Viral Shocking Messages Facts/Fake on Social Media: Whatsapp, facebook etc.

adsatinder

explorer
Fact Check: This India Today screenshot about extension of lockdown is doctored

Neither has the prime minister made any such announcement nor have India Today or Aaj Tak broadcast any such news reports.




  • Vidya
  • Mumbai
  • April 2, 2020
  • UPDATED: April 2, 2020 21:09 IST
1585842261883.png





Ever since the government announced a 21-day nationwide lockdown to contain the spread of the novel coronavirus, there has been speculation about it being extended further. Some social media users have been sharing images of India Today and Aaj Tak news channels running claims that the prime minister has announced the extension of lockdown.
The images being shared are manipulated.
Neither has the prime minister made any such announcement nor have India Today or Aaj Tak broadcast any such news reports.

The claim
Facebook
user 'Jo Moh' uploaded an image with the caption: "Ops this lockdown till the end of May 4.. extend hogya re lockdown." The photo uploaded with the post was an image of purported TV news channel broadcast. The image had the logo of India Today. In the image, there is a picture of Prime Minister Narendra Modi. The picture is accompanied by this text: 'All India Lockdown increased till 4th May.' A similar message is seen written near the bottom of the image. The archived version of the post can be seen here.


The Truth
The photo being shared is morphed. The image seen in the post is from the day India Today broadcast Prime Minister Narendra Modi's address in which he announced the lockdown. The text in the original image has been replaced with incorrect messages about the lockdown being extended. The difference in fonts between the two images is easily discernible.


1585842301172.png


Since PM Modi's address to the nation on March 24, he has not addressed the country again. India Today news channel has at no point carried any news report claiming that the lockdown was being extended. In fact, on the website there are articles about the government clarifying that there are no plans right now to extend the lockdown.

1585842412917.png




Another similar photo has been going viral on WhatsApp. This image is a collage of four photos and carries the Aaj Tak news channel's logo. Out of the four photos, one image carries the claim that areas with no positive coronavirus cases will be brought out of the lockdown. Another image claims that the lockdown will be lifted from April 5. The third image claims that lockdown will be lifted in Rewari, Narnaul, Mahendragadh, Dadri, Bhiwani and Bahal areas of Haryana. The last image displays a claim that shoot at sight orders have been issued in Gurgaon and Faridabad areas near national capital Delhi to crack down on lockdown violators.
The images are accompanied by 'Breaking News' text in English. The 'Breaking News' format seen in the images is not being used by Aaj Tak currently. The format was changed some time ago. The images in the viral WhatsApp forward are prepared using a software.


1585842475665.png





Conclusion
The lockdown is neither being withdrawn right now nor are there any reports of it being extended. The viral photographs carrying Aaj Tak and India Today logos and carrying such claims are fake.


INDIA TODAY FACT CHECK



Claim
Aajtak news channel shows lockdown is withdrawn at few places while India Today news channel shows it is extended till May

4.ConclusionThe lockdown is neither extended nor withdrawn at any location. News channel logos are used to create fake photos.


1585842518710.png



 
Last edited:

adsatinder

explorer
A viral message on social media claims that the Disaster Management Act is going to be implemented in India and no citizen will be allowed to post or share any message related to coronavirus.
Here's a fact check.




Fake Memo on Disaster Management Act Says COVID-19 Posts Illegal

THE QUINTUPDATED:16H 38M AGO

5 min read


CLAIM

A viral message on social media claims that the Disaster Management Act is going to be implemented from "tonight 12 (midnight) onwards". Citing the Act, the message claims that no citizen apart from a government department will be allowed to post any update or share any message related to the ongoing coronavirus pandemic.

If a citizen posts any message about the pandemic, it will allegedly be a punishable offence.

The message reads, "Mandate To All Residents. Tonight 12 ( midnight) onwards Disaster Management Act has been implemented across the country. According to this update, apart from the Govt department no other citizen is allowed to post any update or share any forward related to Coronavirus and it being punishable offence. Group Admins are requested to post the above update and inform the groups. (sic)"

The message is being widely shared on Twitter and Facebook with the same claim.

[https://gumlet](Photo Courtesy: Twitter/ Screengrab)

[https://gumlet](Photo Courtesy: Facebook/ Screengrab)

The Quint received a query on the claim being made in the viral message on its WhatsApp helpline.

