Who's awake right now?

adsatinder

explorer
Russia earthquake: Tsunami warning after huge 7.5 magnitude tremor

An earthquake which struck near Russia's Kuril Islands has led the Pacific Tsunami Warning Centre to warn of possible hazardous tsunami waves within 620 miles


By Ryan Merrifield
03:54, 25 MAR 2020
UPDATED04:41, 25 MAR 2020



Tsunami warnings have been issues after a huge 7.5 magnitude earthquake struck off the coast of a Russian island.
The US Geological Survey said Wednesday's quake struck 135 miles south-east of Russia's Kuril Islands chain, north of Japan.
The Pacific Tsunami Warning Centre said hazardous tsunami waves were possible within 620 miles of the quake's epicentre.
It added earthquakes of this strength in the past have caused tsunamis far from the epicentre, and the US National Tsunami Warning Centre was analysing the event to determine the level of danger.
However, meteorological officials in Japan issued no alerts following the quake, although they said there might be slight tidal changes.


 A tsunami watch has been issued for Hawaii following large quake near the Kuril Islands, north of Japan

while another agency, the Pacific Tsunami Warning Center, said the quake had potential to generate a destructive tsunami.
"Tsunami waves are forecast to be less than 0.3 meters above the tide level," the centre said in its advisory about risks to the coasts of Hawaii, Japan, Russia and the Pacific islands of Midway, the Northern Marianas and Wake Island.
The height is equivalent to just under a foot.

 The epicentre was off the coast of the Russian-controlled Kuril Islands, 135 miles south-east of Japan


The Japan Meteorological Association warned against slight tidal changes but said no warnings or even watch advisories had been issued.
The earthquake, 218 km (135 miles) south-southeast of the town of Severo, struck at a depth of 56.7 km (35 miles), the U.S. Geological Survey (USGS) said.
There were no immediate reports of damage or casualties.



 

adsatinder

explorer
Inhone koi bomb to test nahi kar diya

Sent from my Redmi Note 8 Pro using Tapatalk
Tumhara balance sambhal nahi paya Russia.
Ek side per India me tum ho
Dusri side per Russia hai.
Bechron ka kya hoga ?
What will happen to Russia now ?
You will play PubG for next 21 days or more.
 

adsatinder

explorer
Fight Against Coronavirus South Korea Stop Corona Without Lockdown And Curfew

ना ही लॉकडाउन और ना ही कर्फ्यू, लेकिन इस देश ने दे दिया कोरोना को मात
फीचर डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली, Updated Wed, 25 Mar 2020 01:59 PM IST

चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस ने आज महामारी का रूप ले लिया है। इस वायरस के संक्रमण से विश्व के कई देशों में कोहराम मचा हुआ है। इसके बावजूद भी चीन के पड़ोसी देश जो वुहान से महज 1382 किलोमीटर के दूरी पर स्थित है, कोरोना को मात दे दिया है। कोरोना को हराने के लिए इस देश के लोगों ने कई तरीकों को अपनाया। कोरोना को हराने के लिए इस देश ने जिन तरीकों को इस्तेमाल किया है, उसे पूरी दुनिया में मॉडल माना जाएगा।

हम जिस देश की बात कर रहे हैं उसका नाम है दक्षिण कोरिया। दक्षिण कोरिया के पास अमेरिका, इटली और स्पेन जैसे मजबूत स्वास्थ्य व्यवस्था न रहने के बावजूद भी अन्य देशों की तरह कोई सख्ती नहीं की। यानी दक्षिण कोरिया ने कोरोना से बचने के लिए कोई कर्फ्यू या लॉकडाउन भी नहीं किया।

कोरोना से संक्रमित देशों की लिस्ट में आज दक्षिण कोरिया 8वें स्थान पर है। अबतक इस देश में कोरोना से संक्रमण के 9137 मामले मिले हैं, जिसमें 3500 से ज्यादा लोग ठीक हो गए हैं। वहीं इस वायरस से 129 लोगों की मौत हुई है और 59 लोग के हालात गंभीर है।

कोरोना वायरस से लड़ने में दक्षिण कोरिया एक मिसाल साबित हुआ है। हालांकि पहले ऐसी स्थिति नहीं थी। दक्षिण कोरिया में 8 से 9 मार्च के बीच 8000 लोग संक्रमित थे। लेकिन बीते दो दिनों की बात करें तो केवल 12 मामले सामने आए हैं। इससे ज्यादा चौंकाने वाली बात ये है कि इस देश ने पहला मामला मिलने से लेकर आज तक किसी भी तरह का कोई लॉकडाउन और कर्फ्यू नहीं किया।

