Who's awake right now?

adsatinder

explorer
Govt selling vehicle and DL data of Indians for Rs 3 crore, 87 private companies already bought it

Govt selling vehicle and DL data of Indians for Rs 3 crore, 87 private companies already bought it

Replying to questions in Rajya Sabha, the Ministry of Road Transport and Highways has revealed that the government is selling some data related to vehicle registration and driving licences at a price of Rs 3 crore. The government has already earned Rs 65 crore revenue from this data.

ADVERTISEMENT

[https://akm-img-a-in]

Varun Singh New DelhiJuly 10, 2019UPDATED: July 10, 2019 13:14 IST

[https://akm-img-a-in]

The Road Transport and Highways Ministry has created "Bulk Data Sharing Policy & Procedure" for sharing certain fields in bulk data of vehicle registration.

HIGHLIGHTS

The government has also linked Vahan and Sarathi with stolen vehicles data from National Crime Records Bureau.

The Road Transport and Highways Ministry maintains the Centralized National Registry through the National Informatics Centre

In India, sale of bulk data -- even data that has private details -- is common.

Recently when the Economic Survey was released, one of the provisions in it talked of how data can be used to generate revenue. Now, it seems that the government is already doing it. In reply to a few questions in Rajya Sabha, Minister of Road Transport and Highways Nitin Gadkari has revealed that government is selling vehicle registration and driving licence data of Indians and earning money from it.

From the replies provided by the government in Rajya Sabha it is not clear how, if at all, the Ministry of Road Transport and Highways is taking care of privacy concerns and challenges that may arise from the sale of vehicle registration and driving licence data.

In his question, Husain Dalwai, a Congress MP in Rajya Sabha, asked "if government has intended to sell Vahan and Sarathi database in bulk, (and) if so, the estimated revenue for such a sale".

In reply, the government on July 8 revealed that it has provided 87 private and 32 government entities access to the Vahan and Sarathi database, and has collected Rs 65 crore so far by giving such access.

Vahan and Sarathi deal with data related to vehicle registration and driving licenses, respectively. The ministry maintains the Centralized National Registry through the National Informatics Centre and it has approximately 25 crore vehicle registration records and 15 crore driving license records.

The Road Transport and Highways Ministry has also created "Bulk Data Sharing Policy & Procedure" for sharing certain fields in bulk data of vehicle registration. "The organization seeking bulk data can obtain the data with an amount of Rs 3 crore for the FY 2019-20," Gadkari said in a written reply to Rajya Sabha.

The educational institutions can obtain the data for "research purposes and internal use only". The bulk data is provided to them one time on payment of Rs 5 lakh for the financial Year 2019-20, revealed the government.

"The revenue collected by the Government by providing access to Vahan and Sarathi database is Rs 65 crore till date," Gadkari said.

The government has also linked Vahan and Sarathi with stolen vehicles data from National Crime Records Bureau.

In India, sale of bulk data -- even data that has private details -- is common. But so far we saw that most of this data was scrapped, likely in an unauthorised way, from poorly secured websites and servers by private entities, who would then sell it. This is first time government has revealed that it is also selling data, likely for profit.

It is worth noting that in India we don't have a proper data protection law even though the Supreme Court earlier declared privacy a Fundamental Right under Article 21. However, in the absence of a proper mechanism to enforce privacy practices and due to lack of awareness, the concept of privacy is mostly a joke in country for now.

From the answers provided by the government in Rajya Sabha it is not clear how private companies, which have bought vehicle registration and driving licence data, are using it. But it is possible that this data can be valuable to not only automakers, who may use the information taken from it for precise customer targeting, but also to political parties and insurance companies.



 
  • Like
Reactions: cat

adsatinder

explorer
Drought in a flood-prone city | Chennai

Chennai's ground water reserves run low as its water crisis worsens.One major reason for Chennai's water crisis is poor management of demand and supply.



Raj Bhagat PalanichamyChennai June 28, 2019ISSUE DATE: July 8, 2019UPDATED: June 28, 2019 12:44 IST


The Chennai flood of 2015 caused immense loss of life and property. Today, the city is running out of water, putting immense stress on the population and administration. The four major lakes that supply Chennai's drinking water are dry, the Krishna river scheme didn't provide relief and the Veeranam project has proved insufficient to meet the city's water demand. Ground water reserves are running low, too, leaving Chennai dependent on desalination plants.