[https://gumlet](Photo Courtesy: WhatsApp/ Screengrab)

Also Read : Fake Message Linked to MHA Claims Posting on COVID-19 is Illegal

[https://cdn]

[https://s-img]

Poor New Delhi Laborer Earned Rs. 11,600,000 On ...

Olymp Trade

[https://s-img]

A Girl Makes 145,000 Rupees A Day With This Simple ...

Olymp Trade

[https://s-img]

Secret Ancient Recipe To Treat Diabetes Now ...

Diab 99.9

MESSAGE FACTUALLY INCORRECT ON SEVERAL LEVELS

As per the Disaster Management Act, there is no provision that mentions that apart from government departments, no other citizen can be allowed to talk, update or share any news related to a disaster.

Also, the central government stated on 24 March itself – when the 21-day lockdown was announced – that the Disaster Management Act was being invoked to deal with the coronavirus pandemic.

Therefore, there is no question of the Act being “implemented from midnight tonight” as claimed in the viral message.

[https://gumlet]MHA’s order on implementation of Disaster Management Act dated 24 March.(Photo Courtesy: Ministry of Home Affairs/ Screengrab)

Further, the National Executive Committee of the National Disaster Management Authority, which has the power to issue directions/guidelines relating to the management of a disaster, has not issued any such direction at this point.

WHAT DOES SECTION 54 OF DISASTER MANAGEMENT ACT SAY?

Section 54 in the Disaster Management Act makes it a punishable offence to circulate a false alarm or warning about a disaster or its severity or magnitude.

Therefore, sharing any update or forward, whether on WhatsApp or social media, which is “false” is a criminal offence. However, if you share an opinion which is grounded in fact, then this would not be illegal.



[https://gumlet]Section 54 in the Disaster Management Act, 2005.(Photo Courtesy: Indian Kanoon/ Screengrab)

Also, the operation of Section 54 is not a new event, rather has been a possibility ever since 24 March.

SC ON COVID-19 RELATED INFORMATION

The Supreme Court of India on 31 March has passed an order in a case relating to the treatment of migrant workers, in which it has expressed concern about the danger of panic created by fake news in a situation like this.

This order reiterates that Section 54 of the Disaster Management Act can be used to punish those who spread false information.

Even this order does NOT restrict private individuals from sharing news relating to the coronavirus, and only allow the government to do this.


It notes that media organisations must ensure that they publish/refer to the government's official updates on developments about the coronavirus, but even there, the judges have expressly said that they do not want to "interfere with the free discussion about the pandemic".

Further, PIB Fact Check took to Twitter to mention that the message in circulation is false and misleading.

As a result, as long as false news is not being spread, there is no restriction on citizens to share any news or updates about the coronavirus situation. The message is therefore false and misleading.

You can read all our fact-checked stories on coronavirus here.


 

adsatinder

explorer
WHO has not made any such claim of doing Lockdown in phases.

No Fake News On WHO Issued Lockdown Protocol And Procedure For COVID 19


फैक्ट चेक / डब्ल्यूएचओ के नाम से लॉकडाउन का फर्जी प्रोटोकॉल वायरल, झूठा है 20 अप्रैल से फिर लॉकडाउन का दावा

No Fake News On WHO Issued Lockdown Protocol And Procedure For COVID-19


1
  • क्या वायरल : दावा किया गया है कि भारत में लॉकडाउन डब्ल्यूएचओ के लॉकडाउन प्रोटोकॉल के मुताबिक किया गया है, 20 अप्रैल से 18 मई के बीच इसकी तीसरी स्टेप होगी
  • क्या सच : डब्ल्यूएचओ ने ऐसा कोई प्रोटोकॉल जारी नहीं किया। भारत सरकार ने लॉकडाउन आगे बढ़ने वाले दावों को फर्जी बताया है