दक्षिण कोरिया से अब विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO दूसरे देशों को सीख लेने को कह रहा है। कोरोना से लड़ने के लिए इस देश ने पहले से ही तैयारी कर ली थी। देश की सरकार ने सरकारी अधिकारियों समेत मेडिकल कंपनियों के प्रतिनिधियों से मुलाकत कर उनसे जांच किट बनाने की शुरुआत करने की बात की। बेहतर इलाज के लिए इस देश ने समय रहते कोरोना वायरस का जांच करना शुरू कर दिया, जिसके लिए पूरे देश में 600 से भी ज्यादा टेस्ट सेंटर खोले गए।

कोरोना के वायरस की स्क्रीनिंग के लिए इस देश ने बड़ी इमारतों, होटलों, पार्किंग और सार्वजनिक स्थानों पर थर्मल इमेजिंग कैमरे लगाए, जिससे बुखार पीड़ित व्यक्ति की तुरंत पहचान हो सके। रेस्टोरेंट और होटलों में जांच होने के बाद अंदर जाने की अनुमति मिलती थी। इसके अलावा यहां के विशेषज्ञों ने हाथों को संक्रमण से बचाने के लिए एक नायाब तरीका बताया।

अगर व्यक्ति दाएं हाथ से काम करता है तो उसे दरवाजे का हैंडल पकड़ने, मोबाइल चलाने समेत हर छोटे-बड़े काम के लिए बाएं हाथ के इस्तेमाल की सलाह दी गई। ठीक उसी तरह यदि व्यक्ति बाएं हाथ से काम करता है तो उसे दाएं हाथ इस्तेमाल करने की सलाह दी गई। शरीर में संक्रमण का प्रवेश हाथों के द्वारा ही होता है। ऐसे में इनका ये उपाय बहुत कारगर रहा।

 

adsatinder

explorer
Oldest Fort Of India Qila Mubarak In Bathinda Historical Monument

भारत का सबसे पुराना किला, कोई नहीं जानता किसने बनवाया
फीचर डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली, Updated Sat, 21 Mar 2020 08:25 PM IST

किला मुबारक, बठिंडा

1 of 5
किला मुबारक, बठिंडा- फोटो : Social media

भारत में एक से बढ़कर एक एतिहासिक किले हैं, जो दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं। दरअसल, पहले राजा-महाराजा किलों का निर्माण अपनी और अपने राज्य की सुरक्षा के लिए करते थे। देश में ऐसे कई किले हैं, जो सैकड़ों सालों से वैसे के वैसे ही खड़े हैं, जैसे पहले थे। क्या आप जानते हैं कि भारत का सबसे पुराना किला कौन सा है और कहां है? इसके बारे में बहुत कम ही लोग जानते होंगे। आज हम आपको इसी किले के बारे में बताने जा रहे हैं...


किला मुबारक, बठिंडा

2 of 5
किला मुबारक, बठिंडा- फोटो : Social media

इस किले का नाम है 'किला मुबारक', जो पंजाब के बठिंडा शहर में स्थित है। इसे भारत में राष्ट्रीय महत्व का स्थापत्य होने का दर्जा प्राप्त है। इस किले का रख-रखाव भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण विभाग के जिम्मे है। किला मुबारक को ईंट का सबसे पुराना और ऊंचा किला माना जाता है।

किला मुबारक, बठिंडा

3 of 5
किला मुबारक, बठिंडा- फोटो : Social media

करीब साढ़े 14 एकड़ में फैले इस किले का इतिहास बहुत ही पुराना है। कहते हैं कि सन् 1239 में इसी किले में महिला शासिका रजिया सुल्तान या सुल्ताना को उनके ही सेवक अल्तुनिया ने बंदी बना लिया था। दरअसल, रजिया सुल्ताना मुस्लिम एवं तुर्की इतिहास की पहली महिला शासक थीं। इसी वजह से इस किले को रजिया सुल्तान किला के नाम से भी जाना जाता है। इसके अलावा इसके और भी कई नाम हैं, जैसे बठिंडा किला, गोविंदघर, बकरामघर आदि।


