The Weather and Meteorology thread

adsatinder

explorer
Mountain Ranges Of The Himalaya Can Be Seen With Naked Eyes From Lamba Pind Area In Jalandhar
लॉकडाउन की वजह से साफ हुई अबोहवा, 30 साल बाद जालंधर से दिखी 'बर्फ की घाटी'
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जालंधर ( पंजाब) Updated Fri, 03 Apr 2020 09:41 PM IST


जालंधर से कुछ ऐसे दिखी बर्फ की घाटी

जालंधर से कुछ ऐसे दिखी बर्फ की घाटी - फोटो : अमर उजाला


देश में लॉकडाउन और पंजाब में कर्फ्यू की वजह से भले ही लोग अपने घरों में दुबके हों लेकिन इसका असर प्रकृति पर सकारात्मक पड़ता दिख रहा है। एक ओर प्रदूषण का स्तर सबसे कम है तो वहीं आसमान भी साफ दिखाई दे रहा है। पंजाब के जालंधर में भी एक खूबसूरत नजारा देखने को मिला।

यातायात व फैक्टरियां बंद होने से प्रकृति और पर्यावरण को बहुत फायदा पहुंचा है। वायु प्रदूषण न होने से शहर का वातावरण बिल्कुल साफ हो गया। 30 वर्ष बाद हवा इतनी साफ हुई है कि 160 किलोमीटर किमी दूर बर्फ से ढके पहाड़ जालंधर के लोगों को दिखाई दिए हैं। यह खबर फैलते ही हर कोई अपनी छत पर खड़े होकर बर्फ से ढके पहाड़ों की फोटो खींचने लगा।


लॉकडाउन की वजह से साफ हुई अबोहवा, 30 साल बाद जालंधर से दिखी 'बर्फ की घाटी'
 

adsatinder

explorer
As air gets cleaner, Himachal’s Dhauladhar mountain is visible from Jalandhar
The elevation of the Dhauladhars ranges widely from 3,500 m to nearly 6,000 m. The range curves towards Mandi from the banks of the Beas river in Kullu. It then passes through Barabhangal towards the north and joins the Pir Panjal range after which it moves into Chamba.

By: Express Web Desk | New Delhi | Updated: April 3, 2020 10:47:39 pm

Dhauladhar range, Himachal mounbtain visible from Punjab, Dhauladhar visible from Jalandhar, India lockdown, India air quality, HImachal Pradesh, coronavirus cases, Indian express


The Dhauladhar range in Himachal Pradesh is now visible from Jalandhar. (Express photo by Anju Agnihotri Chaba)

The Dhauladhar range, which is part of a Himalayan chain of mountains in Himachal Pradesh, has become visible to the people of Jalandhar, which is in Punjab, due to the improvement in air quality following the nationwide lockdown in the wake of the coronavirus epidemic. The mountain rises from Kangra and Mandi.
As the number of COVID-19 patients around the world cross the 10-lakh mark, several countries have enforced lockdowns to contain the spread of the coronavirus. As one-third of humanity is effectively confined to their homes, the world is experiencing lower levels of toxic emissions and improved air quality.

In India, pollution levels have dipped as the lockdown in megacities has kept cars off the road and closed factories. New Delhi, which regularly has unhealthy air conditions, saw its AQI falling below 95 last week — a big reduction from its monthly average of 161 from March 2019. Mumbai, too, has witnessed a similar reduction in pollution.

Man Aman Singh Chhina

✔@manaman_chhina

https://twitter.com/manaman_chhina/status/1245977571625299968

The mighty Dhauladhars in Himachal Pradesh are now visible from Jalandhar as the air gets cleaner due to lockdown. Never thought this was possible!
First pic is from a DSLR and second from a mobile phone camera.
Pics courtesy colleague @Anjuagnihotri1
View image on TwitterView image on Twitter

3,512

1:02 PM - Apr 3, 2020
Twitter Ads info and privacy

1,271 people are talking about this



Also, the air quality in Punjab has improved drastically and most of the cities are now in the ‘green zone’, perhaps for the first time in the past several years.

Ludhiana, which is among the most polluted cities of the country, was the cleanest city of India on March 23 with air quality index (AQI) of 35, according to the data sourced from the central pollution control board (CPCB)’s app ‘Sameer’. A day later (March 24), it was 39 and on March 26 it had an AQI of 34. In between these two days, on March 25, it was again the cleanest city in India with AQI of 27.
According to the CPCB guidelines, AQI is good if its value is between 0-50 and has minimal impact on environment. It is termed as ‘dark green zone’. An AQI between 51 to 100 which can cause minor breathing discomfort to sensitive people is considered satisfactory and is placed in ‘light green zone’. If AQI is between 101 to 200 then it is termed as moderate and can cause breathing discomfort to the people with asthma and heart diseases. During paddy stubble burning season, almost entire Punjab had an AQI of more than 300 and on few days it breached the 400-mark as well.
The elevation of the Dhauladhars ranges widely from 3,500 m to nearly 6,000 m. The range curves towards Mandi from the banks of the Beas river in Kullu. It then passes through Barabhangal towards the north and joins the Pir Panjal range after which it moves into Chamba.






As air gets cleaner, Himachal’s Dhauladhar mountain is visible from Jalandhar
 

adsatinder

explorer
Today Snow at higher reaches of Ladakh / J&K, Himachal possible.
Rain at lower regions possible.
Later in evening Uttarakhand may also see snowfall & rain at places.

Tommorow daytime:
Himachal Pradesh / Uttarakhand may see rain at lower regions and snowfall at higher reaches.