दैनिक भास्कर
Apr 05, 2020, 07:30 AM IST
फैक्ट चेक. सोशल मीडिया पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के नाम से एक मैसेज वायरल किया गया है। इसमें कोरोनावायरस को सबसे खतरनाक वायरस बताया गया है और लॉकडाउन पीरियड का प्रोटोकॉल और प्रोसीजर बताया गया है। वायरल मैसेज में लिखा है कि, लॉकडाउन की कुल 4 स्टेप बताई गई हैं। दावा किया गया है कि, पहली स्टेप में 1 दिन, दूसरी में 21 दिन, तीसरी में 28 दिन और चौथी में 15 दिन होते हैं। दूसरी स्टेप के बाद 5 दिन और तीसरी स्टेप के बाद 5 दिन का गेप होता है। वायरल दावे में लिखा है कि, भारत सरकार ने इसी प्रोटोकॉल को फॉलो करते हुए फर्स्ट स्टेप में 1 दिन और दूसरी स्टेप में 21 दिन का लॉकडाउन किया। 15 अप्रैल से 19 अप्रैल के बीच गेप किया जाएगा। फिर 20 अप्रैल से 18 मई के बीच लॉकडाउन होगा। वहीं मरीजों की संख्या जीरो हो जाती है तो लॉकडाउन खत्म कर दिया जाएगा।


क्या है सच्चाई
  • इस तथ्य की पड़ताल के लिए हमने डब्ल्यूएचओ के सर्विलेंस ऑफिसर डॉ शेखावत भारती से बात की। डॉ शेखावत ने बताया कि, यह कोई आधिकारिक मैसेज नहीं है। लॉकडाउन को ऐसा कोई शेड्यूल नहीं होता। यह वायरस भी सबसे खतरनाक नहीं। 80 प्रतिशत मामलों में हल्के संकेत मिलते हैं, जिनमें एडमिट करने की जरूरत नहीं होती। गंभीर स्थिति वाले मरीजों को ही विशेष देखरेख में रखने की जरूरत पड़ रही है।
  • भारत सरकार ने लॉकडाउन की अवधि 14 अप्रैल से आगे बढ़ाने को अफवाह बताया है।

  • पीएम मोदी ने सभी राज्य सरकारों से 14 अप्रैल के बाद की योजना तैयार करने को कहा है, जब लॉकडाउन खत्म हो जाएगा।
  • रिपोर्ट्स के मुताबिक, लॉकडाउन एकसाथ खत्म नहीं किया जाएगा बल्कि अलग-अलग फेज में इसे हटाया जाएगा।

डब्ल्यूएचओ के नाम से लॉकडाउन का फर्जी प्रोटोकॉल वायरल, झूठा है 20 अप्रैल से फिर लॉकडाउन का दावा
 

adsatinder

explorer
Viral images are being shared on whatsapp / facebook etc Social Media:


A.
WhatsApp Image 2020-04-05 at 14.20.34.jpeg




B.
WhatsApp Image 2020-04-05 at 14.20.34 (1).jpeg


C.
WhatsApp Image 2020-04-05 at 14.20.36 (1).jpeg


D.
WhatsApp Image 2020-04-05 at 14.20.36 (1).jpeg



E.
WhatsApp Image 2020-04-05 at 14.20.36.jpeg



F.
WhatsApp Image 2020-04-05 at 14.20.35 (1).jpeg




G.
WhatsApp Image 2020-04-05 at 14.20.35.jpeg






H.
WhatsApp Image 2020-04-05 at 14.20.36 (2).jpeg





REALITY :


फैक्ट चेक / बिजनौर पुलिस ने सच में मदरसे से जब्त किए थे हथियार लेकिन इसके साथ एक फेक फोटो भी शेयर हो रही


UP police recover illegal arms from Madrasa


    • क्या वायरल : पुलवामा अटैक के दौरान बार-बार पूछने वालों, अब एक बार ये भी पूछ लो कि बिजनौर के मदरसे में इतना हथियार कहां से आया
    • क्या सच : बिजनौर पुलिस ने मदरसे से हथियारों सहित आरोपियों को पकड़ा है लेकिन इसके साथ शेयर की जा रही एक फोटो का इस घटनाक्रम से कोई लेनादेना नहीं