1585138189019.png


4 of 5
किला मुबारक के अंदर बना गुरुद्वारा- फोटो : Social media

इस किले के अंदर एक गुरुद्वारा भी बना है, जिसे पटियाला के महाराजा करम सिंह ने बनवाया था। सिखों के गुरु नानक देव, गुरु तेगबहादुर भी इस किले में आ चुके हैं। इनके अलावा सिखों के दसवें गुरु श्रीगुरुगोविंद सिंह जी भी वर्ष 1705 में यहां आए थे। कहते हैं कि एक बार मुगल शासक बाबर अपने साथ कुछ तोपें लेकर इस किले में आया था, जिनमें से चार तोपें यहां अभी भी मौजूद हैं।


किला मुबारक, बठिंडा

5 of 5
किला मुबारक, बठिंडा- फोटो : Social media

इस किले में कुषाण काल की ईटें पाई गई हैं। कुषाण प्राचीन भारत के राजवंशों में से एक था। सम्राट कनिष्क भी कुषाण वंश के ही थे, जिनका राज भारत और मध्य एशिया के कई भागों पर था। माना जाता है कि इस किले का मूल निर्माण कनिष्क (78 ईसा पूर्व से 44 ई.) और राजा दाब ने ही किया था। हालांकि यह पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता है कि किले का निर्माण किसने करवाया था।


 

adsatinder

explorer
Coronavirus I Am At Home Listening To Mrs CM You Listen To Your Home Minister Essential Service To Open
कोरोना वायरस: उद्धव ठाकरे बोले- मैं घर पर हूं और पत्नी की सुन रहा हूं
न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई Updated Wed, 25 Mar 2020 03:03 PM IST


उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो) - फोटो : ANI


कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा संक्रमित लोग महाराष्ट्र से हैं। राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 116 हो गई है। बुधवार को वायरस से संक्रमित पांच नए मरीज मिले हैं। इसी बीच महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के लोगों को आश्वासन देते हुए कहा कि हमारे पास सब्जियों, चावल और दैनिक उपयोग की अन्य वस्तुओं के पर्याप्त भंडार है। वहीं उन्होंने कहा कि मैं अपनी पत्नी की सुन रहा हूं और आप अपने गृह मंत्री की सुनिए।

उद्धव ठाकरे ने संकट की इस घड़ी में राज्य के लोगों को आश्वासन देते कहा कि हमारे पास सब्जियों, चावल और दैनिक उपयोग की अन्य वस्तुओं के पर्याप्त भंडार है, इसलिए चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है। आवश्यक सामान बेचने वाली सभी दुकानें भी खुली हुई हैं। इस संकट से निपटने के बाद हम गुडीपड़वा का पर्व मनाएंगे।

उन्होंने कहा कि यह युद्ध जैसी परिस्थिति है और इसीलिए मैंने कोरोना वायरस की तुलना युद्ध से की है। जब हमें अपने दुश्मन के बारे में जानकार नहीं होती है तो दुश्मन हमपर हमला कर देता है। इसीलिए हमें जागरुक होना पड़ेगा क्योंकि हम अपने दुश्मन को नहीं देख सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं अपनी पत्नी की सुन रहा हूं और आप अपने गृह मंत्री की सुनिए। उन्होंने कहा, 'मैं घर पर हूं और मिसेज मुख्यमंत्री की सुन रहा हूं। आप अपने गृह मंत्री की सुनिए। घबराने की जरुरत नहीं है। जरूरी सेवाएं उपलब्ध हैं।'


ANI

✔@ANI

https://twitter.com/ANI/status/1242721862888632320

#WATCH Maharashtra Chief Minister Uddhav Thackeray: I am at home listening to Mrs CM, you listen to your home minister. #COVID19

Embedded video


1,384

1:25 PM - Mar 25, 2020
Twitter Ads info and privacy

238 people are talking about this




वहीं महाराष्ट्र के गृह मंत्री राजेश टोपे ने कहा, 'महाराष्ट्र में कोविड-19 के रोगियों की वर्तमान संख्या 116 है। सांगली में एक ही परिवार के पांच सदस्य कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। ये सभी एक-दूसरे के संपर्क में आने के बाद संक्रमित हुए हैं। इसके अलावा मुंबई के चार लोग कोरोना की चपेट में मिले हैं। ये या तो विदेश से लौटे थे या संपर्क में आने की वजह से संक्रमित हुए हैं।'


कोरोना वायरस: उद्धव ठाकरे बोले- मैं घर पर हूं और पत्नी की सुन रहा हूं
 
Top