One major reason for Chennai's water crisis is poor management of demand and supply. Over the past century, like in many other Indian cities, Chennai's water demand has increased significantly due to rapid urbanisation and industrial and agricultural growth. Hence, even slight fluctuations in supply can cause a crisis. Chennai's rainfall in 2018, 835 mm, was less than the average 1,400 mm, triggering the crisis this year.

The government's increased focus on desalination plants and on bringing in water from other watersheds might not solve the problem. Desalination plants mean major investment and operational costs, and the Krishna and Cauvery rivers are also affected by water scarcity issues. In the face of such dilemma, the city needs to consider implementing a comprehensive plan to avert future water crises.
The first step would be for Chennai to improve enforcement of existing laws on rainwater harvesting. Rapid urbanisation has led to the construction of more and more pavements which prevent rainwater absorption and groundwater recharge. Green spaces and wetlands-recharge points-need to be created across the city. Rainfall recharge structures in public spaces, like at bus stands and on roads, need to be improved. Corporate firms in the city could fund these solutions as part of their corporate social responsibility programmes, thereby reducing the financial burden on the city.

A second step would be to reuse wastewater. Chennai's lakes and rivers have been affected by sewage dumping. Small treatment plants, combined with apartment-level sewage treatment systems, could treat the water to be used for non-potable purposes (running heating, ventilation and air conditioning systems and landscaping), without using more land.

Multiple Indian start-ups are working on providing solutions and revenue models, and need encouragement from the government.

Thirdly, Chennai's plan must also incorporate the protection of lakes and associated floodplains-major recharge points-which also help prevent floods. Rapid construction over floodplains has made Chennai vulnerable to both floods and drought. The Chennai Metropolitan Development Authority needs to put an immediate stop to such construction and consider providing incentives to prioritise transit-oriented development along the ridges to reduce pressure on floodplains and allow land value capture for mass transit systems which generates revenue.

Fourthly, the government should provide open and transparent data on water resources and uses, such as the extent of water pipes and how much water flows through them every day. This will allow experts and academics to pool their thoughts and ideas. As part of the smart cities programmes and data initiatives, Chennai needs to digitise itself for reimagining its future.

And, finally, Chennai's irrigation efficiency needs to improve. Agriculture is the biggest consumer of water in India and there are half a million hectares of farmland upstream of Chennai. Improving irrigation efficiency will increase water resources. However, we can't expect small-scale farmers to implement high-cost irrigation systems. City governments and the banking and insurance sectors should explore new financial models that would allow them to invest in and improve rural irrigation systems.

This five-point formula might not add financial strain to any of the stakeholders-the government, farmer, residents, and corporates-and would improve the livelihood conditions in the city. With a recent NITI Aayog report claiming that 21 Indian cities would run out of ground water by 2020, there's no time to waste. We need to implement sustainable solutions with a focus on integrated water resource management to avoid our own 'Day Zero'.

(Raj Bhagat Palanichamy is manager, sustainable cities, World Resources Institute, India)



 
  • Like
Reactions: cat

adsatinder

explorer
Reminder : @iamlucky



Shrikhand Mahadev Yatra Will Be From 15th To 25th July In Himachal

इस दिन से शुरू होगी श्रीखंड महादेव यात्रा, यहां जानिए पंजीकरण की अंतिम तिथि
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, आनी (कुल्लू) Updated Mon, 01 Jul 2019 05:19 PM IST


Shrikhand Mahadev Yatra will be from 15th to 25th July in himachal

- फोटो : अमर उजाला


प्रशासन ने श्रीखंड महादेव यात्रा के लिए तिथियां घोषित कर दी हैं। पंचायत समिति सभागार आनी में सोमवार को श्रीखंड यात्रा ट्रस्ट की बैठक हुई। एसडीएम चेत सिंह ने बताया कि श्रीखंड महादेव यात्रा 15 से 25 जुलाई तक होगी। यात्रियों को 10 से 14 जुलाई तक निरमंड तहसील कार्यालय में पंजीकरण करवाना होगा।