दैनिक भास्कर
Jul 28, 2019, 01:02 PM IST
फैक्ट चेक डेस्क. पिछले कई दिनों सोशल मीडिया पर कुछ फोटोज वायरल की जा रही हैं। इसमें एक फोटो में पुलिस और कुछ आरोपी नजर आ रहे हैं। वहीं दूसरी फोटो में हथियार रखे हैं। सोशल मीडिया में दावा किया जा रहा है कि यह हथियार बिजनौर के मदरसे में मिले। दैनिक भास्कर प्लस ऐप के एक पाठक ने हमें इस खबर की सत्यता जांचने की अपील की। पड़ताल में पता चला कि यह खबर तो सही है लेकिन इनके साथ में वायरल की जा रही एक फोटो का इस घटनाक्रम से कोई लेना-देना नहीं।
क्या वायरल
  • RDX कहां से आया!
  • पुलवामा अटैक के दौरान बार-बार पूछने वालों, अब एक बार ये भी पूछ लो कि बिजनौर के मदरसे में इतना हथियार कहां से आया।
सोशल मीडिया में यह फोटो वायरल की जा रही है।

  • एक यूजर ने कन्नड़ में भी इसी मैसेज को शेयर किया है।
इसे फेसबुक पर भी शेयर किया जा रहा है।

  • कुछ यूजर्स ने इसे ट्वीटर पर भी शेयर किया है।

Kuldeep Somayaji [email protected]


The illegal weapons & arms were stored in medicine boxes inside the Madrasa in Uttar Pradesh.The Madrasa superintendent named Sajid was arrested along with five others and was sent to jail, Police confirmed.
Twitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखें
1
7:49 am - 13 जुल॰ 2019
Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता
Kuldeep Somayaji P. के अन्य ट्वीट देखें


क्या है सच्चाई
  • पड़ताल में पता चला कि बिजनौर पुलिस ने मदरसे में अवैध शस्त्रों की तस्करी करते हुए 6 आरोपियों को पकड़ा था। इनके पास से 1 पिस्टल, 4 तमंचे और भारी मात्रा में कारतूस बरामद की गईं थीं।
  • खुद पुलिस ने इस घटना की सूचना अपने ट्वीटर अकाउंट पर दी थी। इसी से इस बात की पुष्टि होती है कि यह घटना सच में हुई है।

Bijnor Police
✔@bijnorpolice


थाना शेरकोट @bijnorpolice द्वारा मदरसे में अवैध शस्त्रों की तस्करी करते 06 अभियुक्तगण 01 पिस्टल, 04 तमंचे व भारी मात्रा में कारतूसों सहित गिरफ्तार। #uppolice @Uppolice @adgzonebareilly @digmoradabad @News18India
Twitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखें
19
6:57 pm - 11 जुल॰ 2019
Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता
18 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं


  • इस मामले में मदरसे के निदेशक एमडी साजिद, फहीम अहमद, अजीजुरमाहमा, जफर इस्लाम, शिकंदर अली और सबीर को गिरफ्तार किया गया था। दो आरोपी आरिफ और आसिफ फरार थे। इस घटना का कवरेज मीडिया द्वारा भी किया गया था।

ANI UP
✔@ANINewsUP


Bijnor: 6 accused who were detained after illegal weapons were recovered from a 'madarsa' in Sherkot, are being interrogated at Anti-Terrorism Squad police station.
Twitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखें
482
12:35 pm - 11 जुल॰ 2019
Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता
172 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं


  • हालांकि सोशल मीडिया में इस घटना के साथ एक ऐसा फोटो शेयर किया जा रहा है, जिसका इससे कोई लेनादेना नहीं है। यह फोटो मार्च 2019 में शेयर किया गया था।
यह पुराना फोटो है। इसे गलत जानकारी के साथ सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है।




बिजनौर पुलिस ने सच में मदरसे से जब्त किए थे हथियार लेकिन इसके साथ एक फेक फोटो भी शेयर हो रही
 

adsatinder

explorer
Old video from Mexico viral as Americans looting malls due to fear of coronavirus
Archit Mehta
6th April 2020
Avatar
Archit MehtaArchitMeta
According to the John Hopkins Coronavirus Resource Centre, as of April 5, the United States has recorded the most number of confirmed COVID-19 cases – 330,000. Over 9,500 people have lost their lives in the country due to the pandemic.
A two-minute video which shows people looting a mall has gone viral on social media. The claim associated with the video suggests that people in America are looting malls due to a fear of coronavirus. On the bottom right, one can spot a CNN logo with the news flash – “BREAKING NEWS Organized theft of malls in California, Virginia, York and other cities due to fears of a corona virus.”



