Who's awake right now?

adsatinder

explorer
*Tech News*

After India, US says it is looking at banning Chinese social media apps, including TikTok

RedmiBook 14 II and Redmibook 16 with 10th Gen Intel Core i5/i7 10nm processor, NVIDIA GeForce MX350 GPU announced

Poco M2 Pro with Snapdragon 720G chipset launched in India at a starting price of Rs 13,999

Poco M2 Pro houses a 5,000 mAh battery and offers up to 6 GB RAM and up to 128 GB internal storage.

Samsung Galaxy Unpacked virtual event scheduled for August 5, Galaxy Note20 series expected

Moto G 5G Plus with 6.7-inch FHD+ 90Hz CinemaVision display, Snapdragon 765, 5000mAh battery announced

Samsung UV steriliser can clean your smartphone and more

Apple 3rd Gen AirPods said to use same SiP as AirPods Pro

Airtel launches new Rs. 289 prepaid plan with unlimited calling, ZEE5 subscription; Rs. 79 plan now offers ZEE5 subscription

OnePlus Nord AR launch event set for July 21, India pre-orders begin July 15

Samsung brings Single take, Manual Focus, Quick Share and more to the Galaxy A51 and Galaxy A71

Samsung Galaxy Note20 series could go on sale from August 21; Note20 Ultra live images surface

Google rolls out dark theme for Docs, Sheets, and Slides on Android

Instagram starts testing Reels in India, a feature dedicated for short-form videos, following TikTok's ban

Facebook, Twitter and Google suspend the processing of Hong Kong government data requests
 

adsatinder

explorer
Tourists arriving illegally from various points in Bilaspur, Mandi district including Swarghat


सीमा पर सख्ती / स्वारघाट समेत बिलासपुर, मंडी जिला के तमाम नाकों से नियम तोड़कर बजौरा पहुंच रहे हैं पर्यटक

हिमाचल के मनमोहक स्थानों को देखने के लिए कई राज्यों से पर्यटक आने लगे है।कई पर्यटक कागजात पूरे न लेकर आने से बैरियर से वापस किए गए। फोटो सहित


हिमाचल के मनमोहक स्थानों को देखने के लिए कई राज्यों से पर्यटक आने लगे है।कई पर्यटक कागजात पूरे न लेकर आने से बैरियर से वापस किए गए। फोटो सहित
  • यूपी के पांच पर्यटकों पर मामला दर्ज किया, झूठ बोलकर जिला में प्रवेश करने की फिराक में थे
  • तीन दिनों में बजौरा नाके से 70 पर्यटक पर्यटकों को वापस लौटाया, पयर्टक गाइडलाइन नहीं कर रहे फॉलो

दैनिक भास्कर
Jul 09, 2020, 02:57 PM IST

कुल्लू.
(गौरीशंकर).
हिमाचल की सीमा स्वारघाट बैरियर के अलावा बिलासपुर, मंडी जिला में कई बैरियर लगाए गए हैं, जिन पर सवालिया निशान लग गया है। जैसे ही प्रदेश सरकार ने हिमाचल प्रदेश को पर्यटकों के लिए सर्शत खोल दिया है तो कई पर्यटक बिना शर्तें पूरी किए ही कुल्लू की सीमा पर पहुंचने लगे हैं। ऐसे ही नियमों को तोड़ कर कुल्लू की सीमा पर पहुंचने वाले पर्यटकों को कुल्लू पुलिस ने अपनी सीमा से वापस लौटाया है।


हिमाचल के सीमा इलाकों में लगाए बैरियरों पर पुलिस आने जाने वाले वाहनों को पूरी तरह से चैक करने के बाद ही जाने दे रही है। फाइल फोटो

70 पर्यटक वापस भेजे
कुल्लू जिला पुलिस ने बजौरा नाके से तीन दिनों के भीतर ऐसे 70 पर्यटकों को वापस लौटाया है। जो सरकार द्वारा लगाई गई शर्तों को पूरा नहीं करते थे। ये पर्यटक 20 वाहनों में बजौरा चैकपोस्ट पर पहुंचे थे और कुल्लू मनाली की वादियों में घूमने के लिए आए थे परंतु उन्हें बजौरा चैकपोस्ट पर ही रोक कर वापस भेजा गया। इन पर्यटकों में अधिकतर पर्यटक ऐसे हैं जिनके पास कोविड-19 की टेस्ट रिपोर्ट ही नहीं थी। लेकिन कुल्लू जिला पुलिस की मुस्तैदी से इन पर्यटकों को बजौरा चैकपोस्ट पर ही रोक दिया गया है।

