The Weather and Meteorology thread

adsatinder

explorer
Himachal Pradesh › Tourist Stranded For Hours After Landslides On The Chandigarh Manali Nh, Avalanche In Lahaul

भूस्खलन से मंडी-कुल्लू हाईवे बंद, सैकड़ों सैलानी फंसे, लाहौल में गिरा हिमखंड
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नगवाईं(मंडी)/लाहौल Updated Mon, 13 Jan 2020 03:30 PM IST


चंडीगढ़-मनाली हाईवे पर गिरे पत्थर


चंडीगढ़-मनाली हाईवे पर गिरे पत्थर - फोटो : अमर उजाला


हिमाचल में बारिश-बर्फबारी का दौर सोमवार को एक बार फिर शुरू हो गया। जनजातीय क्षेत्र लाहौल घाटी के ठोलंग गांव के समीप वामतट की पहाड़ी पर मिजली नाला में हिमखंड गिरने से चिनाब नदी का बहाव पांच घंटे तक रुका रहा। चंडीगढ़-मनाली हाईवे पर बनाला के पास चट्टानें आने से मार्ग करीब एक घंटा बाधित रहा। इससे सैकड़ों सैलानियों के वाहन फंस गए। एक घंटे बाद हाईवे बहाल किया।

लेकिन पहाड़ी से रुक-रुक कर भूस्खलन हो रहा है, जिस कारण दिनभर यहां जाम लगता रहा। इसको देखते हुए प्रशासन ने हाईवे को मंगलवार सुबह आठ बजे तक के लिए बंद कर दिया है। बनाला में शनिदेव मंदिर के पास लगातार भूस्खलन हो रहा है। भारी बर्फबारी के बाद लाहौल घाटी के स्कूलों में छुट्टियां कर दी गई हैं। सोमवार को पहाड़ों पर जमकर बर्फबारी हुई, जबकि मैदानों में बादल झमाझम बरसे।

शिमला में दोपहर से बारिश का सिलसिला शुरू हुआ। प्रदेश में 359 सड़कें बंद रहीं। कई क्षेत्रों में बिजली और पानी का संकट है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने 16 जनवरी को भारी बारिश-बर्फबारी की चेतावनी जारी की है। 19 तक मौसम खराब रहने का पूर्वानुमान है। लाहौल में बीते तीन दिनों से बर्फबारी जारी है। चोटियों से हिमखंड गिर रहे हैं। जिला प्रशासन ने लोगों को आगाह किया है कि वे नदी और दूरदराज इलाकों में न जाएं।

रविवार रात करीब साढ़े तीन बजे गिरे हिमखंड से सोमवार सुबह नौ बजे चिनाब नदी का पानी धीरे-धीरे सामान्य हुआ। लाहौल घाटी में केलांग-उदयपुर, केलांग-दारचा, केलांग-गुफा होटल सहित 134 संपर्क मार्ग बंद हैं। लाहौल प्रशासन ने स्कूलों में दो दिन की छुट्टी कर दी है। कुल्लू जिले में सड़कें, बिजली, पानी और दूरसंचार सेवा ठप है। किन्नौर, रामपुर और आउटर सिराज में भी बर्फबारी हुई।


लोनिवि को 107 करोड़ का नुकसान


शिमला-रामपुर नेशनल हाईवे सोमवार को भी बंद रहा। जिला सिरमौर के ऊपरी क्षेत्रों में भी बर्फबारी हुई। नौहराधार, हरिपुरधार, राजगढ़ व रोनहाट क्षेत्रों की पांच दर्जन पंचायतों में पांच दिन बाद भी बिजली बहाल नहीं हुई है। चंबा जिला में पांगी-भरमौर की ऊपरी चोटियों में सोमवार सुबह हल्की बर्फबारी हुई। जिला कांगड़ा में धौलाधार की पहाड़ियों पर भी ताजा बर्फबारी हुई। मौसम खराब रहने के चलते गगल एयरपोर्ट पर शाम चार बजे आने वाली फ्लाइट भी नहीं पहुंची।

