ और बदरीनाथ के ऊपरी इलाकों में शनिवार को सीजन का पहला हिमपात हुआ। इससे निचले इलाकों में भी हल्की ठंड शुरू हो गई है।

दिनभर रुक-रुककर होती बारिश के बीच केदारनाथ धाम के ऊपर की तरफ हिमालय की मेरू-सुमेरू पर्वत श्रृंखलाओं समेत चोराबाड़ी और वासुकीताल में हिमपात हुआ है। यहां की ऊपरी चोटियां केदारपुरी से सफेद नजर आ रही हैं।

केदारनाथ में दिनभर रुक-रुककर होती बारिश के चलते ठंड बढ़ गई है। जबकि, बदरीनाथ धाम में दोपहर बाद से शाम तक लगातार बारिश होती रही। इससे धाम में ठंड में इजाफा हो गया। ठंड को देखते हुए तीर्थयात्री अपने कमरों मेें दुबके रहे। केदारनाथ में शाम 6 बजे अधिकतम तापमान 6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।


केदारनाथ में हेलीकॉप्टर सेवा बाधित
केदारनाथ पहुंचे जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि बीते अन्य दिनों की अपेक्षा शनिवार को केदारनाथ में ठंड अधिक महसूस की गई। बताया कि धाम के ऊपरी क्षेत्रों में हिमपात हुआ है।

जिला मुख्यालय रुद्रप्रयाग से केदारनाथ तक शनिवार तड़के से दिनभर रुक-रुककर हल्की बारिश होती रही। इस दौरान केदारनाथ यात्रा सुचारु रही, लेकिन हेलीकॉप्टर सेवा दिन में कई बार बाधित होने से यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा।

शुक्रवार देर रात्रि से मौसम का मिजाज बिगड़ने लगा था। बादलों की तेज गर्जना के साथ रात को कुछ देर हल्की बारिश हुई, लेकिन शनिवार तड़के से सुबह 7 बजे तक बारिश तेज रही। इसके बाद दिनभर रुक-रुककर बूंदाबांदी होती रही। उधर, केदारनाथ में भी मौसम का मिजाज बिगड़ा रहा।




https://www.amarujala.com/dehradun/snowfall-in-kedarnath-and-badrinath-after-rainfall-first-time-in-season
 

adsatinder

explorer
Uttarakhand: Rain In Mussoorie And Dehradun Overnight Cold In Hilly Areas Increased

उत्तराखंडः मसूरी और देहरादून में रातभर बरसे बदरा, पहाड़ी इलाकों में बारिश से ठंड बढ़ी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Mon, 30 Sep 2019 09:55 AM IST










- फोटो : अमर उजाला

रविवार रात देहरादून और मसूरी में रातभर झमाझम बारिश हुई, जिससे मौसम सुहावना हो गया है। आज तड़के भी देहरादून में हल्की बूंदाबादी हुई। पहाड़ी इलाकों में हुई बारिश से तापमान में खासी गिरावट दर्ज की जा रही है। वहीं बदरीनाथ, केदारनाथ, नई टिहरी और उत्तरकाशी सहित अधिकतर पहाड़ी क्षेत्रों में रातभर बारिश होती रही। हरिद्वार में बारिश से जलभराव हो गया।

विज्ञापन



पहाड़ों की रानी मसूरी में देर रात से हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। मसूरी में ठंड बढ़ गई है। बारिश होने के कारण सुबह स्कूल और ऑफिस जाने वाले लोगों को खासी परेशानी हुई।मसूरी देहरादून मार्ग पर कई जगह भूस्खलन होने से मार्ग पर मलबा आ गया है। पुलिस और प्रशासन की टीम मलबा हटाने में जुटी है।


नई टिहरी और आसपास के क्षेत्रों में रात भर से झमाझम बारिश का सिलसिला सुबह तक जारी रहा। पिछले तीन दिनों से हो रही बारिश के कारण नई टिहरी में ठंड बढ़ गई हैl गंगोत्री और यमुनोत्री हाईवे पर आवाजाही सुचारू है। लगातार बारिश के कारण तापमान में गिरावट आ रही है। रुद्रप्रयाग से केदारनाथ तक बारिश हो रही है।

प्रदेश के कई इलाकों में आज भी बारिश

राजधानी समेत आसपास के कई इलाकों में आज भी बारिश होने का अनुमान है। मौसम केंद्र की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार कई इलाकों में गरज और चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। जबकि कहीं-कहीं हल्की बारिश भी हो सकती है।



लामबगड़ में आज सुबह खुला बदरीनाथ हाईवे

आज सुबह नौ बजे लामबगड़ में बदरीनाथ हाईवे वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया गया है। बता दें कि लामबगड़ में 21 घंटे बाद रविवार को बदरीनाथ हाईवे पर वाहनों की आवाजाही शुरू हुई थी, लेकिन सिर्फ तीन घंटे खुला रहने के बाद फिर चट्टान से मलबा और बोल्डर आने के कारण हाईवे फिर बंद हो गया था। हाईवे खुलने पर बदरीनाथ धाम और विभिन्न पड़ावों पर रोके गए करीब 4000 तीर्थयात्रियों को उनके गंतव्य को भेजा गया। शनिवार को बारिश के दौरान चट्टान से मलबा और बोल्डर आने से लामबगड़ में बदरीनाथ हाईवे दोपहर दो बजे अवरुद्ध हो गया था। रविवार को बारिश थमने के बाद सुबह सात बजे ही जेसीबी से मलबा और बोल्डरों को हटाने का काम शुरू हुआ। पूर्वाह्न ग्यारह बजे तक वाहनों की आवाजाही शुरू करवाई गई। इस दौरान जगह-जगह रोके गए करीब चार हजार तीर्थयात्रियों को उनके गंतव्य को भेजा गया, लेकिन फिर बारिश शुरू होने पर दोपहर दो बजे हाईवे बंद हो गया। लामबगड़ क्षेत्र में रविवार को दिनभर रुक-रुककर भारी बारिश होती रही। हाईवे अवरुद्ध होने से बदरीनाथ धाम जाने वाले करीब 500 तीर्थयात्रियों को यात्रा पड़ावों पर रोक लिया गया था। रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड हाईवे गुप्तकाशी के समीप आज एक घंटे अवरूद्ध रहा। सुबह आठ बजे से मार्ग पर यातायात सुचारू हुआ।