पहले दिन 19 पर्यटक वापस भेजे
प्रदेश सरकार द्वारा जैसे ही प्रदेश को पर्यटकों के लिए खोला वैसे ही पुलिस ने पहले दिन 19 पर्यटकों को चैकपोस्ट से वापस भेजे जबकि दूसरे दिन तक यह आंकड़ा 41 तक जा पहुंचा, लेकिन अब तीन दिनों में पर्यटकों को वापस भेजने का आंकड़ा 70 तक जा पहुंचा है। इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि हिमाचल की सीमा के भीतर कितने पर्यटक गैरकानूनी तरीके से दाखिल हो रहे हैं। जिला कुल्लू पहुंचने वाले पर्यटकों का इतना अधिक आंकड़ा है तो मंडी जिला और बिलासपुर जिला के अलग अलग क्षेत्रों में ऐसे पर्यटकों के आने का आंकड़ा कितना होगा इसका अनुमान लगाया जा सकता है। जो बिना कोबिड टेस्ट के हिमाचल पहुंचे होंगे और कुछ अन्य तय की गई शर्तों को पूरा नहीं करते होंगे।

पांच पर्यटकों पर मामला दर्ज
एसपी कुल्लू गौरव सिंह के अनुसार बजौरा चैक पोस्ट से झूठ बोलकर जिला में प्रवेश करने का प्रयास करने वाले पांच पर्यटकों के खिलाफ भुंतर थाना में मामला दर्ज कर लिया है और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। ये पांच पर्यटक उत्तर प्रदेश से आए थे और अथॉरिटी को यहां आने के उद्देश्य के बारे में गलत सूचना दी। जब पुलिस ने छानबीन की तो उनके द्वारा दी गई सूचना गलत पाई गई। जिसके चलते पांचों पर्यटकों के खिलाफ पुलिस ने आईपीसी की धारा 188, 269, 270 और एनडीएमए की धारा 51 के तहत मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है।


स्वारघाट समेत बिलासपुर, मंडी जिला के तमाम नाकों से नियम तोड़कर बजौरा पहुंच रहे हैं पर्यटक
 

adsatinder

explorer
हिमाचल प्रदेश : अनलॉक-2 का 9वां दिन / दिल्ली के रहने वाले पति-पत्नी कोरोना की फर्जी निगेटिव रिपोर्ट बनाकर हिमाचल घूमने पहुंचे, पुलिस ने ऐसे पकड़ा मामला
दिल्ली के रहने वाले पति-पत्नी ने कोरोना संक्रमण की जाली रिपोर्ट दिखा कर प्रदेश में प्रवेश किया। पुलिस ने रिपोर्ट की जांच करवाई तो नकली निकली। दोनों को पुलिस ने पकड़ा।
दिल्ली के रहने वाले पति-पत्नी ने कोरोना संक्रमण की जाली रिपोर्ट दिखा कर प्रदेश में प्रवेश किया। पुलिस ने रिपोर्ट की जांच करवाई तो नकली निकली। दोनों को पुलिस ने पकड़ा।
  • प्रदेश के मुख्यमंंत्री ने कहा, हाेटलियर्स की मर्जी, वो होटल खोलें या नहीं, सरकार नहीं डालेगी दबाव
  • प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 18 मामले आए, पॉजिटिव संख्या पहुंची 1101