हिमाचल में भारी बर्फबारी और बारिश से लोक निर्माण विभाग को करीब 8 दिन में 107 करोड़ रुपये की चपत लगी है। प्रदेश में बर्फबारी के चलते 1037 सड़कें यातायात के लिए बाधित रहीं। इनमें से अधिकांश सड़कें क्षतिग्रस्ति हुई हैं। शिमला जोन को सर्वाधिक 1915.38 लाख रुपये का नुकसान हुआ है, जबकि मंडी जोन को 1320.66 लाख, कांगड़ा जोन को 6997.71 लाख अन्य नेशनल हाईवे में 499.02 लाख रुपये का नुकसान होने का आकलन है।


न्यूनतम तापमान और बर्फबारी




क्षेत्र बर्फबारी (सेंटीमीटर में)
रोहतांग दर्रा 150
कोकसर 90
केलांग 60
दारचा 40
गोंधला 35
जाहलमा 30
उदयपुर 15

क्षेत्र न्यूनतम तापमान (डिग्री सेल्सियस में)
केलांग - 6.0
कल्पा - 3.3
मनाली - 0.8
डलहौजी 4.2
धर्मशाला 4.8
कुफरी 5.0
शिमला 7.7

पागलनाले में मलबा आने से फिर बंद रही आवाजाही
पागलनाला के रौद्र रूप ने सैंज घाटी की रफ्तार फिर रोक दी है। लारजी-न्यूली सड़क पर तलाड़ा के पास पागलनाले में सोमवार को भी भारी मलबा आने से तीन घंटे यातायात बंद रहा। हालांकि लोक निर्माण विभाग की मशीन मलबे को हटाने के लिए स्थायी रूप से लगाई गई है। लगातार मलबा आने से समस्या खड़ी हो रही है।

तीन दिन से हो रही बारिश के कारण सैंज घाटी में जनजीवन प्रभावित हो रहा है। सैंज-धाउगी, सैंज-देहुरी और सैंज-कनौन सड़कों पर बसें नहीं चल रही हैं। कई पैदल रास्ते मलबा गिरने से बाधित हुए हैं। लारजी-न्यूली सड़क बंद रहने से पागलनाला के दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लगी रही। लोगों को जान जोखिम में डालकर नाला पैदल पार करना पड़ा।

सड़क पर वाहन बंद रहने से सोमवार को कामकाजी लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। सड़क बंद होने से विद्युत परियोजनाओं के निर्माण कार्य पर भी खासा असर पड़ा। अधिकतर मजदूर और कर्मचारी समय पर साइटों तक नहीं पहुंच पाए। बता दें कि घाटी की पंद्रह पंचायतों को जोड़ने वाली यह एकमात्र सड़क है। पागलनाला घाटी में लंबे समय से सर दर्द बना हुआ है। जनता यहां पुल बनाने की मांग कर रही है।

दिनेश कुमार, ऐले राम, अशोक, नरेंद्र, ओम प्रकाश, राम दास, सेस राम, रोशन लाल, प्रकाश नेगी, महेंद्र सिंह, मोती राम, पूर्ण चंद और प्रेम सिंह ने कहा कि पागलनाला में रविवार रात से लगातार मलबा आ रहा है। नाले में विभाग ने जेसीबी मशीन लगाई है। लेकिन नाले से लगातार मलबा आ रहा है। लोक निर्माण विभाग के एसडीओ रवि डीसी चंदेल ने कहा कि पागलनाला में मलबा हटाने के लिए मशीन लगाई है। लगातार बारिश होने से नाले में मलबा आ रहा है।


 

adsatinder

explorer
Himachal Pradesh › Himachal Weather Report And IMD Shimla Forecast Yellow And Orange Alert In Himachal
पहाड़ों पर भारी बर्फबारी, आज कई जिलों में ऑरेंज और येलो अलर्ट
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला Updated Mon, 13 Jan 2020 11:40 AM IST