इससे पहले यात्रियों को शारीरिक जांच प्रमाण पत्र दिखाना होगा। श्रीखंड यात्रा ट्रस्ट को अधिक मजबूत बनाने और यात्रियों को अधिक सुविधा देने के लिए ट्रस्ट के खाता नंबर सार्वजनिक किए जाएंगे। यात्रा पर जाने वालों से 150 रुपये पंजीकरण शुल्क लिया जाएगा। डीसी कुल्लू डॉ. ऋचा वर्मा ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से श्रीखंड महादेव यात्रा की तैयारियों की समीक्षा की।

बैठक में विधायक किशोरी लाल सागर, एसडीएम चेत सिंह, तहसीलदार नीरजा शर्मा, बीडीओ मनमोहन सिंह, डीएफओ चंद्रभूषण, डीएसपी तेजिंद्र वर्मा, कारदार पुष्पेंद्र शर्मा, गोबिंद प्रसाद शर्मा, उपेंद्र कांत मिश्र, देवराज कश्यप, अशोक गिरी, एमडी अकेला, एसएल पाठक, तहसील कल्याण अधिकारी देवेंद्र कुमार, लोक निर्माण विभाग के एक्सईएन पासंग नेगी, प्रदीप ठाकुर, बिंदु बाला, कुलवंत कश्यप, जगदीश चंद, राजेश कुमार, हेमंत शर्मा आदि मौजूद रहे।

15 साल से अधिक आयु के लोग ही जा पाएंगे यात्रा पर



डीसी कुल्लू डॉ. ऋचा वर्मा ने निर्णय लिया है कि इस बार श्रीखंड यात्रा पर जाने वाले यात्रियों की आयुसीमा निर्धारित की गई है। 15 वर्ष से अधिक आयु वाले यात्री ही यात्रा कर सकते हैं। अधिक उम्र के लोगों को उनकी फिटनेस देखकर यात्रा की अनुमति दी जाएगी। वन विभाग को पैदल रास्तों को एक सप्ताह में ठीक करने के आदेश दिए गए हैं।

नशे पर रहेगा प्रतिबंध, पुलिस लगाएगी नाके
विधायक किशोरी लाल सागर ने कहा कि श्रीखंड महादेव यात्रा में देशभर के यात्रियों की स्वास्थ्य सुविधा और सुरक्षा निश्चित की जाएगी। यात्रा के दौरान नशे पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। पुलिस निरमंड से बेस कैंप तक नाके लगाएगी। बैठक में विभिन्न कार्यों को लेकर चर्चा की गई।


इस दिन से शुरू होगी श्रीखंड महादेव यात्रा, यहां जानिए पंजीकरण की अंतिम तिथि


Those who need Medical Certificate, have to go Nirmand and get that before 14th July.
Reach there and arrange Medical Fitness Certificate.
IF this thing not works, take services of Seva Dal.
They will certainly help you.
 
Last edited:

jammbuster

A Rebel, in pursuit of a memorable life ...
क्या है धारा 370 जो जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को अन्य भारतीयों से अलग अधिकार देती है


धारा 370 की बड़ी बातें

- जम्मू-कश्मीर का झंडा अलग होता है।

- जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता होती है।

- जम्मू-कश्मीर में भारत के राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अपराध नहीं है। यहां भारत की सर्वोच्च अदालत के आदेश मान्य नहीं होते।

- जम्मू-कश्मीर की कोई महिला यदि भारत के किसी अन्य राज्य के व्यक्ति से शादी कर ले तो उस महिला की जम्मू-कश्मीर की नागरिकता खत्म हो जाएगी।

- यदि कोई कश्मीरी महिला पाकिस्तान के किसी व्यक्ति से शादी करती है, तो उसके पति को भी जम्मू-कश्मीर की नागरिकता मिल जाती है।

- धारा 370 के कारण कश्मीर में रहने वाले पाकिस्तानियों को भी भारतीय नागरिकता मिल जाती है।