दैनिक भास्कर
Jul 09, 2020, 12:59 PM IST
धर्मशाला.
प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना पॉजिटिव के नए 18 मामले सामने आए है। इस समय प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव के मरीजों की संख्या 1101 तक पहुंच गई। एक तरफ प्रदेश में कोरोना संक्रमण का प्रभाव बढ़ता जा रहा है और दूसरी ओर सरकार की ओर से पर्यटकों के लिए प्रदेश की सीमाओं को खोल दिया गया है। सरकार ने तो प्रदेश में आने वाले पर्यटकों को पूरी जांच के बाद ही आने के लिए कहा जा रहा है लेकिन कुछ शातिर किस्म के पर्यटक जाली रिपोर्ट लेकर अब प्रदेश में दाखिल होने लगे है। अगर कोई जाली रिपोर्ट के साथ प्रदेश में पॉजिटिव मरीज दाखिल हो गया तो काफी संख्या में लोग बीमारी से ग्रस्त हो सकते है। इसी तरह का एक मामला बुधवार को सामने आया जब दिल्ली निवासी पति-पत्नी हिमाचल घूमने के लिए जाली काेरोना रिपोर्ट लेकर आए और पुलिस के हत्थे चढ़ गए। शिमला व्यापारमंडल के सदस्यों ने पिछले दिनों कहा था कि बाहरी राज्यों में कोरोना जांच की जाली सर्टिफिकेट लेकर पर्यटक आऐंगे जिससे यहां लोग बीमार होंगे। इसलिए उन्होंने अपनी दुकानें बंद रखने के लिए कहा है।
पुलिस ने पकड़ा जाली रिपोर्ट सहित
पर्यटकों के लिए बेशक हिमाचल सरकार ने अपनी सीमाएं खोल दी हैं लेकिन कुछ पर्यटक इसका गलत इस्तेमाल भी कर रहे हैं। कांगड़ा में कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है। कांगड़ा की खूबसूरत वादियां निहारने के लिए दिल्ली से पर्यटक पति और पत्नी ने छह जुलाई की कोरोना की फर्जी निगेटिव रिपोर्ट बनाकर जिले में एंट्री ले ली। दोनों की पहचान 25 वर्षीय अंकित चौधरी और उनकी पत्नी निकिता निवासी दिल्ली के रूप में हुई है। एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन को जब शक हुआ तो उन्होंने कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट को क्रॉस चेक करने के लिए दिल्ली स्थित राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भेजा। अस्पताल से कहा गया कि कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट फर्जी है। इसके बाद एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन ने तुरंत पर्यटक पति और पत्नी को पालमपुर के भवारना के गुग्गा सलोह के एक होटल में ढूंढा और परौर स्थित क्वारंटीन केंद्र में भेज दिया। दोनों पर नूरपुर पुलिस थाने में धोखाधड़ी और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। अब पति और पत्नी का गुरुवार को परौर में कोरोना का टेस्ट होगा। अगर रिपोर्ट निगेटिव आई तो दोनों को पालमपुर पुलिस गिरफ्तार कर लेगी। एसपी विमुक्त रंजन ने मामले की पुष्टि की है।
ऐसे पकड़ा दंपती
पुलिस के अनुसार दिल्ली के पति और पत्नी ने मंगलवार को भी कांगड़ा जिले में एंट्री करने की कोशिश की थी। दोनों को नूरपुर के पास कंडवाल बैरियर पर पुलिस ने रोक लिया था। दोनों ने पुलिस को कहा कि उन्होंने टेस्ट करवाया है। पुलिस ने इस रिपोर्ट को नहीं माना और कोरोना का आरटी पीसीआर टेस्ट करवाने के लिए कहा। उसके बाद बुधवार सुबह को कंडवाल बैरियर पर दंपती फिर से पहुंच गया। दोनों ने पुलिस को आरटी पीसीआर टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट दिखाई। इसके बाद दोनों को जिले में एंट्री दे दी गई। दोनों ने पालमपुर के होटल में पांच दिन के लिए बुकिंग करवाई थी। दोनों होटल में किसी कारणवश नहीं ठहरे। दोनों भवारना के पास सलोह पैलेस में ठहरे। एसपी विमुक्त रंजन को शक हुआ। उन्होंने तुरंत अपने सूत्रों से दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में क्रॉस चेकिंग के लिए रिपोर्ट भेजी जिसके बाद दंपत्ति के फर्जीवाड़े का पर्दाफाश हुआ। यह दोनों अपनी गाड़ी में आए थे। वहीं दंपत्ति का कहना है कि उनकी कोरोना की रिपोर्ट असली है।
राहत की बात, 24 घंटे में 31 मरीज ठीक हुए
प्रदेश के लिए राहत भरी खबर है। यहां पर काेराेना के मरीजाें के ठीक हाेने का अांकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। बीते 24 घंटाें के दाैरान 31 मरीज ठीक हाेकर घर गए। प्रदेश में अब तक 808 हो गए हैं। बुधवार काे काेराेना के 9 नए मरीज आए है। इसमें कांगड़ा से सात, हमीरपुर, मंडी से एक एक काेराेना मरीज का मामला सामने आया है। इससे प्रदेश में काेराेना के 260 एक्टिव मरीज है जबकि आंकड़ा 1101 पहुंच गया है। काेविड-19 संक्रमित के संपर्क में आने से चार साल की बच्ची पॉजिटिव पाई गई है। मुंबई से लौटी कांगड़ा जिले के सेरा थाना की 33 वर्षीय महिला कोरोना संक्रमित पाई गई थी। महिला की चार साल की बेटी अब कोरोना पॉजिटिव पाई गई है। बच्ची को कोविड सेंटर डाढ़ शिफ्ट किया गया है। दिल्ली से लौटे पलाख के जीजा और साला कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। दोनों जवाली में संस्थागत क्वारेंटाइन थे। पानीपत से लौटा ढन मथलार का व्यक्ति कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया है। हड़सर जवाली में संक्रमित के संपर्क में आने से एक अन्य व्यक्ति पॉजिटिव पाया गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा, होटल मालिकों पर कोई दबाव नहीं
काेराेना के बीच ये हाेटल काराेबारियाें पर रहेगा की वह अपने हाेटलाें काे खाेले या नहीं, सरकार हाेटल काराेबारियाें पर हाेटल खाेलने का किसी भी तरह का दबाव नहीं डालेगी। मुख्यमंत्री ने माना कि काेराेना का असर है लेकिन इकोनॉमिक एक्टिविटी काे ज्यादा दिनाें तक बंद नहीं रखा जा सकता। इससे ज्यादा नुकसान हाे रहा है। ये बात मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बुधवार काे शिमला में कही।
गोवा- केरल से सख्त गाइडलाइन प्रदेश की
मुख्यमंत्री बोले-पर्यटकाें काे लेकर राज्य सरकार की गाइडलाइन गाेवा, केरल, उत्तराखंड राज्याें की तुलना में सख्त है और यही वजह है कि अभी पर्यटकाें का अच्छा रुझान नहीं मिला है। सरकार ने आने वाले पर्यटकाें के लिए सख्त गाइडलाइन जारी करते हुए हाेटलाें में 5 दिन का स्टे अनिवार्य किया है। साथ ही 72 घंटे पहले की काेविड टेस्ट रिपाेर्ट निगेटिव हाेना भी जरूरी है। अभी मंदिराें को खोलने के लिए सरकार गाइडलाइन तैयार कर रही है।