Himachal Weather Report and IMD Shimla Forecast yellow and orange alert in himachal

- फोटो : PTI


जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति, किन्नौर और कुल्लू के आउटर सिराज में फिर बर्फबारी का दौर शुरू हो गया है। रिहायशी इलाकों में एक से ढाई फीट तक बर्फ गिर चुकी है। 13,050 फीट ऊंचे रोहतांग दर्रे पर 90 सेंटीमीटर, कोकसर में 60 और केलांग 30 सेंटीमीटर तक बर्फबारी हुई है।

भारी हिमपात से हिमखंड गिरने का खतरा बढ़ गया है। चंबा के सलूणी-लंगेरा, खज्जियार, लक्कड़ मंडी सहित जनजातीय क्षेत्र पांगी के आधा दर्जन मार्ग वाहनों की आवाजाही के लिए ठप हैं। भरमौर की 29 पंचायतों में बिजली गुल है। प्रदेश भर में अब भी दो एनएच शिमला-रामपुर और कुल्लू-आनी समेत 454 सड़कें बंद हैं।

राजधानी शिमला में दिन भर आसमान पर बादल छाये रहे और बाजारों में पर्यटकों की भीड़ उमड़ी रही। मौसम विभाग के अनुसार हिमाचल में 13 से 18 तक मौसम फिर सताएगा। 13 को मैदानी इलाकों ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर और सोलन में येलो अलर्ट जारी किया है, जबकि मध्यम और ऊंचाई वाले जिलों चंबा, कांगड़ा, कुल्लू, मंडी, शिमला, सिरमौर, किन्नौर और लाहौल-स्पीति में आरेंज अलर्ट जारी किया है। केलांग का न्यूनतम तापमान - 11.3 डिग्री सेल्सियस और बिलासपुर का सबसे अधिक अधिकतम तापमान 19.0 डिग्री दर्ज किया है। 16 जनवरी को पूरे प्रदेश में येलो अलर्ट जारी किया है।


कुल्लू जिला के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी जबकि निचले क्षेत्रों में रात से झमाझम बारिश हो रही है। प्रशासन ने 19 जनवरी तक अलर्ट जारी कर लोगों और सैलानियों को संवेदनशील इलाकों की ओर न जाने की हिदायत दी है। जिले में 200 गांव अंधेरे में, 60 से अधिक सड़कें और 50 से ज्यादा पेयजल योजनाएं ठप हैं।

किन्नौर, रामपुर और आउटर सिराज क्षेत्र में एक बार फिर से बर्फबारी के कारण दिक्कतें थमने का नाम नहीं ले रही। नेशनल हाईवे नारकंडा सहित ऊपरी हिमाचल के अधिकतर ग्रामीण रूटों पर वाहनों के पहिए थमे हुए हैं। रामपुर से शिमला की ओर बसों को वाया बसंतपुर से भेज रहे हैं। वहीं किन्नौर में सुबह से मौसम खराब होने पर ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी और निचले क्षेत्रों में बर्फबारी और बारिश का दौर जारी है। जिला चंबा में रविवार को आसमान में बादल छाए रहे।

न्यूनतम तापमान (डिग्री सेल्सियस में)
केलांग -11.3
कल्पा -4.0
मनाली - 0.8
डलहौजी 1.6
धर्मशाला 3.2
शिमला 5.1
सोलन 6.0
चंबा 6.2
मंडी 8.2
हमीरपुर 9.2
बिलासपुर 9.5

अधिकतम तापमान (डिग्री सेल्सियस में)
केलांग - 3.6
कल्पा -2.5
डलहौजी 10.4
चंबा 13.4
धर्मशाला 13.6
शिमला 14.4
नाहन 15.8
हमीरपुर 21.4
बिलासपुर 21.5


पहाड़ों पर भारी बर्फबारी, आज कई जिलों में ऑरेंज और येलो अलर्ट
 
Top