- जम्मू-कश्मीर में बाहर के लोग जमीन नहीं खरीद सकते हैं।

- जम्मू-कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 साल होता है। जबकि भारत के अन्य राज्यों की विधानसभाओं का कार्यकाल 5 साल होता है।

- भारत की संसद जम्मू-कश्मीर के संबंध में बहुत ही सीमित दायरे में कानून बना सकती है।

- जम्मू-कश्मीर में महिलाओं पर शरियत कानून लागू है।

- जम्मू-कश्मीर में पंचायत के पास कोई अधिकार नहीं है।

- धारा 370 के कारण जम्मू-कश्मीर में सूचना का अधिकार (आरटीआई) लागू नहीं होता।

- जम्मू-कश्मीर में शिक्षा का अधिकार (आरटीई) लागू नहीं होता है। यहां सीएजी (CAG) भी लागू नहीं है।

- जम्मू-कश्मीर में काम करने वाले चपरासी को आज भी ढाई हजार रूपये ही बतौर वेतन मिलते हैं।

- कश्मीर में अल्पसंख्यक हिन्दूओं और सिखों को 16 फीसदी आरक्षण नहीं मिलता है।

Sent from my Redmi 4A using Tapatalk
 

adsatinder

explorer
क्या है धारा 370 जो जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को अन्य भारतीयों से अलग अधिकार देती है


धारा 370 की बड़ी बातें

- जम्मू-कश्मीर का झंडा अलग होता है।

- जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता होती है।

- जम्मू-कश्मीर में भारत के राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अपराध नहीं है। यहां भारत की सर्वोच्च अदालत के आदेश मान्य नहीं होते।

- जम्मू-कश्मीर की कोई महिला यदि भारत के किसी अन्य राज्य के व्यक्ति से शादी कर ले तो उस महिला की जम्मू-कश्मीर की नागरिकता खत्म हो जाएगी।

- यदि कोई कश्मीरी महिला पाकिस्तान के किसी व्यक्ति से शादी करती है, तो उसके पति को भी जम्मू-कश्मीर की नागरिकता मिल जाती है।

- धारा 370 के कारण कश्मीर में रहने वाले पाकिस्तानियों को भी भारतीय नागरिकता मिल जाती है।

- जम्मू-कश्मीर में बाहर के लोग जमीन नहीं खरीद सकते हैं।

- जम्मू-कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 साल होता है। जबकि भारत के अन्य राज्यों की विधानसभाओं का कार्यकाल 5 साल होता है।

- भारत की संसद जम्मू-कश्मीर के संबंध में बहुत ही सीमित दायरे में कानून बना सकती है।

- जम्मू-कश्मीर में महिलाओं पर शरियत कानून लागू है।

- जम्मू-कश्मीर में पंचायत के पास कोई अधिकार नहीं है।

- धारा 370 के कारण जम्मू-कश्मीर में सूचना का अधिकार (आरटीआई) लागू नहीं होता।

- जम्मू-कश्मीर में शिक्षा का अधिकार (आरटीई) लागू नहीं होता है। यहां सीएजी (CAG) भी लागू नहीं है।

- जम्मू-कश्मीर में काम करने वाले चपरासी को आज भी ढाई हजार रूपये ही बतौर वेतन मिलते हैं।

- कश्मीर में अल्पसंख्यक हिन्दूओं और सिखों को 16 फीसदी आरक्षण नहीं मिलता है।

Sent from my Redmi 4A using Tapatalk
What are you doing now ?
Their Hand pump ukhading ?
 

adsatinder

explorer
Sawan 2019: कब से शुरू होगा सावन, पहला सोमवार, मान्यताएं और व्रत में खाने से जुड़ी जरूरी बातें
अगर आप भी सोच रहे हैं कि 2019 में सावन कब है या साल 2019 में सावन कब से शुरू हो रहा है, तो आपको बता दें कि इस साल 17 जुलाई से सावन का महीना शुरू हो रहा है. सावन का पहला सोमवार 22 जुलाई को और सावन का अंतिम दिन 15 अगस्त को होगा.
Written by: अनिता शर्मा, Updated: 10 जुलाई, 2019 12:01 PM