 

adsatinder

explorer
*Tech News By ZippyTricks*

Truecaller says its inclusion in the list of 89 apps banned by Indian Army 'unfair and unjust'

Android 11 Beta 2 Update With Focus On App Compatibility Is Now Available On A Few Pixel Phones

Redmi Note 9 Will Soon Launch In India, Xiaomi Teases The Smartphone On Twitter

Garmin brings solar charging technology to Instinct, fēnix, and tactix Delta adventure smartwatches

WhatsApp for Business gets QR code chat shortcut and Catalog sharing

Redmi Note 7/7S MIUI Software Update Tracker [Update: Android 10 Stable update with June Android Security Patch]

Xiaomi leads refurbished smartphones market with 27% share, followed by Apple and Samsung in 2019-20: Cashify

Samsung Galaxy Watch Active2 4G Aluminium edition launched in India for Rs. 28490

Facebook now rolling out Instagram Reels in India post TikTok ban

Google Images Search to integrate Knowledge Graph information in results

POCO X2 MIUI Software Update Tracker [Update: MIUI 11.0.11.0 with June Android Security Patch]

Following Apple, Samsung rumoured to not include charger in the box from next year
 

adsatinder

explorer
वो ज़माना और था.......

दरवाजों पे ताला नहीं भरोसा लटकता था , खिड़कियों पे पर्दे भी आधे होते थे, ताकि रिश्ते अंदर आ सकें।

पड़ोसियों के आधे बर्तन हमारे घर और हमारे बर्तन उनके घर मे होते थे।
पड़ोस के घर बेटी पीहर आती थी तो सारे मौहल्ले में रौनक होती थी , गेंहूँ साफ करना किटी पार्टी सा हुआ करता था

वो ज़माना और था......
जब छतों पर किसके पापड़ और आलू चिप्स सूख रहें है बताना मुश्किल था।

जब हर रोज़ दरवाजे पर लगा लेटर बॉक्स टटोला जाता था , डाकिये का अपने घर की तरफ रुख मन मे उत्सुकता भर देता था ।

वो ज़माना और था......
जब रिश्तेदारों का आना,
घर को त्योहार सा कर जाता था , मौहल्ले के सारे बच्चे हर शाम हमारे घर ॐ जय जगदीश हरे गाते .....और फिर हम उनके घर णमोकार मंत्र गाते ।

जब बच्चे के हर जन्मदिन पर महिलाएं बधाईयाँ गाती थीं....और बच्चा गले मे फूलों की माला लटकाए अपने को शहंशाह समझता था।

जब भुआ और मामा जाते समय जबरन हमारे हाथों में पैसे पकड़ाते थे...और बड़े आपस मे मना करने और देने की बहस में एक दूसरे को अपनी सौगन्ध दिया करते थे।