12 घंटे तक झमाझम बारिश से मौसम हुआ ठंडा

विकासनगर में 12 घंटे तक क्षेत्र में हुई झमाझम बारिश के बीच मौसम ठंडा हो गया। तापमान में खासा गिरावट दर्ज की गई। चकराता में लोगों ने गर्म कपड़े बाहर निकाल लिए। पूरा चकराता बाजार कोहरे के आगोश में समा गया। लोग स्वेटर, जैकेट पहने घूमते हुए नजर आए। रविवार और नवरात्र के पहले दिन मौसम की बदली करवट के बीच बड़ी संख्या में लोगों ने सैर सपाटे के लिए चकराता का रुख किया। विकासनगर का अधिकतम तापमान 27 और न्यूनतम 21 डिग्री दर्ज किया गया। चकराता का अधिकतम तापमान 17 डिग्री और 12 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। शनिवार देर रात से ही क्षेत्र में झमाझम बारिश का दौर शुरू हो गया जो रविवार की दोपहर 12 बजे तक जारी रहा। जिससे अधिकतम और न्यूनतम तापमान में एक डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। बारिश के बाद दिनभर आसमान में बादल छाए रहे। जिसके चलते मौसम सुहावना बना रहा। दोपहर के बारिश के चलते सड़कों में भी सन्नाटा पसरा रहा हालांकि, बारिश बंद होते ही फिर से चहल-पहल शुरू हो गई।

दिनभर सड़क पर गिरते रहे पत्थर

साहिया क्षेत्र में हुई झमाझम बारिश के बीच जजरेट के पास पहाड़ी फिर सक्रिय हो गई। जिस कारण दिनभर सड़क से पत्थरों के लुढकने का सिलसिला जारी रहा। दिनभर सड़क पर यातायात संचालित और बाधित होता रहा। लोनिवि की जेसीबी ने सड़क से पत्थर हटाए। मालूम हो कि सड़क से 40 से अधिक गांव की आबादी जुड़ी हुई है। उक्त सड़क को जौनसार बावर की लाइफ-लाइन भी कहा जाता है।

शहर से देहात तक बरसे बादल, कहीं राहत, कहीं आफत

रुड़की शहर से लेकर देहात तक रविवार को बारिश की वजह से सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। इसके चलते लोगों को गर्मी से राहत जरूर मिलीं, लेकिन कई जगह बारिश आफत साबित हुई। बरसात के साथ ही तेज हवाओं के चलते धान की फसल भी जमींदोज हो गई है। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार बारिश से धान की फसल को नुकसान पहुंच सकता है।

शनिवार से शुरू हुई बारिश का क्रम रविवार सुबह भी चलता रहा। रुड़की में जहां हल्की बारिश हुई, वहीं लक्सर में अधिक बारिश की वजह से सीमली, केशव नगर, तहसील रोड, इंदिरा कॉलोनी समेत कई स्थानों पर जलभराव हो गया। लक्सर समेत कई क्षेत्रों में तेज हवा के चलते धान और गन्ने की फसल भी जमींदोज हो गई। इस वजह से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें हैं।

किसान रजत शर्मा, शिव कुमार गर्ग, शेखर चौधरी और सुरेश शर्मा आदि ने बताया कि बारिश की वजह से खेतों में पानी भर गया है। उनका कहना था कि इतनी भारी बारिश अगर आगे होती है, तो किसानों की गन्ने की खड़ी फसल भी गिरकर चौपट हो जाएगी। उधर, धनौरी कृषि वैज्ञानिक केंद्र के प्रभारी पुरुषोत्तम कुमार का कहना है कि अब धान की फसल में दाना पड़ गया है। इसके गिरने से उत्पादन प्रभावित होगा।



 

adsatinder

explorer
*बिहार में बाढ़ से तबाही का मंजर, भागलपुर में गिरी दीवार तो खगौल में बारिश से ऑटो पर गिरा पेड़*

Bihar Flood like situation
Red Alert at places

 

adsatinder

explorer
WEATHER UPDATE, 01 Oct to 07 Oct 2019.

PLEASE BEWARE THIS SEASON OCTOBER ONWARDS.
HIMALAYAS DO NOT FORGIVE THOSE WHO THINK THEY ARE HEROS, OR TAKE UNDUE RISK.

For those planning road trips to Ladakh,
i would suggest delay your plans to next season.
Just like last winters, there was far more snowfall than expected,
this winter, winter seems to be coming early.
On Monday already Rohtang Pass and Baralacha La got snowfall.
Looking at the weather forecast for next one week,
there is snowfall in many regions.
If you get stuck, and most areas do not have Mobile Coverage, you will not be able to ask for help, and no one will know where you are stuck.

Happy Landings.
RT


 
Last edited:
Top