Kuwait-based social media celebrity Bibi Alabdulmohsen shared the viral video on Twitter (archive link). She quote-tweeted a tweet which said, “Malls stormed America in California. Virginia. New York. And other states (translated from اقتحام المولات بامريكا في كاليفورنا . فيرجينيا . نيويورك . و ولايات اخرى).”

42 people are talking about this



Alt News has received several requests to fact-check the viral video on WhatsApp (+91 76000 11160) and on our official Android application.

Old video from Mexico
Alt News performed a keywords search on YouTube and noticed that a similar-looking mall was looted in Veracruz, Mexico three years ago.

Using this as a clue, we performed another keyword search but with Spanish keywords ‘saqueo de centros comerciales’ (translation of ‘mall looting’ by Google). The viral video was also published by a YouTube account Fernando Mojica J on January 6, 2017.

According to the description, the video shows the looting at Chedraui Ponti mall Veracruz on January 4, 2017. A January 5, 2017 report by Bloomberg confirms the incident. According to the report, people responded to a hike in gasoline prices by looting several malls. The viral video has been clipped from the 1:46 mark.

CNN logo morphed
Readers should note that the breaking news text and CNN logo has been morphed. The screenshot below compares stills from two videos which shows a man wearing number 12 jersey.

Therefore the claim associated with the viral video is false and misleading. Americans did not loot malls in the US fearing coronavirus pandemic but the video represents an old incident from Mexico.


Old video from Mexico viral as Americans looting malls due to fear of coronavirus - Alt News
 

adsatinder

explorer
Scene from 2007 sci-fi miniseries viral as mass graves of coronavirus victims in Italy
Mohammed Zubair
26th March 2020
Mohammed Zubair
Mohammed Zubair
A 23-second video showing piles of dead bodies is viral on social with the claim that these are the victims of coronavirus in Italy. The anchor in the clip can be heard saying, “Though unsubstantiated by state and city authorities, we now have information for a knowledgeable source that tells us the city’s temporary morgues are filled beyond capacity. Mass graves have been dug for the incineration and burial of the dead. The current death toll due to the riptide virus is now in the thousands.”
The video has been shared with the message, “HORRIBLE UNTHINKABLE TO SEE DEAD BODIES AT ITALY coronavirus. Maas grave yard”
HORRIBLE UNTHINKABLE TO SEE DEAD BODIES AT ITALY coronavirus
Maas grave yard pic.twitter.com/vbnBuvEJYd
— Satish Rathod (@Satishrathod100) March 25, 2020
The video is viral on Facebook and Whatsapp.

Alt News has received several fact-check requests for the video on ( WhatsApp +91 76000 11160 and our official Android application.

Clip from a 2007 miniseries
In the video, the anchor mentions the term “riptide virus”. Taking the clue, Alt News found that the scene is from a miniseries ‘Pandemic’ released in 2007. It available on YouTube and the viral scene can be viewed between 1:01:54 and 1:02:22.

The YouTube link of the series has been attached below. ‘Pandemic’ is a science-fiction horror series where an epidemiologist and an FBI agent try to stop a deadly virus that spreads from person to person in Los Angeles.



A scene from a science-fiction miniseries is thus viral as mass graves of coronavirus victims in Italy.

Note: The number of positive cases of the novel coronavirus in India is close to 700. This has caused the government to impose a complete restriction on movement apart from essential services. Globally, more than 4 lakh confirmed cases and over 21,000 deaths have been reported. There is a growing sense of panic among citizens, causing them to fall for a variety of online misinformation – misleading images and videos rousing fear or medical misinformation promoting pseudoscience and invalid treatments. While your intentions may be pure, misinformation, spread especially during a global pandemic, can take lives. We request our readers to practice caution and not forward unverified messages on WhatsApp and other social media platforms.