खास बातें
  1. सावन 2019: 17 जुलाई से सावन का महीना शुरू हो रहा है
  2. सावन का पहला सोमवार 22 जुलाई को होगा.
  3. सावन का अंतिम दिन 15 अगस्त को होगा.
सावन (Sawan 2019) का महीना शुरू हो गया है. बस लोगों को इतजार है तो मानसून के आने का. दिल्ली में जहां बादल हल्के बरस कर लोगों को तरसा रहे हैं. सावन में शिव भक्त आराधना में डूब जाते हैं. जैसे ही हल्की बरसात होती है, लोग सावन के पहले सोमवार के बारे में जानकारी लताशने लगते हैं. अगर आप भी सोच रहे हैं कि 2019 में सावन कब है या साल 2019 में सावन कब से शुरू हो रहा है, तो आपको बता दें कि इस साल 17 जुलाई से सावन का महीना शुरू हो रहा है. सावन 2019 में भी शिव भक्त अपने देवता की अराधना में जुटेंगे. सावन के इसी महीने में शिवरात्रि (Shivratri) भी आती है. सावन का महीना 2019 में अपने पूरे जोर पर होगा. सावन 2019 में लोग शिव-पार्वती की पूजा-अर्चना में खुद को रमाएंगे. इस महीने में सोमवार को व्रत रखने का प्रावधान है. सावन के मौसम में पड़ने वाले चार सोमवार पर शिवभक्त व्रत रखते हैं. सावन में सोमवार का व्रत रखने से जुड़ी बहुत सी मान्यताएं हैं, लोगों का मानना है कि श्रावण सोमवार के व्रत रखने से अच्छा और मनचाहा जीवनसाथी मिलता है. सावन के दौरान रखे जाने वाले इन व्रतों को सावन के चार सोमवार व्रत के तौर पर जाना जाता है.

कब से शुरू होगा सावन 2019, पहला सोमवार का व्रत और सावन कब होगा समाप्त

- सावन का महीना 2019 में 17 जुलाई से शुरू हो रहा है. इसके साथ ही व्रत और त्योहारों की शुरुआत भी हो जाएगी.
- सावन का पहला सोमवार 22 जुलाई को होगा. इस दिन शिवभक्त चार सोमवार के व्रत की शुरुआत करते हैं.
- सावन 2019 में भी हर साल की तरह ही भगवान शिव का रुद्राभिषेक किया जाएगा. मान्यता है कि रुद्राभिषेक करने से भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं.
- सावन का अंतिम दिन 15 अगस्त को होगा.
- सावन के अंतिम दिन ही स्वतंत्रतता दिवस और रक्षाबंधन 2019 भी मनाया जाएगा.

सावन 2019 के संयोग और तिथियां
साल 2019 में पड़ने वाले सावन में हिंदू मान्यताओं के अुनसार सावन 2019 में कई शुभ संयोग बन रहे हैं. इस बार सावन के पहले सोमवार को ही श्रावण कृष्ण पंचमी है. वहीं दूसरे सावन में त्रयोदशी प्रदोष व्रत के साथ ही सर्वार्थ अमृत सिद्धि योग भी है. सावन 2019 में तीसरे सावन में नागपंचमी के शुभयोग हैं, जो कि बहुत ही भाग्यशाली माने जाते हैं. वहीं सावन 2019 के अंतिम सोमवार को त्रयोदशी तिथि का शुभ संयोग है.

सावन में सोमवार का व्रत रखें, तो बरतें ये सवाधानियां
सावन में सोमवार का व्रत रखने से जुड़ी बहुत सी मान्यताएं हैं, लोगों का मानना है कि श्रावण सोमवार के व्रत रखने से अच्छा और मनचाहा जीवनसाथी मिलता है. सावन के दौरान रखे जाने वाले इन व्रतों को सावन के चार सोमवार व्रत के तौर पर जाना जाता है. इस सावन का पहला सोमवार 17 जुलाई को होगा. सोमवार के व्रत खास तौर पर कुवांरी कन्याओं के लिए होता है, क्योंकि इसे रखने से मनचाहा वर मिलने की मान्यता है. व्रत रखने का मतलब है पूरे दिन अन्न न लेना. ऐसे मे सेहत से जुड़ी कई परेशानियां हो सकती है. अचानक से अपने रोजमर्रा के आहार में बदलाव करना और कम आहार लेना आपकी सेहत के लिए कई मायनों में खतरनाक हो सकता है. ऐसे में व्रत के दौरान अपनी सेहत से जुड़ी सवाधानियां बरतना भी जरूरी है, तो चलिए हम आपको बताते हैं कि कैसे आप भक्ति और सेहत का संतुलन बना सकते हैं-

