Who's awake right now?

adsatinder

explorer
What Happens When You Don’t Change Your Car Or Bike Engine Oil
क्या होगा अगर गाड़ी में इंजन ऑयल समय पर न बदला जाए, जानें
ऑटो डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 20 Sep 2019 01:58 PM IST

Change Engine Oil in car or bike


Change Engine Oil in car or bike - फोटो : Social


कार हो या बाइक, इनमें इंजन ऑयल सबसे अहम् होता है। अक्सर लोग गाड़ी में इंजन ऑयल को समय पर चेंज नहीं कराते और न ही टॉपअप काटे हैं जिसका परिणाम इंजन को भुगतना पड़ता है। इंजन ऑयल के लगातार इस्तेमाल से इसकी 'ल्यूब्रिकेट' और 'साफ' करने की क्षमता तेजी से कम होती है, जिससे इंजन का सामान्य तरीके से काम करना असंभव हो जाता है। लेकिन अगर इंजन ऑयल को समय पर नहीं बदलवाया तो इंजन को भारी नुकसान पहुंचता है।


कब बदलना चाइये इंजन ऑयल
आम तौर पर इंजन ऑयल को हर 6,000 किमी के बाद एक बार बदल दिया जाना चाहिए। इसके अलावा हर 3,000 किमी पर इसका टॉपअप भी किया जाना चाहिए। ऐसा करने से न केवल इंजन की लाइफ बढ़ेगी बल्कि परफॉरमेंस में भी लगातर सुधार आएगा।


क्या होंगे नुकसान
यदि आप समय पर इंजन ऑयल नहीं बदलाते तो इससे इंजन का प्रदर्शन खराब होने लगता लगता है। फ्यूल की खपत बढ़ जाती है। ओवरहीट की समस्या, शोर का स्तर बढ़ जाना और कई मामलों में तो इंजन पूरी तरह फेल हो जाया है। जिसकी वजह से आपका काफी सर्विस में लग जाता है।


ऑटो एक्सपर्ट की राय
ऑटो एक्सपर्ट टूटू बताते कि गाड़ी में समय पर इंजन ऑयल बदला लेना बेहद जरूरी है, अक्सर लोग सर्विस कराते समय भी इंजन ऑयल बदलाते नहीं हैं, जिसकी वजह से इंजन को नुकसान उठाना पड़ता है। अगर इंजन ऑयल की मात्रा कम लगे और काला पड़ गया हो तो इंजन ऑयल डलवा लें या टॉप-अप करवा लें। बाजार में कई सारे इंजन ऑयल मौजूद हैं लेकिन आप वही इस्तेमाल करें जो आपकी गाड़ी के लिए Recommend किया गया हो।



क्या होगा अगर गाड़ी में इंजन ऑयल समय पर न बदला जाए, जानें
 

adsatinder

explorer
Delegation Meet Kejriwal To Increase Gramin Sewa Fare
अब ग्रामीण सेवा वाहनों का किराया बढ़ाने की तैयारी, दिल्ली सरकार जल्द दे सकती है मंजूरी
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sun, 22 Sep 2019 01:16 AM IST

ग्रामीण सेवा (सांकेतिक तस्वीर)


ग्रामीण सेवा (सांकेतिक तस्वीर) - फोटो : अमर उजाला


ऑटो के किराये में वृद्धि के बाद अब ग्रामीण सेवा का किराया भी दिल्ली वालों की जेब पर भारी पड़ सकता है। दिल्ली में अलग-अलग रूटों पर चल रही ग्रामीण सेवा के किराये में बढ़ोत्तरी को सरकार जल्द मंजूरी दे सकती है। किराया वृद्धि की मांग को लेकर ग्रामीण सेवा चालकों के एक प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार को मुख्यमंत्री और परिवहन मंत्री से मुलाकात की।

संयुक्त संघर्ष समिति के उपाध्यक्ष चंदू चौरसिया ने बताया कि दिल्ली में वर्ष 2010 से 165 रूटों पर 6138 ग्रामीण सेवा वाहन चल रहे हैं। तब से लेकर अब तक इन वाहनों का किराया 5, 10 और 15 रुपये है। उन्होंने कहा कि पिछले नौ सालों में ऑटो के किराये में तीन बार वृद्धि हो चुकी है, इसलिए उन्होंने परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से ग्रामीण सेवा का किराया बढ़ाने के लिए सिफारिश की है।

शनिवार को भी ग्रामीण सेवा वाहन चालकों के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री और परिवहन मंत्री से मुलाकात की। चंदू चौरसिया ने बताया कि उन्हें इस बार किराया बढ़ाने के संबंध में सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है और सरकार की ओर से उन्हें किराया बढ़ाने के संबंध में आश्वासन भी मिला है। सरकार की ओर से ग्रामीण सेवा वाहनों का किराया बढ़ाने के संबंध में आदेश मिलने के बाद दिल्ली में ग्रामीण सेवा वाहनों का किराया 10, 20 और 25 रुपये हो सकता है।


अब ग्रामीण सेवा वाहनों का किराया बढ़ाने की तैयारी, दिल्ली सरकार जल्द दे सकती है मंजूरी
 
Top