Scene from 2007 sci-fi miniseries viral as mass graves of coronavirus victims in Italy - Alt News
 

adsatinder

explorer
क्या PM मोदी की अपील के बाद ब्राज़ील और स्विट्जरलैंड में भी लोगों ने फ़्लैश-लाइट जलाकर मुहिम में हिस्सा लिया?
6th April 2020
Kinjal
Kinjal@HereisKinjal
देश में कोरोना वायरस की वजह से 24 मार्च 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की. लॉकडाउन के दौरान देश के लोगों का मनोबल बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 अप्रैल को रात 9 बजे, 9 मिनट तक घर की सभी लाइटें बंद करके घर की बालकनी या छत से दिया, लाइट, टॉर्च या मोबाइल की फ़्लैश-लाइट ऑन करने की अपील की थी. इसी के चलते 5 अप्रैल को ज़्यादातर देशवासियों ने इस मुहिम में हिस्सा लिया. इसी बीच सोशल मीडिया में एक वीडियो शेयर होने लगा. वीडियो में लोगों को सड़कों पर मोबाईल की फ़्लैश-लाइट जला कर हाथ हिलाते हुए देखा जा सकता है. दावा है कि ये वीडियो स्विट्जरलैंड का है और वहां के लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी की बात मानकर इस मुहिम में हिस्सा लिया है.
हिन्दू हिंदुस्तान नाम के एक अकाउंट ने ये वीडियो 5 अप्रैल 2020 को शेयर किया. वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा -“ब्राज़ील के टेलीविज़न चैनलों ने भारत के प्रधानमंत्री मोदी का भाषण अपने देश में दिखाया और कल रात यानी 4 अप्रैल को ही ब्राज़ीलिओ ने ये कर दिखाया।” उनकी पोस्ट से शेयर किये गए इस वीडियो को आर्टिकल लिखे जाने तक 3,300 बार शेयर किया जा चुका है. (फ़ेसबुक पोस्ट का आर्काइव लिंक)
ब्राज़ील के टेलीविज़न चैनलों ने भारत के प्रधानमंत्री मोदी का भाषण अपने देश में दिखाया और कल रात यानी 4 अप्रैल को ही ब्राज़ीलिओ ने ये कर दिखाया।
Posted by हिन्दू हिन्दुस्तान on Sunday, 5 April 2020
ट्विटर यूज़र किरण सिन्हा ने ये वीडियो एक और मेसेज के साथ शेयर किया है -“यह देखिए स्विट्जरलैंड में ओर इसी तरह अन्य देशों में भी हो रहा हैं।भारत में दीया जलाने भर कहने से लोगों केदिल जलने दो दिन पहले से ही शुरू हो गया था.Thinking faceThinking faceThinking faceSmiling face with smiling eyes.” (आर्काइव किया हुआ ट्वीट)

Kiran Sinha किरण सिन्हा@KiranSi27813888

https://twitter.com/KiranSi27813888/status/1246615299912155136

यह देखिए स्विट्जरलैंड में ओर इसी तरह अन्य देशों में भी हो रहा हैं।
भारत में दीया जलाने भर कहने से लोगों के
दिल जलने दो दिन पहले से ही शुरू हो गया था


Embedded video


52

07:17 - 5 Apr 2020
Twitter Ads information and privacy

19 people are talking about this



ऑल्ट न्यूज़ के ऑफ़िशियल एंड्रॉइड ऐप पर इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिए कुछ रीक्वेस्ट भी मिलीं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ये अपील 3 अप्रैल 2020 को की थी.
फ़ैक्ट-चेक
वायरल वीडियो को कई फ़्रेम्स में तोड़कर रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमने पाया कि ये वीडियो फ़ेसबुक पर 28 मार्च 2020 को पोस्ट किया गया था. ‘नेम अबव ऑल नेम्स’ नाम के एक फ़ेसबुक पेज ने ये वीडियो पोस्ट किया था. पेज ने इस वीडियो को ब्राज़ील का बताया है. उनका दावा है कि ब्राज़ील के लोग भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं.

इसके अलावा ‘ब्राज़ील पेरा क्राइस्ट’ नाम के एक फ़ेसबुक पेज ने भी ये वीडियो 27 मार्च को पोस्ट किया था.