चार सोमवार के व्रत रखते हुए डाइट टिप्स
व्रत के दौरान कुछ लोग एक समय का खाना खाते हैं, तो कई लोग पूरा दिन फलहाल पर ही हैं. इस दौरान ख्याल रखा जाना चाहिए कि कम खाना या भूखा रहना आपके स्वास्थ्य को किसी तरह से हानि न पहुंचाए. व्रत रखते समय कई बातों का ध्यान रखने की जरूरत है जैसे-
- इस बात का ध्यान रखें कि हर दिन आपके शरीर को जरूरी मात्रा में पोषक तत्व मिलें.
- खाली पेट न रहें और ज़्यादा से ज़्यादा तरह पदार्थ लेते रहें. ऐसा करने से शरीर में ऊर्जा बनी रहेगी और साथ ही डिहाइड्रेशन से भी बचे रहेंगे.

i7rtguvc

सावन 2019 में अगर आप सोमवार के व्रत रख रहे हैं तो डाइट में फलों को शामिल करें.

व्रत में क्या न खाएं
- पुराना बचा कूट्टू या सिंघाड़े का आटा इस्तेमाल न करें. यह कुछ समय बात खराब हो जाता है. ऐसे में इसे खाने से डायरिया होने का खतरा बढ़ जाता है.
- बर्फी, लड्डू और फ्राइड आलू जैसी तली और अत्यधिक चीनी वाली चीजों को खाने से बचें.
- अगर आप ज्यादा तला-भुना, मीठा या बिना नमक का खाना ले रहे हैं तो यह आपको ब्लडप्रेशर से जुड़ी समस्या दे सकता है.
- तला-भुना खाना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है. यह वजन बढ़ाने का काम कर सकता है या शुगर को भी प्रभावित कर सकता है.
- इस मौसम में तला-भुना खाने से बचें. बारिश के मौसम में यह संक्रमण या अपच की समस्या पैदा कर सकती है.
- खाली पेट रहने से एसिडिटी हो सकती है, ऐसे में ठंडा दूध लें और थोड़ी-थोड़ी देर में कुछ खाते रहें.
- अगर आपको डायबिटीज की शिकायत है, तो इस बात का खास ध्यान रखें कि आप ज्यादा देर तक खाली पेट न रहें. कुछ न कुछ खाते रहें और भरपूर पानी पिएं.

lord shiva


सावन 2019: इस साल सावन का महीना 17 जुलाई से शुरू होगा और पहला सोमवार 22 जुलाई को होगा.


व्रत में क्या खाएं
- व्रत के दौरान क्योंकि आप अनाज नहीं खाते इसलिए जरूरी है कि आप संतुलित भोजन लें.
- अगर आप सिर्फ फ्रूट्स खाते हैं और पानी कम पीते हैं तो कब्ज या शारीरिक कमजोरी महसूस हो सकती है.
- कुट्टू के आटे की रोटी या इडली भी आपके स्वाद और सेहत के लिए अच्छी साबित होगी.
- व्रत में खाए जाने वाले सामक के चावल आप पका सकते हैं अगर थोड़ा स्वाद भी पाना चाहते हैं तो इससे बना डोसा खा सकते हैं.
- लौकी, कद्दू या खीरे का रायता आपके खाने में एड ऑन होगा.
- आप खुद को एनर्जी देने के लिए लस्सी, मिल्करशेक, जूस वगैरह ले सकते हैं.
- जब भूख ज्यादा लगी हो तो ड्राई फ्रूट खा लें.


Sawan 2019: कब से शुरू होगा सावन, पहला सोमवार, मान्यताएं और व्रत में खाने से जुड़ी जरूरी बातें
 
Top