1586262842298.png
 
Last edited:

adsatinder

explorer
Fresh Snowfall In Rohtang Lahaul Spiti And Rain In Shimla And Kullu
हिमाचल: अप्रैल में भी नहीं थम रही बर्फबारी, किसानों-बागवानों को सताने लगी चिंता
अमर उजाला नेटवर्क, कुल्लू/शिमला, Updated Wed, 08 Apr 2020 11:55 AM IST
fresh snowfall in rohtang lahaul spiti and rain in shimla and kullu

1 of 5
- फोटो : अमर उजाला

हिमाचल प्रदेश में मौसम का मिजाज एक बार फिर से बिगड़ गया है। शिमला में हल्की बारिश हुई है। रोहतांग दर्रा सहित कुल्लू और लाहौल-स्पीति जिला में ऊंची चोटियों में ताजा हिमपात हुआ है।


अमर उजाला नेटवर्क, कुल्लू/शिमला, Updated Wed, 08 Apr 2020 11:55 AM IST

2 of 5
- फोटो : अमर उजाला

जबकि निचले क्षेत्रों में बारिश का क्रम जारी है। बुधवार सुबह से मौसम खराब बना हुआ है। पहाड़ों पर बर्फबारी के बाद अप्रैल के दूसरे सप्ताह में भी ठंड का कहर जारी है। वहीं ओलावृष्टि व अंधड़ से सेब की फ्लावरिंग पर संकट छा गया है।



अमर उजाला नेटवर्क, कुल्लू/शिमला, Updated Wed, 08 Apr 2020 11:55 AM IST

3 of 5
- फोटो : अमर उजाला

जबकि इससे पहले मार्च माह में भी लगातार पहाड़ों में बर्फबारी व निचले इलाकों में बारिश व ओलावृष्टि होने से प्लम की करीब 60 से 70 फीसदी फसल को नुकसान हुआ है। इन दिनों सेब के बगीचों में फ्लावरिंग का दौर शुरू हो गया है। जिला कुल्लू में 95 प्रतिशत लोग बागवानी से जुड़े हैं।



अमर उजाला नेटवर्क, कुल्लू/शिमला, Updated Wed, 08 Apr 2020 11:55 AM IST

4 of 5
- फोटो : अमर उजाला

मगर मौसम की बेरुखी ने हजारों बागवानों की चिंता को बढ़ा दिया है। वहीं रोहतांग व इसके आसपास बर्फबारी होने से बीआरओ का रोहतांग बहाली का कार्य फिर से रूक गया है और अप्रैल माह के तीसरे सप्ताह तक दर्रा के बहाल होने को झटका लगा है।



5 of 5
- फोटो : अमर उजाला

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के अनुसार प्रदेश के सभी क्षेत्रों में बुधवार और गुरुवार को भी मौसम खराब रहेगा। मैदानी और मध्य पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश-ओलावृष्टि और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी होने का पूर्वानुमान है। 10 अप्रैल से पूरे प्रदेश में मौसम साफ रहने की संभावना जताई गई है।


हिमाचल: अप्रैल में भी नहीं थम रही बर्फबारी, किसानों-बागवानों को सताने लगी चिंता
 

adsatinder

explorer
Today now and at night,
Snow at higher reaches of Ladakh / J&K, Himachal possible.
Rain at lower regions possible.


Tommorow :
Himachal Pradesh / Uttarakhand may see rain at some of lower regions and snowfall at higher reaches.


8.30pm, 9-4-2020

1586440258928.png






2.30 am, 10-4-2020

1586440383091.png
 

adsatinder

explorer
Bihar
Patna

Patna, Bihar Weather Forecast Updates; Western Disturbance to Impact Bihar Patna Gaya Bhagalpur Muzaffarpur


मौसम / पश्चिमी विक्षोभ के कारण 9 से 11 तक बिहार के अधिकांश जिलों में छाये रहेंगे बादल, 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी हवाएं
मौसम विभाग का कहना है कि हल्की बारिश के बाद अगले कुछ दिनों तक मौसम सामान्य रहेगा।


मौसम विभाग का कहना है कि हल्की बारिश के बाद अगले कुछ दिनों तक मौसम सामान्य रहेगा।
  • मौसम विभाग के मुताबिक बिहार के कई जिलों में हल्की बारिश भी हो सकती है
  • बुधवार का अधिकतम तामपान-37 डिग्री और न्यूनतम तापमान-21 डिग्री

दैनिक भास्कर
Apr 08, 2020, 01:35 PM IST

पटना. पटना. पश्चिमी विक्षोभ देश के मैदानी इलाकों में एक बार फिर सक्रिय है। विक्षोभ की वजह से एक टर्फ लाइन बिहार, झारखंड, पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ऊपरी हिस्से पर बना हुआ है। मौसम विभाग का कहना है कि 9 से 11 अप्रैल तक बिहार के अधिकांश जिलों में बादल छाए रहेंगे। इस दौरान 18 से 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेगी। कुछ जगहों पर हल्की बारिश भी हो सकती है।
मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ के बाद भी बंगाल की खाड़ी से शुष्क हवाएं उठती रहेंगी। इस वजह से अगले कुछ दिनों तक सुबह 7 बजे तक हल्के ठंड का एहसास होगा। सुबह 10 बजे के बाद हवाएं गर्म हो जाएगी जिससे लू चलेगा। हल्की बारिश के बाद मौसम सामान्य होने की उम्मीद है।


पश्चिमी विक्षोभ के कारण 9 से 11 तक बिहार के अधिकांश जिलों में छाये रहेंगे बादल, 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी हवाएं
 

adsatinder

explorer
Weather 13 April 2020 :
Snowfall possible at higher reaches of J&K, Ladakh, Himachal Pradesh & Uttarakhand.
Rain at lower areas possible.


14 April 2020 weather.jpeg
 
Top