इस तरह ये बात साफ़ हो जाती है कि इस वीडियो का प्रधानमंत्री मोदी द्वारा की गई अपील से कोई लेना-देना नहीं है. मोदी ने ये अपील 3 अप्रैल को की थी जबकि ये वीडियो सोशल मीडिया में 27 मार्च से शेयर हो रहा है. हालांकि हम स्वतंत्र रूप से इस बात की पुष्टि नहीं कर पाए है कि ये वीडियो ब्राज़ील का है या नहीं लेकिन ये बात साफ़ है कि इसका प्रधानमंत्री मोदी द्वारा की गई अपील से कोई लेना-देना नहीं है.
इसी दावे से कई जगहों पर वायरल है ये वीडियो
ये वीडियो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाले मेसेज के साथ फ़ेसबुक और ट्विटर पर खूब शेयर हो रहा है.

इसके अलावा दूसरे मेसेज से भी ये वीडियो फ़ेसबुक और ट्विटर पर खूब वायरल हुआ है. ये सभी दावे ग़लत और बेबुनियाद हैं. ये वीडियो प्रधानमंत्री मोदी की अपील के कई दिन पहले का है.
नोट : भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 4,300 के पार जा पहुंची है. इसकी वजह से सरकार ने बुनियादी ज़रुरतों से जुड़ी चीज़ों को छोड़कर बाकी सभी चीज़ों पर पाबंदी लगा दी है. दुनिया भर में 12 लाख से ज़्यादा कन्फ़र्म केस सामने आये हैं और 70 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. लोगों में डर का माहौल बना हुआ है और इसी वजह से वो बिना जांच-पड़ताल किये किसी भी ख़बर पर विश्वास कर रहे हैं. लोग ग़लत जानकारियों का शिकार बन रहे हैं जो कि उनके लिए घातक भी साबित हो सकता है. ऐसे कई वीडियो या तस्वीरें वायरल हो रही हैं जो कि घरेलू नुस्खों और बेबुनियाद जानकारियों को बढ़ावा दे रही हैं. आपके इरादे ठीक हो सकते हैं लेकिन ऐसी भयावह स्थिति में यूं ग़लत जानकारियां जानलेवा हो सकती हैं. हम पाठकों से ये अपील करते हैं कि वो बिना जांचे-परखे और वेरीफ़ाई किये किसी भी मेसेज पर विश्वास न करें और उन्हें किसी भी जगह फ़ॉरवर्ड भी न करें.


क्या PM मोदी की अपील के बाद ब्राज़ील और स्विट्जरलैंड में भी लोगों ने फ़्लैश-लाइट जलाकर मुहिम में हिस्सा लिया?
 

adsatinder

explorer
पीएम मोदी कुम्भ की यात्रा करने वाले पहले प्रधानमंत्री नहीं हैं, भाजपा आईटी सेल प्रमुख का दावा गलत
1st March 2019
Pooja Chaudhuri
Pooja ChaudhuriPooja_Chaudhuri
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 जनवरी को प्रयागराज, उत्तर प्रदेश में चल रहे कुम्भ मेले में गंगा में पवित्र डुबकी लगाई। इसके तुरंत बाद भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट किया कि पीएम मोदी “इतने वर्षों में कुम्भ की यात्रा करने वाले पहले राज्य-प्रमुख हैं – (अनुवाद)”।

पीएम मोदी, कुम्भ की यात्रा करने वाले पहले प्रधानमंत्री नहीं हैं
मालवीय का दावा दो दृष्टि से गलत है।
पहला, प्रधानमंत्री, राज्य-प्रमुख नहीं होते हैं। वह मंत्रिमंडल के नेता और सरकार की कार्यकारी शाखा के प्रमुख होते हैं। भारत के राष्ट्रपति, राज्य-प्रमुख होते हैं। इस आधार पर, कुम्भ की यात्रा करने वाले पहले राज्य-प्रमुख, भारत के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद थे। वर्तमान राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने खुद ट्वीट किया था कि प्रसाद 1953 में मेला में आए थे।

President of India

✔@rashtrapatibhvn

https://twitter.com/rashtrapatibhvn/status/1085868011754405888

President Kovind visits Sangam in Prayagraj. This is the first visit by a President to the Kumbh Mela since the visit of President Rajendra Prasad in 1953.
View image on TwitterView image on TwitterView image on TwitterView image on Twitter