वो ज़माना और था ......
कि जब शादियों में स्कूल के लिए खरीदे काले नए चमचमाते जूते पहनना किसी शान से कम नहीं हुआ करता था , जब छुट्टियों में हिल स्टेशन नहीं मामा के घर जाया करते थे....और अगले साल तक के लिए यादों का पिटारा भर के लाते थे।

कि जब स्कूलों में शिक्षक हमारे गुण नहीं हमारी कमियां बताया करते थे।

वो ज़माना और था......
कि जब शादी के निमंत्रण के साथ पीले चावल आया करते थे , दिनों तक रोज़ नायन गीतों का बुलावा देने आया करती थी।

बिना हाथ धोये मटकी छूने की इज़ाज़त नहीं थी।

वो ज़माना और था......
गर्मियों की शामों को छतों पर छिड़काव करना जरूरी था , सर्दियों की गुनगुनी धूप में स्वेटर बुने जाते थे और हर सलाई पर नया किस्सा सुनाया जाता था।

रात में नाख़ून काटना मना था.....जब संध्या समय झाड़ू लगाना बुरा था ।

वो ज़माना और था........
बच्चे की आँख में काजल और माथे पे नज़र का टीका जरूरी था , रातों को दादी नानी की कहानी हुआ करती थी , कजिन नहीं सभी भाई बहन हुआ करते थे ।

वो ज़माना और था......
जब डीजे नहीं , ढोलक पर थाप लगा करती थी.. गले सुरीले होना जरूरी नहीं था, दिल खोल कर बन्ने बन्नी गाये जाते थे , शादी में एक दिन का महिला संगीत नहीं होता था आठ दस दिन तक गीत गाये जाते थे।

वो ज़माना और था......
कि जब कड़ी धूप में 10 पैसे का बर्फ का पानी.... गिलास के गिलास पी जाते थे मगर गला खराब नहीं होता था,
जब पंगत में बैठे हुए रायते का दौना तुरंत पी जाते..... ज्यों ही रायते वाले भैया को आते देखते थे।
जब बिना AC रेल का लंबा सफर पूड़ी, आलू और अचार के साथ बेहद सुहाना लगता था।

वो ज़माना और था.......
जब सबके घर अपने लगते थे......बिना घंटी बजाए बेतकल्लुफी से किसी भी पड़ौसी के घर घुस जाया करते थे , किसी भी छत पर अमचूर के लिए सूखते कैरी के टुकड़े उठा कर मुँह में रख लिया करते थे , अपने यहाँ जब पसंद की सब्ज़ी ना बनी हो तो पडौस के घर कटोरी थामे पहुँच जाते थे।

वो ज़माना और था.....
जब पेड़ों की शाखें हमारा बोझ उठाने को बैचेन हुआ करती थी , एक लकड़ी से पहिये को लंबी दूरी तक संतुलित करना विजयी मुस्कान देता था , गिल्ली डंडा, चंगा पो, सतोलिया और कंचे दोस्ती के पुल हुआ करते थे।

वो ज़माना और था.....
हम डॉक्टर को दिखाने कम जाते थे डॉक्टर हमारे घर आते थे....डॉक्टर साहब का बैग उठाकर उन्हें छोड़ कर आना तहज़ीब हुआ करती थी
सबसे पसंदीदा विषय उद्योग हुआ करता था....भगवान की तस्वीर चमक से सजाते थे।
इमली और कैरी खट्टी नहीं मीठी लगा करती थी।

वो ज़माना और था.....
जब बड़े भाई बहनों के छोटे हुए कपड़े ख़ज़ाने से लगते थे , लू भरी दोपहरी में नंगे पाँव गालियां नापा करते थे।
कुल्फी वाले की घंटी पर मीलों की दौड़ मंज़ूर थी ।

वो ज़माना और था......
जब मोबाइल नहीं धर्मयुग, साप्ताहिक हिंदुस्तान, सरिता और कादम्बिनी के साथ दिन फिसलते जाते थे , TV नहीं प्रेमचंद के उपन्यास हमें कहानियाँ सुनाते थे।
जब पुराने कपड़ों के बदले चमकते बर्तन लिए जाते थे।

वो ज़माना और था.......
स्वेटर की गर्माहट बाज़ार से नहीं खरीदी जाती थी।
मुल्तानी मिट्टी से बालों को रेशमी बनाया जाता था

वो ज़माना और था......
कि जब चौपड़ पत्थर के फर्श पे उकेरी जाती थी , पीतल के बर्तनों में दाल उबाली जाती थी , चटनी सिल पर पीसी जाती थी।

वो ज़माना और था.....
वो ज़माना वाकई कुछ और था।
 
Top