5,645

5:24 PM - Jan 17, 2019
Twitter Ads info and privacy

1,100 people are talking about this



दूसरा, पीएम मोदी, कुम्भ की यात्रा करने वाले पहले प्रधानमंत्री नहीं हैं। देश के पहले प्रधानमंत्री, जवाहरलाल नेहरू ने 1954 में कुम्भ की यात्रा की थी। ‘Pilgrimage and Power: The Kumbh Mela in Allahabad, 1765-1954′ पुस्तक की लेखिका कामा मैकलीन ने ‘1954 के कुम्भ में नेहरू’ की तस्वीर अपनी किताब में शामिल की थी और लिखा, “मेला की अगुवाई करते हुए, प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू व्यक्तिगत रूप से इसकी व्यवस्था में शामिल हो गए और इस स्थल का दौरा किया, भले ही तकनीकी रूप से यह यूपी सरकार का क्षेत्राधिकार था। पौष पूर्णिमा पर मेले की दूसरी यात्रा में, मीडिया फोटोग्राफर्स की मौजूदगी में, उन्होंने संगम के पवित्र जल में अपना हाथ डुबोये रखा… – (अनुवाद)”

केवल नेहरू ही नहीं, बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1977 में कुम्भ की यात्रा की थी। वरिष्ठ पत्रकार तवलीन सिंह ने दावा किया कि वह वहां मौजूद थीं, जब श्रीमती गांधी ने गंगा में डुबकी लगाई थी।

358 people are talking about this



इसलिए, अमित मालवीय का यह दावा कि पीएम मोदी कुम्भ मेला में जाने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं, गलत है क्योंकि जवाहरलाल नेहरू यह यात्रा करने वाले पहले प्रधानमंत्री थे।


पीएम मोदी कुम्भ की यात्रा करने वाले पहले प्रधानमंत्री नहीं हैं, भाजपा आईटी सेल प्रमुख का दावा गलत
 

adsatinder

explorer
Coronavirus: No, this video of bats removed from a rooftop is not from China
Kinjal
11th February 2020
Avatar
Kinjal@HereisKinjal
On February 10, The New York Times reported that Coronavirus killed 97 people in a single day in China. The epidemic has spread to other countries as well and according to several media reports, India ranks 17th at risk of importing coronavirus cases.
A three-minute video of bats being cleared from a rooftop has gone viral. Several Marathi social media users posted the video with the text, “They are saying the bat that was responsible for Coronavirus’s origination in Wuhan province in China….that bat’s presence in this house you can see… (Translated from Marathi: चीन देशातील वुहाण प्रांतात जेथे कोरोना रोगराईचा ज्या वटवाघळांनमुळे लागण झाल्याची शक्यता आहे त्या वटवाघळांचे येथील एका घरातील उपस्थिती किती आहे ते पहा….).”



On February 2, a Facebook user shared (archive) the viral video along with the Marathi text. Since then it has been viewed over 900 times.

The video has been posted (archive) on Twitter with the same message in Hindi, “चीन देशातील वुहाण प्रांतात जेथे कोरोना रोगराईचा ज्या वटवाघळांनमुळे लागण झाल्याची शक्यता आहे त्या वटवाघळांचे येथील एका घरातील उपस्थिती किती आहे ते पहा सारांश हिंदी में चायना में जहाँ से कोरोना वायरस फैला उस शहर के एक मकान के छत से कितने पंछी दुबक कर बैठे हैं….देखिए “
This post was shared by other Facebook accounts as well.



Fact-check

Alt News did a keyword search on Google and found a 12-minute video which shows bats being cleared from a rooftop. The video was uploaded by Istueta Roofing in 2011 which is a roofing company based out Miami, Florida in the US. Alt News noticed that the viral video begins at 6:55 mark.



The viral video has been created by compiling different portions of the original clip. At the 30-second mark, it has the exact frame as seen at the 3:20 mark in Istueta Roofing’s video. In both the screenshots (attached below), we see that tiles have the same initials – KTP.



Alt News noticed that Istueta Roofing has uploaded other videos of the incident. (video 1 and video 2). Therefore, the social media claim that video is from Wuhan, China where coronavirus originated, is false.




Coronavirus: No, this video of bats removed from a rooftop is not from China - Alt News
 
Top